आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स (Metabolism boosting foods) के बारे में जान लीजिए, हो सकते हैं मददगार

    मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स (Metabolism boosting foods) के बारे में जान लीजिए, हो सकते हैं मददगार

    अगर आप वजन कम करना चाहते हैं या वजन को मेंटेन करना चाहते हैं तो आपको ऐसे फूड्स की तलाश करनी चाहिए जो आपको मेटाबॉलिज्म को बूस्ट कर सकें। कुछ फूड्स आपके मेटाबॉलिज्म रेट को थोड़ा सा बढ़ा सकते हैं। इसे कैलोरीज की संख्या कहा जाता है जिन्हें आप बर्न करते हैं। मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स (Metabolism boosting foods) को अपनी डायट में शामिल करके बॉडी के फैट को कम करने के साथ ही वजन को बढ़ने से रोका जा सकता है। यहां हम ऐसे ही मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

    मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स (Metabolism boosting foods)

    यहां बताए जा रहे फूड्स मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने में मदद करते हैं, लेकिन इन फूड्स का सेवन करने से वजन कम होने का दावा नहीं किया जा सकता है। एक कम कैलोरी वाली, बैलेंस्ड डायट ही वजन कम करने में मदद करती है।

    कॉफी (Coffee)

    मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स (Metabolites) में कॉफी नंबर 1 पर है। कॉफी में कैफीन पाया जाता है जो मेटाबॉलिक रेट को बढ़ाने में मदद करता है। एनसीबीआई (NCBI) में छपी स्टडी के अनुसार जो लोग 250 ग्राम कॉफी रोज कंज्यूम करते हैं जो कि तीन कप कॉफी के बराबर है। वे हर दिन 100 कैलोरीज बर्न करते हैं। एनसीबीआई के ही अनुसार कैफीन बॉडी की एनर्जी के लिए फैट को बर्न करने में मदद करती है। यह वर्कआउट परफॉर्मेंस को बढ़ाने में भी मददगार है।

    हालांकि, हर व्यक्ति पर इसका प्रभाव अलग होता है। जो शरीर के वजन, उम्र स्वास्थ स्थिति के हिसाब से अलग हो सकता है। किसी व्यक्ति को कैफीन सूट नहीं होती या इससे किसी प्रकार की कोई परेशानी होती है तो अधिक कॉफी ना पिएं।

    और पढ़ें: इसोफैगस: पाचन तंत्र के इस अंग के बारे में कितना जानते हैं आप?

    बीन्स और दालें (Beans and Legumes)

    मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स (Metabolism boosting foods) में दालें, मटर, चने, मूंगफली आदि को शामिल किया जाता है। इनमें दूसरे प्लांट फूड्स से अधिक प्रोटीन होता है। एनसीबीआई में छपी स्टडी के अनुसार लो प्रोटीन फूड्स की तुलना में हाय प्रोटीन कंटेंट को डायजेस्ट करने के लिए अधिक कैलोरीज को बर्न करने की जरूरत होती है। इसके अलावा लेजम्स में फायबर की भी अच्छी मात्रा पाई जाती है। साथ ही इसमें रेजिस्टेंट स्टार्च और सॉल्यूबल फायबर भी होता है।

    अदरक (Ginger)

    अदरक में मेटाबॉलिज्म बूस्टिंग प्रॉपर्टीज होती हैं। एनसीबीआई में छपी स्टडी के अनुसार गुनगुने पानी में जिंजर पाउडर को मिलाकर भोजन के बाद पीने से 40-45 कैलोरीज को बर्न करने में मदद मिलती है। यह जिंजर वॉटर भूख को कम करने के साथ ही पेट भरा होने के एहसास कराती है। मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स (Metabolism boosting foods) में शामिल अदरक का यह उपयोग बेहद आसान है। अगर जिंजर से एलर्जी है तो इसे ट्राय न करें।

    और पढ़ें: असामान्य तरीके से वजन का बढ़ना संकेत है कमजोर मेटाबॉलिज्म का

    कोको (Cocoa)

    खाने में बेहद टेस्टी कोको आपके मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने में भी मददगार हो सकता है। इसलिए इसे भी मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स की लिस्ट में शामिल किया गया है। उदाहरण के लिए, एनसीबीआई में छपी स्टडी के अनुसार चूहों पर किए गए अध्ययनों से पता चला है कि कोको और कोको का अर्क उन जीन्स के एक्सप्रेशन को बढ़ावा दे सकता है जो फैट बर्निंग को प्रमोट करते हैं। यह उन चूहों में विशेष रूप से सच प्रतीत होता है जिन्हें हाय फैट या हाय कैलोरी डायट दी जाती है।

    दिलचस्प बात यह है कि एनसीबीआई में छपी एक स्टडी से पता चलता है कि कोको पाचन के दौरान फैट और कार्ब्स को तोड़ने के लिए आवश्यक एंजाइमों की क्रिया को रोक सकता है, जो शरीर को उन्हें और उनके द्वारा प्रदान की जाने वाली कैलोरी को अवशोषित करने से रोक सकता है। हालांकि, कोको या कोको उत्पादों जैसे डार्क चॉकलेट के प्रभावों की जांच करने वाले मानव अध्ययन दुर्लभ हैं। मजबूत निष्कर्ष निकाले जाने से पहले और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

