home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

बच्चों के लिए टिकटॉक कितना सुरक्षित है? पेरेंट्स जान लें ये बातें

बच्चों के लिए टिकटॉक कितना सुरक्षित है? पेरेंट्स जान लें ये बातें

टिकटॉक आजकल मानो एक चलता-फिरता एंटरटेनमेंट गया है। बड़े लोगों से लेकर बच्चे भी अब टिक टॉक के आदी हो गए हैं। लेकिन, बच्चों के लिए टिकटॉक (Tiktok for kids) कितना सुरक्षित है, इस बारे में हर पेरेंट्स को एक चिंता बनी रहती है। आज के पेरेंट्स अपने बच्चों को सोशल मीडिया के इस्तेमाल से नहीं रोक सकते हैं। वहीं, टिकटॉक की बात करें, तो लगभग 30 से 40 फीसदी भारतीय युवा टिकटॉक पर किसी न किसी तरह से खुद को जोड़े हुए हैं। ऐसे में उनके लिए अपने बच्चे को भी टिकटॉक से दूरी बनाए रखने में कई तरह की परेशानियां हो सकती हैं।

और पढ़ेंः स्मार्ट पेरेंटिंग टिप्स अपनाकर बन जाएं सुपर पेरेंट

टिकटॉक क्या है (what is tiktok)?

टिकटॉक एक (TikTok) ऑनलाइन एप है, जो अन्य सोशल मीडिया नेटवर्किंग ऐप की तरह ही काम करता है। टिकटॉक एप पर कोई भी अपना अकाउंट बना सकता है। इसके लिए किसी खास उम्र या लिंग का भी निर्धारण नहीं है। इस एप को अपने एंड्राइड मोबाइल या आईओएस डिवाइस पर डाउनलोड किया जा सकता है। मौजूदा समय में दुनिया भर के लगभग 150 देशों में इस एप (app) का इस्तेमाल किया जाता है। इस एप में लगभग 75 विभिन्न भाषाएं शामिल हैं। इसका इस्तेमाल करने वाले लोग या उपयोगकर्ता विभिन्न तरह के वीडियो बना सकते हैं, जो 3 सेकंड से लेकर 60 सेकंड तक का हो सकता है। साल 2018 में किए गए एक दावे के मुताबिक, दुनिया भर में लगभग 50 लाख लोग इसका इस्तेमाल करते हैं, जिनकी संख्या लगातर बढ़ रही है।

अन्य सोशल मीडिया से करें कनेक्ट

टिकटॉक को आप अपने किसी भी अन्य सोशल मीडिया अकाउंट जैसे फेसबुक या इंस्टा से भी कनेक्ट कर सकते हैं। इसमें आप किसी भी बॉलीवुड, हॉलीवुड, टॉलीवुड या अन्य सिनेमा के गानों या डॉयलॉग को बोलने के लिए सिर्फ उसकी नकल करनी होती है। ऐसा करना वाकई में काफी मजेदार लग सकता है और यह मनोरंजक होने के साथ ही, टाइम पास करने का भी एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

और पढ़ेंः पेरेंटिंग स्टाइल पर भी निर्भर है आपके बच्चे का विकास

बच्चों के लिए टिकटॉक (Tiktok for kids) कितना सुरक्षित हैं?

आमतौर पर टिकटॉक का निर्माण लोगों को एंटरटेन करने के लिए किया गया है। लेकिन, इसके बढ़ते क्रेज के कारण लोगों में इसकी सनक हो जाती है। जिसके कारण लोग अपने दिनभर के सारे जरूरी काम छोड़कर इस पर अपने वीडियो बनाने में रम सकते हैं। वहीं, बच्चों के लिए टिकटॉक (Tiktok for kids) कितना सुरक्षित है, ये इस बात पर निर्भर करता है कि, आपका बच्चा कितने समय के लिए टिकटॉक का इस्तेमाल करता है और उस पर किस तरह की चीजें या वीडियो देखता और बनाता है।

अगर आपका बच्चा सिर्फ कुछ ही देर तक टिकटॉक का इस्तेमाल करता है, तो इसमें घबराने वाली कोई बात नहीं हैं। लेकिन, अगर आपका बच्चा स्कूल का होमवर्क करने की बजाय टिकटॉक पर वीडियो बनाना शुरू कर देता है, तो आपको इसके बारे में गंभीर होने की जरूरत हो सकती है।

कितने साल तक के बच्चे इस एप का इस्तेमाल कर सकते हैं?

बच्चों के लिए टिकटॉक (Tiktok for kids) का अकाउंट बनाने के लिए उनकी उम्र 13 साल या इससे अधिक तय की गई है। लेकिन आठ साल से कम उम्र के बच्चे भी टिकटॉक का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसके अलावा ऐसे पेरेंट्स या घर के अन्य सदस्य जो टिकटॉक का इस्तेमाल बहुत ज्यादा करते हैं, तो उनका असर भी जल्दी ही छोटे बच्चों को हो सकता है और वे भी चोरी-छिपे या उनके साथ टिकटॉक पर वीडियो बना सकते हैं।

भारत में बच्चों के लिए टिकटॉक (Tiktok for kids) का कैसा प्रभाव देखा गया है?

हाल ही में बच्चों के लिए टिकटॉक (Tiktok for kids) से जुड़े कई तरह की घटनाएं देखी जा चुकी हैं। जिनमें मद्रास हाईकोर्ट का मामला सबसे पहले देखा गया है। जानकारी के मुताबिक मद्रास हाईकोर्ट में टिकटॉक एप के खिलाफ याचिका दायर की गई है। इस याचिका में दावा किया गया था कि एक 15 वर्षीय किशोरी को उसकी दादी ने टिकटॉक का बहुत ज्यादा इस्तेमाल करने के लिए डांटा था जिसकी वजह से उसने आत्महत्या कर ली थी। इसके अलावा ऐसे भी कई मामले देखें गए हैं, जहां टिकटॉक वीडियो पर ज्याजा लाइक न मिलने के कारण भी आत्महत्या जैसे कदम उठाए गए हैं। इतन ही नहीं, बच्चों के लिए टिकटॉक (Tiktok for kids) के साथ-साथ युवाओं के लिए एक तरह से इसे खतरा समझते हुए देश में इस पर कुछ समय के लिए बैन लगाने का भी फैसला किया गया था। जिसे बाद में हटा लिया गया।

और पढ़ेंः बच्चों को खुश रखने के लिए फॉलो करें ये पेरेंटिंग टिप्स, बनेंगे जिम्मेदार इंसान

पेरेंट्स को बच्चों के लिए टिकटॉक एप से जुड़ी किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

अगर कोई पेरेंट्स खुद टिकटॉक का इस्तेमाल करते हैं या सिर्फ उनका बच्चा ही टिकटॉक का इस्तेमाल करता है, तो आपको बच्चों के लिए टिकटॉक एप (Tiktok for kids) से जुड़ी कई बातों का ध्यान रखना चाहिएः

बच्चे के सामने न करें इस एप का इस्तेमाल

सबसे पहले इस बात का ध्यान रखें, आप जो करेंगे छोटे बच्चे उस आदत को बहुत जल्दी सीख जाते हैं। इसलिए अगर आप खुद टिकटॉक का इस्तेमाल करते हैं, तो अपने बच्चे के सामने इसका इस्तेमाल न करें।

एप के इस्तेमाल का समय निश्चित करें

अगर आप या आपका बच्चा टिकटॉक का इस्तेमाल करते हैं, तो इसके इस्तेमाल का एक निश्चिय समय फिक्स करें। हो सके तो, आप भी अपने बच्चे के साथ इसका इस्तेमाल करें। ताकि, आप इस बात की जानकारी रख सके कि आपका बच्चा किस तरह के कंटेट या वीडियो पसंद करता है और इस एप पर कितना समय व्यतीत करता है।

हर तरह के नए चैंलेज पर रखें कड़ी नजर

बच्चों के लिए टिकटॉक एप (Tiktok for kids) हो या बड़ों के लिए सोशल मीडिया हो, हर जगह नए-नए तरह के चैलेंज्स आते रहते हैं। जिसमें से कुछ फनी तो कुछ खतरनाक भी हो सकती है। इसलिए अगर बच्चों के लिए टिकटॉक (Tiktok for kids) पर ऐसे किसी भी तरह के चैलेंज सामने आते हैं, तो अपने बच्चे की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए उसे इस तरह के कदम उठाने से रोकें।

अपने फोन में अवैध समाग्री न रखें

अगर आपके फोन में कोई अवैध समाग्री या अडल्ट कंटेट की कोई वीडियो का तस्वीर है, तो उसे फोन से डिलीट कर दें। ताकि, आपका बच्चा इस तरह के कंटेट से दूर रह सके।

और पढ़ेंः स्पेशल चाइल्ड की पेरेंटिंग में ये 7 टिप्स करेंगे मदद

साइबरबुलिंग के बारे में बात करें

टिकटॉक पर ऐसे कई वीडियो अपलोड हैं, जहां पर शारीरिक या मानसिक रूप से अश्क्त लोगों का मजाक बनाया जा सकता है। इसके बारे में अपने बच्चे से बात करें। साथ ही, उसे बताए कि उसे इस तरह के कंटेट पर अपनी किसी भी तरह की टिप्पणी नहीं देनी चाहिए। अगर उसे ऐसा कोई कंटेट मिलता है, तो उसे साइबरबुलिंग के बारे में बताएं।

हमेशा मनोरंजक वीडिया ही दिखाएं

अपने बच्चे को हमेशा एक मनोरंजक वीडियो दिखाएं। उन्हें किसी एक्सन, सुसाइड या मारपीट वाली वीडियो न दिखाएं। इससे बच्चे में डिप्रेशन या उसी तरह का एक्सन दोहराने की सनक हो सकती है।

विज्ञापनों के बारे में बताएं

इस एप का सबसे बड़ा फायदा विज्ञापन कंपनियों को होता है। यहां पर वीडियो बनाने या अपलोड करने या देखने के दौरान कई तरह के रोचक विज्ञापन दिए जाते हैं, जिनपर क्लिक करते हैं खरीरदारी का विकल्प आ जाता है। इसके बारे में अपने बच्चे को बताएं और उसे समझाएं कि उसे ऐसे नहीं करना चाहिए। कई बार इस तरह के विज्ञापन से आपको आर्थिक नुकसान भी हो सकती है।

बच्चों के लिए टिकटॉक एप (Tiktok for kids) एप की सुरक्षा देखते हुए इसमें फैमिली सेफ्टी मोड और स्क्रीनटाइम मैनेजमेंट फीचर भी जोड़ा गया है। जिससे कनेक्ट करके माता-पिता अपने ही फोन पर अपने बच्चे के अकाउंट की सारी निगरानी रख सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Ankita mishra द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 30/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड