आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज इन संक्रमणों के कारण हाे सकता है, रहें अलर्ट!

बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज इन संक्रमणों के कारण हाे सकता है, रहें अलर्ट!

बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज (Viral Rash In Adults And Babies) एक गंभीर समस्या हो सकती है। हम यह भी कह सकते हैं कि रैशेज वयस्कों, बच्चों और शिशुओं के लिए सबसे आम है और यह त्वचा की समस्याओं में से एक हैं। चकत्ते के कई कारण होते हैं, जिनमें एलर्जी, संक्रमण और कुछ अन्य बीमारियां शामिल हैं। वायरल रैशेज बैक्टीरिया, कवक या वायरस आदि कारणों से हो सकते हैं। आम वायरल चकत्ते में मोनोन्यूक्लिओसिस, चिकनपॉक्स और दाद आदि शामिल हैं। जानिए यहां बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज की समस्या (Viral Rash In Adults And Babies) के बारे में:

और पढ़ें: इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) के इन 9 कारणों के बारे में जान लें

बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज क्या है (What is viral rash in adults and children)?

बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज एक गंभीर समस्या हो सकती है। वायरल रैश वह है, जो वायरल संक्रमण के कारण होता है। इसमें खुजली, डंक, जलन स्किन डैमेज जैसी समस्या हो सकती है। बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज की उपस्थिति भिन्न हो सकती है। वे लाल, भूरे, या बैंगनी धब्बों, या छोटे धक्कों के रूप में नजर आ सकते हैं या वे केवल शरीर के एक हिस्से पर विकसित हो सकते हैं। बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज किसी के कितने समय तक बने रहते हैं, यह वायरस के प्रकार के आधार पर निर्भर करता है। वायरस, वायरल रैशेज का सबसे अधिक कारण देखा गया है। जबकि कई वायरल इंफेक्शन सभी उम्र के लोगों को प्रभावित करते हैं, कुछ बच्चों और शिशुओं में अधिक आम हैं, और अन्य मुख्य रूप से वयस्कों में होते हैं। जानिए यहां बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज का कारण बनने वाले कारकों के बारे में:

मोनोन्यूक्लिओसिस (Mononucleosis)

एपस्टीन-बार वायरस मोनोन्यूक्लिओसिस का कारण बनता है, जो सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है। यह वायरस आमतौर पर लार सहित शरीर में मौजूद फ्लूइड यानि कि तरल पदार्थों के माध्यम से फैलता है। यही वजह है कि लोग इसे “किस डिजीज” कहते हैं। मोनोन्यूक्लिओसिस में विकसित होने वाले दाने में आमतौर पर छोटे लाल धक्के होते हैं, जो चेहरे सहित पूरे शरीर पर कहीं भी नजर आ सकते हैं। कुछ एंटीबायोटिक्स लेने वाले व्यक्तियों में यह समस्या अधिक देखी जाती है। मोनोन्यूक्लिओसिस के अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

और पढ़ें: आईलिड डर्मेटाइटिस (Eyelid Dermatitis) : पलकों को प्रभावित करने वाली इस कंडिशन के बारे में जानें

चिकनपॉक्स (Chickenpox)

बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज का एक कारण चिकनपॉक्स भी है। यह वयस्कों और बच्चों में हो सकता है, लेकिन यह बच्चों में अधिक आम है। वैरीसेला-जोस्टर वायरस इस बीमारी का कारण बनता है। दाने अक्सर पहले सीने पर दिखाई देते हैं और फिर शरीर के अन्य क्षेत्रों में फैल जाते हैं। बीमारी बढ़ने पर दाने का पैटर्न बदल जाता है। यह छोटे आकार में द्रव से भरे हो सकते हैं, जो फफोले की तरह दिखते हैं। लेकिन कुछ दिनों के बाद, फफोले ठीक होने पर फटने, पपड़ी की तरह लेयर बनने लगते हैं। दाने के साथ, चिकनपॉक्स के लक्षणों में शामिल हैं:

और पढ़ें: वरिलिरिक्स वैक्सीन : चिकनपॉक्स की इस वैक्सीन से जुड़ी सभी जरूरी बातें क्या जानते हैं आप?

दाद (Shingles)

दाद ज्यादातर वयस्कों में होता है। वैरीसेला-जोस्टर वायरस, जो चिकनपॉक्स का कारण भी बनता है, इसके पुनर्सक्रियन से इसकी समस्या पैदा होती है। किसी व्यक्ति को चिकनपॉक्स होने के बाद, वायरस उसके शरीर के कुछ कोशिकाओं तंत्रिका में रह सकता है। हालांकि वायरस अक्सर हमेशा के लिए निष्क्रिय रहता है, कुछ मामलों में, यह फिर से एक्टिव हो सकता है और दाद की समस्या बन सकता है। दाद में एक लाल, दर्दनाक छाले के आकार की तरह होते हैं, जो शरीर पर कहीं भी विकसित हो सकते हैं। गहरे रंग की त्वचा पर, दाद के दाने भूरे रंग के दिखाई दे सकते हैं । दाद के अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • तंत्रिका दर्द, जो लंबे समय तक चल सकता है
  • बुखार
  • सिर दर्द

और पढ़ें: Ringworm: दाद (रिंगवर्म) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

खसरा (Measles)

खसरा एक वायरल रैश का कारण बनता है, जो आमतौर पर कानों के पीछे से शुरू होता है और चेहरे, गर्दन और धड़ तक फैलता जाता है। गहरे रंग की त्वचा वालों पर यह कम दिखाई दे सकते हैं। यह बीमारी रुबेला वायरस के कारण डैवलेप होती है। खसरा, जर्मन खसरा से अलग है, जो रूबेला वायरस के कारण होता है और यह दूसरों में फैल भी सकता है। गर्भवती महिलाओं के लिए यह गंभीर हो सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के विश्वसनीय स्रोत के अनुसार, खसरा एक गंभीर संक्रमण है जो कभी-कभी जीवन के लिए खतरा होता है। 2018 में दुनिया भर में अनुमानित 140,000 लोग वायरस से मारे गए, जिनमें से अधिकांश छोटे बच्चे थे। खसरे के अतिरिक्त लक्षणों में शामिल हैं:

  • बुखार
  • बहती नाक
  • खांसी
  • नम आंखें

और पढ़ें: Measles Immunization Day: मीजल्स (खसरा) कितना होता है खतरनाक, जानें कैसे करें बचाव

फिफ्थ डिजीज (Fifth disease)

फिफ्थ डिजीज आमतौर पर चेहरे पर दाने का कारण बनता है, जो ऐसा दिखता है, जैसे कि किसी को गाल में थप्पड़ मारने के बाद। गहरे रंग की त्वचा पर दाने कम स्पष्ट हो सकते हैं। यह दाने शरीर के अन्य क्षेत्रों में भी फैल सकते हैं। यह वायरस सबसे ज्यादा बच्चों को प्रभावित करता है। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के विश्वसनीय स्रोत के अनुसार, हालांकि यह किसी भी उम्र में विकसित हो सकता है, फिफ्थ बच्चों में अधिक बार होती है। इसके सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

और पढ़ें: क्या बच्चों में फिफ्थ डिजीज के इलाज के लिए एंटीहिस्टामाइंस का इस्तेमाल करना सुरक्षित है?

बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज का उपचार (Treatment of viral rashes in adults and children)

बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज का इलाज मरीज में वायरस के प्रकार और स्थिति पर निर्भर करता है। इसमें मेडिकेशन डाॅक्टर द्वारा तय की जाएगी। ऐसा होने पर डॉक्टर मरीज को ओवर-द-काउंटर नॉन-स्टेरायडल एंटी इंफ्लेमेटरी ड्रग (Non-Steroidal Anti Inflammatory Drug) दे सकते हैं, जैसे कि एडविल (Advil), मोट्रिन (Motrin) या कोई अन्य, सामान्य एनाल्जेसिक (Analgesic) जैसे एसिटामिनोफेन (Acetaminophen) किसी भी साथ बुखार को कम करने के लिए। आमतौर पर, जैसे-जैसे वायरस हल्का पड़ता जाता है, दाने भी कम हो जाते हैं। इस बीच, लोग खुजली, दर्द और किसी भी अन्य परेशानी को कम करने के लिए निम्नलिखित उपाय अपना सकते है :

  • खुजली को कम करने के लिए एक टॉपिकल लोशन, जैसे कैलामाइन लोशन या टॉपिकल कॉर्टिकोस्टेरॉइड लोशन (Topical Corticosteroid Lotion) का इस्तेमाल करना। जलन के जोखिम को कम करने के लिए ऐसे उत्पाद का उपयोग करना सबसे अच्छा है, जो फ्रेग्नेंस फ्री हो।
  • त्वचा को शांत करने और खुजली को कम करने के लिए ओट्स बाथ लें।
  • दर्द और खुजली से राहत पाने के लिए त्वचा पर ठंडी सेक करें।
  • दाने को खरोंचने से बचें, क्योंकि इससे दर्द बढ़ सकता है और त्वचा में संक्रमण बढ़ सकता है।
  • दर्द से राहत के लिए खुजली को कम करने के लिए बच्चे को ओवर-द-काउंटर एंटीहिस्टामाइन देने से पहले डॉक्टर से बात करना महत्वपूर्ण है।

और पढ़ें: Heartworm: मनुष्यों में हार्टवर्म इंफेक्शन कितना हो सकता है गंभीर? इस बारे में जानकारी है जरूरी!

बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज वायरल रैश कई सामान्य वायरस के कारण हो सकते हैं, खासकर जो शिशुओं को प्रभावित करते हैं। मोनोन्यूक्लिओसिस, चिकनपॉक्स और खसरा जैसी विभिन्न बीमारियां वायरल रैश का कारण बनती हैं। हालांकि दाने आमतौर पर चिंता का कारण नहीं होते हैं, अंतर्निहित वायरस को चिकित्सा देखभाल की आवश्यकता हो सकती है। बड़ों और बच्चों में वायरल रैशेज के इलाज के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डाॅक्टर से बात करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 07/07/2022 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड