Menopause: रजोनिवृति (मेनोपॉज) क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

रजोनिवृत्ति (Menopause) क्या है?

कम से कम 12 महीने तक माहवारी (पीरियड्स) का न होना रजोनिवृति (Menopause) कहलाता है। रजोनिवृत्ति (मेनोपॉज) का मतलब है कि अब आपकी प्रजनन अवधि खत्म हो गई है। अब आप बच्चे को जन्म नहीं दे सकती हैं। यह एक स्वाभाविक प्रक्रिया है इसलिए आपको इसके बारे में अधिक चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।

और पढ़ें : 30 साल में होने जा रही हैं प्रेग्नेंट, तो जान लें ये बातें

क्या रजोनिवृति (मेनोपॉज) सामान्य है?

प्रत्येक महिला को अपने जीवन में रजोनिवृति (मेनोपॉज) का सामना करना पड़ता है क्योंकि यह महिलाओं के प्रजनन से संबंधित एक बायोलॉजिकल प्रॉसेस है। रजोनिवृत्ति का समय हर एक महिला के लिए अलग-अलग हो सकता है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ें : अनियमित पीरियड्स को नियमित करने के 7 घरेलू नुस्खे

रजोनिवृति (मेनोपॉज) के लक्षण क्या हैं?

हो सकता है ऊपर दिए गए लक्षणों में कुछ लक्षण शामिल न हो। यदि आपको किसी भी लक्षण के बारे में किसी भी तरह की शंका हो तो कृपया डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ें : पीरियड्स के दौरान दर्द को कहना है बाय तो खाएं ये फूड

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

  • पेरिमेनोपॉज (Perimenopause) से लेकर मेनोपॉज (रजोनिवृत्ति) के बाद तक डॉक्टर के पास नियमित रूप से जाएं ।
  • रजोनिवृति (मेनोपॉज) होने के लिए पहले से ही स्वास्थ्य देखभाल करना शुरू कर दें ।
  • रजोनिवृत्ति के बाद अगर वजायना से किसी तरह की ब्लीडिंग हो तो आप तुरंत चिकित्सा सलाह लें।

और पढ़ें : महिलाओं में इंसोम्निया : प्री-मेनोपॉज, मेनोपॉज और पोस्ट मेनोपॉज से नींद कैसे होती है प्रभावित?

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

रजोनिवृति (मेनोपॉज) का क्या कारण है?

  • प्रजनन हार्मोन में होने वाली प्राकृतिक गिरावट इसका मुख्य कारण है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, विशेष रूप से 30 के ऊपर अंडाशय में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का बनना कम हो जाता है जो मासिक धर्म को नियंत्रित करते हैं। परिणामस्वरूप प्रजनन क्षमता में गिरावट आती है। यदि आप लगभग 40 की उम्र की हैं, तो मासिक धर्म की अवधि कम या ज्यादा हो सकती है, फ्लो हल्का या ज्यादा हो सकता है और 45- 51 की उम्र आते-आते पीरियड्स बंद हो जाते हैं।
  • हिस्टेरेक्टॉमी भी एक कारण हो सकता है क्योंकि इसमें गर्भाशय निकाल दिया जाता है। यूटरस न होने के कारण पीरियड्स नहीं होते हैं। फिर भी ओवरीज से अंडे निकलते हैं जो एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का उत्पादन करते हैं। हालांकि हिस्टेरेक्टॉमी में गर्भाशय और अंडाशय दोनों को ही हटा दिया जाता है जिसकी वजह से समय से पहले ही रजोनिवृति (मेनोपॉज) होने लगती है।
  • कीमोथेरेपी और रेडिएशन थेरेपी भी रजोनिवृत्ति का कारण बन सकती है या इसके कुछ लक्षण दिख सकते हैं।
  • कुछ महिलाओं में 40 की उम्र से पहले भी रजोनिवृति (मेनोपॉज) देखने को मिलती है। जिसे प्री-मेनोपॉज कहा जाता है। ऐसी महिलाओं की संख्या सिर्फ 1 प्रतिशत ही है। यदि अंडाशय प्रजनन हार्मोन के सामान्य स्तर का उत्पादन नहीं कर सकता जो कि अनुवंशिक या ऑटोइम्यून बीमारी के कारण हो सकता है तो रजोनिवृति (मेनोपॉज) हो सकती है।

और पढ़ें : पीरियड्स से जुड़ी गलत धारणाएं और उनकी सच्चाई

रिस्क फैक्टर्स

  • धूम्रपान न करने वाली महिलाओं की तुलना में जो महिलाएं धूम्रपान करती हैं उनमें रजोनिवृत्ति एक से दो साल पहले ही होने की संभावना होती है।
  • कैंसर के उपचार में अपनाई गई कीमोथेरेपी या रेडिएशन थेरेपी के कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जिसमें समय से पहले होने वाली रजोनिवृत्ति भी शामिल है।
  • हिस्टेरेक्टॉमी में गर्भाशय हटा देते हैं, जिसकी वजह से औसत आयु से पहले रजोनिवृति (मेनोपॉज) होने की संभावना बढ़ सकती है।

और पढ़ें : मेनोपॉज और हृदय रोग : बढ़ती उम्र के साथ संभालें अपने दिल को

रजोनिवृति (मेनोपॉज) का निदान कैसे किया जाता है?

आमतौर पर डॉक्टर लक्षणों के आधार पर कुछ प्रारंभिक निदान पर विचार कर सकते हैं। यदि अनियमित पीरियड्स या हॉट फ्लैशेस के बारे में कोई शंका है तो अपने डॉक्टर से बात करें।

फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हॉर्मोन (FSH), एस्ट्रोजन और थायरॉइड-स्टिम्युलेटिंग हार्मोन (TSH) के स्तर की जांच के लिए ब्लड टेस्ट की आवश्यकता हो सकती है। जैसे ही एफएसएच का स्तर बढ़ता है और एस्ट्राडियोल का स्तर कम होता है तो मेनोपॉज होता है। इसके अलावा, टीएसएच से संबंधित अंडरएक्टिव थायरॉयड (हायपोथायरायडिज्म) भी रजोनिवृत्ति के सामान ही लक्षण दे सकता है।

और पढ़ें : पीरियड्स के दौरान जरूर फॉलो करें ये मेन्स्ट्रुअल हाइजीन

रजोनिवृति (मेनोपॉज) का इलाज कैसे किया जाता है?

आपको रजोनिवृत्ति के इलाज के लिए किसी भी चिकित्सीय उपचार की आवश्यकता नहीं है। हालांकि, लक्षणों की गंभीरता के कारण कुछ महिलाएं इसका इलाज करवाती हैं। रजोनिवृत्ति के लिए निम्नलिखित उपचार उपलब्ध हैं-

  • हार्मोन थेरेपी राहत देने वाला एक बेहतरीन और प्रभावी उपचार है। आपके व्यक्तिगत और पारिवारिक मेडिकल हिस्ट्री के आधार पर लक्षणों से राहत पाने के लिए इस थेरेपी के द्वारा एस्ट्रोजन दिया जा सकता है।
  • वजायनल ड्रायनेस (योनि का सूखापन) से राहत के लिए वजायनल एस्ट्रोजन का इस्तेमाल किया जाता है। इसके लिए एस्ट्रोजन क्रीम या टैबलेट उपयोग किए जाते हैं।
  • अगर स्वास्थ्य एस्ट्रोजन लेने योग्य नहीं है तो लो-डोज एंटीडिप्रेसेंट रजोनिवृत्ति के दौरान होने वाले हॉट फ्लैशेस को कम करने में सहायक हो सकते हैं।

और पढ़ें : अर्ली मेनोपॉज से बचने के लिए डायट का रखें ख्याल

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

  • हॉट फ्लैशेस को कम करने के लिए किसी ठंडे कमरे में बैठना चाहिए।
  • पर्याप्त नींद लें साथ ही रिलैक्सेशन तकनीक अपनाएं जैसे गहरी सांस लेना, मालिश और प्रोग्रेसिव मसल्स रिलैक्सेशन।
  • कीगल एक्सरसाइज के द्वारा पेल्विक एरिया को मजबूत बनाएं।
  • संतुलित आहार लें- डायट में सेचुरेटेड फैट, ऑइल और शुगर को कम करने के साथ कई प्रकार के फल, सब्जियां और साबूत अनाज को शामिल करें।
  • रजोनिवृति (मेनोपॉज) में नियमित रूप से व्यायाम करें- नियमित रूप से शारीरिक गतिविधि या व्यायाम करने से आपको हृदय रोग, मधुमेह, ऑस्टियोपरोसिस और उम्र बढ़ने से जुड़ी हुई अन्य समस्यायों से निपटने में मदद मिलती है।
  • आप अपने आहार में दूध से बने उत्पादों की भरपूर मात्रा शामिल करें। इसके अलावा कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थों जैसे – तिल, सोयाबीन, रागी और पोषण युक्त पदार्थ जैसे- जूस, साबूत अनाज आदि का सेवन करें।
  • आयरन गार्डेन क्रेस बीज (हलिम), काली किशमिश, पत्तेदार हरी सब्जियां, और मुर्गे के लीवर में मिलता है। मैं यह सलाह हमेशा देती हूं कि खाने में आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थ जरूर लें। आयरन के बेहतर अवशोषण के लिए विटामिन सी से भरपूर पदार्थ जैसे- नींबू और संतरे का रस जरूर लें। आयरन युक्त भोजन के साथ कैल्शियम और फाइबर युक्त भोजन लेने से बचें, क्योंकि ये आयरन के अवशोषण को कम कर देता है।
  • आपको अपने आहार में कम से कम 3 से 5 भाग फल और 2 से 4 कप सब्जियों को शामिल करना चाहिए। फल और सब्जियों का सेवन रोज करें।

अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Meprate Tablet : मेप्रेट टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

मेप्रेट टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, मेप्रेट टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Meprate Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Femilon Tablet : फेमिलोन टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फेमिलोन टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, फेमिलोन टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Femilon Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

False Unicorn Root: फाल्स यूनिकॉर्न रूट क्या है?

जानिए फाल्स यूनिकॉर्न रूट की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, फाल्स यूनिकॉर्न रूट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, False Unicorn Root डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कोविड-19 में मासिक धर्म स्वच्छता का ध्यान रखना है बेहद जरूरी

कोविड-19 में मासिक धर्म स्वच्छता पर ध्यान देना ज्यादा जरूरी है। कोविड-19 में मासिक धर्म स्वच्छता बनाए रखने के टिप्स क्या हैं? पीरियड्स के दौरान हाइजीन के साथ-साथ...covid-19 and menstruational hygiene in hindi

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

Recommended for you

पीरियड्स का होना

‘पीरियड्स का होना’ नहीं है कोई अछूत, मिथक तोड़ने के लिए जरूरी है जागरूकता

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
सस्टेन कैप्सूल

Susten Capsule : सस्टेन कैप्सूल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 14, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
मेनोपॉज के बाद सेक्स - sex after menopause

ओल्ड एज सेक्स लाइफ को एंजॉय करने के लिए जानें मेनोपॉज के बाद शारिरिक और मानसिक बदलाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 29, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
पीरियड्स के दौरान स्ट्रेस

पीरियड्स के दौरान स्ट्रेस को दूर भगाने के लिए अपनाएं ये एक्सपर्ट टिप्स

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें