पेट की समस्याओं के लिए इन प्रोकाइनेटिक ड्रग्स का इस्तेमाल किया है आपने?

    पेट की समस्याओं के लिए इन प्रोकाइनेटिक ड्रग्स का इस्तेमाल किया है आपने?

    कई प्रकार के कॉमन गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिंड्रोंम्स गट की मोटिलिटी (Gut motility)को प्रभावित करने का काम करते हैं। कुछ ड्रग्स ऐसे होते हैं, जो गट की गतिशीलता को बढ़ाते हैं और कब्ज, अपच की समस्या, गैस्ट्रोपेरेसिस (Gastroparesis), आईबीएस (IBS) आदि समस्याओं से राहत दिलाने का काम करते हैं। प्रोकाइनेटिक दवाएं आंतों के पानी और इलेक्ट्रोलाइट्स को अवशोषित करने के तरीके को बदलकर मल के मूवमेंट को बढ़ाती हैं। प्रोकाइनेटिक दवाएं (Prokinetic drugs) एसिड रिफ्लेक्स की समस्या को रोकने का काम करती है। ये दवाएं लोअर इसोफेगल स्फिंक्टर को मजबूत बनाने में हेल्प करती है। जिन लोगों को कब्ज की समस्या होती है, उनके लिए भी प्रोकाइनेटिक दवाएं (Prokinetic drugs) उपयोगी साबित होती है। आइए जानते हैं भारत में इस्तेमाल होने वाली कुछ प्रोकाइनेटिक दवाओं के बारे में।

    और पढ़ें: गैस्ट्रोपैरीसिस : पाचन क्रिया से जुड़ी इस समस्या से हो सकती है टाइप 2 डायबिटीज की तकलीफ!

    प्रोकाइनेटिक ड्रग्स (Prokinetic drugs) क्यों किए जाते हैं इस्तेमाल?

    प्रोकाइनोटिक ड्रग्स

    प्रोकाइनेटिक का अर्थ गतिशीलता को बढ़ावा देने से है। जो दवाएं गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रेक्ट में जाकर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल गति को बढ़ाती हैं। ये गैस्ट्रोइसोफेगल रिफलक्स के साथ ही इंटेस्टाइनल स्यूडो ऑब्सट्रेक्सन आदि समस्याओं से राहत दिलाती हैं। सभी दवाओं में एक्टिव इंग्रीडिएंट हम यहां आपको ऐसी ही कुछ प्रोकाइनेटिक दवाओं के बारे में जानकारी देंगे।

    रेग्लान (Reglan)

    रेग्लान प्रोकाइनेटिक एजेंट की तरह काम करता है। रेग्लान का ओरल सॉल्यूशन और इंजेक्शन आता है, जो हेल्थकेयर प्रोवाइडर आपको दे सकते हैं। वॉमिटिंग (Vomiting), हार्टबर्न और मितली से छुटकारे लिए रेग्लान की टैबलेट भी इस्तेमाल की जाती हैं। ये इंटेस्टाइन में जाने के बाद कैमिकल मैसेंजर रिलीज करता है, जो इंटेस्टाइन की मोबेलिटी को बढ़ाने का काम करते हैं। इस दवा में एक्टिव इंग्रीडिएंट के रूप में मेटोक्लोप्रामाइड (Metoclopramide) उपस्थित होता है। बिना सलाह से दवा का सेवन न करें।

    और पढ़ें: क्या है पाचन से जुड़ी बीमारी GERD का आयुर्वेदिक उपचार?

    प्रोकाइनेटिक ड्रग्स: डेक्सीकूल टैबलेट (Dexicool tablet)

    डेक्सीकूल टैबलेट का इस्तेमाल गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (gastroesophageal reflux disease) की समस्या से राहत पाने के लिए किया जाता है। जिन लोगों को इंटेस्टाइन में अल्सर की समस्या होती है, उनके लिए भी ये दवा लाभकारी साबित होती है। ये दवा एसिड के प्रोडक्शन को कम करने का काम करती है और साथ ही लंबे समय से गैस्ट्रिक एसिड के ओवरप्रोडक्शन को कम करने का काम भी करती है। आप डॉक्टर से परामर्श करने के बाद इस दवा को ऑनलाइन ऑर्डर भी कर सकते हैं।

    पैसिमोल एम टैबलेट (Pacimol-m)

    पैसिमोल एम टैबलेट में प्रोकाइनेटिक एजेंट होता है। इस दवा का इस्तेमाल कीमोथेरिपी के कारण होने वाली मितली, वॉमिटिंग या फिर माइग्रेन की समस्या के लिए किया जाता है। इस दवा का इस्तेमाल पीरियड्स पेन को खत्म करने के लिए भी किया जाता है। जिन लोगों को कान दर्द की समस्या या गैस्ट्राइटिस (Gastritis) की समस्या हो जाती है, उनके लिए भी इस दवा को खाने की सलाह दी जाती है। इस दवा में एक्टिव इंग्रीडिएंट के रूप में पैरासीटामोल होता है। आपको इस दवा का सेवन डॉक्टर से सलाह करने के बाद ही करना चाहिए। आप इस दवा को ऑनलाइन ऑर्डर कर सकते हैं।

    और पढ़ें: इंटेराइटिस : पेट की इस सूजन का कारण है बैक्टीरिया! क्या जानते है आप इस समस्या के बारे में?

    प्रोकाइनेटिक ड्रग्स: पेरिनोर्म टैबलेट (Perinorm Tablet)

    पेरिनोर्म टैबलेट डॉक्टर से सलाह के बाद ली जाने वाली टैबलेट है, जिसका इस्तेमाल मतली, उल्टी, अपच की समस्या के लिए किया जाता है। यह भोजन के दौरान या उसके तुरंत बाद पेट में होने वाले भारीपन को रोकनेका काम करती है। ये दवा पेट से भोजन नली में वापस आने वाले एसिड को रोकने का काम करती है। आपको इस दवा का सेवन बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं करना चाहिए। इस दवा को खाने के पहले लिया जाता है।

    और पढ़ें: एक्यूट गैस्ट्राइटिस : पेट से जुड़ी इस समस्या को इग्नोर करना हो सकता है खतरनाक!

    मैक्सेरोन 10mg टैबलेट (Maxeron 10mg Tablet)

    प्रोकाइनेटिक ड्रग्स के रूप में इस दवा को लिया जा सकता है। मैक्सेरोन 10mg टैबलेट का इस्तेमाल वॉमिटिंग, अपच की समस्या, हार्टबर्न की समस्या के लिए किया जाता है। पेट में होने वाले भारीपन को कम करने के लिए भी इस दवा का इस्तेमाल किया जाता है। ये दवा उन कैमिकल्स को बनने से रोकने का काम करती है, जो आपको बीमारी का एहसास कराते हैं। आपको इस दवा का सेवन डॉक्टर से सलाह के बाद ही करना चाहिए। आप इस दवा को ऑनलाइन ऑर्डर कर सकते हैं।

    एमेनिल 10 एमजी टैबलेट (Emenil 10 mg Tablet)

    एमेनिल 10 एमजी टैबलेट का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के बाद किया जाता है। ये दवा अपच की समस्या, पेट में भारीपन और हार्टबर्न की समस्या को रोकने का काम करती है। दवा का डोज डॉक्टर से सलाह करने के बाद ही करें। इस दवा को खाने के पहले लिया जाता है। आपको किस तरह की समस्या है, उसी के अनुसार डॉक्टर डोज तय करेंगे। आप इस दवा को मेडिकल स्टोर या फिर ऑनलाइन भी बुक कर सकते हैं।

    और पढ़ें: पेट में समस्या है? तो कारण हो सकता है SIBO

    प्रोकाइनेटिक ड्रग्स: वोमोनिल प्लस (Vomonil Plus)

    गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्टीमुलेशन के लिए, हार्टबर्न के लिए और जीईआरडी (GERD) के लिए इस ड्रग्स का इस्तेमाल किया जाता है। ये मेडिसिन वॉमिटिंग और मितली की समस्या से भी बचाने का काम करती है। आपको दिन में इसकी कितनी डोज लेनी चाहिए, बेहतर होगा कि आप डॉक्टर से सलाह करें। आप दवा को ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं। बिना सलाह के इस दवा का सेवन न करें, वरना आपको दुष्प्रभाव भी दिख सकते हैं। प्रोकाइनेटिक ड्रग्स के रूप में इसका इस्तेमाल किया जाता है।

    प्रोकाइनेटिक दवाएं: मेटाड्रेट टैबलेट (Metadrate Tablet)

    मेटाड्रेट टैबलेट का इस्तेमाल वॉमिटिंग और एसिडिटी की समस्या से राहत पाने के लिए किया जाता है। ये दवा एसिडिटी और हार्टबर्न के लक्षणों से राहत दिलाती है। जिन लोगों को पेट में दर्द की समस्या या फिर अपच की समस्या रहती है, उनके लिए ही ये दवा इस्तेमाल की जाती है। डॉक्टर से सलाह के बाद ही इस दवा का सेवन करें। डॉक्टर जब तक दवा का सेवन करने की सलाह दे, तभी तक दवा का सेवन करें।

    आपको यहां जितनी भी दवा के नाम दिए गए हैं, उन्हें बिना डॉक्टर की सलाह के बिल्कुल भी न लें। अगर दवा का इस्तेमाल बिना सलाह के ज्यादा कर लिया जाए, तो ये दुष्प्रभाव भी दिखा सकती है। किसी दूसरे की दवा का सेवन न करें और अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से सलाह जरूर करें।

    यहां हमने आपको प्रोकाइनेटिक ड्रग्स के कुछ नामों के बारे में जानकारी दी है। ये किसी तरह का प्रचार नहीं है। अगर आपको अपच या फिर डायजेशन से संबंधित अन्य समस्याएं होती है, तो बेहतर होगा कि उन दवाओं का सेवन करें, जो डॉक्टर आपको कहें। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता। इस आर्टिकल में हमने आपको प्रोकाइनेटिक ड्रग्स के संबंध में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Accessed on 21/5/2021

    Heartburn, gastroesophageal reflux (GER) and gastroesophageal reflux disease (GERD).
    digestive.niddk.nih.gov/ddiseases/pubs/gerd/

     GI motility disorders: Diagnostic workup and use of prokinetic therapy.
    ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/7901129

    Addition of prokinetics to PPI therapy in gastroesophageal reflux disease: A meta-analysis. World Journal of Gastroenterology : 
    doi.org/10.3748/wjg.v20.i9.2412

    Prokinetics in the Management of Functional Gastrointestinal Disorders   https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4496896/

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 21/05/2021 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड