Exhaled Nitric Oxide Test : एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 13, 2020
Share now

परिभाषा

एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड (Exhaled Nitric Oxide) टेस्ट क्या है?

एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट अस्थमा के निदान और उपचार में मदद करता है। यह सांस से निकलने वाली नाइट्रिक ऑक्साइड की मात्रा को मापता है। नाइट्रिक ऑक्साइड की बढ़ी मात्रा का मतलब है लंग एयरवेस (फफेड़ों के वायुमार्ग) में सूजन। यह टेस्ट यह भी निर्धारित करता है कि अस्थमा के उपचार के दौरान क्या कुछ दवाओं का मरीज पर अच्छा असर हो रहा है।

एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट (Exhaled Nitric Oxide Test) क्यों किया जाता है?

आमतौर पर अस्थमा के निदान के आपकी मेडिकल हिस्ट्री देखी जाती है, शारीरिक परिक्षण और कुछ टेस्ट जैसे पीक फ्लो मीटर और स्पाइरोमिट्री परीक्षण किए जाते हैं यह देखने के लिए कि फेफड़े कितनी अच्छी तरह काम कर रहे हैं। टेस्ट के आधार पर सामान्य अस्थमा के लक्षणों का उपचार किया जाता है। इन टेस्ट को चैलेंज टेस्ट कहते हैं।

इन टेस्ट के बाद भी अस्थमा का निदान अनिश्चित हो सकता है या बेहतरीन उपचार को लेकर सवाल हो सकते हैं, ऐसी स्थिति में एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट मददगार होता है। सूजन से लड़ने और टाइट मसल्स को रिलैक्स करने के लिए नाइट्रिक ऑक्साइड पूरे शरीर में बनता है, जिसमें फेफड़ें भी शामिल है। सांस में नाइट्रिक ऑक्साइड की अधिक मात्रा का मतलब है वायुमार्ग में सूजन जो अस्थमा का एक लक्षण है।

नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट से यह निर्धारित करने में भी मदद मिलती है कि सूजन कम करने वाली स्टेरॉयड दवाएं आपका अस्थमा कम करने में मददगार होंगी या नहीं। यदि आपको पहले से ही अस्थमा का निदान किया गया है और स्टेरॉयड दवाओं से अस्थमा का उपचार हो रहा है, तो अस्थमा कंट्रोल में आया या नहीं यह निर्धारित करने के लिए डॉक्टर एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट कर सकता है।

ज़रूरी नहीं है कि एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट सभी अस्थमा मरीजों के बारे में सही जानकारी प्रदान करें। साथ ही यह सभी अस्पताल और डॉक्टरो के क्लिनिक पर उपलब्ध नहीं होता है।

यह भी पढ़ें – अस्थमा के लिए जिम्मेदार हो सकती हैं ये चीजें

एहतियात/चेतावनी

एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

यह टेस्ट तुरंत हो जाता है और बिल्कुल सुरक्षित है। कुछ लोगों को जब सांस लेने और छोड़ने के लिए कहा जाए तो चक्कर जैसा महसूस हो सकता है। ऐसे में टेक्नीशियन आपको कुछ देर आराम करने के लिए कहेगा और आप चाहें तो दोबारा टेस्ट दे सकते हैं। टेस्ट को लेकर अगर आपके मन में कोई अन्य सवाल है तो आप अपने चिकित्सक से इस बारे में कंसल्ट करें।

यह भी पढ़ें : अस्थमा से राहत पाने के लिए ये घरेलू उपाय हैं कारगर

प्रक्रिया

एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट के लिए कैसे तैयारी करें?

पहले ही इस बात की जांच कर लें कि नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट बीमा कवर के तहत आता है या नहीं। टेस्ट रिजल्ट एकदम सटीक आए, इसके लिए आपको परीक्षण से कम से कम एक घंटे पहले ही कुछ भी खाना या पीना नहीं चाहिए।

साथ ही आपको परीक्षण से 24 घंटे पहले इन चीजों से भी परहेज करना चाहिएः

एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट के दौरान क्या होता है?

इस टेस्ट को करने में 5 मिनट से कम का समय लगता है। यह बिल्कुल अन्य श्वास परीक्षण जैसे पल्मोनरी फंक्शन टेस्ट और स्पायरोमेट्री के समान है।

यह परीक्षण करने के लिए आपको बैठाया जाता है। इसके बाद आपकी नाक पर नोस क्लिप लगा दिए जाएंगे। सांस छोड़ें या बाहर की तरफ निकालें। ऐसका करने से आपके फेफड़े पूरी तरह से खाली हो जाएंगे।

डॉक्टर आपको एक माउथपीस के पास ले जाएगा जो ट्यूब से इलेक्ट्रोनिक मेज़रमेंट डिवाइस से जुड़ी होती है। अब आपको 2-3 सेकेंड तक धीरे-धीरे सांस लेने के लिए कहा जाता है जब तक कि फेंफड़ों में हवा न भर जाए।

धीरे-धीरे लगातार सांस लेते रहे जब तक कि बीप की आवाज या लाइट न जल जाए। फिर डॉक्टर आपको धीरे-धीरे सांस छोड़ने के लिए कहेगा ताकि फेफड़ों से नियमित रूप से हवा निकलती रहे।

डॉक्टर कंम्प्यूटर स्क्रीन पर यह देख सकता है कि कितना सांस ले रहे हैं जिससे नियमित रूप से सांस छोड़ सकें। इस पूरे परीक्षण में 5 मिनट या उससे भी कम समय लगता है। हो सकता है परिणामों की पुष्टि करने के लिए परीक्षण दोहराने की आवश्यकता पड़े।

एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट के बाद क्या होता है?

परीक्षण के बाद किसी तरह की खास देखभाल की जरूरत नहीं होती है। यदि डॉक्टर ने कोई दिशानिर्देश नहीं दिए है तो टेस्ट के बाद आप अपनी सामान्य दिनचर्या शुरू कर सकते हैं।

एक्सेहल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट के बारे में किसी तरह का प्रश्न होने पर और उसे बेहतर तरीके से समझने के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

यह भी पढ़ें- Asthma : अस्थमा क्या है? जानें इसके कारण , लक्षण और इलाज

परिणाम

मेरे परिणामों का क्या मतलब है?

  • सांस छोड़ने में नाइट्रिक ऑक्साइड की सामान्य से अधिक मात्रा का मतलब है वायुमार्ग में सूजन- जो अस्थमा का लक्षण है।
  • बच्चों में 20 पार्ट्स प्रति बिलियन तक और व्यस्कों में 25 पार्ट्स प्रति बिलियन तक के स्तर को सामान्य माना जाता है।
  • बच्चों में 35 पार्टस प्रति बिलियन और वयस्कों में 50 पार्ट्स प्रति बिलियन अस्थमा के कारण में वायुमार्ग का सूजन का संकेत हो सकता है।
  • नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट के परिणाम हर व्यक्ति के अलग-अलग हो सकते हैं। परिणामों की व्याख्या करते समय डॉक्टर कई अन्य कारकों पर विचार करता है, जिसमें शामिल हैंः

सभी लैब और अस्पताल के आधार पर एक्सेहल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट की सामान्य सीमा अलग-अलग हो सकती है। परीक्षण परिणाम से जुड़े किसी भी सवाल के लिए कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी तरह की चिकित्सा सलाह, निदान और उपचार प्रदान नहीं करता है।

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट से जुड़ी ज्यादातर जानकारियां देने की कोशिश की है, जो आपके काफी काम आ सकती हैं। अगर आपको ऊपर बताई गई कोई सी भी शारीरिक समस्या है तो आपका डॉक्टर आपको यह टेस्ट कराने की सलाह दे सकता है। एक्सहेल्ड नाइट्रिक ऑक्साइड टेस्ट से जुड़ी यदि आप अन्य जानकारी चाहते हैं तो आप हमसे कमेंट कर पूछ सकते हैं। आपको हमारा यह लेख कैसा लगा यह भी आप हमें कमेंट सेक्शन में बता सकते हैं।

और पढ़ें :-

Prolactin Test : प्रोलैक्टिन टेस्ट क्या है?

बिना दवा के कुछ इस तरह करें डिप्रेशन का इलाज

चिंता VS डिप्रेशन : इन तरीकों से इसके बीच के अंतर को समझें

Alzheimer : अल्जाइमर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Growth Hormone Test : ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट क्या है?

    जानिए ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Growth-Hormone-Test क्या होता है, ग्रोथ हॉर्मोन टेस्ट के रिजल्ट और परिणामों को समझें |

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha

    Nonstress Test (NST) : नॉन स्ट्रेस टेस्ट क्या है?

    जानिए नॉन स्ट्रेस टेस्ट की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Nonstress Test (NST) क्या होता है, नॉन स्ट्रेस टेस्ट के रिजल्ट और परिणामों को समझें

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Kanchan Singh

    Microalbumin Test : माइक्रोएल्ब्युमिन टेस्ट क्या है?

    जानिए माइक्रोएल्ब्युमिन टेस्ट की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Microalbumin Test क्या होता है, माइक्रोएल्ब्युमिन टेस्ट के रिजल्ट और परिणामों को समझें

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Kanchan Singh

    Gamma-Glutamyl Transpeptidase (GGT) Test : जीजीटी टेस्ट क्या है?

    जानिए क्या है जीजीटी टेस्ट (गामा-ग्लूटामाइल ट्रांसपेप्टिडेज़ टेस्ट)? कब और क्यों आवश्यकता पड़ती है जीजीटी टेस्ट की? GGT measures the amount of the enzyme GGT in blood?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Kanchan Singh