backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

महिलाओं के लिए रेगुलर हेल्थ चेकअप है जरूरी, बढ़ती उम्र के साथ रखें इन बातों का ध्यान

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 28/04/2021

महिलाओं के लिए रेगुलर हेल्थ चेकअप है जरूरी, बढ़ती उम्र के साथ रखें इन बातों का ध्यान

महिलाओं को बढ़ती उम्र के साथ एक तय अंतराल पर डॉक्टर से मिलकर सामान्य जांच यानी रेगुलर हेल्थ चेकअप करवाना चाहिए। रेगुलर हेल्थ चेकअप करवाने से कई बड़ी बीमारियों को रोका जा सकता है। डॉक्टर आपकी मेडिकल हिस्ट्री, आपके परिवार के किसी भी प्रकार के बीमारी के इतिहास और आपकी बीमारी के बारे में जांच कर सकता है। रेगुलर हेल्थ चेकअप कराने की सलाह हर महिला को दी जाती है। जांच के दौरान डॉक्टर लाइफस्टाइल से संबंधित कुछ बातें जैसे कि आहार, व्यायाम की आदतें और आप धूम्रपान करते हैं या नहीं, एल्कोहॉल ड्रिंकिंग आदि आदतों के बारे में जानकारी ले सकता है।

रेगुलर हेल्थ चेकअप की जरूरत क्यों? (Need of Regular health checkup)

रेगुलर हेल्थ चेकअप की मदद से आपको किसी भी प्रकार की बीमारी के शुरुआती लक्षणों का आसानी से पता चल जाएगा। यानी किसी भी प्रकार की बीमारी के शुरुआती संकेत मिल जाने से ट्रीटमेंट में आसानी हो जाती है। हार्ट डिसीज, डायबिटीज रोग और कुछ प्रकार के कैंसर आदि के लक्षणों की शुरुआत में ही जानकारी मिल जाती है। अगर आपके घर में कोई बीमारी अनुवांशिक है तो उसके बारे में भी शुरुआत में ही जानकारी मिल जाती है। शरीर में बीमारी का प्रवेश कभी भी हो सकता है, इसलिए महिलाओं के लिए बहुत जरूरी है कि वो रेगुलर हेल्थ चेकअप को इग्नोर न करें। इस इंटरनेशनल वुमंस डे के मौके पर जानिए महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी।

और पढ़ें : पीरियड डेट ट्रैक करने का आसान तरीका, इसे ऐसे समझें

18 से 39 वर्ष महिलाओं के लिए रेगुलर हेल्थ चेकअप (Regular health checkup for Women)

रेगुलर हेल्थ चेकअप

अगर कोई भी लड़की या महिला खुद को पूरी तरह से हेल्दी फील कर रही है फिर भी उसे अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर से जांच करवानी चाहिए।चेकअप का परपज निम्नलिखित हो सकता है,

  • मेडिकल इश्यू के लिए स्क्रीनिंग
  • भविष्य में किसी भी प्रकार की समस्या से बचने के लिए
  • हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए
  • वैक्सीनेशन के लिए
  • किसी भी प्रकार बीमारी के लक्षणों से निपटने के लिए

रेगुलर हेल्थ चेकअप : ब्लड प्रेशर स्क्रीनिंग (Blood Pressure screening)

ब्लड प्रेशर को हर दो साल में चेक करवाना चाहिए। अगर आपका ब्लड प्रेशर हाई या फिर लो रहता है तो बेहतर होगा कि आप एक साल या फिर छह महीने के अंतराल में ब्लड प्रेशर का चेकअप कराएं। अगर आपको डायबिटीज, हार्ट डिसीज या फिर अन्य कोई हेल्थ कंडीशन है तो बेहतर रहेगा कि डॉक्टर से परामर्श करने के बाद समय-समय पर ब्लड प्रेशर चेकअप जरूर कराएं। आप अपने घर के पास ही ब्लड प्रेशर स्क्रीनिंग आसानी से करवा सकते हैं।

[mc4wp_form id=’183492″]

और पढ़ें : पैड और मेंस्ट्रुअल कप से जुड़ी जरूरी बातें, जो हर महिला को जानना जरूरी है

कोलेस्ट्रॉल स्क्रीनिंग (Cholesterol Screening)

कोलेस्ट्रॉल स्क्रीनिंग के लिए 20 से 45 साल की उम्र सही रहती है। जिन महिलाओं को कभी भी कोलेस्ट्रॉल की समस्या नहीं रही है, बेहतर होगा कि ऐसी महिलाएं 5 साल के अंतराल में कोलेस्ट्रॉल स्क्रीनिंग करवाएं। अगर आपकी लाइफस्टाइल में चेंज (वेट गेन या फिर डायट में बदलाव) हो रहा है तो बेहतर होगा कि कोलेस्ट्रॉल स्क्रीनिंग जरूर कराएं। रेगुलर हेल्थ चेकअप करवाने से संभावित बड़ी बीमारी से बचा जा सकता है। अगर आपको हार्ट प्रॉब्लम, डायबिटीज, किडनी प्रॉब्लम या फिर कोई हेल्थ कंडीशन है तो बेहतर होगा कि कोलेस्ट्रॉल स्क्रीनिंग के लिए डॉक्टर से परामर्श करें। डॉक्टर आपको सही समय के बारे में जानकारी देगा।

