home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Premature ejaculation: प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन क्या होता है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानिए मूल बातें|जानिए इसके लक्षण|इसके कारण जानें|इसकी जोखिमों को जानिए|निदान और उपचार|जीवनशैली और घरेलू उपचार
Premature ejaculation: प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन क्या होता है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानिए मूल बातें

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (Premature Ejaculation) किसे कहते हैं?

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन जिसे शीघ्रपतन भी कहा जाता है, जिसकी समस्या का सामना बहुत से पुरुषों को करना पड़ता है। यह परेशानी तब होती है जब कोई व्यक्ति संभोग पूर्ति के पहले एजैक्युलेट होता है या संभोग के शुरुआत में ही वीर्य निकल जाता है। पुरुषों को इसका अनुभव अधिक होने के कारण यह कपल के लिए चिंता का विषय बन सकता है।

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन कितनी सामान्य है?

जैसे कि सभी जानते है, ऐसे विषय पर कोई व्यक्ति बात करना नहीं चाहता, लेकिन यह बीमारी पुरुषों में बड़ी आम है। जीवन के किसी भी मोड़ पर हर 3 में 2 पुरुष को इस परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसके कारकों को निंयत्रित करके इसे रोका जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या चिकित्सक से बात करें।

और पढ़ें: सेक्स के दौरान ज्यादा दर्द को मामूली न समझें, हो सकती है गंभीर समस्या

जानिए इसके लक्षण

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन के लक्षण क्या हैं?

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन का मुख्य लक्षण है की, संभोग के दौरान समय से पहले एजैक्युलेट होना या पेनेट्रेशन के तुरंत बाद एजैक्युलेट होना। हालांकि यह समस्या किसी भी सेक्शुअल एक्टिविटीज में हो सकती है, मास्टरबेशन की स्थिति में भी हो सकता है।

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन का वर्गीकरण इस प्रकार किया जाता है:

शरीर में कमी (प्राइमरी): अगर जन्म से ही शरीर में कोई कमी हो तो उसके कारण आपको एजैक्युलेट की समस्या हो सकती है और ये ठीक होने की संभावना बहुत कम होती है, इसलिए इसे प्राइमरी के तौर पर देखा जाता है।

अपघात के कारण होनेवाली डेफिसिन्सी (सेकेंडरी): अगर आपके जीवनकाल में कभी कुछ ऐसी घटना घटी हो जिससे शरीर को हानि हुई है, तो इस कारन भी आपको एजैक्युलेट होने की समस्या हो सकती है, इसे सेकेंडरी तौर पर देखा जाता है।

बहुत से पुरुषों को यह महसूस होता है, कि उन्हें प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन हुआ है। लेकिन उनमें दिखाई देने वाले लक्षण इस बीमारी के मापदंडो को पूरा नहीं करते है। शायद वे जिस स्थिति से गुजर रहे हैं, वह सामान्य एजैक्युलेशन हो सकता है और वह उसकी सामन्य अवधि के अनुसार हो रहा है।

कुछ लक्षण और संकेत उपर नहीं दिए गए हैं। अगर आप अपने शरीर के किसी लक्षण से चिंतित हैं तो तुरंत डॉक्टर से मिलें और बात करें।

और पढ़ें: फर्स्ट टाइम सेक्स से पहले जान लें ये 10 बातें, हर मुश्किल होगी आसान

मुझे अपने डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

अगर आपको सेक्स के दौरान समय से पहले एजैक्युलेट हो रहा है तो अपने डॉक्टर से तुरंत बात करें। सेक्शुअल प्रॉब्लम्स की चर्चा करने में आमतौर पर सभी को शर्म आती है। लेकिन इस कारण अगर आप डॉक्टर से बात नहीं कर रहे हैं तो यह आपके सेहत के लिए अच्छी बात नहीं है। यह बहुत ही आम समस्या है और यह ठीक भी हो सकती है।

कई पुरुषों की एजैक्युलेशन की समस्या डॉक्टर से परामर्श करने से ठीक हो सकती है। उदहारण के तौर पर, यह सुनके आप आश्वस्त हो जाएंगे की, कभी कभी हुआ प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन सामान्य होता है। संभोग की शुरुआत से अंत तक एजैक्युलेशन का समय औसतन पांच मिनट होता है, लेकिन सबके लिए यह समय अलग-अलग होता है।

इसके कारण जानें

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन के कारण क्या हैं?

बहुत से मामलों में इस बीमारी का कोई स्पष्ट कारण नहीं होता है। सेक्शुअल अनुभव और उम्र के कारण पुरुषों को ऑर्गज्म तक पहुंचने में देरी होती है। लेकिन नए सेक्स पार्टनर के साथ प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन हो सकता है। यह कुछ सेक्शुअल परिस्थितियों में या अगर आप लंबे समय बाद सेक्स कर रहे है, तो हो सकता है।

साइकोलॉजिकली, यह एंजायटी, गिल्ट या डिप्रेशन के कारण हो सकता है। कुछ मामलों में ये हार्मोनल प्रॉब्लम, किसी चोट या किसी दवाइयों के साइड इफेक्ट के कारण भी हो सकता है।

इसकी जोखिमों को जानिए

किस कारण प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन का खतरा बढ़ सकता है?

इरेक्टाइल डिसफंक्शन: अगर कभी-कभी या लगातार इरेक्शन होने या बनाएं रखने के लिए परेशानी हो रही है, तो आपको प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन का खतरा बढ़ सकता है। इरेक्शन चले जाने के डर से कभी कभी या अनजाने में आप सेक्स में जल्दबाजी करते हैं।

आपके जीवन में चल रहा मानसिक और भावनात्मक तनाव भी इस बीमारी का कारण बन सकता है, जिससे आप सेक्स के दौरान आराम करना या उसपर ध्यान केंद्रित करने में असफल होते हैं।

और पढ़ें: पीरियड के दर्द से छुटकारा दिला सकता है मास्टरबेशन, जानें पूरा सच

नीचे दी गई जानकारी किसी भी वैद्यकीय सुझाव का पर्याय नहीं है, इसलिए हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

निदान और उपचार

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन का निदान कैसे करें?

डॉक्टर आपकी पूरी जांच करेंगे और आपके मेडिकल हिस्ट्री की चर्चा आपके साथ करेंगे। डॉक्टर आपके साथी से भी इस विषय पर बात कर सकते हैं। इस बीमारी के कई कारण हो सकते हैं। इसलिए डॉक्टर आपको कई टेस्ट का सुझाव दे सकते हैं, जिससे कोई और शारीरिक समस्या का निदान हो सकें।

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन का इलाज कैसे किया जाता है?

  • बहुत से मामलों में यह समस्या समय रहते ठीक हो जाती है, जिसमे उपचार कोई जरुरत नहीं होती है। रिलैक्सेशन या डिस्टैक्शन तकनीकों से आप एजैक्युलेशन को ठीक करने की कोशिश करें।
  • इसमें उत्तेजना को कम करने के लिए क्रीम, जेल और एक स्प्रे का भी उपयोग करते हैं। इसको सेक्स करने से पहले पेनिस पर लगाते है। उनमें लिडोकेन और लिडोकाइन-प्रिलोकाइन शामिल हैं। लेकिन कुछ दवाइयां पुरुष की उत्तेजना को प्रभावित कर सकती हैं।

और पढ़ें: कॉन्डम के प्रकार हैं इतने सारे, कॉन्डम कैसे चुनें क्या जानते हैं आप?

जीवनशैली और घरेलू उपचार

क्या कुछ घरेलू उपचार या जीवन शैली के बदलाव से ये बीमारी ठीक हो सकती है?

  • सेक्स से एक दो घंटे पहले हस्तमैथुन करने से जल्दी डिस्चार्ज में देरी की जा सकती है और इस समस्या से बचा जा सकता है।
  • आजकल बाजार में क्लाइमेक्स कंट्रोल कॉन्डम भी उपलब्ध हैं। यह कॉन्डम लेटेक्स मटेरियल से बने होते हैं, जिससे संवेदनशीलता घटती है और ऑर्गैज्म में देरी होती है। जिससे शीघ्रपतन की संभावना कम हो जाती है।
  • उड़द की दाल और चावल की खिचड़ी बनाएं, जिसे सुबह या शाम को देसी घी के साथ खाएं। इस खिचड़ी को खाने के बाद एक गिलास गुनगुना मीठा दूध पिएं। इस खिचड़ी को लगभग एक महीने तक खाना होगा। जिससे प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन में राहत मिलेगी।
  • 5 ग्राम अश्वगंधा पाउडर में बराबर मात्रा में मिश्री मिलाएं। फिर गुनगुने दूध के साथ दिन में दो बार इसका सेवन करें। दो से तीन महीनों तक के लिए रोजाना यह पीने से प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन ठीक हो जाएगा।
  • लहसुन के फायदे अनेक हैं। यह शीघ्रपतन में भी फायदा दे सकता है। इसके लिए आप हर रोज तीन से चार कच्चे लहसुन की कलियां खाएं। नियमित रूप से इसका सेवन करने से आपको प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन से राहत मिलने लगेगी।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Premature ejaculation. https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/premature-ejaculation/symptoms-causes/syc-20354900. Accessed on December 1, 2017.

How to treat premature ejaculation https://www.medicalnewstoday.com/articles/188527.php Accessed on December 12, 2019

Premature Ejaculation https://www.health.harvard.edu/a_to_z/premature-ejaculation-a-to-z Accessed on December 12, 2019

Ejaculation problems https://www.nhs.uk/conditions/ejaculation-problems/ Accessed on December 12, 2019

Premature Ejaculation mayoclinic.org/diseases-conditions/premature-ejaculation/symptoms-causes/syc-20354900  Accessed on December 12, 2019

लेखक की तस्वीर
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shilpa Khopade द्वारा लिखित
अपडेटेड 14/09/2019
x