प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग का बच्चे और मां पर क्या होता है असर?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले बच्चे को किसी तरह का नुकसान न हो, इसके लिए मां हर संभव जतन करती है, लेकिन क्या आपको पता है कि प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग से किस प्रकार के खतरे हो सकते हैं ? ये जरूरी नहीं है कि होने वाली मां स्मोकिंग करेगी, तभी खतरा होगा। पैसिव स्मोकिंग का भी बच्चे पर बुरा असर पड़ता है। हमारी हेल्थ के लिए क्या अच्छा है और क्या बुरा, ये बातें तो हमें पता ही होती हैं। हम सब जानते हैं कि स्मोकिंग या नशा करना बुरा होता है, लेकिन फिर भी इसे करते हैं।

फीमेल हॉस्पिटल एम्प्लॉइज के सर्वे में ये बात सामने आई कि चार लोगों में एक व्यक्ति को इस बात की जानकारी होती है कि स्मोकिंग के कारण इनफर्टिलिटी और मिसकैरिज का खतरा बढ़ जाता है। फिर भी लोग इसे नहीं छोड़ते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग से हो सकती हैं ये समस्याएं

स्मोकिंग के कारण कैंसर का खतरा बढ़ने के साथ ही हार्ट संबंधी समस्या, एम्फेसिमा (emphysema) व अन्य हार्ट संबंधी बीमारियां हो सकती हैं। प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग करने से कुछ रिस्क हो सकते हैं।

  • बच्चे के साइज में परिवर्तन।
  • प्रीमैच्योर बेबी का पैदा होना।
  • स्टिल बर्थ (बच्चे का मरा हुआ पैदा होना)
  • बच्चे को सांस संबंधी बीमारी का होना

और पढ़ें : तीसरी प्रेग्नेंसी के दौरान इन बातों का रखना चाहिए विशेष ख्याल

डेवलपिंग फीटस को टॉक्सिन्स से हो सकते हैं ये नुकसान

प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग के कारण होने वाले बच्चे पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। प्रेग्नेंसी के दौरान पांचवें से दसवां महीना बर्थ डिफेक्ट के लिए बहुत सेंसिटव रहता है। स्मोकिंग की वजह से होने वाले बच्चे की याददाश्त पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। ऐसे में बच्चे के मानसिक और शारीरिक दोनों रूप से कमजोर होने की संभावना बढ़ जाती है। प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग के खतरे को जानकर अगर मां धूम्रपान छोड़ देती है तो मां और बच्चे भविष्य में होने वाले बड़े खतरे से बच सकते हैं।

और पढ़ें : गर्भावस्था से आपको भी लगता है डर? अपनाएं ये उपाय

फर्टिलिटी पर क्या पड़ता है असर?

स्मोकिंग के कारण होने वाले बच्चे पर बुरा प्रभाव पड़ता है, साथ ही प्रेग्नेंसी के पहले भी कुछ समस्याएं देखने को मिल सकती हैं।

  1. फैलोपियन ट्यूब में समस्या होने से एग और स्पर्म के मिलने में समस्या होती है। स्मोकिंग के कारण एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (ectopic pregnancy) का रिस्क बढ़ जाता है।
  2. गर्भाशय ग्रीवा में परिवर्तन देखने को मिलता है। सर्वाइकल कैंसर के बढ़ने का खतरा भी रहता है।
  3. ओवरीज में एग डैमेज (egg damage) हो सकते हैं।
  4. इन सब कारणों से प्रेग्नेंसी के दौरान मिसकैरिज का खतरा भी बढ़ जाता है।
  5. एक बात ध्यान रखें कि ये सभी समस्याएं सीधे स्मोकिंग की वजह से नहीं होती हैं। ये किसी हेल्थ से जुड़ी हुई समस्या भी हो सकती है।

और पढ़ें : 5 फूड्स जो लेबर पेन को एक्साइट करने का काम करते हैं

कंसीव करने के दौरान समस्या

आपने स्मोकिंग के कारण फर्टिलिटी पर प्रभाव, प्रेग्नेंसी के दौरान होने बच्चे पर बुरा प्रभाव तो पढ़ लिया। अब जानिए कि कंसीव करने के दौरान दो महिलाएं स्मोकिंग करती हैं, उन पर क्या असर होता है।

  • जो महिलाएं एक साल से कंसीव करने की कोशिश कर रही हैं और एक दिन में 20 से ज्यादा सिगरेट भी पीती हैं, उनकी कंसीव करने की क्षमता 25 %  तक घट जाती है। अगर महिला स्मोकिंग बंद कर देती है तो कंसीव करने में समस्या नहीं होगी।
  • अगर महिला स्मोकिंग नहीं छोड़ती है और कंसीव कर लेती हैं तो मिसकैरिज की संभावना बढ़ जाती है।
  • फर्टिलिटी ट्रीटमेंट (fertility treatment) का रिजल्ट खराब हो जाता है।
  • महिलाओं को कम उम्र में मोनोपॉज होने की संभावना रहती है।

और पढ़ें : प्रसव-पूर्व योग से दूर भगाएं प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली समस्याओं को

प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग से प्लासेंटा को खतरा

प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग कितनी खतरनाक हो सकती है, इस बात का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि प्लासेंटा को नुकसान पहुंच सकता है। प्लासेंटा पेट में पल रहे बच्चे को यानी फीटस को पोषण देने का काम करता है। प्लासेंटा को फीटस की लाइफलाइन कहा जाता है। न्यूट्रिएंट्स के साथ ही प्लासेंटा फीटस को ऑक्सिजन भी पहुंचाने का काम करता है। प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग के कारण प्लासेंटा यूट्रस से अलग हो सकता है जिसके कारण ब्लीडिंग अधिक होने की संभावना रहती है। कई बार मेडिकल अटेंशन न मिल पाने के कारण होने वाले बच्चे को खतरा हो सकता है। ये स्टिल बर्थ का कारण भी बन सकता है। प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग मां के साथ ही बच्चे के लिए भी बहुत खतरनाक होती है।

और पढ़ें : मिसकैरिज के बाद फूड: इन चीजों को करें अवॉयड

प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग से पैदा होने वाले बच्चे पर असर

प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग से स्टिल बर्थ का खतरा तो रहता ही है, अगर बच्चा जिंदा पैदा हो गया तो भी समस्या रहती है।  प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग के कारण पैदा होने वाले बच्चे का वेट कम जाता है। लो वेट बच्चे की शारीरिक परेशानी का कारण बन जाता है। लो बर्थ वेट के कारण बच्चे में हेल्थ प्रॉब्लम के साथ ही डिसेबिलिटी की समस्या भी बढ़ जाती है। स्मोकिंग के कारण सीरियस प्रॉब्लम हो सकती है जैसे देर से डेवलपमेंट होना, सुनने या फिर देखने में समस्या, मस्तिष्क संबंधी समस्या आदि। अगर प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग को छोड़ दिया जाए तो बच्चे के साथ ही होने वाली मां भी कई तरह की समस्याओं से बच सकती है।

पुरुषों में स्मोकिंग के कारण समस्या

  • पुरूषों में स्मोकिंग के कारण स्पर्म काउंट कम हो जाता है। साथ ही हेल्दी स्पर्म में भी कमी हो जाती है।
  • जो पुरुष स्मोकिंग करते हैं उनके बच्चों को अस्थमा होने की संभावना ज्यादा रहती है।
  • स्मोकिंग करने वाले पुरुषों में इरेक्शन के दौरान समस्या हो सकती है।
  • महिला हो या फिर पुरुष, स्मोकिंग की आदतें छोड़ने के बाद इनफर्टिलिटी की उत्पन्न हुई समस्या को दूर किया जा सकता है।

डॉक्टर से कराएं उपचार

गर्भधारण की तैयारी कर रही महिलाएं कंसीव होने से पहले टॉक्सिन्स पदार्थों को लेना बंद कर दें। जो महिलाएं कंसीव करने के बाद ध्रूमपान नहीं छोड़ पाई हैं, उन्हें एक बार अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करना चाहिए। कुछ कार्यक्रमों के तहत महिलाओं या पुरुषों को स्मोकिंग की आदत से छुटकारा दिलाया जा सकता है। कंसीव के दौरान ये बात जरूर ध्यान रखें कि आप एक नई जिंदगी को जन्म देने जा रहे हैं। इसलिए कोशिश करें कि अगर आपको किसी भी प्रकार की आदत या लत है तो उसको छोड़ दें ताकि होने वाले बच्चे को किसी भी प्रकार का नुकसान न पहुंचे। अगर आप प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग की समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो तुरंत डॉक्टर से इस समस्या के उपचार के बारे में पूछें।

प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग आने वाले बच्चे के लिए खतरा पैदा कर सकती है। हर मां अपने बच्चे की अच्छी सेहत की कामना करती है। अगर आप ऐसा चाहती हैं तो स्मोकिंग छोड़ दें। प्रेग्नेंसी में स्मोकिंग खतरनाक है। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

जानें गांजा पीना खतरनाक है या लोगों को राहत दिलाने का करता है काम

गांजा पीना कई मामलों में फायदेमंद है तो कुछ मामलों में शरीर के लिए हानिकारक भी है, इससे कई प्रकार की बीमारी होती है, वहीं आप बीमार हैं तो मौत तक हो सकती है

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
धूम्रपान छोड़ना, स्वस्थ जीवन अगस्त 12, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

संजय दत्त को हुआ स्टेज 3 का लंग कैंसर, कहा कि फिल्मों से ब्रेक ले रहा हूं

संजय दत्त के फैंस के लिए बुरी खबर है। बॉलीवुड एक्टर संजय दत्त थर्ड स्टेज फेफड़े के कैंसर से गुजर रहे हैं जो जानलेवा मानी जाती है। फेफड़े के कैंसर आमतौर पर दो प्रकार के होते हैं जिन्हें स्मॉल सेल और नॉन-स्मॉल सेल फेफड़े का कैंसर कहा जाता है। sanjay dutt diagnosed with third stage lung cancer in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
स्वास्थ्य बुलेटिन, लोकल खबरें अगस्त 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Quit Smoking: इन आसान टिप्स से धूम्रपान छोड़ने के बाद नुकसान को बदलें फायदे में

धूम्रपान छोड़ने के बाद होने वाली समस्याएं, धूम्रपान के नुकसान, धूम्रपान छोड़ने के बाद फायदे, धूम्रपान छोड़ने के बाद टिप्स, Quit Smoking ,Quit Smoking tips

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
धूम्रपान छोड़ना, स्वस्थ जीवन अगस्त 7, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

निकोटिन रिप्लेसमेंट थेरिपी (NRT) की मदद से धूम्रपान छोड़ना होगा आसान, जानें इसके बारे में

क्या आप भी स्मोकिंग छोड़ना चाहते हैं? तो निकोटिन रिप्लेसमेंट थेरेपी आपके लिए फायदेमंद हो सकती है, निकोटिन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है, NRT के फॉर्म्स, NRT के साइड इफेक्ट्स....Nicotine replacement therapy in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
धूम्रपान छोड़ना, स्वस्थ जीवन जून 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

डायबिटीज और स्मोकिंग/Diabetes and smoking

डायबिटीज और स्मोकिंग: जानें धूम्रपान छोड़ने के टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
धूम्रपान छोड़ने में मदद करते हैं यह विकल्प

धूम्रपान छोड़ने में मदद करते हैं यह विकल्प, जानें कैसे बदलें इस आदत को

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
स्मोकिंग का स्किन पर इफेक्ट

स्मोकिंग स्किन को कैसे करता है इफेक्ट?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 19, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
लौंग सिगरेट क्या है

लौंग सिगरेट कैसे हैं सेहत के लिए हानिकारक? जानिए इससे संबंधित तथ्यों के बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें