backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना
Table of Content

Premature ejaculation: प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन क्या होता है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Dr Sharayu Maknikar


Shilpa Khopade द्वारा लिखित · अपडेटेड 29/06/2021

Premature ejaculation: प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन क्या होता है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानिए मूल बातें

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (Premature Ejaculation) किसे कहते हैं?

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन जिसे शीघ्रपतन भी कहा जाता है, जिसकी समस्या का सामना बहुत से पुरुषों को करना पड़ता है। यह परेशानी तब होती है जब कोई व्यक्ति संभोग पूर्ति के पहले एजैक्युलेट (Ejaculate) होता है या संभोग के शुरुआत में ही वीर्य निकल जाता है। पुरुषों को इसका अनुभव अधिक होने के कारण यह कपल के लिए चिंता का विषय बन सकता है।

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (Premature Ejaculation) कितनी सामान्य है?

जैसे कि सभी जानते है, ऐसे विषय पर कोई व्यक्ति बात करना नहीं चाहता, लेकिन यह बीमारी पुरुषों में बड़ी आम है। जीवन के किसी भी मोड़ पर हर 3 में 2 पुरुष को इस परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसके कारकों को निंयत्रित करके इसे रोका जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या चिकित्सक से बात करें।

और पढ़ें: सेक्स के दौरान ज्यादा दर्द को मामूली न समझें, हो सकती है गंभीर समस्या

जानिए इसके लक्षण

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Premature Ejaculation)

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन का मुख्य लक्षण है की, संभोग के दौरान समय से पहले एजैक्युलेट होना या पेनेट्रेशन के तुरंत बाद एजैक्युलेट होना। हालांकि यह समस्या किसी भी सेक्शुअल एक्टिविटीज (Sexsual activity) में हो सकती है, मास्टरबेशन (Masterbation) की स्थिति में भी हो सकता है।

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (Premature Ejaculation) का वर्गीकरण इस प्रकार किया जाता है:

शरीर में कमी (प्राइमरी): अगर जन्म से ही शरीर में कोई कमी हो तो उसके कारण आपको एजैक्युलेट की समस्या (Ejaculate problem) हो सकती है और ये ठीक होने की संभावना बहुत कम होती है, इसलिए इसे प्राइमरी के तौर पर देखा जाता है।

अपघात के कारण होनेवाली डेफिसिन्सी (सेकेंडरी): अगर आपके जीवनकाल में कभी कुछ ऐसी घटना घटी हो जिससे शरीर को हानि हुई है, तो इस कारन भी आपको एजैक्युलेट होने की समस्या हो सकती है, इसे सेकेंडरी तौर पर देखा जाता है।

बहुत से पुरुषों को यह महसूस होता है, कि उन्हें प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (Premature Ejaculation) हुआ है। लेकिन उनमें दिखाई देने वाले लक्षण इस बीमारी के मापदंडो को पूरा नहीं करते है। शायद वे जिस स्थिति से गुजर रहे हैं, वह सामान्य एजैक्युलेशन (Ejaculation) हो सकता है और वह उसकी सामन्य अवधि के अनुसार हो रहा है।

कुछ लक्षण और संकेत उपर नहीं दिए गए हैं। अगर आप अपने शरीर के किसी लक्षण से चिंतित हैं तो तुरंत डॉक्टर से मिलें और बात करें।

और पढ़ें: फर्स्ट टाइम सेक्स से पहले जान लें ये 10 बातें, हर मुश्किल होगी आसान

मुझे अपने डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

अगर आपको सेक्स (Sex) के दौरान समय से पहले एजैक्युलेट हो रहा है तो अपने डॉक्टर से तुरंत बात करें। सेक्शुअल प्रॉब्लम्स (Sexual problem) की चर्चा करने में आमतौर पर सभी को शर्म आती है। लेकिन इस कारण अगर आप डॉक्टर से बात नहीं कर रहे हैं तो यह आपके सेहत के लिए अच्छी बात नहीं है। यह बहुत ही आम समस्या है और यह ठीक भी हो सकती है।

कई पुरुषों की एजैक्युलेशन की समस्या (Ejaculation problem) डॉक्टर से परामर्श करने से ठीक हो सकती है। उदहारण के तौर पर, यह सुनके आप आश्वस्त हो जाएंगे की, कभी कभी हुआ प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (Premature Ejaculation) सामान्य होता है। संभोग की शुरुआत से अंत तक एजैक्युलेशन का समय औसतन पांच मिनट होता है, लेकिन सबके लिए यह समय अलग-अलग होता है।

और पढ़ें: तरह-तरह के कॉन्डम फ्लेवर्स से लगेगा सेक्स लाइफ में तड़का

इसके कारण जानें

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन के कारण क्या हैं? (Cause of Premature Ejaculation)

बहुत से मामलों में इस बीमारी का कोई स्पष्ट कारण नहीं होता है। सेक्शुअल अनुभव (Sexsual desire) और उम्र के कारण पुरुषों को ऑर्गज्म तक पहुंचने में देरी होती है। लेकिन नए सेक्स पार्टनर के साथ प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (Premature Ejaculation) हो सकता है। यह कुछ सेक्शुअल परिस्थितियों में या अगर आप लंबे समय बाद सेक्स कर रहे है, तो हो सकता है।

साइकोलॉजिकली, यह एंजायटी (Anxiety), गिल्ट या डिप्रेशन (Depression) के कारण हो सकता है। कुछ मामलों में ये हार्मोनल प्रॉब्लम (Hormonal problem), किसी चोट या किसी दवाइयों के साइड इफेक्ट के कारण भी हो सकता है।

शारीरिक परेशानियों से दूर रहने के लिए अपने दिनचर्या में योगासन शामिल करें। आप नीचे दिए इस वीडियो लिंक को क्लिक कर योगाएक्सपर्ट द्वारा बताये टिप्स को फॉलो कर सकते हैं।

इसकी जोखिमों को जानिए

किस कारण प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (Premature Ejaculation) का खतरा बढ़ सकता है?

इरेक्टाइल डिसफंक्शन (Erectile Dysfunction): अगर कभी-कभी या लगातार इरेक्शन होने या बनाएं रखने के लिए परेशानी हो रही है, तो आपको प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (Premature Ejaculation) का खतरा बढ़ सकता है। इरेक्शन चले जाने के डर से कभी कभी या अनजाने में आप सेक्स में जल्दबाजी करते हैं।

आपके जीवन में चल रहा मानसिक और भावनात्मक तनाव भी इस बीमारी का कारण बन सकता है, जिससे आप सेक्स के दौरान आराम करना या उसपर ध्यान केंद्रित करने में असफल होते हैं।

और पढ़ें: पीरियड के दर्द से छुटकारा दिला सकता है मास्टरबेशन, जानें पूरा सच

[mc4wp_form id=’183492″]
नीचे दी गई जानकारी किसी भी वैद्यकीय सुझाव का पर्याय नहीं है, इसलिए हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

निदान और उपचार

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन का निदान कैसे करें? (Diagnosis of Premature Ejaculation)

डॉक्टर आपकी पूरी जांच करेंगे और आपके मेडिकल हिस्ट्री (Medical history) की चर्चा आपके साथ करेंगे। डॉक्टर आपके साथी से भी इस विषय पर बात कर सकते हैं। इस बीमारी के कई कारण हो सकते हैं। इसलिए डॉक्टर आपको कई टेस्ट का सुझाव दे सकते हैं, जिससे कोई और शारीरिक समस्या का निदान हो सकें।

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment for Premature Ejaculation)

  • बहुत से मामलों में यह समस्या समय रहते ठीक हो जाती है, जिसमे उपचार कोई जरुरत नहीं होती है। रिलैक्सेशन या डिस्टैक्शन तकनीकों से आप एजैक्युलेशन को ठीक करने की कोशिश करें।
  • इसमें उत्तेजना को कम करने के लिए क्रीम, जेल और एक स्प्रे का भी उपयोग करते हैं। इसको सेक्स करने से पहले पेनिस पर लगाते है। उनमें लिडोकेन और लिडोकाइन-प्रिलोकाइन शामिल हैं। लेकिन कुछ दवाइयां पुरुष की उत्तेजना को प्रभावित कर सकती हैं।

और पढ़ें: कॉन्डम के प्रकार हैं इतने सारे, कॉन्डम कैसे चुनें क्या जानते हैं आप?

जीवनशैली और घरेलू उपचार

क्या कुछ घरेलू उपचार या जीवन शैली के बदलाव से ये बीमारी ठीक हो सकती है?

  • सेक्स (Sex) से एक दो घंटे पहले हस्तमैथुन करने से जल्दी डिस्चार्ज में देरी की जा सकती है और इस समस्या से बचा जा सकता है। 
  • आजकल बाजार में क्लाइमेक्स कंट्रोल कॉन्डम भी उपलब्ध हैं। यह कॉन्डम लेटेक्स मटेरियल से बने होते हैं, जिससे संवेदनशीलता घटती है और ऑर्गैज्म में देरी होती है। जिससे शीघ्रपतन की संभावना कम हो जाती है। 
  • उड़द की दाल और चावल की खिचड़ी बनाएं, जिसे सुबह या शाम को देसी घी के साथ खाएं। इस खिचड़ी को खाने के बाद एक गिलास गुनगुना मीठा दूध पिएं। इस खिचड़ी को लगभग एक महीने तक खाना होगा। जिससे प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन में राहत मिलेगी।
  • 5 ग्राम अश्वगंधा पाउडर में बराबर मात्रा में मिश्री मिलाएं। फिर गुनगुने दूध के साथ दिन में दो बार इसका सेवन करें। दो से तीन महीनों तक के लिए रोजाना यह पीने से प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (Premature Ejaculation) ठीक हो जाएगा।
  • लहसुन के फायदे अनेक हैं। यह शीघ्रपतन में भी फायदा दे सकता है। इसके लिए आप हर रोज तीन से चार कच्चे लहसुन की कलियां खाएं। नियमित रूप से इसका सेवन करने से आपको प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन से राहत मिलने लगेगी।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

Dr Sharayu Maknikar


Shilpa Khopade द्वारा लिखित · अपडेटेड 29/06/2021

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement