home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Giardiasis: जिआर्डिया क्या है, जानें इसके इलाज और लक्षण

परिचय|संभावना|लक्षण|परीक्षण और इलाज|उपचार
Giardiasis: जिआर्डिया क्या है, जानें इसके इलाज और लक्षण

परिचय

जिआर्डिया क्या है?

जिआर्डिया पेट की आंतों में होने वाला इं​फेक्शन है। इससे पेट में ऐंठन, सूजन, उल्टी और दस्त जैसी समस्या हो सकती है। जिआर्डिया इनफेक्शन होने का कारण ऐसे सूक्ष्म जीव हैं जो पूरी दुनिया में पाए जाते हैं। ये जीव ऐसी जगहों पर ज्यादा पनपते हैं जहां गंदगी होती है।

अमेरिका में जिआर्डिया को पानी से होने वाली सबसे आम बीमारी में से एक माना जाता है। बीमारी फैलाने वाले ये जीव ज्यादातर सप्लाई वॉटर, स्विमिंग पूल और कुओं में पाए जाते हैं। जिआर्डिया एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल जाता है। अगर आप सं​क्रमित व्यक्ति का खाना खाते हैं या पानी पीते हैं तो आपको भी ये बीमारी हो सकती है।

ये भी पढ़ें: 2020 में पेरेंट्स के लिए बड़ी चुनौती हो सकती है एडीएचडी बीमारी, जानें इससे बचने के उपाय

संभावना

किन लाेगों को जिआर्डिया होने की संभावना ज्यादा होती है?

किसी को भी जिआर्डिया की बीमारी हो सकती है लेकिन कुछ को ये बीमारी जल्दी हो सकती है। जैसे:

  • छोटे बच्चों के डायपर बदलने वाले पैरेंट्स को
  • चाइल्ड केयर सेंटर में रहने वाले बच्चों को
  • घर में अगर कोई जिआर्डिया से पीड़ित है तो घर के अन्य सदस्य को
  • बिना फिल्टर किए पानी पी लेने वालों को
  • देश—विदेश यात्रा करने वालों को
  • एनल सेक्स करने वालों को
  • यह संक्रमण आमतौर पर पानी पीने से होता है। इसलिए पीने के पानी को उबालकर पीना चाहिए। पानी को साफ करने के लिए वॉटर प्यूरिफायर का भी ​इस्तेमाल कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: आखिर क्यों लगता है ऊंचाई, पानी और अंधेरे से डर?

लक्षण

जिआर्डिया के लक्षण क्या हैं?

जिआर्डिया से पीड़ित हर मरीज में लक्षण नहीं दिखाई पड़ते हैं। संक्रमण के 1 से 3 सप्ताह बाद लक्षण दिखाई दे सकते हैं। इस बीमारी के कुछ आम लक्षण हैं:

  • हल्का बुखार
  • दस्त और कब्ज
  • डायरिया होना
  • डिहाइड्रेशन
  • पेट फूलना, दर्द और ऐंठन
  • सांस में दुर्गंध आना
  • थकान
  • भूख न लगना और वज़न घटना
  • जी मिचलाना
  • खुद को स्वस्थ महसूस ना कर पाना
  • चिकना मल आना लेकिन इसमें रक्त नहीं होता है।
  • दस्त से डिहाइड्रेशन हो सकता है। यदि पानी की कमी हो जाती है तो समस्या बढ़ सकती है। बच्चों में इस बात का खास ध्यान रखें कि उन्हें डिहाइड्रेशन ना हो। ऐसे समय पर तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए।
  • ये लक्षण 2—6 हफ्तों में ठीक हो जाते हैं। दवाओं से राहत मिल सकती है।

ये भी पढ़ें: प्रीमैच्याेर लेबर से कैसे बचें? इन लक्षणों से करें इसकी पहचान

परीक्षण और इलाज

जिआर्डिया का परीक्षण कैसे होता है?

  • जिआर्डिया के परीक्षण के लिए डॉक्टर आपके स्टूल यानी मल का टेस्ट करता है।
  • अगर आपमें डिहाइड्रेशन के लक्षण दिखते हैं तो भी डॉक्टर जिआर्डिया का परीक्षण कर सकते हैं।
  • इसके अलावा डॉक्टर जांच के लिए एंट्रोस्कोपी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमें एक नली आपके गले से होते हुए छोटी आंत तक डाली जाती है। इसके जरिए डॉक्टर टिशू के कुछ सैंपल लेकर उनकी जांच करते हैं।

जिआर्डिया का इलाज क्या है?

ज्यादातर मामालों में जिआर्डिया के पैरसाइट्स अपने आप ही खत्म हो जातक हैं। अगर संक्रमण लंबे समय तक बना रहता है तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए। डॉक्टर आपको कुछ दवा लिख सकते हैं। ज्यादातर डॉक्टर एंटीपैरासिटिक दवाओं से उपचार करने की कोशिश करते हैं। कुछ एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग करके भी जिआर्डिया का इलाज किया जाता है:

ये भी पढ़ें: इबोला वायरस (Ebola Virus) के इलाज के लिए FDA ने दी वैक्सीन को मंजूरी

  • मेट्रोनिडेजोल Metronidazole एक एंटीबायोटिक है। जिसे पांच से सात दिनों तक लिया जाता है। इससे जी मिचला सकता है और इसका स्वाद भी खराब लगेगा।
  • टिनिडेजोल Tinidazole मेट्रोनिडेजोल की तरह ही एक प्रभावशाली एंटिबायोटिक है। अक्सर इसकी एक ही खुराक से जिआर्डिया का इलाज हो सकता है।
  • निटेजोक्सेनाइड Nitazoxanide बच्चों के लिए एक अच्छा विकल्प हो सकती है। यह लिक्विड फॉर्म में होती है और इसे सिर्फ तीन दिनों तक लेने की जरूरत होती है।
  • पैरोमाइसिन के ज्यादा साइड इफेक्ट नहीं होते हैं जबकि अन्य एंटीबायोटिक में साइड इफेक्ट का खतरा बना रहता है। गर्भवती महिलाएं अगर जिआर्डिया से पीड़ित हैं तो प्रसव के तुरंत बाद उन्हें एंटीबायोटिक नहीं दी जाती हैं। प्रसव से 10 दिनों के बाद इसकी खुराक दी जा सकती है।

उपचार

जिआर्डिया का उपचार न होने पर परेशानी

अगर जिआर्डिया का सही समय पर इलाज न हुआ तो डायरिया हो सकता है जिससे ​शरीर में विटामिन की कमी हो जाएगी। विटामिन की कमी से थकान रहेगी। ये थकान सालों बाद भी नहीं जाती है।

जो ​व्यक्ति बिना इलाज के ठीक हो जाते हैं, उनमें जीवाणु के कुछ अंश बच जाते हैं। जो बाद में परेशानी पैदा कर सकते हैं। हालांकि हमेशा ऐसा नहीं होता है। ये व्यक्ति के इम्यून सिस्टम पर निर्भर करता है।

अगर बच्चों को जिआर्डिया है तो वे कुपोषण का शिकार भी हो सकते हैं। इससे बच्चों के विकास पर असर पड़ता है।

इसके अलावा लंबे समय तक गैस की समस्या बनी रह सकती है। कुछ अन्य जोखिम भी हो सकते हैं जैसे:

  • आंखों की समस्या
  • मांसपेशियों की अकड़न
  • एलर्जी
  • कुछ रिपोर्ट के अनुसार जिआर्डिया कैंसर के लक्षणों को भी पैदा कर सकता है, इसिलए इलाज करवाना जरूरी है।

घरेलू उपाय और सावधानियां

जिआर्डिया अफ्रीका, दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया, मध्य अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, रूस, तुर्की, रोमानिया और बुल्गारिया में ज्यादा पाया जाता है।

आंकड़े बताते हैं कि अफ्रीका, एशिया और लैटिन अमेरिका में लगभग 200 मिलियन लोगों में जिआर्डिया के लक्षण देखे गए हैं। कई लोगों को पता ही नहीं होता कि वे जिआर्डिया जैसी बीमारी से जूझ रहे हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उनमें जिआर्डिया के कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं।

ये भी पढ़ें: Birthday Special : इस बीमारी में दर्द से परेशान हो गए थे सलमान खान, जानिए इसके लक्षण और इलाज

ऐसे में लोगों को जिआर्डिया के बारे में पता होना जरूरी है और कुछ सावधानियां भी बरतनी चाहिए:

अच्छे से हाथ धोएं: बाथरूम का उपयोग करने या डायपर बदलने के बाद हाथ जरूर धोएं। खाना खाने से पहले भी साबुन से हाथ साफ करना ना भूलें।

साफ पीने का पानी पीएं: नदियों और झीलों का पानी पीने से बचें। यात्रा के दौरान अपने पास साफ पानी रखें और वही पीएं। पानी साफ करने के लिए उसे उबाल सकते हैं या वॉटर प्यूरिफायर जैसे साधनों का उपयोग कर सकते हैं।

भोजन का भी ध्यान रखें: कच्चा भोजन बिल्कुल ना खाएं। खाना बनाने से पहले सब्जियों को अच्छे से साफ करें और भोजन को पूरा पकाएं। खाना पकने के बाद उसमें से सूक्ष्म जीवाणु समाप्त हो जाते हैं और खाना शुद्ध हो जाता है।

दांत साफ करें: दांत को साफ करने के लिए साफ पानी का उपयोग करें

इसके अलावा जब आप स्विमिंग कर रहे हों तो पानी को मुंह में ना जाने दें।

एनल सेक्स करने वाले लोग सावधान रहें और कंडोम का इस्तेमाल करें।

जिआर्डिया से होने वाली समस्याएं करीब 6 से 8 हफ्तों तक बनी रह सकती हैं।

। बेहतर जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ें:

आयोडीन की कमी से हो सकती हैं कई स्वास्थ्य समस्याएं

जीभ की सही पुजिशन न होने से हो सकती हैं ये समस्याएं

देर रात खाना सेहत के लिए पड़ सकता है भारी, हो सकती हैं ये समस्याएं

शिशु के पाचन संबंधी 5 सामान्य समस्याएं

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 07/06/2021 को
डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x