Broken Tailbone: ब्रोकेन टेलबोन (टेलबोन में फ्रैक्चर) क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date फ़रवरी 11, 2020
Share now

परिचय

ब्रोकेन टेलबोन (कूल्हे की हड्डी टूटना) क्या है?

टेलबोन को कोकिक्स (coccyx) भी कहते हैं। यह छोटी छोटी हड्डियों का समूह होता है जिससे आपके स्पाइन का निचला सिरा बनता है। आदमी के अनुसार टेलबोन 3 से 5 कशेरुकाओं (vertebrae) की बनी होती है। छोटी छोटी हड्डियों का समूह एक सॉफ्ट पॉइंट पर जाकर समाप्त होता है। आपको बता दें कि कोकिक्स का आकार घुमावदार होता है, लेकिन यह घुमाव हर आदमी के लिए अलग अलग होता है।

जब आप बैठते हैं तब ऐसी स्थिति में आपके शरीर का वजन इसी कोकिक्स (coccyx) पर टिकता है। जब इस कोकिक्स मे कोई चोट लग जाती है तो इसे ब्रोकेन टेलबोन (broken tailbone) कहते हैं। इस चोट के कारण बहुत दर्द होता है खासकर जब आप बैठते हैं।

कितना सामान्य है ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) का होना?

आपको बता दें कि जब टेलबोन जिसे कोकिक्स (coccyx) भी कहते हैं, में कोई चोट लग जाती है तो ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) की समस्या होती है। इसमें बहुत दर्द होता है। एक अध्ययन के अनुसार महिलाओं में यह दर्द पुरुषों की तुलना में लगभग 5 गुना ज्यादा होता है। जिन लोगों को ऑस्टियोपेनिया (osteopenia) की समस्या होती है उनमें ज्यादा संभावना होती है कि उन्हें ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) की समस्या हो।

यह भी पढ़ें : क्यों होता है रीढ़ की हड्डी में दर्द, सोते समय किन बातों का रखें ख्याल

लक्षण

ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) के क्या लक्षण होते हैं?

इसके अलावा पीठ के निचले हिस्से में दर्द होना या इस दर्द को पैरों तक पहुंच जाना आदि भी इसके लक्षण होते हैं, लेकिन यह सामान्य तौर पर नहीं होता है। इन लक्षणों के सामने आने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

ऊपर बताएं गए लक्षणों में किसी भी लक्षण के सामने आने के बाद आप डॉक्टर से मिलें। हर किसी के शरीर पर यह ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) अलग प्रभाव डाल सकता है। इसलिए किसी भी परिस्थिति के लिए आप डॉक्टर से जरूर बात कर लें।

ये भी पढ़ें : डिलिवरी के बाद कमर दर्द से राहत के लिए क्या करना चाहिए?

कारण

ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) होने के क्या कारण हो सकते हैं?

जब टेलबोन जिसे कोकिक्स (coccyx) भी कहते हैं, में कोई चोट लग जाती है तो ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) की समस्या होती है। इसमें बहुत दर्द होता है। इस समस्या के सही कारणों के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है फिर भी हम कुछ कारण निम्नलिखित हैं;

  • बैठने की स्थिति में ही किसी हार्ड सतह पर गिर जाना, ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) का सबसे सामान्य कारण है।
  •  किसी प्रकार का ट्रॉमा।
  • कभी- कभी बच्चे के जन्म के समय ही कोकिक्स (coccyx) में चोट लग जाती है जिसकी वजह से ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) की समस्या हो जाती है।
  • कोकिक्स के विरुद्ध बार बार रगड़ खाने से खासकर साइकल चलाने की वजह से भी यह समस्या हो जाती है।
  • इसके अलावा मोटापे की वजह से यह समस्या लगभग तीन गुना ज्यादा होती है।
  • अचानक एक्सीडेंट होना या घर में कोई काम करते वक्त पैर फिसल जाने से टेलबोन में चोट लग सकती है।
  • स्कीइंग करने वाले लोगों को अक्सर यह समस्या ज्यादा होती है, हालांकि अधिकांश खिलाड़ी स्कीइंग करते समय ऐसे सुरक्षा गार्ड पहने रहते हैं जिससे उन्हें टेलबोन में चोट ना लगे।

यह भी पढ़ें : ये स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज कमर दर्द से दिलाएंगी छुटकारा

उपचार

यहां प्रदान की गई जानकारी को किसी भी मेडिकल सलाह के रूप ना समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) का निदान कैसे किया जाता है?

 टेलबोन में चोट (Broken tailbone) की समस्या होने पर बहुत तेज दर्द होता है। एक अध्ययन के अनुसार महिलाओं में यह दर्द पुरुषों की तुलना में लगभग 5 गुना ज्यादा होता है। इसका निदान करने के लिए डॉक्टर कई तरह के टेस्ट कर सकता है।

पूरी स्पाइन (spine) का परीक्षण किया जा सकता है या न्यूरोलॉजिकल टेस्ट या रेक्टल परीक्षण भी किया जा सकता है। इस टेस्ट के लिए, डॉक्टर कोक्सीक्स के क्षेत्र को महसूस करने के लिए आपके रेक्टम (rectum) में एक उंगली डालता है और निर्धारित करता है कि क्या कोई अव्यवस्था या फ्रैक्चर है जिसे महसूस किया जा सकता है या कोक्सीक्स पर दबाव की वजह से दर्द महसूस हो रहा है।

कभी-कभी होने वाले दर्द का सही कारण पता नहीं चल पाता है तो ऐसी स्थिति में डॉक्टर लोकल एनेस्थिसिया का प्रयोग करता है और यह जानने की कोशिश करता है या दर्द कोक्सीक्स वाले जगह से उत्पन्न हो रहा है या वर्टिब्रल कॉलम (vertebral column) की किसी दूसरे भाग से उत्पन्न हो रहा है। इसके अलावा डॉक्टर एक्स रे (x ray) का इस्तेमाल कर सकता है।

ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) का इलाज कैसे किया जाता है?

आपको बता दें कि ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) के इलाज में आमतौर पर सर्जरी नहीं की जाती है और यह 90% केस में सफल भी है। ब्रोकेन टेलबोन (Broken tailbone) के इलाज में निम्नलिखित नॉनसर्जिकल ट्रीटमेंट इस्तेमाल किया जाता है जैसे;

  • पेल्विक फ्लोर रिहैबिलिटेशन (Pelvic floor rehabilitation)
  • मसाज करना
  • इलेक्ट्रिक नर्व स्टिमुलेशन (electric nerve stimulation)
  • स्टेरॉयड का इंजेक्शन

इसके अलावा कुछ दवाइयां भी इसके ट्रीटमेंट में इस्तेमाल की जाती हैं जैसे;

यह भी पढ़ें : बच्चों की स्ट्रॉन्ग हड्डियों के लिए अपनाएं ये 7 टिप्स

घरेलू उपचार

यह भी पढ़ें : हाई ब्लड प्रेशर से क्यों होता है हार्ट अटैक 

जीवनशैली में होने वाले बदलाव क्या हैं, जो ब्रोकेन टेलबोन (broken tailbone) को रोकने में मदद कर सकते हैं?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आपके कोक्सीक्स (Coccyx) में कोई भी चोट किसी भी दुर्घटना के कारण लग सकती है। इसके घरेलू इलाज में आप डॉक्टर या फिजियोथेरेपिस्ट की सलाह लेकर एक्सरसाइज आदि कर सकते हैं जिससे इस समस्या में आराम मिल सकता है।

इससे भी अधिक जरूरी है कि स्वयं की देखभाल करें और कोई ऐसा काम करते समय सावधानी बरतें जिसमें गिरने की संभावना हो।

बाथरूम के फर्श को साफ सुथरा और सुखाकर रखें जिससे वहां फिसलन कम से कम हो। अधिकांश उम्रदराज लोग बाथरूम में ही फिसल कर चोटिल हो जाते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें: 

उम्र के हिसाब से जरूरी है महिलाओं के लिए हेल्दी डायट

प्रेग्नेंसी में गिरना कहीं कोई मुसीबत में न डाल दे!

दुनियां में आए हैं तो…तो गिरना ही पड़ेगा, पर गिरने पर हंसी क्यों छूटती है?

क्यों होता है रीढ़ की हड्डी में दर्द, सोते समय किन बातों का रखें ख्याल

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Eyebright: आईब्रिट क्या है?

    जानिए आईब्रिट की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, आईब्रिट उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Eyebright डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar

    एक्यूप्रेशर और एक्यूपंक्चर में है अंतर, जानिए दोनों के फायदे

    एक्यूप्रेशर क्या है, एक्यूप्रेशर के फायदे, एक्यूप्रेशर और एक्यूपंक्चर में अंतर क्या है, इससे इलाज कैसे किया जाता है, acupressure difference in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha

    Avascular Necrosis: एवास्क्यूलर नेक्रोसिस क्या है?

    जानिए एवास्क्यूलर नेक्रोसिस क्या है in hindi, एवास्क्यूलर नेक्रोसिस के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, tongue burn को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar

    Slipped Capital Femoral Epiphysis: स्लिप्ड कैपिटल फेमोरियल एपिफिसिस क्या है

    स्लिप्ड कैपिटल फेमोरियल एपिफिसिस क्या है in hindi, स्लिप्ड कैपिटल फेमोरियल एपिफिसिस के लक्षण क्या है,slipped capital femoral epiphysis के लिए क्या उपचार है

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Kanchan Singh

    Recommended for you

    माइग्रेन के लिए मरिजुआना

    माइग्रेन के लिए मरिजुआना का कैसे किया जाता है इस्तेमाल?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    Published on मई 5, 2020

    Pompe Disease: जानें पोम्पे रोग क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by shalu
    Published on अप्रैल 9, 2020
    एट्रियल फ्लटर

    Atrial flutter : एट्रियल फ्लटर क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anoop Singh
    Published on अप्रैल 4, 2020
    एपिडर्मल सिस्ट-Epidermal

    Epidermal: एपिडर्मल सिस्ट क्या है?

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Kanchan Singh
    Published on मार्च 30, 2020