आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट (Pregnancy Blood test) कब होता है जरूरी?

    प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट (Pregnancy Blood test) कब होता है जरूरी?

    एक होम प्रेग्नेंसी टेस्ट से पता चलता है कि महिला मां बनने वाली हैं। इसको कंफर्म करने के लिए आप महिला डॉक्टर के पास जाती है। वहां डॉक्टर ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (Human chorionic gonadotropin) यानी एचसीजी ब्लड टेस्ट कराने की सलाह देते हैं। इस प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट के दौरान बॉडी द्वारा बनाए गए कुछ हॉर्मोन की जांच की जाती है। वैसे तो प्रेग्नेंसी का पता लगाने के लिए यूरिन टेस्ट काफी होता है, लेकिन कुछ विशेष केसेस में, प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट को प्राथमिकता दी जाती है। यहां इस लेख में बताया गया है कि प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट क्या है और यह यूरिन टेस्ट से कैसे अलग है। इस टेस्ट के क्या रिस्क हैं और इसके रिजल्ट कितने विश्वसनीय हैं, इन सबके बारे में भी यहां बताया गया है।

    प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट (Pregnancy Blood test) क्या है?

    यूरिन या ब्लड में किसी विशेष हॉर्मोन की जांच करके यह पता लगाया जा सकता है कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं। इस प्रेग्नेंसी हॉर्मोन को ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी) कहा जाता है। एचसीजी गर्भावस्था में स्रावित होने वाला एक हाॅर्मोन है और टेस्ट के आधार पर कन्सेप्शन के एक सप्ताह से दो सप्ताह (या अधिक) तक पता लगाया जा सकता है। यूट्रस में एक फर्टिलाइज्ड एग (Fertilized egg) के इंप्लांट के बाद एक महिला के प्लेसेंटा (Placenta) में एचसीजी बनाया जाता है। यह आमतौर पर गर्भावस्था के दौरान ही बनता है।

    यूरिन टेस्ट से पीरियड्स के मिस होने के लगभग एक सप्ताह बाद एचसीजी हॉर्मोन का पता लग सकता है। यह टेस्ट डॉक्टर के ऑफिस या होम किट से भी किया जा सकता है। जब सही तरीके से होम किट का उपयोग किया जाता है, तो होम प्रेग्नेंसी टेस्ट 97-99 प्रतिशत तक सटीक होते हैं। वहीं, प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट रिजल्ट लगभग 99 प्रतिशत तक सटीक होते हैं। होम किट के रिजल्ट की पुष्टि करने के लिए अक्सर प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट का उपयोग किया जाता है।

    और पढ़ें: Second Trimester Guide: प्रेग्नेंसी के सेकेंड ट्राइमेस्टर गाइड में किन बातों का रखना चाहिए ध्यान?

    प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट का इस्तेमाल कब किया जाता है? (When is a pregnancy blood test used?)

    स्वस्थ महिलाओं के साथ नियमित गर्भधारण में, घर पर यूरिन टेस्ट पर्याप्त और प्रभावी होते हैं। ब्लड टेस्ट मुख्य रूप से क्लिनिक में उपयोग किया जाता है, विशेष रूप से, यदि प्रेग्नेंसी या कुछ अन्य कॉम्प्लिकेशन्स (जैसे मल्टीप्लस) के साथ कोई संभावित समस्या है, जिसमें ब्लड टेस्ट की अधिक संवेदनशीलता की आवश्यकता होती है।

    ब्लड टेस्ट की सलाह हायर रिस्क प्रेग्नेन्सीज (Higher risk pregnancies) में दी जा सकती है, फर्टिलिटी ट्रीटमेंट (Fertility treatment) के दौरान, जब यूरिन टेस्ट नेगेटिव आता है, लेकिन पीरियड नहीं होते हैं, और एक पोटेंशियल एक्टॉपिक (Potential ectopic) या ट्यूबल प्रेग्नेंसी (Tubal pregnancy) का निदान करने के लिए भी टेस्ट किया जाता है।

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में रहना है हेल्दी, तो आहार में जरूर शामिल करें इन प्रोटीन सोर्सेज को!

    क्या प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट (pregnancy blood test) यूरिन प्रेग्नेंसी टेस्ट से बेहतर है?

    यूरिन प्रेग्नेंसी टेस्ट क्वालिटेटिव (Qualitative) होता है। यूरिन प्रेग्नेंसी टेस्ट की तुलना में एचसीजी के लिए प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट ज्यादा सेंसिटिव होता है – और इसलिए, यह अधिक सटीक भी होता है। इसलिए, भले ही आपका घर पर यूरिन टेस्ट पॉजिटिव हो, डॉक्टर कंफर्म करने के लिए एचसीजी ब्लड टेस्ट का ऑप्शन चुन सकता है। ब्लड टेस्ट यूरिन टेस्ट की तुलना में ओव्यूलेशन के छह से आठ दिन बाद ही एचसीजी के बारे में पता लगा सकता है। यह फर्टिलिटी ट्रीटमेंट (Fertility treatment) करा रहीं महिलाओं के लिए हेल्पफुल साबित हो सकता है।

    प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट कैसे किया जाता है? (How is pregnancy blood test done?)

    ब्लड प्रेग्नेंसी टेस्ट आमतौर पर एक क्वांटिटेटिव ब्लड टेस्ट होता है जो बताता है कि आपके ब्लड में ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी) कितना है। यह एक प्रकार का प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट है। आमतौर पर आर्म से, एक वेनिपंक्चर (Venipuncture) नामक प्रक्रिया के माध्यम से एचसीजी के लिए आपके ब्लड का टेस्ट करने के लिए, एक सिंपल सा ब्लड सैंपल आपकी नसों में से लिया जाता है।

    प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट किसी भी अन्य ब्लड टेस्ट की तरह ही किया जाता है। आपको शायद तैयारी के लिए कुछ विशेष करने की जरूरत नहीं है। ब्लड टेस्ट के दौरान धीमी, गहरी सांसें लेना या टेकनीशियन से बात करना आपको रिलैक्स करने में भी मदद कर सकता है। टेस्ट के दौरान, टेकनीशियन नस में सुई डालेगा और आपके ब्लड को छोटी शीशियों (vials) में कलेक्ट करेगा। प्रोसेस में केवल कुछ मिनट लगते हैं। जब निडल अंदर जाती है तो आपको थोड़ा-सा दर्द महसूस हो सकता है। कुछ लोगों को चक्कर आ सकते हैं – यह सामान्य है। इसलिए, तब तक बैठे रहें जब तक आपको अच्छा महसूस न होने लगे, और अगर आप वास्तव में थकान महसूस कर रहे हैं, तो कुछ पानी या जूस लें।

    और पढ़ें: Pregnancy Rash: प्रेग्नेंसी में रैश के कारण क्या हो सकते हैं?

    रिजल्ट के बारे में

    एक एचसीजी ब्लड प्रेग्नेंसी टेस्ट (Quantitative HCG blood pregnancy test) के रिजल्ट से पता चलता है कि गर्भावस्था के फर्स्ट ट्राइमेस्टर के दौरान एचसीजी का लेवल तेजी से बढ़ रहा है और फिर लगभग 10 सप्ताह के बाद थोड़ा कम हो रहा है। लगभग 16 सप्ताह में, शेष गर्भावस्था के लिए एचसीजी का लेवल स्थिर हो जाता है। दूसरी ओर, एब्नॉर्मल रिजल्ट का मतलब विभिन्न तरह की चीजों से हो सकता है।

    अपेक्षा से अधिक एचसीजी: एचसीजी का सामान्य से अधिक लेवल संकेत कर सकता है:

    • यूट्रस का इंफेक्शन (Uterus infection) या घातक ट्यूमर
    • एक से अधिक फीटस (उदाहरण के लिए, ट्विन्स या ट्रिप्लेट्स)
    • यूट्रस के नॉन-कैंसरस वाले ट्यूमर (Non-cancerous tumour)
    • ओवेरियन कैंसर (Ovarian cancer)

    अपेक्षा से कम एचसीजी: एचसीजी के सामान्य स्तर से कम का मतलब हो सकता है:

    और पढ़ें: जानें प्रेग्नेंसी की पहली तिमाही में होने वाले कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में, जो इबैरेसमेंट का कारण बन सकते हैं

    प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट के रिस्क (Pregnancy blood test risk)

    प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट के रिस्क बहुत कम होते हैं। सुई को इंजेक्ट करते समय मामूली दर्द के अलावा, ज्यादातर लोगों में ब्लड निकालने से कोई अन्य साइड इफेक्ट्स नहीं होता है। कभी-कभी, कुछ लोगों को इंजेक्शन वाली जगह पर नील (bruising) पड़ सकता है। दुर्लभ मामलों में, कुछ लोगों को ब्लड निकालने से अत्यधिक ब्लीडिंग (excessive bleeding), बेहोशी या इंफेक्शन का अनुभव होता है। अपने डॉक्टर को बताएं कि क्या आपको कभी ब्लड निकालने में कोई समस्या हुई है।

    ज्यादातर महिलाओं के लिए, यूरिन-बेस्ड, होम प्रेग्नेंसी टेस्ट (home pregnancy test) प्रेग्नेंसी की पुष्टि करने के लिए पर्याप्त होगा। कभी-कभी, अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए, विशेष रूप से मेडिकल रूप से कॉम्प्लैक्स कंडिशंस में, प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट की जरूरत होती है। दोनों टेस्ट सुरक्षित, सरल और प्रभावी हैं जिससे आप जान सकते हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

    उम्मीद करते हैं कि आपको प्रेग्नेंसी ब्लड टेस्ट से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    सायकल की लेंथ

    (दिन)

    28

    ऑब्जेक्टिव्स

    (दिन)

    7

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 25/04/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: