जीन टेस्ट क्या है और इस टेस्ट को क्यों करवाना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

आपने राशि देखकर भविष्यवाणी के बारे में तो सुना होगा। भविष्य के बारे में अनुमान होने पर हम लोग कुछ उपाय करते हैं ताकि समस्या टल जाए। ठीक उसी तरह भविष्य में शरीर में क्या दिक्कत हो सकती है, इसकी जानकारी जीन टेस्ट (Genetic testing) से मिल सकती है। जीन टेस्ट करवाना यानी भविष्य में होने वाली बीमारियों के बारे में पहले से पता लगाना है।

जीन टेस्ट में डीएनए के एक छोटे भाग का टेस्ट करके म्यूटेशन या जेनेटिक डिसऑर्डर के बारे में जानकारी प्राप्त की जाती है। हॉलीवुड की फेसम सेलिब्रिटी एंजेलिना जॉली ने कैंसर के खतरे को देखते हुए अपने दोनों ब्रेस्ट हटवा दिए। उनके परिवार में कैंसर पीढ़ी दर पीढ़ी चला आ रहा था। उन्हें शंका थी कि कहीं वो भी ब्रेस्ट कैंसर से पीड़ित न हो जाएं। जब उन्होंने जीन जेनेटिक्स टेस्ट कराया तो पता चला कि ब्रेस्ट कैंसर के लिए उनका जीन पॉजिटिव है। भविष्य के खतरे से निपटने के लिए एंजेलिना ने ब्रेस्ट को हटवा दिया। इससे आप समझ सकते हैं कि जीन टेस्ट कितना फायदेमंद है। अगर आप भी जीन टेस्ट के बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं तो ये आर्टिकल जरूर पढ़ें।

क्या होता है जीन टेस्ट?

जेनेटिक टेस्टिंग में डीएनए के कैमिकल डाटाबेस के बारे में जानकारी प्राप्त की जाती है। जेनिटिक टेस्ट की हेल्प से जीन में हुए परिवर्तन के बारे में जानकारी मिलती है। ये परिवर्तन ही किसी रोग का कारण बन सकते हैं। हर व्यक्ति को आधे जीन्स मां से और आधे जीन्स पिता से मिलते हैं। कई बार कुछ खराब जीन्स भी हमे मां-पिता से मिल सकते हैं। खराब से मतलब किसी बीमारी के वाहक जीन्स से हैं।

अगर कोई भी व्यक्ति टेस्ट करवाता है तो उसे किसी बीमारी को लेकर जीन के निगेटिव या फिर पॉजिटिव होने की बात पता चल सकती है। जोखिम को पहले से जानकर आप काफी हद तक उससे बचाव कर सकते हैं। दरअसल जीन टेस्ट को अगर सामान्य भाषा में साझा जाए तो इस टेस्ट की मदद से बच्चे में होने वाली जेनेटिकल डिसऑर्डर की जानकारी मिल सकती है। इस टेस्ट की मदद से माता या पिता से कौन सी जेनेटिकल बीमारी बच्चे में हो सकती है इसकी जानकारी मिल जाती है। ब्लड टेस्ट की मदद से किसी भी तरह के जेनेटिकल डिसऑर्डर की जानकारी मिल जाती है।

और पढ़ें: जानें शरीर में तिल और कैंसर का उससे कनेक्शन 

जीन टेस्ट या जेनेटिक टेस्टिंग किन लोगों को करवाना चाहिए?

जेनेटिक टेस्टिंग हर किसी को करवाने की जरूरत नहीं होती है। कपल को ध्यान रखना चाहिए की उनके ब्लड रिलेशन में कोई जेनेटिकल डिसऑर्डर की समस्या से पीड़ित हैं, तो ऐसी स्थिति में जीन टेस्ट करवाना चाहिए। अपने स्वास्थ्य विशेषज्ञ को फैमली हिस्ट्री बताएं और फिर यह टेस्ट करवाएं। इसके साथ ही निम्नलिखित शारीरिक परेशानी होने पर भी जेनेटिक टेस्टिंग करवाई जा सकती है। जैसे:-

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

इन ऊपर बताई गई बीमारी होने पर भी जेनेटिक टेस्टिंग करवाना चाहिए।

और पढ़ें: महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर क्यों होता है? जानें लंबाई से जुड़े रोचक फैक्ट्स

जेनेटिक टेस्टिंग: ऐसे पता चल जाती है बीमारी

हो सकता है कि आपको जेनेटिक टेस्टिंग के बारे में सुनकर अजीब महसूस हो रहा हो। इसे करवाने के लिए थोड़ी सी लार टेस्ट के लिए देनी पड़ती है। अब आप सोच रहे होंगे कि इस तरह का जीन टेस्ट किसी के लिए कैसे उपयोगी हो सकता है? दरअसल जीन टेस्ट आपकी फिजिकल एक्टिविटी, मेजर डिजीज आदि के बारे में जानकारी देता है। यानी कि आपका जीन टेस्ट पीढ़ी के बारे में भी कई खुलासे कर सकता है। ये सुनकर ही आप उत्साहित हो गए होंगे।

डीएनए को डिकोड करके जेनेटिक इंफॉरमेशन निकाली जाती है। इससे पहले की जानकारी भी मिल सकती है। आपको भविष्य में कौन सी बीमारी हो सकती है, जीन टेस्ट से पता किया जा सकता है। ये टेस्ट फिटनेस और न्यूट्रिशन के लिए काम करने वाले जीन के बारे में बताता है। टेस्ट के रिजल्ट को तीन भागों में बांटा गया है।

और पढ़ें: पुरुष और महिला में ब्रेन डिफरेंस से जुड़ी इन इंटरेस्टिंग बातों को नहीं जानते होंगे आप

न्यूट्रि-जेनेटिक्स (Nutri-genetics)

जीन किस तरह से किसी खास मेटाबॉलिक प्रॉसेस को प्रभावित करता है और कैसे स्वास्थ्य पर इसका असर पड़ता है, इस टेस्ट से इसकी जानकारी मिलती है। फूड और न्यूट्रिएंट्स प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जीन एक्सप्रेशन को प्रभावित करते हैं। डायट से रिलेटेड विटामिन, आयरन की जरूरत, खाने का तरीका, नमक, कैफीन सेंटिविटी आदि के बारे में जीन टेस्ट से जानकारी मिलती है। आप ऐसे समझिए कि खाने में आपको क्या लेना चाहिए या क्या नहीं, ये टेस्ट से पता चल जाता है। शरीर की आहार संबंधी आवश्यकताओं को जीन टेस्ट से पता किया जा सकता है।

फिटनेस जीनोमिक्स (Fitness genomics)

शरीर को किस तरह की फिजिकल एक्टिविटी से लाभ होगा, फिटनेस जीनोमिक्स इसकी जानकारी देता है। कुछ पैरामीटर जैसे एरोबिक्स कैपेसिटी, स्प्रिंटिंग, फ्लेक्सिबिलिटी आदि को शामिल किया गया है।

हेल्थ जीनोमिक्स (Health genomics)

हेल्थ जीनोमिक्स में मोटापा, हाई ब्लडप्रेशर, दिल का दौरा, डायबिटीज, कार्डिएक अरेस्ट और स्ट्रोक के लिए स्क्रीन किया जाता है।

जीन टेस्ट के क्या हैं फायदे?

जीन टेस्ट पॉजिटिव आने से जीवनशैली में बदलाव कर कैंसर का खतरा टल सकता है। जांच रिपोर्ट पॉजिटिव होने पर डॉक्टर आपको इसकी पूरी जानकारी दे सकते हैं और जो सलाह हेल्थ एक्सपर्ट देते हैं उसकी सही तरह से पालन करना चाहिए।

और पढ़ें: गौमूत्र से कोरोना रोकथाम की मिल रही सलाह, लेकिन डॉक्टर्स द्वारा सिद्ध उपाय ही अपनाएं

क्या जीन टेस्ट का शरीर पर नकारात्मक प्रभाव भी हो सकता है?

टेस्ट की वजह से व्यक्ति में एंग्जायटी की बीमारी और स्ट्रेस की समस्या भी हो सकता है। इसलिए स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार जीन टेस्ट के दौरान परेशान न हों और घबराएं भी नहीं। दरअसल  बेहतर यह होगा कि जेनेटिक टेस्टिंग करवाने से पहले अपने आपको फिजिकली और मेंटली दोनों ही तरह से नॉर्मल रखें। अगर टेस्ट रिजल्ट पॉजिटिव आता है, तो इसका अर्थ यह हुआ कि भविष्य में होने वाली बीमारी होने की जानकारी आपको पहले ही मिल सकती है। किसी भी बीमारी की जानकारी अगर पहले मिल जाए तो इलाज करना आसान हो जाता है और किसी भी बीमारी या कोई भी जानलेवा बीमारी से भी बचना आसान हो जाता है। इसलिए रिलैक्स रहें।

पॉजिटिव रिपोर्ट से परेशान न हों। वहीं नेगेटिव से तो यह समझना आसान हो जाता है कि बीमारी का खतरा नहीं है लेकिन, रिपोर्ट अनसर्टेन भी हो सकती है। अनसर्टेन रिपोर्ट्स से बीमारियों की जानकारी नहीं मिल सकती है। ऐसी स्थिति होने पर टेस्ट की सलाह दी जा सकती है।

अगर आपको इन सब बातों ने टेस्ट के लिए उत्साहित किया हो तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें। आपको ये बात ध्यान रखने की जरूरत है कि आपका जीन टेस्ट तो नहीं बदल सकता है। आप लाइफस्टाइल में चेंज करके भविष्य में आने वाली बीमारियों से निपट सकते हैं । जीन टेस्ट कैसे करवाना है, इस बारे में डॉक्टर से जानकारी जरूर प्राप्त करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Myotonia Congenita: मायोटोनिया कोनजेनिटा क्या है?

जानिए मायोटोनिया कोनजेनिटा क्या है in hindi, मायोटोनिया कोनजेनिटा के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, myotonia congenita को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Sunil Kumar
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

क्या प्रेग्नेंसी में सेल्युलाइट बच्चे के लिए खतरा बन सकता है? जानिए इसके उपचार के तरीके

प्रेग्नेंसी में सेल्युलाइट की समस्या के कारण, सेल्युलाइट के लक्षण, Pregnancy Me Cellulite के उपचार, ग्रभावस्था में सेल्युलाइट के उपचार। जानिए प्रेग्नेंसी में सेल्युलाइट in Hindi,

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी मार्च 6, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Quiz : ब्रेस्ट कैंसर टेस्ट कराने से पहले समझें इसके लक्षण

जानिए क्या है ब्रेस्ट कैंसर टेस्ट in Hindi, ब्रेस्ट कैंसर टेस्ट कब करवाना चाहिए, ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण, ब्रेस्ट कैंसर के कारण, Breast Cancer के लक्षण।

के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
क्विज फ़रवरी 15, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

Sonali Bendre Birthday : इस तरह सोनाली बेंद्रे ने जीती थी कैंसर की जंग, पढ़ें कैसे संभाला था खुद को

सोनाली बेंद्रे के कैंसर के कठिन सफर की जानकारी in hindi. सोनाली बेंद्रे ने कैंसर हो जाने के बाद हार नहीं मानी और हर कदम पर सकारात्मक रवैया बनाकर रखा। Sonali Bendre

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
स्वास्थ्य बुलेटिन, लोकल खबरें दिसम्बर 31, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

खुद से बात करना/khud-se-bat-karna-talk-to-themselves

खुद से बात करना नॉर्मल है या डिसऑर्डर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ मई 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में रोने के कारण

क्या-क्या हो सकते हैं प्रेग्नेंसी में रोने के कारण?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ अप्रैल 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Fibrocystic breast-फाइब्रोसिस्टिक ब्रेस्ट

Fibrocystic Breast: फाइब्रोसिस्टिक ब्रेस्ट क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ अप्रैल 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
डाउन सिंड्रोम की समस्या

डाउन सिंड्रोम की समस्या से जूझ रहे लोगों के सामने जानिए क्या होते हैं चैलेंजेस

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ मार्च 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें