बाधक पीलिया (Obstructive Jaundice) क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

जब लिवर से निकलने वाले पदार्थ बाइल (bile) के बाहर निकलने में बाधा पैदा होने लगे, तो उस स्थिति को बाधक पीलिया या Obstructive jaundice कहते हैं। इसकी वजह से बाइल का अत्यधिक जमाव और उसे बनने वाले अन्य तत्वों की मात्रा खून में बढ़ जाती है। बाइल के बाय प्रोडक्ट में बिलरूबिन शामिल होता है जो मृत लाल रक्त कोशिकाओं से बनता है। बिलरुबिन पीले रंग का होता है और इसके खून में बढ़ते ही शरीर के अंग, आंख आदि पीले दिखाई देने लगते हैं।

और पढ़ें : पीलिया के घरेलू उपाय कौन से हैं? पीलिया होने पर क्या करें, क्या न करें

लक्षण

क्या है बाधक पीलिया Obstructive jaundice के लक्षण?

बाधक पीलिया या ऑब्स्ट्रक्टिव जॉन्डिस के निम्न लक्षण है-

स्थिति बिगड़ने पर निम्न लक्षण दिखाई दे सकते हैं

इसके अलावा भी कई और लक्षण नजर आ सकते हैं। ऐसे में अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

और पढ़ें :  Anorexia : एनोरेक्सिया क्या है? इसके लक्षण और इलाज

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

कब दिखाएं डॉक्टर को ?

अगर आपको या आपके परिवार में किसी सदस्य को उपरोक्त में से कोई भी लक्षण नजर आते हैं, तो ऐसे में डॉक्टर मदद जरूर लेनी चाहिए। ध्यान रहे, हर व्यक्ति का शरीर हर बीमारी में अलग प्रतिक्रिया देता है।

वजह

किस वजह से होता है बाधक पीलिया Obstructive jaundice 

जब लिवर से आंत तक जाने वाले बाइल में अवरोध पैदा हो जाए और वो खून में ही प्रवाहित होता रहे। ऐसी स्थिति में बाधक पीलिया होता है। इसके अलावा कई औj कारण जैसे बाइल डक्ट में ट्यूमर होने से भी उसमें अवरोध पहैदा हो सकता है। इससे कैंसर की संभावना रहती है।

इसके अलावा आंत के कैंसर की वजह से भी इस तरह के अवरोध पैदा हो सकते हैं। इसके अतिरक्ति कुछ और आंतरिक समस्याएं जैसे बाइल डैक्ट के आसपास सजून आदि भी बाइल के बाहर निकलने में बाधा उत्पन्न करती हैं।

और पढ़ें : दिखाई दे ये लक्षण, तो हो सकता है नवजात शिशु को पीलिया

खतरे

यहां दी गई जानकारी किसी भी स्वास्थ्य परामर्श का विकल्प नहीं है। हमेशा डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

कैसे पता चलता है बाधक पीलिया Obstructive jaundice ?

बाधक पीलिया या ऑब्सट्रक्टिव जॉन्डिस एक जानलेवा समस्या है, जिसमें मृत्यु होने की ज्यादा संभावनाएं रहती हैं। ऐसे में इसका जल्द से जल्द उपचार जरूरी है। अगर इसका पहले पता चल जाए तो ऑपरेशन के जरिए उस बाधा को जल्द ठीक किया जा सकता है। 

इस बीमारी को पता कई तरीकों से चल सकता है। जैसे ब्लड टेस्ट जिसमें बिलरूबिन की मात्रा देखी जा सकती है। इसके अलावा लिवर और बाइल डक्ट का अल्ट्रासाउंड कर किसी अवरोध को देखा जा सकता है।

कैसे होता है बाधक पीलिया Obstructive jaundice का इलाज?

अगर ये gallstone पित्त पत्थरी की वजह से हो तो इसे कुछ दवाई देकर कम किया जा सकता है। इसके अलावा डॉक्टर Percutaneous Transhepatic Cholangiography (PTC) नामक तकनीक से अतिरिक्त बाइल को बाहर निकाल सकता है। इसके इलाज का तरीका पूर्ण रूप से इस बात पर निर्भर करता है कि बाइल के रास्ते में बाधा किस वजह से आई है। अगर बाइल में अवरोध किसी ट्यूमर की वजह से हो तो सर्जरी की सलाह नहीं दी जाती और कीमोथेरेपी की मदद ली जाती है।

बाधक पीलिया Obstructive jaundice  से बचने के लिए क्या करें

बाधक पीलिया से बचने के लिए पित्त पत्थरी से बचें। इसके साथ ही संतुलित आहार लें, फैट वाला खाना और मदिरापान से बचें। अगर आपको अपनी समस्या को लेकर कोई प्रश्न हैं, तो अपने डॉक्टर की मदद लेना ना भूलें।

और पढ़ें : Jaundice: क्या होता है पीलिया? जानें इसके कारण लक्षण और उपाय

बाधक पीलिया में क्या खाएं?

1- बाधक पीलिया में करे ज्वार का सेवन

यदि आप भी खुद को या किसी करीबी को जॉनडिस होने पर सोच रहे हैं कि बाधक पीलिया में क्या खाएं तो आपको बता दें कि ज्वार एक अच्छा विकल्प हो सकता है। ज्वार (barley) में ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो अतिरिक्त बिलरुबिन के पिग्मेंट को हमारे शरीर से निकाल देते हैं। इसलिए, ज्वार भी बाधक पीलिया के रोगियों के लिई बहुत अच्छा साबित हुआ है।

2- बाधक पीलिया में पिएं नारियल पानी 

नारियल पानी (Coconut water) पीने से बाधक पीलिया के रोगियों को बहुत फायदा हो सकता है। यह इसलिए क्योंकि नारियल पानी पीने से हमारे शरीर से विषैले तत्व यूरिन से निकल जाते हैं और शरीर के तापमान में भी गिरावट आती है।

3- बाधक पीलिया में पिएं गन्ने का रस

ये भी बाधक पीलिया के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद साबित हुआ है। गन्ने में वे सारे तत्व हैं जो हमारे लिवर को स्वस्थ बनाता है। इसमें मौजूद कार्बोहाइड्रेट्स और ग्लूकोज हमें दिन भर की चुस्ती देता है, और रोग से लड़ने की ताकत देते हैं।

4- बाधक पीलिया में करे तरबूज के बीज का सेवन 

तरबूज के बीज (watermelon seeds) को पानी में मिलाकर खाना भी बाधक पीलिया के मरीज़ के लिए अच्छा होता है। ये बीज लिवर और किडनी को साफ करने के साथ-साथ बिलरूबिन का स्तर भी घटाते हैं।

5- बाधक पीलिया में खाएं ताजी सब्जियां

बाधक पीलिया के समय, आलू, गाजर, शकर कंद, और चुकंदर जैसे सब्जियों को उबालकर खाना, मरीजों के लिए फायदेमंद साबित हुआ है। ऐसा इसलिए क्योंकि ये सब्जियां आसानी से डाइजेस्ट होकर ग्लूकोज में बदल जाती हैं और साथ शरीर को ताकत देती हैं। इसके अलावा इन सब्जियों में फैट नहीं पाया जाता, जो हमारे लिवर को नुकसान से बचाता है।

6- बाधक पीलिया में पिएं नींबू का रस

नींबू पानी (lemon juice) भी बाधक पीलिया का एक अच्छा इलाज है। नींबू में मौजूद हमारे शरीर की कई तरह से मदद करता है। इससे हमारा खून भी साफ हो जाता है, और इसलिए ये बाधक पीलिया के लिए एक अच्छा इलाज साबित हुआ है।

7- बाधक पीलिया में खाने योग्य फल

फल खाने से, बाधक पीलिया का बहुत अच्छा इलाज हो सकता है। फलों के रस के तत्वों से, हमारे शरीर को बहुत ही अच्छा पोषण मिलता है। ये तत्व हमारे शरीर को साफ रखते हैं, जिसके कारण हमारा लिवर को तेजी से खुद को सुधारने का वक्त मिल सकता है। विटामिन-सी से भरपूर फल जैसे नींबू, संतरा आदि का रस पीने से बहुत फायदा होता है। रोजाना नींबू पानी पीने से आप बाधक पीलिया से छुटकारा पा सकते हैं।

8- बाधक पीलिया में करे चने का सेवन 

चने खाने से शरीर में ऊर्जा आती है। बाधक पीलिया में चने खाना फायदेमंद बताया गया है। इससे आयरन और कई विटामिन मिलते हैं। लेकिन यह ध्यान रहे कि आप चनों को फ्राई करके ना खाएं।

अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Hepatitis : हेपेटाइटिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लिवर में सूजन आने की समस्या को हेपेटाइटिस कहा जाता है। इससे बचने के उपाय व इलाज के बारे में विस्तार से जानते हैं। Hepatitis in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Anxiety : चिंता क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिंता हमारे शरीर द्वारा दी जाने वाली एक प्रतिक्रिया है, जो कि काफी आम और सामान्य है। कई मायनों में यह अच्छी भी है, पर ज्यादा होना बीमारी का कारण बन जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Sprain : मोच क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

मोच आने पर आपके चलने-फिरने आदि में काफी समस्या हो सकती है। आइए, इसके कारण, निदान और उपचार के बारे में जानते हैं। Sprain in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Goldthread: गोल्डथ्रेड क्या है?

जानिए गोल्डथ्रेड की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, गोल्डथ्रेड उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Goldthread डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 31, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पीलिया के घरेलू उपाय कौन से हैं

पीलिया के घरेलू उपाय कौन से हैं? पीलिया होने पर क्या करें, क्या न करें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 13, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
आयुर्वेद में पीलिया का इलाज

पीलिया का आयुर्वेद इलाज क्या है? जॉन्डिस होने पर क्या करें, क्या न करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Weakness : कमजोरी

Weakness : कमजोरी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ जून 12, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Fatty Liver : फैटी लिवर

Fatty Liver : फैटी लिवर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ जून 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें