home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

मिसकैरिज के बाद फूड: इन चीजों को करें अवॉयड

मिसकैरिज के बाद फूड: इन चीजों को करें अवॉयड

मिसकैरिज के बाद फूड का चुनाव सोच- समझकर किया जाना चाहिए। महिला को ये जानकारी होना जरूरी है कि कौन सा फूड खाना चाहिए और किसे अवॉयड करना चाहिए। मिसकैरिज के बाद डॉक्टर एंटीबॉयोटिक्स देते हैं। ब्लीडिंग होने के बाद महिलाओं का शरीर भी कमजोर हो जाता है। शरीर की मजबूती के लिए आपको ऐसे समय में पौष्टिक आहार की जरूरत होती है। मिसकैरिज के बाद फूड को लेकर सजग होना जरूरी है। हैवी फूड से दूरी बनाना हेल्थ के लिए अच्छा रहेगा। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि मिसकैरिज के बाद फूड खाने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

15 % प्रेग्नेंसी में पहली तिमाही के दौरान मिसकैरिज होता है। मेरीलैंड मेडिकल सेंटर के अनुसार अनुवांशिक गड़बड़ी के कारण होने वाले बच्चे की मौत मां को भावनात्मक रूप से कमजोर कर देती है। ब्लीडिंग और फिजिकल पेन की वजह से मां को बेचैनी महसूस हो सकती है। इस दौरान महिलाओं को पौष्टिक आहार खाना बहुत जरूरी है। मिसकैरिज के बाद फूड अगर पौष्टिक हो तो रिकवरी जल्दी होती है। अगर मिसकैरिज के बाद सही फूड नहीं लिया जाए तो महिलाओं को समस्याएं भी हो सकती हैं। पहले जानते हैं कि मिसकैरिज के बाद किन फूड्स को अवॉयड करना चाहिए।

और पढ़ें – क्या स्मोकिंग स्टिलबर्थ का कारण बन सकती है?

जंक फूड और फास्ट फूड

जंक फूड जैसे फ्राइड चिप्स, बर्गर, कचौरी, समोसा, पिज्जा आदि में अधिक मात्रा में ट्रांस फैट पाया जाता है। मिसकैरिज के बाद ट्रांस फूड खाने से शरीर में इंफ्लामेशन हो सकता है। अगर इन्हें अधिक मात्रा में लिया जाए तो मोटापे के साथ ही हार्ट की समस्या भी हो सकती है। अधिक जंक फूड का सेवन महिलाओं में डिप्रेशन को बढ़ाने का काम करता है। अगर प्रेग्नेंसी के दौरान आपने जंक और फास्ट फूड से तौबा कर ली थी तो कुछ समय और इससे दूरी बनाकर रखें। वैसे तो ये चीजें हमेशा ही नुकसान पहुंचाती हैं लेकिन मिसकैरिज के बाद इनसे दूरी बनाना ही सही होगा।

लो फाइबर और हाई कार्बोहाइड्रेड से बचें

प्रोसेस्ड फूड में सिंपल रिफाइंड कार्बोहाइड्रेड मौजूद रहते हैं। साथ ही इनमें अधिक मात्रा में कार्ब और कम मात्रा में फाइबर मौजूद रहता है। मिसकैरिज के बाद इंसटेंट नूडल्स, व्हाइट राइस, इंडियन स्नैक्स, ब्रेड में नान आदि को इग्नोर करना चाहिए। मैदे की जगह गेहूं की चपाती खानी चाहिए। कार्बोहाइड्रेड रिच फूड से बॉडी को मेन फ्यूल मिलता है। फाइबर रिच सोर्स फूड ब्लड शुगर कंट्रोल को प्रमोट करने का काम करते हैं। साथ ही मोशन को क्लियर करने में मदद करते हैं। इसमें गाजर, स्वीट पटेटो आदि शामिल हैं। ऐसे फूड्स से सिर दर्द, बेचैनी की समस्या कम होती है।

और पढ़ें – मरेना (Mirena) हटाने के बाद प्रेग्नेंट हुआ जा सकता है?

मिसकैरिज के बाद फूड में स्वीट को करें अवॉयड

मिसकैरिज के बाद महिलाएं बहुत भावुक हो जाती हैं। ऐसे में उन्हें ज्यादा खाना अच्छा लग सकता है। स्वीट खाने के लिए उनकी इच्छा तीव्र हो सकती है। ज्यादा मात्रा में स्वीट खाने से मोटापे में वृद्दि होती है। शुगर फूड्स में हाई ग्लाइसेमिक इम्पेक्ट हो सकता है। अगर आपको मीठा खाने का मन है तो शुगर के बजाय अंजीर, मीठे फल, बैक्ड एप्पल को ऑप्शन के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा आप गुड़ से बनी मिठाईयां भी खा सकती हैं। इससे मीठा खाने की इच्छा भी शांत हो जाएगी।

और पढ़ें – इन सेक्स पुजिशन से कर सकते है प्रेंग्नेंसी को अवॉयड

हाई फैट कंटेंट डेयरी और मीट प्रोडक्ट्स को ना

डेयरी और मीट में मौजूद फैट मिसकैरिज के बाद शरीर में इंफ्लामेशन पैदा कर सकता है। इस कारण आपको पेट में दर्द भी महसूस हो सकता है। कुछ फूड जैसे फुल फैट मिल्क, बटर, फैटी पनीर या चीज, बीफ और पोर्क आदि को इग्नोर करना चाहिए। अगर आपको मिसकैरिज के बाद फूड से रिलेटेड कोई भी परेशानी हो रही है तो अपने डॉक्टर से इस बारे में जरूर पूछें।

मिसकैरिज के बाद फूड ही आपकी अच्छी हेल्थ के लिए जिम्मेदार होता है। आपकी सेहत के लिए क्या अच्छा है और क्या नहीं, इस बारे में अपने डॉक्टर से संपर्क करें। डॉक्टर आपकी स्थिति के अनुसार आपको सही डायट के बारे में परामर्श देगा।

गर्भपात के बाद निम्नलिखित खाद्य पदार्थों का नियमित रूप से सेवन करना चाहिए। इनमें शामिल हैं।

आयरन रिच फूड

मिसकैरिज की वजह से महिला को अत्यधिक ब्लीडिंग होती है। जरूरत से ज्यादा ब्लीडिंग से शरीर में आयरन की कमी हो सकती है और महिला एनीमिया की शिकार हो सकती हैं। इसलिए गर्भपात के बाद आयरन से भरपूर आहार का सेवन करें। रोजाना हरी सब्जी जैसे ब्रोकली, पालक, बीन्स, ब्राउन राइस और दाल खाएं। ये आयरन का अच्छा सोर्स हैं।

पसंदीदा फूड

मिसकैरिज के बाद होने वाले हैवी ब्लीडिंग से भी ज्यादा तकलीफ महिलाएं तनाव के कारण महसूस करती हैं। इसलिए इस दौरान ऐसे खाद्य पदार्थ जो आपको पसंद हो, लेकिन नुकसान न पहुंचाएं उनका सेवन करें। आप इस दौरान कम मात्रा में चॉकलेट और नट्स का सेवन कर सकती हैं। ध्यान रखें अधिक मात्रा में चॉकलेट खाना नुकसानदायक हो सकता है। खुद को तनाव, चिंता और डिप्रेशन से बचा कर रखें। क्योंकि अगर आप हेल्दी होंगी तो नेक्स्ट प्रेग्नेंसी जल्द प्लान कर पाएंगी।

और पढ़ें – प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के अलावा इन बातों का भी रखें ध्यान

कैल्शियम से भरपूर आहार

गर्भावस्था के दौरान शरीर में कैल्शियम की मात्रा तेजी से कम होती है। इसलिए मिसकैरिज के बाद कैल्शियम युक्त आहार जैसे ड्राई फ्रूट्स, डेयरी प्रोडक्ट, दूध, सी-फूड और सोया जैसे खाने-पीने की चीजें जरूर अपने आहार में शामिल करें। ये चीजें कैल्शियम की पूर्ति करने के साथ ही मसल्स को स्ट्रॉन्ग बनाएंगी और बॉडी को स्ट्रेंथ फील होगी।

प्रेग्नेंसी लॉस किसी भी कपल के लिए सदमे से कम नहीं है, लेकिन ऐसा नहीं है कि इससे निकला नहीं जा सकता। जब आप दोनों हेल्दी और खुश रहेंगे तो फिर से बेबी प्लानिंग की जा सकती है। इसलिए इस दौरान एक-दूसरे का साथ दें, एक-दूसरे का ध्यान रखें और वक्त दें। वैसे मिसकैरिज से बचने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखें। इनमें शामिल हैं।

मिसकैरिज के बाद आहार कैसा होना चाहिए? किन चीजों को खाना चाहिए और किन को अवॉयड करना चाहिए इस बारे में डॉक्टर से बात करना सही होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Miscarriage/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4597787/Accessed on 29/07/2020

Your health after a miscarriage/https://www.health.harvard.edu/a_to_z/miscarriage-a-to-zAccessed on 29/07/2020

Miscarriage/https://www.pregnancybirthbaby.org.au/your-health-after-a-miscarriageAccessed on 29/07/2020

Prepregnancy Nutrition and Early Pregnancy Outcomes/https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/miscarriageAccessed on 29/07/2020

लेखक की तस्वीर
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित
अपडेटेड 24/12/2019
x