आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Boils on the Inner Thigh: जानिए भीतरी जांघ पर फोड़े के 17 कारण और बचाव के टिप्स!

    Boils on the Inner Thigh: जानिए भीतरी जांघ पर फोड़े के 17 कारण और बचाव के टिप्स!

    स्किन पर होने वाले फोड़े फुंसियां इंफेक्शन की वजह से होने वाली समस्या है। हालांकि कुछ फोड़े-फुंसियां ऐसी जगह पर हो जाते हैं जिससे परेशानी थोड़ी और ज्यादा बढ़ जाती है। अब देखिये ना कुछ लोगों को भीतरी जांघ पर फोड़े (Boils on the Inner Thigh) की समस्या अगर हो जाए तकलीफ और ज्यादा बढ़ जाती है। इसलिए आज इस आर्टिकल में भीतरी जांघ पर फोड़े की समस्या का इलाज क्या हो सकता है और इससे जुड़े अन्य सवालों का जवाब जानेंगे।

    • फोड़े-फुंसियों की समस्या क्या है?
    • भीतरी जांघ पर फोड़े के कारण क्या हो सकते हैं?
    • भीतरी जांघ पर फोड़े के लक्षण क्या हो सकते हैं?
    • जांघ में फोड़े का इलाज कैसे किया जाता है?
    • जांघ में फोड़े से बचाव कैसे संभव है?

    चलिए अब त्वचा पर होने वाले इन फोड़े-फुंसियों से जुड़े इन सवालों का जवाब जानते हैं।

    फोड़े-फुंसियों की समस्या क्या है?

    भीतरी जांघ पर फोड़े (Boils on the Inner Thigh)

    फोड़े फुंसियां त्वचा पर उभरी हुई गांठ है, जो गुलाबी और गहरे लाल रंग की होती है। फोड़े फुंसियां ऊपर पीले रंग की और नीचे की ओर लाल होते हैं। ये पीला रंग पस (मवाद) होता है। फोड़े में बनने वाला पस डेड व्हाइट ब्लड सेल्स होती है, जो फोड़े फुंसियां बनाने वाले बैक्टिरिया से लड़ते हुए डेड हो जाती हैं। फोड़े फुंसियां बॉडी पर कहीं भी हो सकते हैं। तो चलिए अब भीतरी जांघ पर फोड़े के कारण को समझते हैं।

    और पढ़ें : Hyaluronic Acid For Skin: जानिए शरीर एवं त्वचा के लिए हाईऐल्युरोनिक एसिड के 10 फायदे!

    भीतरी जांघ पर फोड़े के कारण क्या हो सकते हैं? (Cause of Boils on the Inner Thigh)

    स्टैफ बैक्टीरिया को भीतरी जांघ पर फोड़े के कारण को बताया गया है, लेकिन इसके अलावा भी जांघ में फोड़े फुंसियां होने के और भी कई कारण हो सकते हैं। जैसे:

    1. स्टैफ बैक्टीरिया (Staph Bacteria) की समस्या होना।
    2. त्वचा (Skin) का कट जाना।
    3. भीड़ वाली जगहों (Crowded area) में रहना।
    4. मोटापे (Obesity) का शिकार होना।
    5. डायबिटीज (Diabetes) की समस्या होना।
    6. पुअर हाइजीन (Poor hygiene) फॉलो करना।
    7. जानवरों का काटना या स्क्रेच (Animal scratches or bites) करना।
    8. स्मोकिंग (Smoking) करना।
    9. एनीमिया (Anemia) की समस्या होना।
    10. शरीर में आयरन की कमी (Iron deficiencies) होना।
    11. खानपान हेल्दी (Poor nutrition) नहीं होना।
    12. एक्सरसाइज नहीं (Lack of exercise) करना।
    13. एंटीबायोटिक (Antibiotics) का सेवन ज्यादा करना।
    14. सोरायसिस (Psoriasis) या एक्जिमा eczema की समस्या होना।
    15. स्टेरॉइड्स (Steroids) या कॉर्टिकॉस्टेरॉइड्स (Corticosteroids) का सेवन करना।
    16. इंट्रावेनस ड्रग्स (Intravenous drug use) का सेवन करना।
    17. बहुत ज्यादा तनाव (Extreme or chronic stress) में रहना।

    ये ऊपर बताई गई स्थितियां भीतरी जांघ पर फोड़े के कारण या शरीर पर अन्य जगहों पर फोड़े फुंसियों के कारण बन सकते हैं।

    और पढ़ें : Facial Swelling: फेशियल स्वेलिंग क्या हैं? जानिए फेशियल स्वेलिंग के 15 कारण और बचाव!

    भीतरी जांघ पर फोड़े के लक्षण क्या हो सकते हैं? (Symptoms of Boils on the Inner Thigh)

    भीतरी जांघ पर फोड़े के लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं। जैसे:

    • जांघ की त्वचा का लाल पड़ना, सूजन आना और उभार नजर आना।
    • स्किन का सेंसेटिव होना।
    • सूजन या दाने से सफेद रंग का डिस्चार्ज होना।
    • तकरीबन 10 दिनों से ज्यादा तकलीफ का बने रहना।

    ये हैं जांघ में फोड़े फुंसियों के लक्षण।

    और पढ़ें : हाइड्रोजन पेरोक्साइड और स्किन कंडिशन: क्यों स्किन के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए?

    जांघ में फोड़े का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment for Boils on the Inner Thigh)

    भीतरी जांघ पर फोड़े फुंसियां के होने पर इलाज के लिए जब डॉक्टर के पास जाते हैं, तो डॉक्टर पहले इसका इलाज दवा से करने की कोशिश करते हैं। हालांकि फोड़े फुंसियां पक कर फूटने की स्थिति में रहते हैं तब डॉक्टर इसकी सर्जरी करते हैं। फोड़े-फुंसियों की सर्जरी भी दो तरह से की जाती है। पहला तो बिना चीरा लगाए सिर्फ फोड़े-फुंसियों का दबा कर पस निकाला जाता है, जिसमें फोड़े के बीच का ठोस भाग भी निकल जाता है। वहीं जब फोड़ा काफी बड़ा होता है तो सर्जरी की भी जरूरत पड़ सकती है।

    और पढ़ें : Creams for Scars: जानिए 7 बेस्ट स्कार्स के लिए क्रीम और इन क्रीम्स को खरीदने के पहले किन बातों का रखें ध्यान!

    जांघ में फोड़े से बचाव कैसे संभव है? (Tips to prevent Boils on the Inner Thigh)

    भीतरी जांघ पर फोड़े की समस्या अगर होती है, तो निम्नलिखित उपायों को अपनाया जा सकता है। जैसे:

    • ऐसे प्रॉडक्ट्स का इस्तेमाल करें जिससे चेफिंग की समस्या से बचने में मदद मिल सके।
    • रोजाना स्नान करें और साबुन का इस्तेमाल करें।
    • हाथों को क्लीन रखें।
    • अंडरगार्मेंट साफ रखें।
    • फिटेड और उन कपड़ों को पहने से बचें जिसकी वजह से पसीना ज्यादा आता हो।
    • अपने कपड़े और तौलिये को किसी के साथ शेयर ना करें।
    • पौष्टिक आहार का सेवन करें।
    • नियमित रूप से एक्सरसाइज या योगासन करें।
    • शरीर के वजन को संतुलित बनाये रखें

    इन टिप्स को फॉलो करने से लाभ मिल सकता है।

    और पढ़ें : Salicylic Acid and Benzoyl Peroxide: जानिए सैलिसिलिक एसिड और बेंजोईल पेरोक्साइड के फायदे और नुकसान!

    भीतरी जांघ पर फोड़े फुंसियों को दूर करने के लिए क्या हैं घरेलू उपाय? (Home remedies for Boils on the Inner Thigh)

    भीतरी जांघ पर फोड़े फुंसियों को दूर करने के लिए निम्नलिखित घरेलू उपाय किये जा सकते हैं। जैसे:

    • जांघ में फोड़े की समस्या को दूर करने के लिए टी ट्री ऑयल (Tea Tree Oil) एवं नारियल तेल (Coconut oil) को मिक्स कर लगाने से लाभ मिल सकता है। दरअसल इन दोनों तेलों में एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं।
    • जांघ में फोड़े की समस्या हो या बॉडी पर कहीं और आप हल्दी (Turmeric) और अदरक (Ginger) का इस्तेमाल कर सकते हैं। हल्दी बैड बैक्टीरिया के लिए एंटीबायोटिक (Antibiotic) गुण मौजूद है, तो अदरक में एंटी इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज (Anti-inflammatory properties) और ये दोनों ही बॉयलस की समस्या से निजात दिलाने में मदद करते हैं। इसलिए आप हल्दी, अदरक और नारियल तेल को मिक्स कर फोड़े फुंसियों पर लगा सकते हैं।
    • भीतरी जांघ पर फोड़े की तकलीफ को दूर करने के लिए एलोवेरा जेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। एलोवेरा जेल में थोड़ी-सी हल्दी मिक्स कर लें। इस पेस्ट को फोड़े-फुंसियों पर लगाएं। इससे भी फोड़े फुंसियां ठीक हो सकते हैं।
    • शरीर पर होने वाले फोड़े-फुंसियों को ठीक करने के लिए नीम के पत्ते और नीम की छाल को बराबर मात्रा में पीसकर लेप बना लें। अब इसे फुंसियों पर लगाएं। ऐसा करने से काफी जल्दी आराम मिलेगा।
    • शरीर में खून के दूषित होने की वजह से भी फोड़े फुंसियां होने लगती हैं। ऐसे में रोजाना सुबह खाली पेट चार से पांच तुलसी के पत्ते चबाएं। इससे ब्लड शुद्ध होगा और फोड़े फुंसियां खुद बखुद हमारे शरीर को अलविदा कह देंगी।

    इन घरेलू उपायों को अपना कर फोड़े फुंसियां को दूर कर सकते हैं।

    हमें उम्मीद है कि इस आर्टिकल में भीतरी जांघ पर फोड़े (Boils on the Inner Thigh) से जुड़ी जानकारी आपके लिए लाभकारी होंगी। इसलिए अगर आप लंबे वक्त से भीतरी जांघ पर फोड़े (Boils on the Inner Thigh) या किसी अन्य स्किन की समस्याओं के शिकार हैं और यह परेशानी दूर नहीं हो रही है, तो ऐसी स्थिति में डॉक्टर से कंसल्ट करें। डॉक्टर बीमारी की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए मेडिसिन प्रिस्क्राइब कर सकते हैं। स्किन प्रॉब्लेम (Skin problem) से जुड़ी किसी भी जानकारी के लिए आप हैलो स्वास्थ्य के त्वचा संबंधी समस्याओं पर क्लीक करें।

    आयुर्वेदिक ब्यूटी रेमेडीज के बारे में जानें संपूर्ण जानकारी नीचे दिए इस वीडियो लिंक को क्लिक कर। आयुर्वेदिक ब्यूटी एक्सपर्ट पूजा नागदेव खास जानकारी साझा कर रहीं हैं आयुर्वेदिक ब्यूटी रेमेडीज की, जिससे आप आसानी से अपना सकती हैं और चेहरे पर एक्ने के दाने या अन्य दाग-धब्बों को दूर करने के उपाय।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Recurrent furunculosis: a review of the literature/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/22803835/Accessed on 23/06/2022

    Obesity and dermatology/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/15475230/Accessed on 23/06/2022

    Management of Skin Abscesses in the Era
    of Methicillin-Resistant Staphylococcus aureus/http://medicine.case.edu/images/current_residents/management%20of%20skin%20abscesses%20in%20the%20era%20of%20mrsa.pdf/Accessed on 23/06/2022

    ALOE VERA: A SHORT REVIEW/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2763764/Accessed on 23/06/2022

    Impact of hydrotherapy on skin blood flow: How much is due to moisture and how much is due to heat?, Physiotherapy Theory and Practice, ResearchGate./https://www.researchgate.net/publication/41000046_Impact_of_hydrotherapy_on_skin_blood_flow_How_much_is_due_to_moisture_and_how_much_is_due_to_heat/Accessed on 23/06/2022

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 24/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: