home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Bartholin's cyst: बार्थोलिन सिस्ट क्या है?

परिचय|लक्षण|कारण|किस स्थिति में डॉक्टर से संपर्क करें |परीक्षण |बार्थोलिन सिस्ट को होने से कैसे रोका जाएं|इलाज 
Bartholin's cyst: बार्थोलिन सिस्ट क्या है?

परिचय

बार्थोलिन सिस्ट (Bartholin’s cyst) क्या है?

बार्थोलिन के सिस्ट में बार्थोलिन की ग्रंथियां योनि के द्वार पर हर तरफ मौजूद होती हैं। इन ग्रंथियाें से लिक्विड का स्राव होता है, जिससे योनि में चिकनाई होती है। कभी-कभी इन ग्रंथियों के खुलने की जगह जब बाधित हो जाती हैं, तो उससे निकलने वाला लिक्विड दोबारा ग्रंथि में वापस चला जाता है। इसके कारण सूजन हो जाती है, जिसमें दर्द नहीं होता है, इसे बार्थोलिन का सिस्ट या बार्थोलिन सिस्ट कहते हैं। यदि सिस्ट के अंदर लिक्विड संक्रमित (infected) हो जाता है, तो सूजन वाले हिस्से पर फोड़ा या पस हो जाता है, जिसे बार्थोलिन सिस्ट (Bartholin’s cyst) कहते हैं । वैसे तो बार्थोलिन की सिस्ट या फोड़ा होना आम है लेकिन कभी-कभी यह आपके लिए बड़ी परेशानी भी बन सकती है। बार्थोलिन के सिस्ट का इलाज इसके आकार पर भी निर्भर करता है। जब सिस्ट में दर्द दे रहा हो तो, ये कारक भी इलाज की प्रक्रिया तय करने में मदद करता है। अगर बार्थोलिन के सिस्ट का साइज बढ़ गया है और आपको दर्द हो रहा है तो इसका इलाज कराया जाना बेहद जरूरी है।

लक्षण

बार्थोलिन सिस्ट के लक्षण क्या हैं?

बार्थोलिन के सिस्ट (Bartholin’s cyst) के लक्षण, यदि किसी महिला को छोटी और बिना संक्रमण वाली सिस्ट है तो शायद ये आपका ध्यान न खींचे। यदि सिस्ट बढ़ जाती है तो योनि के द्वार पर गांठ सी महसूस हो सकती है। वैसे तो सिस्ट दर्द रहित होती है क्योंकि Bartholin’s cyst को पूरी तरह से संक्रमित होने में समय लग सकता है। जब यह संक्रमित होती है तब निम्न तरह के लक्षण आपको दिखाई दे सकते हैं, जैसे कि

  • बार्थोलिन सिस्ट होने पर योनि के द्वार पर दर्दनाक गांठ महसूस होती है
  • इसके होने पर चलने या बैठने के दौरान बेचैनी या असहजता का महसूस होना।
  • सिस्ट होने पर शारीरिक संबंध के दौरान दर्द होना।
  • इस सिस्ट के होने पर बुखार को आपको बना रह सकता है।

और पढ़ें- प्रेग्नेंसी में पाइल्स: 8 आसान टिप्स से मिलेगी राहत

कारण

बार्थोलिन सिस्ट होने के कारण

बार्थोलिन के सिस्ट होने का कारण बर्थोलिन ग्लैंड का सिक्रीशन भी है, जब लिक्विड पदार्थ जमा हो जाता है तब जब ग्रंथि का द्वार बंद हो जाता है, जिससे लिक्विड नहीं निकल पाता है। ऐसा संक्रमण या चोट के कारण हो सकता है। यह सिस्ट संक्रमित होती है, जिससे फोड़ा हो सकता है। कई बार बैक्टीरिया भी इस संक्रमण का कारण होते है। यौन संचारित संक्रमणों जैसे गोनोरिया और क्लैमाइडिया के कारण भी बार्थोलिन सिस्ट हो जाता है।

किस स्थिति में डॉक्टर से संपर्क करें 

बार्थोलिन सिस्ट होने पर किस स्थिति में डॉक्टर से संपर्क करें

बार्थोलिन के सिस्ट होने पर शुरूआत में तो आपको कोई तकलीफ नही होगी लेकिन कई बार यह आपके लिए परेशानी की वजह बन सकती है ऐसे में किस स्थिति में डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है-

  • यदि यौनी पर दर्द के साथ गांठ आपको महसूस हो रही है तो।
  • यदि घर में ही गर्म पानी में प्रभावित हिस्से सिकाई करने के बाद भी तकलीफ न जाएं और दर्द गंभीर है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।
  • सिस्ट होने पर यदि आपकी उम्र 40 वर्ष से अधिक है, और योनि के द्वार पर गांठ हो तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं, ये कैंसर जैसी गंभीर बीमारी का संकेत भी हो सकता है।

और पढ़ें- Fibroadenoma: फाइब्रोएडीनोमा क्या है?

परीक्षण 

बार्थोलिन सिस्ट का परीक्षण

बार्थोलिन के सिस्ट का परीक्षण फिजिकल एग्जामिनेशन के जरिए किया जाता है। यौन संचारित रोगों के लिए होने वाले टेस्ट ही बार्थोलिन की सिस्ट होने की संभावना हाेने पर किए जाते है। जांच के लिए सीडीसी स्क्रीनिंग, ब्लड टेस्ट, यूरिन टेस्ट किये जा सकते हैं ताकि सिस्ट की जांच की जा सकें।

और पढ़ें- गर्भपात के बाद प्रेग्नेंसी में किन बातों का रखना चाहिए ख्याल?

बार्थोलिन सिस्ट को होने से कैसे रोका जाएं

बार्थोलिन सिस्ट को होने से कैसे रोका जाएं

अगर आप चाहती है कि आपको सिस्ट की समस्या नही हो तो इसके लिए आप इन तरीकों को अपना सकती है। वैसे तो सिस्ट को रोकने का कोई विशेष तरीका नहीं है। शारीरिक संबंध के समय कंडोम और यौन अंगों की साफ सफाई रखने से सिस्ट की समस्या होने से रोका जा सकता है। नियमित व्यायाम और संतुलित आहार का सेवन भी बार्थोलिन सिस्ट के खतरे को कम करते है।

और पढ़ें- किन परिस्थितियों में तुरंत की जाती है सिजेरियन डिलिवरी?

इलाज 

बार्थोलिन सिस्ट का इलाज

ज्यादातर बार्थोलिन सिस्ट होने पर इलाज की जरूरत नहीं होती, विशेष तौर पर जब सिस्ट का किसी तरह का लक्षण नहीं दिखाई देता। जब जरूरत पड़ती है तब सिस्ट के आकार के अनुसार इलाज किया जाता है, इलाज इस पर भी निर्भर करता है कि सिस्ट संक्रमित तो नहीं है।

डॉक्टर द्वारा सिस्ट होने पर इलाज के लिए निम्न विकल्प दिए जाते है

1.सिट्ज बाथ से बार्थोलिन सिस्ट का इलाज

सिट्ज बाथ से Bartholin’s cyst का इलाज करते समय पीड़ित को तीन या चार दिनों के लिए दिन में कई बार कुछ इंच गर्म पानी (सिट्ज बाथ) से भरे टब में प्रभावित हिस्से को डुबाने के लिए कहा जाता है, जिससे सिस्ट धीरे-धीरे गलने लगती और खत्म हो जाती है।

2.सर्जिकल ड्रेनेज से बार्थोलिन सिस्ट का इलाज

सर्जिकल ड्रेनेज की प्रक्रिया सिस्ट के संक्रमित हाेने पर या बड़ी सिस्ट को निकालने के लिए अपनाया जाता है। बेहोश करके सिस्ट को सर्जरी के माध्यम से निकाल दिया जाता है। इस प्रक्रिया के लिए डॉक्टर सिस्ट में छोटा सा चीरा लगाते हैं। जिससे सिस्ट निकालने में आसानी हो जाती है। इसके लिए कैथेटर जैसी छोटी रबर ट्यूब लगायी जाती है, जिसे छह हफ्ते तक सिस्ट की जगह रखा जाता है।

और पढ़ेंप्रेग्नेंसी में नुकसान से बचने के 9 टिप्स

3.एंटीबायोटिक्स से बार्थोलिन सिस्ट का इलाज

एंटीबायोटिक्स से Bartholin’s cyst का इलाज करते समय यदि सिस्ट संक्रमित है और जांच करने में यौन संचारित संक्रमण की जानकारी मिलती है, तब डॉक्टर एंटीबायोटिक लेने की सलाह दे सकते हैं। यदि फोड़ा ठीक से सूखा हुआ है तो एंटीबायोटिक दवाओं की जरूरत नहीं पड़ती है।

4.मार्सुपायलाइजेशन (Marsupialization) से बार्थोलिन सिस्ट

मार्सुपायलाइजेशन (Marsupialization) से बार्थोलिन के सिस्ट का इलाज करते समय यदि सिस्ट परेशान कर रहा है तो डॉक्टर मार्सुपायलाइजेशन marsupialization सर्जरी प्रक्रिया से इलाज करते है। इसमें लगभग 6-मिलीमीटर लंबा चीरा लगाया जाता है, ताकि लिक्विड निकाल दिया जाए। इसके बाद प्रभावित हिस्से को साफ करने के बाद डॉक्टर वहां टांके लगा देते हैं।

और पढ़ें- क्यों आती है योनि से बदबू? जानिए इसके घरेलू उपचार

बार्थोलिन के सिस्ट होने के अलग-अलग कारण हो सकते है, अगर सावधानियां रखी जाएं और शारीरिक संबंध बनाते समय और बाद में स्वच्छता का ख्याल रखा जाए तो सिस्ट से बचा जा सकता है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

संबंधित लेख:

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
sudhir Ginnore द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 22/09/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x