    एप्पल साइडर विनेगर (Apple cider vinegar)

    मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स

    मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स (Metabolism boosting foods) में एप्पल साइडर विनेगर का भी नाम शामिल है। यह मेटाबॉलिज्म को बढ़ा सकता है। एनिमल स्टडीज से पता चला है कि विनेगर एनर्जी के लिए जलाए जाने वाले फैट की मात्रा को बढ़ाने में विशेष रूप से सहायक होता है।

    इसी तरह मनुष्यों में एप्पल साइडर विनेगर को लेकर मेटाबॉलिजम को बढ़ावा देने का दावा किया जाता है, लेकिन कुछ अध्ययनों ने सीधे इसकी जांच की है। यह पेट के खाली होने को धीमा करके और फुलनेस की फीलिंग को बढ़ाकर वजन कम करने में आपकी मदद कर सकता है, लेकिन इसका उपयोग एक्सपर्ट की सलाह के अनुसार ही करें। अपने मन से इसका उपयोग करना नुकसान पहुंचा सकता है।

    मिनरल रिच फूड्स (Minerals rich foods)

    मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स (Metabolism boosting foods) में मिनरल रिच फूड्स भी आते हैं। मिनरल जैसे कि आयरन (Iron) , सेलेनियम (Selenium) दोनों बॉडी फंक्शनिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हालांकि, इनमें एक बात कॉमन है। ये दोनों थायरॉयड ग्रंथि के कार्य के लिए आवश्यक हैं, जो हमारे मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करता है।

    रिसर्च से पता चलता है कि लो आयरन या सेलेनियम फूड थायरॉयड ग्रंथि की पर्याप्त मात्रा में हॉर्मोन का उत्पादन करने की क्षमता को कम कर सकता है, जो मेटाबॉलिज्म को धीमा कर सकता है। इसके लिए अपनी डायट में आयरन रिच फूड्स जैसे कि नट्स और सीड्स को डायट में शामिल करें।

    चिली पेपर्स (Chili peppers)

    मिर्च में पाया जाने वाला एक रसायन कैप्साइसिन (Capsaicin), शरीर द्वारा कैलोरी बर्न करने की दर को थोड़ा बढ़ाकर मेटाबॉलिज्म को बूस्ट कर सकता है। वास्तव में, 20 शोध अध्ययनों की समीक्षा से पता चलता है कि कैप्साइसिन सप्लिमेंट्स या केवल मिर्च से शरीर को प्रति दिन लगभग 50 अतिरिक्त कैलोरी जलाने में मदद कर सकती है।कुछ अध्ययन प्रति दिन 9-10 मिलीग्राम जितनी कम खुराक के साथ समान लाभों की रिपोर्ट करते हैं। इसके अलावा, कैप्साइसिन में भूख कम करने वाले गुण हो सकते हैं।

    और पढ़ें: इजी डायजेस्टिव फूड के बारे में जाने यहां और अपने पाचन को दे आराम…

    पानी के बारे में जानते हैं ये बातें

    मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स (Metabolism boosting foods) के बारे में जानने के बाद ये भी जान लीजिए कि पानी भी आपके मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने में मदद करता है। एनसीबीआई में छपी स्टडीज के अनुसार पर्याप्त पानी पीना हायड्रेटेड रहने का एक शानदार तरीका है। इसके अतिरिक्त, कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि पीने का पानी भी कुछ समय के लिए मेटाबॉलिज्म को 24-30% तक बढ़ा सकता है।

    शोधकर्ताओं ने ध्यान दिया कि इस वृद्धि का लगभग 40% पानी को शरीर के तापमान तक गर्म करने के लिए आवश्यक अतिरिक्त कैलोरी की जरूरत के द्वारा समझा जा सकता है – जिसे पानी से प्रेरित थर्मोजेनेसिस (Water induced thermogenesis) के रूप में जाना जाता है। हालांकि, पानी पीने के बाद प्रभाव केवल 40-90 मिनट तक रहता है, और प्रभाव की ताकत एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती है।

    और पढ़ें: पाचन के लिए ट्रिप्सिन एंजाइम क्यों जरूरी है? जानिए इसके कार्य

    उम्मीद करते हैं कि आपको मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने वाले फूड्स (Metabolism boosting foods) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    health-tool-icon

    बीएमआर कैलक्युलेटर

    अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Prevention mechanisms of glucose intolerance and obesity by cacao liquor procyanidin extract in high-fat diet-fed C57BL/6 mice/
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/22465028/ Accessed on 1/06/2022

    Effect of ‘water induced thermogenesis’ on body weight, body mass index and body composition of overweight subjects/
    https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24179891/Accessed on 1/06/2022

    Can you boost your metabolism?/
    https://medlineplus.gov/ency/patientinstructions/000893.htm/Accessed on 1/06/2022

    Metabolism/https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/metabolism/Accessed on 1/06/2022

    Healthy Weight, Nutrition, and Physical Activity/
    https://www.cdc.gov/healthyweight/index.html/Accessed on 1/06/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 02/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: