प्रेगनेंसी में कॉफी पीना फायदेमंद या नुकसानदेह?

By

Update Date मई 20, 2020
Share now

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपने स्वास्थ्य का खास ध्यान रखना पड़ता है। इस समय लिया जाने वाला हर एक स्टेप केवल उनके स्वास्थ्य को ही नहीं बल्कि उनमें पल रही नन्ही सी जान को भी प्रभावित करता है। ऐसे में महिलाओं के लिए डायट मेंटेन करना बेहद जरूरी हो जाता है। हर प्रेग्नेंट महिला इस बात को लेकर बेहद कंफ्यूज रहती है कि उन्हें अपने खानपान में क्या शामिल करना चाहिए और किन आहार से दूरी बनाए रखनी चाहिए।

आमतौर पर महिलाओं को चाय और कॉफी पीने का निर्णय सबसे अधिक मुश्किल लगता है। इस विषय में वह डॉक्टर, डायटीशियन और न जाने किन-किन लोगों से सलाह लेती हैं। लेकिन आज हम आपको बताएंगे की आखिर प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन हेल्दी होता है या नुकसानदायी और साथ ही इनका कितना सेवन करना सुरक्षित होता है।

यह भी पढ़ें – प्रेगनेंसी में मीठा खाने से क्या होता है? जानिए इसके नुकसान

क्या प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन सुरक्षित होता है?

प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन करना चाहिए या नहीं? यह सवाल अक्सर महिलाओं के मन में आता है। कॉफी और चाय दोनों में ही कैफीन मौजूद होता है जो गर्भ में पल रहे शिशु को प्रभावित कर सकता है। जहां एक तरफ कैफीन एनर्जी बूस्टर की तरह काम करता है और मूड फ्रेश व फोकस करने में मदद करता है वही दूसरी ओर यह पेय पदार्थ आपको कई स्वास्थ्य संबंधी फायदे और नुकसान दोनों पहुंचा सकता है।

हालांकि, आपको बता दें कि गर्भावस्था के दौरान चाय या कॉफी के दुष्प्रभाव का खतरा अधिक रहता है।

यह भी पढ़ें – प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम पर क्या असर होता है?

गर्भावस्था में कॉफी का सेवन कितना फायदेमंद है?

यह तो हम सभी जानते हैं कि चाय और कॉफी में मौजूद कैफीन हमें ऊर्जा प्रदान करता है।

शोध की माने तो कॉफी मस्तिष्क और नर्वस सिस्टम को उत्तेजित करते हैं जिससे हमें अलर्ट और जागते रहने में मदद मिलती है।

कुछ विशेष प्रकार की दवाओं के साथ कॉफी पीना सिरदर्द के इलाज में बेहद प्रभावशाली हो सकता है।

इसके अलावा कॉफी के कुछ स्वस्थ विकल्पों में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त होने से बचाने में मदद करते हैं। यह सूजन को कम करने और क्रोनिक बिमारी को बढ़ने से रोकता है।

यह भी पढ़ें – गर्भावस्था का बालों पर असर को कैसे रोकें? जाने घरेलू उपाय

प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन कितना नुकसानदेह होता है?

कॉफी में मौजूद कैफीन के कई फायदे होते हैं लेकिन गर्भावस्था के दौरान इनका सेवन अधिक नुकसानदायी भी हो सकता है।

प्रेग्नेंसी में  कॉफी का सेवन करने पर उनका पाचन धीरे-धीरे होता है। यहां तक की प्रेग्नेंसी में पाचन प्रक्रिया 1.5 से 3.5 गुना धीमी हो जाती है।  कॉफी में मौजूद कैफीन प्लेसेंटा से होते हुए शिशु के खून में एंटर कर जाता है। इससे बच्चे के स्वास्थ्य को लेकर बड़े सवाल खड़े हो सकते हैं।

अमेरिकन कॉलेज ऑफ ऑब्स्टट्रिशन गायनेकोलॉजिस्ट के मुताबिक प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन प्रतिदिन 200 एमजी से कम करने पर प्रीटर्म बर्थ और गर्भपात का जोखिम नहीं बढ़ता है।

हालांकि, शोध की माने तो 200 एमजी से अधिक कैफीन के कारण गर्भपात का खतरा बढ़ सकता है।

इसके अलावा कुछ आंकड़ों की माने तो प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन कम करने से जन्म के समय बच्चे का वजन कम हो सकता है। एक अध्ययन में पाया गया कि जो महिलाएं प्रतिदिन कैफीन का 50 से 149 एमजी से कम सेवन करती हैं उनमें जन्म के समय बच्चे का कम वजन होने का खतरा 13 फीसदी ज्यादा होता है।

हालांकि, फिलहाल इस विषय पर अधिक अध्ययन करने की आवश्यकता है। गर्भावस्था में कॉफी के अधिक सेवन के कारण गर्भपात, जन्म के समय शिशु का कम वजन और अन्य दुष्प्रभावों का खतरा बड़े पैमाने पर असपष्ट हैं।

प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन करने के अन्य नुकसान में पेट में दर्द, हाई ब्लड प्रेशर, दिल की तेज धड़कन, सिर चकराना, एंग्जायटी और दस्त शामिल हैं।

यह भी पढ़ें – प्रेगनेंसी में नमक खाने के फायदे और नुकसान

 कॉफी व अन्य कैफीनेटेड पेय पदार्थ में कितना कैफीन होता है?

निचे दी गई टेबल में बताया गया है की किस पेय पदार्थ में कितना कैफीन मौजूद होता है। इससे आपको प्रेग्नेंसी में  कॉफी का सेवन करने में मदद मिलेगी –

पेय पदार्थ कैफीन स्तर 200 एमजी कैफीन
इंस्टेंट कॉफी 100mg दो कप
फिल्टर कॉफी 140mg एक कप

यह भी पढ़ें – बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट का कैसे करे चुनाव

 कॉफी का सेवन कैसे कम करें?

प्रेग्नेंसी के सबसे शुरुआती चरण में आपकी चीजों को टेस्ट करने की समझ में बदलाव आने लगते हैं और मॉर्निंग सिकनेस सबसे अधिक होती है। इसके चलते आप कॉफी और चाय का स्वाद भूल जाएंगी और आपको अधिक क्रेविंग नहीं होगी।

अगर आप फिर भी कभी कभार प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन करना चाहती हैं तो आपको इन्हें पूरी तरह से छोड़ने की जरूरत नहीं है।

कॉफी का सेवन कम करने के लिए इन स्टेप को फॉलो करें –

  • बिना कैफीन वाली कॉफी का सेवन करें। जिनका स्वाद एक समान हो।
  • कुछ समय के लिए कॉफी की कम मात्रा का इस्तेमाल करें। 1 छोटा चम्मच कॉफी पाउडर के बजाए 1/2 छोटा चम्मच का सेवन करें।
  • ब्रू कॉफी की जगह इंस्टेंट कॉफी का सेवन करें, इसमें कैफीन की मात्रा कम होती है। स्ट्रांग कॉफी की बजाए हल्की कॉफी पीने की कोशिश करें। इसके लिए आप 1/2 छोटी चम्मच कॉफी पाउडर का इस्तेमाल करें।

गर्भावस्था में कॉफी को लेकर किसी भी अन्य प्रकर के सवाल या कंफ्यूजन को लेकर डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें – 

बच्चों में हिप डिस्प्लेसिया बना सकता है उन्हें विकलांग, जाने इससे बचने के उपाय

प्रेग्नेंसी में पीनट बटर खाना चाहिए या नहीं? जाने इसके फायदे व नुकसान

गर्भावस्था में जरूरत से ज्यादा विटामिन लेना क्या सेफ है?

प्रेगनेंसी में अजवाइन खानी चाहिए या नहीं?

सूत्र

Maternal caffeine intake during pregnancy is associated with risk of low birth weight: a systematic review and dose–response meta-analysis/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4198801//accessed on 18/05/2020

Maternal Caffeine Consumption during Pregnancy and Risk of Low Birth Weight: A Dose-Response Meta-Analysis of Observational Studies/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4507998//accessed on 18/05/2020

Maternal caffeine consumption during pregnancy and the risk of miscarriage: a prospective cohort study/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/18221932/accessed on 18/05/2020

Caffeine and the central nervous system: mechanisms of action, biochemical, metabolic and psychostimulant effects/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/1356551/accessed on 18/05/2020

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन क्या है? क्या गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए हो सकता है हानिकारक

इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन क्या है, इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन के लक्षण और कॉरियोएम्नियॉनिटिस का इलाज क्या है, intrauterine infection chorioamnionitis in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha

क्या कम उम्र में गर्भवती होना सही है?

20 से 30 साल की उम्र में गर्भवती होना सही है? कम उम्र में गर्भवती होना क्या सही है? कम उम्र में गर्भवती होना क्यों है अच्छा सेहत के लिए?

Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar
Written by Nidhi Sinha

प्रेग्नेंसी में बुखार: कहीं शिशु को न कर दे ताउम्र के लिए लाचार

प्रेग्नेंसी में बुखार के कारण शिशु में स्पाइन और ब्रेन की समस्या शुरू कर सकता है? गर्भावस्था में बुखार से बचने के क्या हैं उपाय? fever in pregnancy in hindi

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Nidhi Sinha

प्रेग्नेंसी में स्ट्रेस का असर पड़ सकता है भ्रूण के मष्तिष्क विकास पर

प्रेग्नेंसी में स्ट्रेस किन-किन कारणों से हो सकता है ? प्रेग्नेंसी के दौरान अत्यधिक तनाव भ्रूण पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है? प्रेग्नेंसी में स्ट्रेस...stress during pregnancy in hindi

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Nidhi Sinha