रेगुलर हेल्थ चेकअप : डायबिटीज स्क्रीनिंग (Diabetes Screening)

अगर आपका ब्लड प्रेशर 140/80 mm Hg या उससे ज्यादा है तो आपका डॉक्टर ब्लड शुगर लेवल चेक करेगा। ऐसा डायबिटीज चेक करने के लिए किया जाता है। अगर आपका बॉडी इंडेक्स मास 25 से ज्यादा है तो डायबिटीज का खतरा अधिक हो जाता है। ऐसी शंका होने पर डॉक्टर स्क्रीनिंग कर सकता है। आपको बताते चलें कि 25 से ज्यादा बीएमआई है तो इसका मतलब है कि आप ओवरवेट हैं। अगर आपको हार्ट डिसीज या फिर रेलेटिव फस्ट डिग्री डायबिटीज की समस्या है तो डॉक्टर डायबिटीज स्क्रीनिंग के लिए सजेस्ट कर सकता है।

और पढ़ें : पीसीओडी से ग्रस्त महिलाओं की सेक्स लाइफ पर हो सकता है खतरा, जानें कैसे

रेगुलर हेल्थ चेकअप :  डेंटल एक्जाम (Dental Exam)

आपको साल में एक बार डेंटिस्ट के पास जरूर जाना चाहिए। कई बार लोग दांतों में हल्के दर्द को भी इग्नोर कर देते हैं। हल्का दर्द धीरे-धीरे गंभीर समस्या का रूप ले लेता है। चेकअप कराने के बाद डॉक्टर आपको बता देगा कि आपको दूसरी बार चेकअप के लिए कब आना है।

महिलाओं के लिए रेगुलर हेल्थ चेकअप के साथ ही वैक्सीनेशन (Vaccination for women)

प्रत्येक साल महिलाओं को फ्लू शॉट लेना चाहिए। 19 साल के बाद टेटनस-डिप्थीरिया (TdAP) वैक्सीन अगर पहले नहीं दिया गया है तो हर साल में इन वैक्सीन के बूस्टर हर 10 साल में लेने चाहिए। अगर आपने चिकनपॉक्स वैक्सीन नहीं लिए हैं, तो वैरिकाला वैक्सीन के दो डोज लेने चाहिए। अगर आपको निमोनिया की समस्या है या फिर अन्य हेल्थ कंडीशन है तो आपका डॉक्टर अन्य वैक्सीनेशन के लिए भी सजेस्ट कर सकता है। अगर आपकी एज 18 से 26 साल है तो आपको अपने डॉक्टर से एक बार ह्युमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) के बारे में भी जानकारी प्राप्त करनी चाहिए। अगर आपने एचपीवी का वैक्सीनेशन नहीं कराया है तो बेहतर होगा कि इसे डॉक्टर से परामर्श करवाने के बाद लगवा लें।

ब्रेस्ट कैंसर के लिए स्क्रीनिंग (Breast Cancer Screening)

रेगुलर हेल्थ चेकअप

ब्रेस्ट कैंसर स्क्रीनिंग के दौरान क्लीनिकल एक्जाम और स्क्रीनिंग मोमोग्रॉफी की प्रोसेस शामिल है। अगर आपकी फैमिली में किसी को ब्रेस्ट कैंसर है जो बेहतर रहेगा कि आप भी ब्रेस्ट कैंसर के लिए स्क्रीनिंग करा लें। डॉक्टर स्क्रीनिंग के दौरान ये जांच कर लेता है कि कुछ खास जीन में भविष्य में आपके लिए खतरनाक साबित होंगे या फिर नहीं। अगर डॉक्टर को किसी भी प्रकार का खतरा नजर आता है तो वो आपको जेनेटिक काउंसलिंग या फिर BRCA टेस्टिंग के लिए कह सकते हैं।

और पढ़ें : एस्ट्रोजन हार्मोन टेस्ट क्या होता है, क्यों पड़ती है इसकी जरूरत?

शारीरिक परीक्षण (Physical Test)

अगर आप 20 साल की हैं तो डॉक्टर आपके दो फिजिकल एक्जाम कर सकता है। इस दौरान डॉक्टर आपकी हाईट, वेट और बॉडी मास इंडेक्स को यानी बीएमआई को चेक कर सकता है। साथ ही डॉक्टर आपसे कुछ प्रश्न भी पूछ सकता है जैसे कि आपको कहीं डिप्रेशन की समस्या, एल्कोहॉल की लत, स्मोकिंग, डायट और एक्सरसाइज के बारे में जानकारी और वैक्सीनेशन हिस्ट्री के बारे में जानकारी ले सकता है। 40 साल से 60 साल की उम्र में डॉक्टर आई चेकअप,  इयर चेकअप, बोन डेंसिटी चेकअप, निमोनिया वैक्सीन की सलाह, डिप्रेशन के लिए स्क्रीनिंग आदि की सलाह दी जा सकती है।

टीनएज से लेकर बुजुर्ग महिलाओं तक, महिलाओं के लिए रेगुलर हेल्थ चेकअप बहुत जरूरी है। महिलाओं के लिए रेगुलर हेल्थ चेकअप की हेल्प से बीमारियों का सही समय पर ट्रीटमेंट हो जाता है। साथ ही भविष्य में होने वाली किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य समस्या से बचा जा सकता है।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. प्रणाली पाटील

फार्मेसी · Hello Swasthya


Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 28/04/2021

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement