शादी से पहले या शादी के बाद, आखिर कब ज्यादा खुश रहती हैं महिलाएं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट मई 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

“मैं शादी  से पहले और शादी के बाद भी पहले की तरह ही खुश हूं। हालांकि, मां बनने के बाद मेरी जिम्मेदारियां पहले से थोड़ी बढ़ गईं हैं। साथ ही अब मेरे दिन के 24 घंटे भी एक तरह से किसी न किसी काम के लिए बंट गए हैं।” ये कहना है कानपुर की भावना अवस्थी का। भावना शादी-शुदा हैं और एक बेटी की मां हैं, जो घर-परिवार संभालने के साथ-साथ वर्किंग विमेन भी हैं।

वहीं, दिल्ली की काव्या का कहना है “शादी के बाद मुझे बहुत ज्यादा आजादी मिली है। माता-पिता के साथ रहते हुए शादी के पहले मैं देर रात तक घर के बाहर नहीं रह सकती थी लेकिन, शादी के बाद मैं अकेले ही घर से देर रात तक बाहर रह सकती हूं, जिससे मेरे पति को भी कोई परेशानी नहीं हैं।”

यह भी पढ़ेंः फोरप्ले से हाइजीन तक: जानिए फर्स्ट नाइट रोमांस करने के लिए टिप्स

भावना और काव्या के अलावा, हैलो स्वास्थ्य की टीम ने पुणे की काजल से भी बात की। काजल कहती हैं “शादी के बाद मुझे बहुत से लोगों और रिश्तेदारों के साथ भी तालमेल बिठाना पड़ता है। शादी से पहले मैं अपनी बुआ और मासी से भी बात करने से कतराती थी। लेकिन, अब मुझे न चाहते हुए भी अपने ससुराल के दूर-दराज रिश्तेदारों से भी हंसते हुए बात करनी पड़ती है।”

अब जानिए रिसर्च का दावा

आमतौर पर अगर एक पति-पत्नी से पूछा जाए  कि वो कैसे हैं, तो उनका कहना होगा कि वो खुश हैं। लेकिन, एक रिसर्च ने उनके इस जवाब को पूरी तरह से गलत ठहराया है। रिसर्च का कहना है कि महिलाएं बिना पति और बच्चों के ज्यादा खुश रहती हैं। यानी शादी से पहले वो ज्यादा खुश थीं। साथ ही ये भी कहा गया है कि शादी सिर्फ पुरुषों के लिए ही ज्यादा फायदेमंद होती है।

यह भी पढ़ेंः फर्स्ट टाइम सेक्स से पहले जान लें ये 10 बातें, हर मुश्किल होगी आसान

जानिए सर्वे का खुलासा

लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में व्यवहार विज्ञान के प्रोफेसर पॉल डोलन ने इस पर अध्ययन किया है। उनका कहना है कि शादी के बाद पुरुषों की समस्याएं कम हो जाती हैं। उन्हें सिर्फ अच्छी नौकरी की चिंता रहती है लेकिन, शादी के बाद महिलाओं के स्वास्थ्य में बड़ा बदलाव देखा जाता है। जबकि, शादी के पहले वो मानिसक और शारीरिक रूप से खुद को ज्यादा खुश महसूस करती थीं, जिसके पीछे कई कारण भी हो सकते हैं।

1.बढ़ जाती हैं जिम्मेदारियां

शादी के बाद महिलाओं पर परिवार की जिम्मेदारियां बढ़ जाती हैं। उन्हें पति, घर के सदस्यों और फिर बच्चे की भी देखभाल करनी पड़ सकती है, जिसके कारण उन्हें खुद की देखभाल के लिए समय बहुत ही कम या न के बराबर मिल सकता है। इसकी वजह से कई महिलाओं को डिप्रेशन का शिकार भी होते हुए देखा गया है।

यह भी पढ़ेंः रिलेशनशिप टिप्स : हर रिलेशनशिप में इंटिमेसी होनी क्यों जरूरी है?

2.पर्सनल स्पेस न मिलना

शादी के बाद परिवार का प्रेशर ज्यादा होने के कारण महिलाओं को पर्सनल स्पेस नहीं मिलता। न ही वो अपने करियर पर फोकस कर पाती हैं और न ही खुद को संवारने का ध्यान रख पाती हैं। आपने भी देखा होगा कि शादी के कुछ ही सालों बाद अधिकतर सजने-संवरने वाली लड़कियां बहुत सादगी से रहना शुरू कर देती हैं, जिसकी एक वजह यह भी हो सकती है।

3.इच्छाएं पूरी न होना

हर पुरुष और महिला अपनी शादी से जुड़ी कई इच्छाएं रखते हैं। हालांकि, महिलाओं की इच्छाएं पुरुषों के मुकाबले कहीं ज्यादा होती है। कई बार कुछ महिलाओं के सपने पूरे होते हैं, तो कुछ के कई कारणों से पूरे नहीं भी हो पाते हैं। जिनके आभाव के कारण वो अपनी शादी से इतना खुश नहीं हो पाती हैं, जितना खुश होने की उम्मीद उन्होंने शादी से पहले लगाई होती है। शादी से पहले कई महिलाओं को जहां उनकी मरजी से जीनें का अधिकार घरवालों ने दिया हुआ होता है, वहीं शादी के बाद हो सकता है कि ससुराल की तरफ से उनपर कई बड़ी जिम्मेदारियां आ जाएं और जिन्हें पूरा करने के दौरान वो अपनी खुद के अधिकारों को गला भी घोंट सकती हैं।

हालांकि, शादी के पहले के मुकबाले पुरुष शादी के बाद ज्यादा खुश नजर आ सकते हैं। शादी के बाद उनके कंधों पर जिम्मेदारियां बढ़ती हैं, लेकिन एक तरह से उन्हें एक सहारा भी मिल जाता है। शादी के बाद उन्हें एक साथी मिल जाता है, जो उनके साथ-साथ उनके परिवार की भी देखभाल खुशी-खुशी करती है। शादी के पहले उनके जीवन का लक्ष्य भी साफ नहीं होते हैं, लेकिन शादी के बाद वो अपने हर फैसले पर गंभीर से विचार करने लगते हैं।

हालांकि, रिसर्च के दावे को कुछ कामकाजी महिलाओं ने गलत ठहराया है। मुंबई में एक एमएनसी में काम करने वाली रिचा (बदला हुआ नाम) का कहना है कि “शादी के बाद मैं पहले के मुकाबले बहुत ज्यादा खुश हैं। शादी के पहले घरवालों की तरफ से मेरे जीवन पर कई तरह की पाबंदियां लगी हुई थी, जैसे- देर रात घर से बाहर नहीं रहना, दोस्तों के साथ ज्यादा घूमना-फिरना नहीं है या कुछ भी काम करने से पहले घरवालों की इजाजत लेनी पड़ती थी। लेकिन, शादी के बाद अब ऐसा कुछ भी नहीं रहा। अब मैं अपने मन का कर सकती हूं। दोस्तों के साथ कहीं घूमने जाने के लिए किसी से इजाजत नहीं लेनी होती है।”

यह भी पढ़ेंः जरूर जानें हेयर हाईलाइट के अलग-अलग तरीके और इससे जुड़े फैक्ट

रिचा का कहना है कि शादी होने के बाद से उन्हें ऐसा लग रहा है कि उनके जीवन की आधी से ज्यादा परेशानियां हल हो गई है। पति के साथ उनकी लाइफ पूरी तरह से शॉर्टेड हो गई है

रिचा के अलावा उन्हीं की कंपनी में काम करने वाली अनुष्का का भी कुछ ऐसा ही कहना है। अनुष्का का कहना है कि, शादी के पहले भी वो काफी खुश थी। लेकिन, शादी के बाद अब उन्हें ऐसा लगता है कि वो ज्यादा खुश हैं। उन्हें किसी भी बात को लेकर कोई परेशानी नहीं है। परिवार से जुड़ी कई तरह की परेशानियां अपने आप ही दूर हो गई हैं। इसके अलावा अभी बहुत ज्यादा खुश हैं क्योंकि, उन्होंने अपने बेस्ट फ्रेंड से ही शादी की है।

‘हैप्पी मैरिज’ अगर आप शादीशुदा हैं, तो ये दो शब्द, शादी के पहले आपके लिए अलग मायने रखता होगा। लेकिन, हो सकता है कि इन्हीं दो शब्दों का मतलब शादी के बाद पूरी तरह से बदल गया हो। कहते भी सुना होगा ‘नो किड्स, नो हसबेंड, नो प्रॉबल्म्स’। यानी नो मैरिज। तो आपका एक्सपीरियंस कैसा है शादी के बाद का?

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो रही है, तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ेंः-

फर्स्ट टाइम सेक्स से पहले जान लें ये 10 बातें, हर मुश्किल होगी आसान

कौन-से ब्यूटी प्रोडक्ट्स त्वचा को एलर्जी दे सकते हैं? जानें यहां

कुछ इस तरह करें अपनी पार्टनर को सेक्स के लिए एक्साइटेड

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

डाले अपने सेक्स जीवन में नयी मिठास तंत्र सेक्स के साथ

अगर आप सेक्स जीवन में कुछ नया करने के इच्छुक हैं तो तंत्र सेक्स को आजमाए और लौटा लाएं अपने सेक्स जीवन में नयी मिठास : तंत्र सेक्स (tanta sex) के साथ।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mishita Sinha

सेक्स के दौरान या बाद में ऐंठन के कारण और उनसे राहत पाने के उपाय

सेक्स के दौरान या बाद में ऐंठन, क्यों होता है ऐसा, सेक्स के दौरान या बाद में ऐंठन को दूर करने के उपाय। Cause and tips for cramp and pain during sex.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma

कौन-कौन से हैं सेक्स से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल और पाइए उनके जवाब

सेक्स से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल, सेक्स से जुड़े जवाब, सेक्स से जुड़े सवाल, सेक्स संबंधी जानकारी, sex related question answers, sex related questions.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma

मूत्रमार्ग का हस्तमैथुन युवक को पड़ गया भारी, जानें यूरेथ्रल साउंडिंग क्या है? 

यूरेथ्रल साउंडिंग (Urethral Sounding) क्या है, यूरेथ्रल साउंडिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं? Benefits and side effects of Urethral Sounding.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

Recommended for you

सेक्स के दौरान पूप

सेक्स के दौरान पूप: जानिए क्यों होता है ऐसा और इससे कैसे बचें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
पुरुषों के लिए सेक्स टिप्स

पुरुषों के लिए सेक्स टिप्स: जानें हेल्दी सेक्स लाइफ के लिए क्या करना चाहिए और क्या नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Ruby Ezekiel
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 26, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
LGBT में डिप्रेशन-Depression in LGBT

LGBT कम्युनिटी में 60 प्रतिशत लोग होते हैं डिप्रेशन का शिकार, जानें क्या है इसकी वजह?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ अगस्त 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कॉन्डोमलेस सेक्स - Condomless Sex

कॉन्डोमलेस सेक्स के क्या होते हैं रिस्क, बीमारियों से बचाव के लिए यह जानना है जरूरी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 17, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें