कोरोना महामारी में अस्पताल जाने के दौरान इन टिप्स का जरूर रखें ध्यान

के द्वारा लिखा गया

अपडेट डेट अक्टूबर 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना महामारी का सफर अभी भी  मुंबई शहर को अपनी जकड़ में दबोचे हुए है। हालांकि, शहर में धीरे-धीरे लॉकडाउन को कम किया जा चुका है ताकि लोगों को जरूरी सेवाएं मुहैया करवाई जा सकें। ऐसे में अस्पताल के नियम में देर बदल किए गए हैं। पिछले कुछ महीनों में लोगों ने संक्रमण के डर के कारण अस्पताल जाने या सर्जरी करवाने में देरी दिखाई है, जिसके चलते कई जाने खतरे में रही।

अस्पताल के नियम के तहत जहां एक तरफ डॉक्टर और नर्स इस महामारी से जांबाजों की तरह लड़ रहें हैं वहीं दूसरी ओर अस्पताल के नियम के अनुसार अन्य बिमारियों की सेवाओं के साथ मरीजों के इलाज के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।

अस्पताल के नियम के मुताबिक ओपीडी (आउटपेशेंट डिपार्टमेंट) से लेकर आधुनिक अस्पतालों की सभी सेवाएं अब पूरी तरह से सामान्य रूप से उपलब्ध हैं। हालांकि, कई लोगों को अभी भी इस बात का डर है कि अस्पताल जाना सुरक्षित है या नहीं।

इस समय सबसे महत्वपूर्ण चीज है एहतियात बरतना यानि अस्पताल के नियम अनुसार सोशल डिस्टेंसिग रखना। इससे न केवल आप खुद का बल्कि दूसरों का भी ख्याल रख सकते हैं। सरकार द्वारा बताई गई जानकारी और नियमों का पालन करें व जरूरत पड़ने पर तुरंत चिकित्सीय मदद के लिए संपर्क करें।

और पढ़ें – Coronavirus Lockdown : क्या कोरोना के डर ने आपकी रातों की नींद चुरा ली है, ये उपाय आ सकते हैं आपके काम

किसी भी प्रकार की समस्या, बुखार या असुविधाजनक महसूस होने पर इलाज में देरी न दिखाएं और अस्पताल के नियम के तहत जल्द से जल्द डॉक्टर से परामर्श करने की कोशिश करें। क्योंकि समस्या का समाधान निकालने में देरी करने से वह अधिक बड़ सकती है। निम्न कुछ ऐसे स्टेप हैं जिनकी मदद से मरीजों की सुरक्षा का ध्यान रखा जा सकता है और घर पर ही उनका इलाज मुहैया करवाया जा सकता है –

  • अस्पताल के नियम नंबर 1 – डॉक्टर के पास जाने से पहले अपॉइंटमेंट बुक करना जरूर सुनिश्चित कर लें। ऐसा इसलिए है क्योंकि डॉक्टर के क्लिनिक या अस्पताल में लाइन में खड़े रहने से आपको व अन्य मरीजों को भी खतरा हो सकता है। अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए ऑनलाइन सुविधाओं जैसे फोन कॉल या मैसेज के जरिए बुक करने की कोशिश करें। मास्क पहनना अनिवार्य है, इसके अलावा अपने साथ अल्कोहल युक्त सैनिटाइजर जरूर रखें व दस्ताने और वेट वाइप्स भी ले जाना न भूलें। घर से अपनी पानी के बोतल रख कर ले जाना फायदेमंद हो सकता है।
  • अस्पताल के नियम नंबर 2 – डॉक्टर के पास जाने के लिए अन्य व्यक्ति का साथ लिया जा सकता है। लेकिन मरीज के साथ केवल एक ही स्वस्थ व्यक्ति को जाने देने की अनुमति है। जिन लोगों को सर्दी, खांसी या जुकाम के लक्षण हैं उन्हें घर में क्वारंटाइन रहने की जरूरत है। गर्भवती महिलाएं, अधिक उम्र के लोगों और बच्चों को अस्पताल ले जाने से बचे जब तक की कोई आपातकालीन स्थिति न हो।
  • अस्पताल के नियम नंबर 3 – डॉक्टर या अस्पताल जाने के लिए कोशिश करें की आप अपनी गाड़ी या कैब का इस्तेमाल कर सकें। यदि आपके पास यह विकल्प नहीं हैं तो सार्वजनिक परिवाहन का इस्तेमाल करते समय अधिक एहतियात बरतें। किसी भी सतह या जगह को छूने के बाद अपने मुंह, आंखों और नाक पर तब तक हाथ न लगाएं जब तक आप उन्हें अच्छे से सैनिटाइज न कर लें।
  • अस्पताल के नियम नंबर 4 – सार्वजनिक परिवाहन या कैब का इस्तेमाल करने पर पेमेंट करने के लिए कैश की बजाए डिजिटल मनी जैसे यूपीआई का इस्तेमाल करें। इससे अन्य व्यक्ति के संपर्क में आने की आशंका कम हो जाएगी।
  • अस्पताल के नियम नंबर 5 – अस्पताल पहुंचते ही आपको एक बात का जरीर ध्यान रखने है और वो है दो गज की दूरी। डॉक्टर के क्लिनिक या अस्पताल में संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने की आशंका सबसे ज्यादा होती है। ऐसे में यहां एहतियात बरतना सबसे ज्यादा जरूरी होता है। सोशल डिस्टेंसिंग का गंभीरता से पालन करें। डॉक्टर से मिलने से पहले और बाद में साबुन से हाथ धोएं।
  • अस्पताल के नियम नंबर 6 – वैसे तो सभी अस्पतालों और डॉक्टर के क्लिनिक में सैनेटाइजिंग की जाती है लेकिन फिर भी वहां मौजूद स्टाफ की बातों का पालन जरूर करें।
  • अस्पताल के नियम नंबर 7 – अपने परामर्श से संबंधित सभी जरूरी दस्तावेजों को साथ लेकर जाएं जैसे की मेडिकल रिपोर्ट्स। ऐसा करने से अपॉइंटमेंट के दौरान आपका और डॉक्टर का समय खराब नहीं होगा और आप अन्य व्यक्ति के संपर्क में भी कम रहेंगे। यदि आप डॉक्टर से कई सवाल पूछना चाहते हैं तो उन सभी की एक लिस्ट तैयार कर लें ताकि किसी भी प्रकार की कंफ्यूजन न हो। सही इलाज और परीक्षण के लिए अपनी सभी जानकारी और लक्षणों के बारे में डॉक्टर को बताएं।
  • अस्पताल के नियम नंबर 8 – यदि किसी को बुखार के लक्षण दिखाई देते हैं तो उन्हें ओपीडी की बजाए इस दौरान विशेष रूप से बनाए गए क्लिनिक में जाना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि सरकार या प्राइवेट अस्पतालों में क्लिनिक के मुकाबले अधिक भीड़ होती है जिससे संक्रमण की चपेट में आने का खतरा बढ़ जाता है। इसके साथ ही अगर आपको कोविड हुआ तो अन्य लोगों को संक्रमण होने की आशंका भी कम हो जाती है।

और पढ़ें – Coronavirus 2020: इन सेलिब्रिटी को कोरोना वायरस की पुष्टि, रोनाल्डो ने खुद को किया अलग तो बिग बी ने सुनाई कविता

डॉक्टर से पूछे जाने वाले कुछ जरूरी सवाल

डॉक्टर को बताएं कि आप किस तरह घर में और बाहर स्वच्छता का पालन करते हैं। इसके साथ ही उनसे पूछें कि यदि आप किसी नियम को भूल तो नहीं रहें हैं। यदि आप स्वच्छता के किसी महत्वपूर्ण नियम की जानकारी नहीं जानते हैं तो उसके बारे डॉक्टर से पूछें। सरकार और इंटरनेशनल संस्थाओं द्वारा बताए गए सभी निर्देशों का पालन करने से ही हम खुद को और अपने साथियों को कोविड-19 से बचा सकते हैं

आगे आने वाली अपॉइंटमेंट के बारे में डॉक्टर से पूछें और जाने की यदि आपको फिर से आना जरूरी है या घर से बैठे हुए भी आप उनसे परामर्श कर सकते हैं।

और पढ़ें – क्या सचमुच लाइपोसोमल ओरल विटामिन सी (Liposomal Oral Vitamin C) से कोविड-19 के इलाज में मिलती है मदद?

अस्पताल में जाने पर इन नियमों का पालन जरूर करें

हॉस्पिटल के अंदर वाल्वस (छेद वाले) वाले मास्क न पहनें क्योंकि अस्पतालों में यह सख्त रूप से निषेध हैं। इनकी बजाए घर पर बनाए या मार्किट में पूरी तरह से बंद मास्क इस्तेमाल करने की कोशिश करें।

अस्पताल में पेमेंट करते समय कैशलेस पेमेंट का विकल्प चुने क्योंकि संक्रमण के अधिक खतरे वाली जगहों पर ऑनलाइन पेमेंट करना अधिक सुरक्षित रहता है। इससे आप अन्य व्यक्ति के संपर्क में नहीं आते हैं और न ही उन्हें आपके संपर्क में आने का जोखिम होता है।

डॉक्टरी परामर्श के बाद घर जाते समय भी उन्हीं नियमों और निर्देशों का पालन करें जिन्हें आप ने डॉक्टर के पास जाते समय किया था।

और पढ़ें – रूस ने कोरोना वायरस वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल किया पूरा, भारत में कोरोना की दवा लॉन्च करने की तैयारी

घर पहुंचने पर जूतों को बाहर ही उतार दें और दरवाजे की नॉब को डिसइंफेक्ट करें। इसके अलावा यदि आपने घर पहुंचने पर किसी अन्य सतह को छुआ है तो उसे भी सैनिटाइज करें। सही तरह से मास्क को उतार कर फेंक दें और सीधे नाहने के लिए चले जाएं। कपड़ों को उतार कर वाशिंग मशीन या किसी ऐसे जगह पर रखें जहां कोई  आसानी से उनके संपर्क में न आ सके।

बेहतर होगा अगर आप नाहने से पहले कपड़ों को डिटर्जेंट में भिगो लें और कुछ समय के लिए निवाए पानी में ही रहने दें। इसके बाद गुनगुने पानी से स्नान करें और साबुन व स्पंज (स्क्रब) का अच्छे से इस्तेमाल करें।

सभी अस्पतालों में सिमित लोगो व मरीजों को जाने की ही अनुमति है। सभी दिशा-निर्देशों व नियमों का सही तरिके से पालन करें और किसी भी तरह की समस्या या कोई उलंघन न करें जिससे आप या अन्य किसी को खतरा हो सके। इसके साथ ही आत्मविश्वास रखना भी बेहद जरूरी है। वायरस से ज्यादा न डरें और डॉक्टर को होना मार्गदर्शक बनने दें। डॉक्टर द्वारा बताए गए नियमों और स्वच्छता के निर्देशों का पालन करें इसके अलावा अपनी तरफ से इंटरनेट पर पढ़ कर किसी अन्य चीज का पालन करना न शुरू करें। सतर्क रहें, सुरक्षित रहें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

एक्सपर्ट से डा. अनीता मैथवे

कोरोना महामारी में अस्पताल जाने के दौरान इन टिप्स का जरूर रखें ध्यान

इस लेख में जानें की महामारी के इस समय अस्पताल जाना कितना खतरनाक हो सकता है। इसके साथ ही आपातकालीन स्थिति में किन नियमों का पालन करें जिनसे आप खुद को संक्रमण से बचा सकते हैं।

के द्वारा लिखा गया डा. अनीता मैथवे
कोरोना महामारी में अस्पताल जाने के लिए टिप्स - Corona Hospital Visit Safety tips

Corona virus: कोविड-19 कोरोना वायरस से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

कोविड-19 कोरोना वायरस से दुनियाभर में लोगों का हाल बेहाल है। ऐसे में हम आपको कोरोना वायरस से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी दे रहे हैं। जानिए कोविड-19 कोरोना वायरस क्या है in hindi, coronavirus symptoms

के द्वारा लिखा गया डा. अनीता मैथवे
कोविड-19 कोरोना वायरस

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Quiz : जानिए आयुर्वेद के अनुसार दोष क्या होते हैं?

आयुर्वेद के अनुसार शरीर में तीन दोष बताए गए हैं : वात, कफ और दोष। आयुर्वेद के अनुसार ...

के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
क्विज अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

आपकी डायट प्लान से जुड़े अहम सवाल, बताएं अपनी डायट के बारे में

महिलाओं के लिए डायट प्लान : अच्छी सेहत के लिए डायट प्लान फॉलो किया जा सकता है। डायट प्लान जरूरत के अनुसार ही बनाना चाहिए। Diet plan

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
क्विज अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

डिलिवरी के दौरान की जाती है एपिसीओटॉमी की प्रोसेस, क्विज खेलकर आप बढ़ा सकते हैं नॉलेज

एपिसीओटॉमी क्विज ऐसे प्रश्न पूछे गए है तो नॉर्मल डिलिवरी के दौरान होने वाली अहम प्रोसेस से जुड़े हैं। अगर आपको इनके बारे में जानकारी है तो खेलें एपिसीओटॉमी क्विज।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
क्विज अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

50 के बाद सेक्स लाइफ को रोमांचक कैसे बनाएं?

50 के बाद सेक्स को एंजॉय कैसे करें? ये सवाल कई लोगों को परेशान कर सकता है। इस आर्टिकल में हम इससे सबंधित टिप्स बता रहे हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
सेक्शुअल हेल्थ और रिलेशनशिप, स्वस्थ जीवन अक्टूबर 26, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

प्रेग्नेंसी की सही उम्र क्विज, pregnancy right age

गर्भवती होने की सही उम्र के बारे में है जानकारी तो खेलें क्विज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 28, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में फोलिक एसिड क्विज

प्रेग्नेंसी में फोलिक एसिड का सेवन है जरूरी, अगर आपको है जानकारी तो खेलें क्विज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 28, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
वेट लॉस सर्वे - weight loss survey

क्या आप वेट लॉस करना चाहते हैं?

के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
स्मोकिंग सर्वे - smoking survey

क्या आप छोड़ना चाहते हैं स्मोकिंग की लत?

के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें