Jaundice: क्या होता है पीलिया? जानें इसके कारण लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट July 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

पीलिया (Jaundice) क्या है ?

जब ब्लड में बिलिरुबिन का स्तर बढ़ जाता है, तो त्वचा, नाखून और आंखों का सफेद भाग पीला नजर आने लगता है, इस स्थिति को पीलिया या जॉन्डिस कहते हैं। बिलिरुबिन पीले रंग का पदार्थ होता है। ये ब्लड सेल्स में पाया जाता है। जब ये कोशिकाएं मृत हो जाती हैं, तो लिवर इन्हें ब्लड से फिल्टर कर देता है। लेकिन, लिवर में कुछ दिक्कत होने के चलते लीवर ये प्रक्रिया ठीक से नहीं कर पाता है और बिलिरुबिन की स्तर बढ़ने लगता है। लिवर की बीमारी से ग्रस्त लोगों को भी इस समस्या से गुजरना पड़ता है।

और पढ़ें: बाधक पीलिया (Obstructive jaundice) क्या है?

कितना सामान्य है पीलिया?

पीलिया एक ऐसी स्थिति है, जो लिवर की समस्या होने पर सामने आती है। यह किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकती है। हालांकि, नवजात शिशुओं में पीलिया होना काफी आम होता है क्योंकि, नवजात शिशुओं का लिवर पूरी तरह विकसित नहीं हुआ होता। हालांकि, यह जल्दी ठीक भी हो जाता है। लेकिन, अगर ऐसा न हो, तो ये गंभीर हो सकता है। ऐसा होने पर आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

और पढ़ें : Scabies : स्केबीज क्या है?

पीलिया (Jaundice) के क्या लक्षण हैं?

आमतौर पर इस बीमारी की वजह से मरीज की त्वचा और आंखों का सफेद भाग पीला पड़ जाता है। इसके अलावा, इस बीमारी के कुछ अन्य लक्षण हैं, जो हम नीचे बता रहे हैं :

इसके अलावा, ऊपर बताए गए लक्षणों से हटकर भी पीलिया के लक्षण दिखाई दे सकते हैं। ऐसे में डॉक्टर से सलाह जरूर करें।

और पढ़ें : Lyme disease: लाइम डिजीज क्या है?

कब दिखाएं डॉक्टर को?

वहीं, वयस्कों में त्वचा का पीला पड़ना लिवर की बीमारी का सीधा संकेत होता है। हालांकि, हर व्यक्ति का शरीर ऐसे मामलों में अलग-अलग तरह से प्रतिक्रिया देता है, अगर आपको ऐसी कोई भी परेशानी है, तो डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

और पढ़ें : Lymphogranuloma Venereum: लिम्फोग्रैनुलोमा वेनेरम क्या है?

क्यों होता है पीलिया (Jaundice)?

जैसा कि हमने बताया, जब शरीर में बिलिरुबीन का स्तर जरूरत से ज्यादा बढ़ जाता है, तो पीलिया की बीमारी होती है। बिलिरुबिन पीले रंग का पदार्थ होता है। ये ब्लड सेल्स में पाया जाता है। जब ये कोशिकाएं मृत हो जाती हैं, तो लीवर इन्हें ब्लड से फिल्टर कर देता है। लेकिन, लीवर में कुछ दिक्कत होने के चलते यह ठीक से काम नहीं कर पाता है। बिलिरुबिन तब बढ़ता है, जब लिवर खराब हो गया हो या लिवर में किसी तरह की इंज्युरी हो।

बिलिरुबिन का अत्यधिक स्तर बच्चों के लिए (पीलिया) घातक है। इससे उन्हें दिमागी समस्या हो सकती है। समय से पहले पैदा हुए बच्चों को पीलिया होने की ज्यादा संभावना होती है।

वहीं, कई मामलों में इंफेक्शन, खून संबंधी परेशानी और मां के दूध संबंधी परेशानियों से भी पीलिया हो सकता है। कई बार मां का दूध लिवर को बिलिरुबिन निकालने की प्रोसेस में बाधा पैदा कर देता है। ऐसा पीलिया कुछ दिनों से हफ्तों तक रह सकता है।

और पढ़ें : Ulcerative colitis : अल्सरेटिव कोलाइटिस क्या है? जाने इसके कारण ,लक्षण और उपाय

इन वजहों से बढ़ जाता है पीलिया (Jaundice) का खतरा

  • 37 हफ्तों से पहले पैदा हुए बच्चों में बिलिरुबिन प्रोसेस करने की क्षमता आम बच्चों के मुकाबले कम होती है। इसी वजह से समय से पहले पैदा हुए बच्चों को इसका खतरा ज्यादा रहता है।
  • अगर नवजात बच्चे की त्वचा छिली हुई हो या उस पर ज्यादा लालिमा नजर आए, तो ये बढ़े हुए बिलिरुबिन की वजह से हो सकता है
  • अगर मां का ब्लड ग्रुप और बच्चे का ब्लड ग्रुप अलग है, तो भी ये स्थिति बन सकती है।
  • नवजात बच्चे को सही पोषक तत्व और मां का दूध पर्याप्त नहीं मिलने से भी उसे पीलिया हो सकता है।

और पढ़ें : Metabolic syndrome: मेटाबोलिक सिंड्रोम क्या है?

निदान और उपचार

 डॉक्टर खून की जांच कर बिलिरुबिन का स्तर पता कर सकता है। वहीं, व्यस्कों में नीचे बताए टेस्ट से इसका पता लगाया जा सकता है :

  • हेपेटायटिस वायरस पैनल से लीवर इंफेक्शन का पता लगाया जा सकता है।
  • लिवर फंक्शन टेस्ट से ये पता लगाया जाता है कि लिवर की कार्यप्रणाली ठीक है या नहीं।
  • फुल ब्लड टेस्ट से ये पता लगाया जा सकता है कि कहीं व्यक्ति को खून की कमी तो नहीं।
  • पेट के हिस्से का अल्ट्रासाउंड किया जा सकता है।
  • कोलेस्ट्रॉल लेवल चेक किया जा सकता है।

और पढ़ें : Morning sickness: मॉर्निंग सिकनेस क्या है?

ऐसे होता है पीलिया (Jaundice) का इलाज

व्यस्कों में पीलिया की प्रमुख वजह पता लगाकर उसका उपचार किया जाता है, जबकि बच्चों के ज्यादातर मामलों में उपचार की जरूरत नहीं पड़ती। अगर बच्चों के मामले में उपचार करना भी पड़ जाए, तो सबसे बेहतर विकल्प होता है फोटोथैरिपी। इसमें बच्चे के कपड़े हटाकर उसे एक लाइट के नीचे रख दिया जाता है और आंखों को ढक दिया जाता है। इसके बाद, मशीन से निकली किरणें अतिरिक्त बिलिरुबिन को आसानी से हटा देती हैं। इस प्रोसेस को पूरा होने में दो दिन लगते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें : Multiple Sclerosis : मल्टिपल स्क्लेरोसिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

  • अपने बच्चे को पीलिया के दौरान संतुलित आहार दें। इससे बच्चा ज्यादा बार स्टूल पास करेगा और आंतें बिलिरुबिन को सोखने से बच जाएंगी।
  • अगर बच्चे को दोबारा पीलिया हो जाए, तो बिना देर किए डॉक्टर के पास जाएं।
  • ज्वार (barley) में ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो अतिरिक्त बिलरुबिन के पिग्मेंट को हमारे शरीर से निकाल देते हैं। इसलिए, ज्वार भी पीलिया के रोगियों के लिई बहुत अच्छा साबित हुआ है।
  • ये भी पीलिया के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद साबित हुआ है। गन्ने में वे सारे तत्व हैं जो हमारे लिवर को स्वस्थ बनाता है। इसमें मौजूद कार्बोहाइड्रेट्स और ग्लूकोज हमें दिन भर की चुस्ती देता है, और रोग से लड़ने की ताकत देते हैं।
  • नारियल पानी (Coconut water) पीने से पीलिया के रोगियों को बहुत फायदा हो सकता है। यह इसलिए क्योंकि नारियल पानी पीने से हमारे शरीर से विषैले तत्व यूरिन से निकल जाते हैं और शरीर के तापमान में भी गिरावट आती है।
  • नींबू पानी (lemon juice) भी पीलिया का एक अच्छा इलाज है। नींबू में मौजूद हमारे शरीर की कई तरह से मदद करता है। इससे हमारा खून भी साफ हो जाता है, और इसलिए ये पीलिया के लिए एक अच्छा इलाज साबित हुआ है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Fatty Liver : फैटी लिवर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

फैटी लिवर जो कि सिरोसिस के बाद लिवर फेलियर तक का कारण बन सकती है। आइए जानते हैं कि, इसे कैसे कंट्रोल किया जाए। Fatty Liver in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal

Hepatitis : हेपेटाइटिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लिवर में सूजन आने की समस्या को हेपेटाइटिस कहा जाता है। इससे बचने के उपाय व इलाज के बारे में विस्तार से जानते हैं। Hepatitis in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal

Anxiety : चिंता क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिंता हमारे शरीर द्वारा दी जाने वाली एक प्रतिक्रिया है, जो कि काफी आम और सामान्य है। कई मायनों में यह अच्छी भी है, पर ज्यादा होना बीमारी का कारण बन जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal

Sprain : मोच क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

मोच आने पर आपके चलने-फिरने आदि में काफी समस्या हो सकती है। आइए, इसके कारण, निदान और उपचार के बारे में जानते हैं। Sprain in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal

Recommended for you

पीलिया के घरेलू उपाय कौन से हैं

पीलिया के घरेलू उपाय कौन से हैं? पीलिया होने पर क्या करें, क्या न करें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ August 13, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
How to Care for your Newborn during the First Month - नवजात की पहले महीने में देखभाल वीडियो

पहले महीने में नवजात को कैसी मिले देखभाल

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
प्रकाशित हुआ August 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
आयुर्वेद में पीलिया का इलाज

पीलिया का आयुर्वेद इलाज क्या है? जॉन्डिस होने पर क्या करें, क्या न करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ June 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Weakness : कमजोरी

Weakness : कमजोरी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
प्रकाशित हुआ June 12, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें