फीमेल कंडोम और मेल कंडोम में क्या अंतर है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कंडोम का नाम सुनते ही हम सभी के मन में सिर्फ पुरुषों के कंडोम का ही विचार आता है। आमतौर लोग सिर्फ पुरुषों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले कंडोम के बारे में ही बात करते हैं, जिसकी वजह से फीमेल कंडोम पीछे रह जाती है। यहां तक कि कई लोगों को यह तक पता नहीं होगा कि फीमेल कंडोम भी होती है। अगर आप फीमेल कंडोम के बारे में नहीं जानते हैं, तो आपको भी इसके बारे में जानना चाहिए। जिस तरह पुरुषों कंडोम का इस्तेमाल करते हैं, वैसे ही महिलाएं भी फीमेल कंडोम का इस्तेमाल करती हैं।

और पढ़ेंः अब वो कंडोम के लिए खुद कहेंगे हां, जरा उन्हें भी ये आर्टिकल पढ़ाइए

क्या है फीमेल कंडोम?

अनचाहे गर्भ से बचने के लिए अब जरूरी नहीं कि सिर्फ पुरुष ही कंडोम का इस्तेमाल करें। या महिलाएं दवाओं का सेवन करें। बल्कि, अब अनचाहे गर्भ से बचने से के लिए महिलाएं फीमेल कंडोम की मदद ले सकती हैं। सेक्स के दौरान उनका साथी कंडोम का इस्तेमाल करते हैं या नहीं इसके बारे में उन्हें विचार करने की भी जरूर नही होती। फीमेल कंडोम से महिलाएं न सिर्फ अनचाहे गर्भ से सुरक्षित रहती हैं बल्कि, तमाम तरह की बीमारियों और सेक्स जनित रोगों से भी खुद को सुरक्षित रख सकती हैं।

और पढ़ेंः क्या कंडोम (Condom) के इस्तेमाल के बाद प्रेग्नेंट होती हैं महिलाएं?

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

जानिए महिला और पुरुष कंडोम के बीच का अंतर

  1. पुरुषों और महिलाओं के लिए कंडोम दिखने में अलग-अलग होते हैं। लेकिन, दोनों ही अनचाहे गर्भ और बीमारियों से सुरक्षित रखने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।
  2. मेल कंडोम लेटेक्स, पॉलीयुरेथेन, पॉलीआईसोप्रेन या भेड़ की खाल से बनाया जाता है। जबकि, फीमेल कंडोम पॉलीयुरेथेन या नाइट्राइल से बनाया जाता है, जो एक चिकनाई युक्त पाउच जैसा होता है। इसमें दो सिरे होते हैं: पहला सिरा खुला होता है और दूसरा बंद रहता है। साथ ही, इसके दोनों सिरों पर दो छल्ले भी होते हैं, जिससे कंडोम को योनि के अंदर सही जगह फिट किया जाता है।
  3. मेल कंडोम का इस्तेमाल लिंग के उत्तेजित होने पर किया जा सकता है। जबकि, फीमेल कंडोल का इस्तेमाल महिलाएं सेक्स करने के आठ घंटे पहले भी कर सकती हैं। पुरुषों का कंडोम लिंग के अधिकांश हिस्से को ढककर रखता है। जबकि, फीमेल कंडोम महिला के जननांगो के अंदरूनी और बाहरी दोनों हिस्सों को ढककर रखता है।
  4. इसके अलावा, मेल कंडोम लेटेक्स का बना होता है, जो एलर्जी का कारण बन सकता है। जबकि, फीमेल कंडोम हाइपोएलर्जिक होते हैं, जो हर तरह की एलर्जी से स्किन की रक्षा करता है।

कैसे किया जाता है फीमेल कंडोम का इस्तेमाल?

  • फीमेल कंडोम का इस्तेमाल करने के लिए इसे योनि के अंदर फिट किया जाता है। इसके अलावा, गुदा सेक्स या मैथुन के दौरान भी फीमेल कंडोम का इस्तेमाल किया जा सकता है, जिससे दोनों साथी एसटीडी के जोखिम से अपना बचाव कर सकते हैं।

और पढ़ेंः जानिए 60 की उम्र के बाद भी कैसे कायम रखें सेक्स

फीमेल कंडोम इस्तेमाल करने के दौरान सावधानी

सेक्स करते समय मेल या महिला कंडोम में से सिर्फ एक कंडोम का ही इस्तेमाल करें। अगर पुरुष साथी कंडोम का इस्तेमाल कर रहें हो, तो महिला कंडोम का इस्तेमाल न करें। क्योंकि, दोनों अगर एक साथ में कंडोम का इस्तेमाल करते हैं, तो वे एक साथ चिपक सकते हैं और जगह से बाहर खींच सकते हैं या योनि के अंदर ही फट भी सकते हैं।

सेक्स के दौरान फीमेल कंडोम फट जाए तो क्या करें

यह संभावना नहीं है कि एक फीमेल कंडोम टूट जाए खासकर अगर सही तरीके से उपयोग किया जाता है। हालांकि अगर फीमेल कंडोम टूट जाता है या योनि से हटाए जाने पर रिसाव होता है, या अगर बाहरी रिंग योनि के अंदर ऊपर चली जाती है – या अगर कुछ और गलत हो जाता है जैसे लिंग और कंडोम के बीच सेक्स के दौरान लिंग का फिसलना।

अगर ऐसा कुछ भी होता हैं तो कुछ सरल चीजें जो आप कर सकते हैं:

  • सेक्स के दौरान पेनिस तुरंत हटा लें
  • जितना हो सके उतना सीमन निकालें
  • अपनी योनि या एनल एरिया के अंदर धोने से बचें क्योंकि यह आगे संक्रमण फैला सकता है या जलन पैदा कर सकता है
  • अगर आप योनि सेक्स कर रहे हैं, तो बाथरूम में जाएँ और अपने यूरेथरा के पास होने वाले किसी भी सीमन को बहा दें।
  • अगर आप गर्भावस्था को रोकने के लिए किसी अन्य गर्भनिरोधक का उपयोग नहीं कर रही हैं, तो आप यौन संबंध बनाने के 72 घंटों के अंदर इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव लेने के बारे में सोच सकते हैं।

अधिकांश सेक्सुअल हेल्थ प्रोफेशनल आपको असुरक्षित यौन संबंध के 10 दिन बाद या यदि कंडोम टूटता है (या पहले यदि आप किसी भी लक्षण के बारे में चिंतित हैं) और फिर तीन महीने बाद फिर से यौन स्वास्थ्य परीक्षण कराने की सलाह देंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि अलग-अलग एसटीआई संक्रमण के बाद अलग-अलग समय में पता लगाने योग्य हो जाएंगे।

और पढ़ेंः भारत ने बनाया पहला पुरुष गर्भनिरोधक इंजेक्शन!

क्या है डॉक्टर्स की राय?

कंस्लटिंग होम्योपैथ और क्लिनिकल सेक्सोलॉजिस्ट एक्सपर्ट, डॉ. शाहबाज सायद M.D (Hom), PGDPC के साथ बात-चीत पर आधारित

डॉ. शाहबाज सायद का कहना है कि महिला कंडोम भारत में अभी कॉमन नहीं है। लगभग 50 से 70 फीसदी महिलाओं को महिला कंडोम के बारे में पता भी नहीं होता है। वहीं, अगर 20 फीसदी महिलाओं को इसके बारे में पता है, तो उन्हें यह नहीं पता होता कि इसका इस्तेमाल किस तरह से करना चाहिए, जो यह साफ दर्शाता है कि संभोग के दौरान सुरक्षित सेक्स और अनचाही प्रेग्नेंसी से बचने के लिए महिलाओं को पुरुष साथी पर ही निर्भर होना पड़ता है। जबकि, विदेशों में महिला कंडोम का इस्तेमाल बहुत ही आम है। कई मामलों की तरह वहां सेक्स के लिए भी महिला और पुरुष की बराबर की भागीदारी होती है।

दूसरी तरफ, ओरल सेक्स का चलन भी भारत में तेजी से बढ़ रहा है। लेकिन, ओरल सेक्स के दौरान कपल्स कंडोम का इस्तेमाल करना जरूरी नहीं समझते हैं। जबकि, ओरल सेक्स के दौरान यौन संचारित रोगों के फैलने का खतरा सबसे अधिक रहता है। इसलिए, संभोग करने या ओरल सेक्स के दौरान भी कंडोम का इस्तेमाल करना जरूरी होता है।

हालांकि, मेल कंडोम की तरह महिला कंडोम की जानकारी अभी बहुत लोगों को नहीं है। साथ ही, महिला कंडोम कुछ ही मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध हो सकते हैं। इसके अलावा, यह मेल कंडोम की तुलना में महंगे भी हो सकते हैं। यह भी ध्यान रखें कि पुरुष कंडोम की तरह महिला कंडोम अलग-अलग साइज, गंध या फ्लेवर में नहीं आता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

पीठ दर्द के साथ बेहतर सेक्स के लिए ध्यान रखें ये जरूरी बातें

पीठ दर्द के साथ बेहतर सेक्स कैसे करें? सही सेक्स पुजिशन के साथ कुछ अन्य उपाय अपनाकर आप पीठ दर्द के साथ बेहतर सेक्स करने के रास्ते को आसान बना सकते हैं। मिशनरी, बैक स्पूनिंग..back pain and sex in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
सेक्शुअल हेल्थ और रिलेशनशिप, स्वस्थ जीवन सितम्बर 1, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Quiz : खेलकर पता लगाएं कॉन्डोम के बारे में कितना जानते हैं आप?

कॉन्डोम विषय पर क्विज खेलकर पता लगाएं कि, इसके बारे में कितनी जानकारी है आपको। इससे पहले और बाद में क्या करना चाहिए और क्या नहीं... तो टेस्ट करते हैं आपका ज्ञान...

के द्वारा लिखा गया Satish singh
क्विज अगस्त 24, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

कॉन्डोमलेस सेक्स के क्या होते हैं रिस्क, बीमारियों से बचाव के लिए यह जानना है जरूरी

कॉन्डोमलेस सेक्स काफी घातक होता है, इसका इस्तेमाल करने वाले लोग कई बीमारियों से बच जाते हैं। वहीं जो इस्तेमाल नहीं करते उन्हें बीमारी का खतरा रहता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

डाले अपने सेक्स जीवन में नयी मिठास तंत्र सेक्स के साथ

अगर आप सेक्स जीवन में कुछ नया करने के इच्छुक हैं तो तंत्र सेक्स को आजमाए और लौटा लाएं अपने सेक्स जीवन में नयी मिठास : तंत्र सेक्स (tanta sex) के साथ।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mishita Sinha

Recommended for you

जानिए कहां होते हैं एक्यूप्रेशर सेक्स पॉइंट्स और कैसे लगा सकते हैं ये सेक्स लाइफ में तड़का 

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 26, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
वैवाहिक जीवन में सेक्स का महत्व

क्या खुशहाल दांपत्य जीवन के लिए सेक्स जरूरी है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 24, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
हॉर्नी और सेक्स

सेक्स के बारे में सोचते रहना नहीं है कोई बीमारी, ऐसे कंट्रोल में रख सकते हैं अपनी फीलिंग्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
जेनोफोबिया - genophobia

सेक्स से लगता है डर? हो सकता है जेनोफोबिया

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें