गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल से संबंधित जानकारियां प्राप्त करने में ये लेख हो सकता है मददगार

    गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल से संबंधित जानकारियां प्राप्त करने में ये लेख हो सकता है मददगार

    ह्यूमन कोरियोनिक गोनाड्रॉपिन (Human chorionic gonadotropin) या एचसीजी एक हॉर्मोन है जो प्रेग्नेंसी के दौरान प्लेसेंटा की कोशिकाओं के द्वारा निर्मित किया जाता है। खासतौर पर शुरुआती गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल (hCG Levels During Pregnancy) में खासी बढ़ोतरी होती है। यह वहीं हॉर्मोन है जो होम प्रेग्नेंसी किट में डिटेक्ट होता है। यह हॉर्मोन गर्भाधान conception के 11 दिन के बाद ब्लड में पाया जाने लगता है। जब डॉक्टर महिला की प्रेग्नेंसी को कंफर्म करना चाहते हैं तो वे एक या ज्यादा एचसीजी ब्लड टेस्ट रिकमंड कर सकते हैं। इस टेस्ट में ब्लड में एचसीजी के लेवल के बारे में पता किया जाता है। इस आर्टिकल में गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल की जानकारी दी जा रही है।

    गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल (hCG Levels During Pregnancy)

    गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल बॉडी को कई तरह से प्रभावित करता है। यह इम्यून सिस्टम को वीक कर देता है जिससे आप इंफेक्शन जैसे कि कोल्ड आदि के प्रति ज्यादा संवेदनशील हो जाते हैं। यही हॉर्मोन प्रेग्नेंसी के लक्षणों जैसे कि मॉर्निंग सिकनेस के लिए जिम्मेदार होता है। होम प्रेग्नेंसी टेस्ट में एसीजी लेवल डिटेक्ट हो जाता है, लेकिन यूरिन टेस्ट के जरिए इसके बारे में पता लगाते हैं। ऐसे में गर्भवती महिला को ऐसा लग सकता है कि गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल (hCG Levels During Pregnancy) नॉर्मल या नहीं।

    अगर वे इसे किसी दूसरी महिला से कंपेयर करती हैं तो बता दें कि हॉर्मोन्स का लेवल पर्सन टू पर्सन और प्रेग्नेंसी दर प्रेग्नेंसी अलग हो सकता है। इंप्लाटेशन के टाइम से एचसीजी के लेवल में हर 2 दिन में 60% की वृद्धि होती है। लास्ट पीरियड के बाद 7 से 12 हफ्ते के बीच वृद्धि कहीं अधिक होती है और फिर ये घटने लगती है।

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान 3डी और 4डी अल्ट्रासाउंड में क्या अंतर है और इसकी जरूरत कब पड़ती है?

    गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल (hCG Levels During Pregnancy) के बारे में प्रिडिक्ट करना नहीं है संभव

    गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल में वृद्धि का अनुमान लगाना संभव नहीं है। विशेषज्ञों ने महिला के पीरियड का पहला दिन मिस करने के बाद एचसीजी के लेवल में भारी बदलाव पाया है। कुछ महिलाओं में लगभग कोई मापने योग्य एचसीजी नहीं होता है, जबकि अन्य में 400 मिली-अंतर्राष्ट्रीय इकाइयों प्रति मिलीलीटर (एमआईयू / एमएल) से अधिक की रीडिंग होती है और जुड़वां बच्चों में एचसीजी का स्तर एक अकेले बच्चे की तुलना में बहुत अधिक होता है।

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में एक्सरसाइज और योग किस हद तक है सही?

    गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल (hCG Levels During Pregnancy) : सप्ताह के अनुसार

    गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल में वेरिएशन दिखाई देते हैं। अमेरिकन प्रेग्नेंसी एसोसिएशन ने गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल (hCG Levels During Pregnancy) की जो रेंज बताई है उसके बारे में हम आपको जानकारी दे रहे हैं। यह महिला के लास्ट पीरियड के बाद सप्ताह दर सप्ताह दिखाई देती है।

    3 सप्ताह: 6 – 70 आईयू / एल
    4 सप्ताह: 10 – 750 आईयू /ली
    5 सप्ताह: 200 – 7,100 आईयू / एल
    6 सप्ताह: 160 – 32,000 आईयू/लीटर
    7 सप्ताह: 3,700 – 160,000 आईयू/ली
    8 सप्ताह: 32,000 – 150,000 आईयू /ली
    9 सप्ताह: 64,000 – 150,000 आईयू /ली
    10 सप्ताह: 47,000 – 190,000 आईयू/ली
    12 सप्ताह: 28,000 – 210,000 आईयू/ली
    14 सप्ताह: 14,000 – 63,000 आईयू/ली
    15 सप्ताह: 12,000 – 71,000 आईयू/ली
    16 सप्ताह: 9,000 – 56,000 आईयू /ली
    16 – 29 सप्ताह (दूसरी तिमाही): 1,400 – 53,000 आईयूएल
    29 – 41 सप्ताह (तीसरी तिमाही): 940 – 60,000 आईयू /ली

    ध्यान रखें ये रेंज लास्ट पीरियड डेट के अनुसार अलग हो सकती है। इसलिए इनको लेकर बहुत परेशान ना हो। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

    गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल के कम होने का क्या कारण है? (What causes low hCG levels?)

    आपको बता दें कि यह ध्यान रखना बेहद जरूरी है कि गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल (hCG Levels During Pregnancy) हर महिला के अनुसार अलग हो सकता है। वास्तविक संख्या से अधिक महत्वपूर्ण और प्रासंगिक यह है कि आपका एचसीजी स्तर इस व्यापक सामान्य सीमा के भीतर आता है और आने वाले हफ्तों में तब तक बढ़ता रहता है जब तक कि कुछ महीनों के बाद यह कम होना शुरू नहीं करता। इसलिए किसी एक नंबर पर बहुत अधिक ध्यान केंद्रित करने के बजाय बढ़ते स्तरों के पैटर्न की तलाश करना सही होता है। गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल के कम होने के निम्न कारण हो सकते हैं।

    एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (Ectopic pregnancy)

    एक्टोपिक प्रेग्नेंसी तब होती है जब फर्टिलाइज्ड एग यूटरस के बाहर कहीं इंप्लांट हो जाते हैं। जैसे कि फैलोपियन ट्यूब (Fallopian tube) या सर्विक्स (Cervix)। जब ऐसा होता है तो एचसीजी कम मात्रा में प्रोड्यूस होता है और भ्रूण सामान्य तरीके से डेवलप नहीं हो पाता। हालांकि केवल एचसीजी लेवल से एक्टोपिक प्रेग्नेंसी के बारे में पता नहीं लगाया जा सकता।

    मिसकैरिज (Miscarriage)

    एचसीजी का कम होना या एचसीजी लेवल का लगातार कम होना मिसकैरिज का भी साइन हो सकता है जो या तो हो चुका है या जिसके होने की संभावना है, लेकिन इसके साथ इस बात का भी ध्यान रखें कि सिर्फ एचसीजी का कम होता लेवल प्रेग्नेंसी लॉस का संकेत नहीं हो सकता।

    गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल्स के कम होने पर क्या इसे बढ़ाया जा सकता है? (Can it be increased if the HCG level is low during pregnancy?)

    नहीं ऐसा कोई तरीका नहीं है इसकी मदद से एचसीजी लेवल को बढ़ाया जा सके। इसके अलावा, एचसीजी के स्तर आपकी गर्भावस्था के बारे में जानकारी दर्शाते हैं, लेकिन उन्हें बदलने से किसी भी संभावित समस्या के कारण का समाधान नहीं होगा। एक स्वस्थ गर्भावस्था के दौरान, स्वाभाविक रूप से गिरावट शुरू होने से पहले लगभग 12वें सप्ताह तक एचसीजी का स्तर अपने आप बढ़ता रहेगा। आपको इसको अधिक बढ़ाने के लिए चिंता नहीं करनी चाहिए।

    लो एचसीजी लेवल के साथ प्रेग्नेंसी संभंव है? (Can you still be pregnant with low hCG levels?)

    हर महिला का एचसीजी लेवल अलग होता है। इसलिए नंबरों में कमी का यह मतलब नहीं है कि प्रेग्नेंसी हेल्दी नहीं हो सकती। जरूरी बात यह है कि आपका लेवल लगातार बढ़ रहा है। एक्सपेक्टेड से कम एचसीजी का मतलब हमेशा किसी प्रॉब्लम का संकेत नहीं होता है। हालांकि इसके नंबरों अगर लगातार कमी आ रही है तो आपको डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

    और पढ़ें: फर्स्ट ट्रायमेस्टर में बिजी मां: इस तरह से करें अपनी देखभाल!

    क्या गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल हाय होना बुरा होता है? (Is a High hCG Level a Bad Thing?)

    गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल (hCG Levels During Pregnancy) का हाय होने मतलब कई चीजों से हो सकता है और इसके लेवल में बदलाव आ रहा है या नहीं यह चेक करने के लिए 48-72 घंटों के भीतर फिर से जांच की जानी चाहिए। एचसीजी का हाय लेवल निम्न बातों का संकेत हो सकता है।

    क्या प्रेग्नेंसी के दौरान मुझे एचसीजी लेवल्स की चांज नियमित रूप से करनी चाहिए? (Should I Check My hCG level Regularly?)

    डॉक्टरों के लिए नियमित रूप से आपके एचसीजी लेवल की जांच करना आम बात नहीं है, जब तक कि किसी संभावित समस्या के लक्षण नहीं दिख रहे हों।
    यदि गर्भवती महिला को ब्लीडिंग हो रही है, गंभीर ऐंठन का अनुभव हो रहा है, या गर्भपात का इतिहास है, तो डॉक्टर एचसीजी लेवल की दोबारा जांच कर सकते हैं।

    प्रेग्नेंसी लॉस के बाद एचसीजी नॉन प्रेग्नेंट रेंज में 4-6 वीक के बाद वापस आ जाता है। यह प्रेग्नेंसी लॉस होने के तरीके जैसे कि स्पोंटेनियस मिसकैरिज, डी एन सी प्रॉसीजर, एबॉर्शन, नैचुरल डिलिवरी और उस समय हॉर्मोन का लेवल कितना था पर निर्भर करता है। कई बार डॉक्टर प्रेग्नेंसी लॉस के बाद एचसीजी के लेवल को चेक करने के लिए टेस्ट रिकमंड कर सकते हैं।

    और पढ़ें: निकाल कर थोड़ा ‘मी टाइम’, पोस्टपार्टम पीरियड के दौरान मेंटल हेल्थ को रखें दुरुस्त

    उम्मीद करते हैं कि आपको गर्भावस्था के दौरान एचसीजी लेवल्स (hCG Levels During Pregnancy) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 16/12/2021 को
    Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड