जानिए किस तरह पड़ता है टैटू का हेल्थ पर असर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट दिसम्बर 31, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

आजकल लोगों के बीच टैटू बनाने का ट्रेंड बहुत सामान्य हो गया है। हर कोई टैटू बनवाना चाहता है। टैटू का हेल्थ पर असर किस तरह पड़ता है, इस बारे में जानने के बाद ही टैटू बनवाने का फैसला करें।

सवाल

मेरी बेटी को टैटू बनाना है, क्या टैटू का हेल्थ पर असर होता है?

जवाब

 टैटू कराने का बहुत से लोगों का शौक होता है। हम में से बहुत सारे लोगों को यह ही नहीं मालूम होता कि टैटू का हेल्थ पर असर पड़ता है। जिस वजह से बहुत सारे लोगों को टैटू बनवाने के बाद पछतावा होने लगता है। इसलिए अगर आप टैटू बनवाने वाले हैं तो सबसे पहले इस पर अपना पूरा होमवर्क करें।

और पढ़ेंः बार्बी डॉल के नए फीचर में दिखी विटिलिगो बीमारी, विविधता और समानता दिखाना उद्देश्य

टैटू एक बॉडी आर्ट है जिसमें सुई से स्किन के डर्मिस लेयर में इंक को डाला जाता है। कोई ब्लैक टैटू पसंद करता है तो कोई अलग अलग रंगो का। अगर आप टैटू करना चाहते हैं तो उससे होने वाले रिस्क के बारे में सोचना जरूरी होता है। इससे आप को एलर्जिक रिएक्शन हो सकता है जो कभी-कभी तुरंत नजर आते हैं तो कभी कुछ दिन या सालों बाद नजर आते हैं।

टैटू बनाने में स्किन से खून (ब्लड) आता है जिसकी वजह से स्किन इन्फेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है या गाठ (नोड्यूल्स) बन जाते है। अगर टैटू आर्टिस्ट आपके लिए एक ही सुई का इस्तेमाल करता है जो पहले इस्तेमाल हो चुकी है तो ब्लड इंफेक्शन होता है जैसे हेपेटाइटिस बी,सी और एचआईवी। आपको स्कीन में जलन भी हो सकती है। अगर आप फिर भी टैटू बनाना ही चाहते हो तो कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है जैसे किसी लाइसेंस्ड आर्टिस्ट से ही टैटू बनवाएं। जब भी आप टैटू बनवाना शुरु करे आपको स्किन डिसइंफेक्टेंट इस्तेमाल करना चाहिए। ये जरूर देखें कि आर्टिस्ट पुरानी सुई या रेजर का इस्तेमाल न करे।  नए पैक्ड नीडल और रेजर का ही इस्तेमाल होना चाहिए। आप जिस भी एरिया पर टैटू बनवा रहें है उसको साफ करना जरुरी है। जब आपका टैटू बन जाता है तो उसे स्टेराइल गॉज और बैंडेज से कवर करें। इन सभी बातों को ध्यान में रखकर आपको टैटू बनाना चाहिए।

और पढ़ेंः शॉग्रेंस सिंड्रोम क्या है और इससे कैसे बच सकते हैं?

किन बातों का ध्यान रखें

टैटू बनवाने से पहले निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें:

  • टैटू बनवाने का प्लान कर रहे हैं तो सबसे पहले डर्मेटॉलजिस्ट (त्वचा विशेषज्ञ) से सलाह लें। विशेषज्ञ से इस बारे में जानें कि टैटू का हेल्थ पर असर पड़ता है या नहीं।
  • टैटू को बनवाने से पहले स्किन टेस्ट करवाएं।
  • कहीं भी किसी से भी टैटू न बनवाएं। बेहतर होगा कि आप टैटू एक्सपर्ट के पास जाएं।
  • टैटू बनवाने से पहले एक बार अच्छे से विचार करें। क्योंकि एक बार टैटू बनवाने के बाद उसे मिटाना मुश्किल होता है।
  • टैटू को हटाने के लिए लेजर तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन ये अत्यधिक मंहगा होता है।
  • टैटू स्टूडियो जाकर वहां कि साफ-सफाई पर भी जरूर ध्यान दें। ऐसी किसी भी जगह पर बनवाए गए टैटू का हेल्थ पर असर पड़ता है।
  • अगर आपको कोई बीमारी हैं तो इसकी जानकारी डॉक्टर को जरूर दें और उससे इसे लेकर कंसल्ट कर लें।
  • ब्लड डोनेट करने वालें हैं तो भी डॉक्टर से एक बार इस बारे में बात करें। क्योंकि टैटू बनवाने के बाद तकरीबन 2 से 3 महीने तक ब्लड डोनेट नहीं करना होता है।
  • जिस जगह पर टैटू बनवाएं स्किन के उस एरिया का ध्यान रखें और वक्त-वक्त पर एंटी-बायोटिक क्रीम लगाएं।
  • टैटू बनवाने के बाद कुछ दिनों तक स्विमिंग करने के लिए मना किया जाता है। इससे इंफेक्शन का खतरा बना रहता है। इस तरह भी टैटू का हेल्थ पर असर पड़ता है।
  • एक बात का ध्यान आपको सबसे ज्यादा रखना है वो यह कि जिस सिरिन्ज से टैटू बनाया जाएगा वो स्टरलाइज किया हुआ होना चाहिए।
  • इस बात पर भी ध्यान दें जो टैटू बनाने वाला है क्या उसने पहले हैंड वॉश किए या नहीं। यही नहीं टैटू बनाने से पहले टैटू बनाने वाले को डिस्पोसेबल गलव्स पहनने चाहिए। टैटू का हेल्थ पर असर पड़ने के लिए छोटी-छोटी बातों का भी विशेष ख्याल रखने की जरूरत है।
  • टैटू बनाने के लिए जिस इंक का इस्तेमाल होने वाला है वो डॉक्टर्स द्वारा पहले से टेस्टेड हो। एक बार इंक की एक्सपायरी डेट की जरूर जांच लें। खराब या एक्सपार्ड इंक का उपयोग करने से इंफेक्शन, एलर्जी या कई और परेशानियां हो सकती हैं।
  • टैटू बनवाने से पहले एल्कोहॉल का सेवन न करें। इससे खून पतला होता है जिससे टैटू बनवाते समय ज्यादा ब्लड निकलने के चांसेज होते हैं।

टैटू का हेल्थ पर असर न पड़े इसलिए उपरोक्त बताई सभी बातों का जरूर ध्यान रखें। अगर आपको किसी बात को लेकर किसी तरह का कोई कंफ्यूजन है तो आप किसी स्किन विशेषज्ञ से इस बारे में कंसल्ट कर सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ेंः एन्काइलॉसिंग स्पॉन्डिलाइटिस क्या है? जानें इसके बारे में सबकुछ

टैटू बनवाने के बाद किन बातों का ध्यान रखें:

टैटू का हेल्थ पर असर पड़ता है। इसके बारे में तो आप पूरी जानकारी जुटा चुके हैं। लेकिन फिर भी आप टैटू बनवा रहे हैं तो इसे  बनवाने के बाद निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें:

  • टैटू का हेल्थ पर असर न पड़े। इससे बचने के लिए टैटू वाली जगह पर साबुन, परफ्यूम, क्रीम, मॉइस्चराइजर या किसी तरह का सनस्क्रीन का प्रयोग न करें।
  • अगर आप धूप में बाहर जा रहे हैं तो एक कपड़े से उसे कवर कर लें।
  • आप टैटू वाले हिस्से पर नारियल तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • टैटू बनवाने के बाद उस जगह पर आपको थोड़ी खुजली महसूस हो सकती है लेकिन ऐसा करने से बचें। खुजली करने से इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। इसके साथ ही यह आपके डिजाइन को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • टैटू बनवाने के दो हफ्तों तक ऐसे कपड़े पहनें जो शरीर से चिपकते न हो। कोशिश करें ढ़ीले कपड़ों को पहनें।
  • टैटू बनवाने के बाद स्विमिंग करने न जाएं। इससे पूल कै कैमिकल युक्त पानी आपको हानि पहुंचा सकता है।
  • त्वचा की नमी बरकरार रखने के लिए खूब पानी पिएं।

टैटे बनवाने के साइड इफेक्ट्स (इस तरह टैटू का हेल्थ पर असर पड़ता है)

स्किन इंफेक्शन (Skin Infection):
टैटू एक आर्ट है। कई बार इसे बनवाते समय चोट भी लग जाती है। टैटू बनवाते समय और बनवाने के बाद इसे इंफेक्शन से बचाने के लिए आपको बहुत केयर करने की जरूरत होती है।

एलर्जिक रिएक्शन (Allergic Reaction):
कुछ लोगों में टैटू बनवाने के बाद एलर्जिक रिएक्शन हो जाते हैं। ऐसा इंक के कारण होता है खासतौर पर अगर इंक में प्लास्टिक है। कई रिपोर्ट्स के मुताबिक, लाल, पीला, नीला और हरे पिगमेंट से एलर्जिक रिएक्शन होने की संभावना रहती है।

और पढ़ेंः क्या कंधे में रहती है जकड़न? कहीं आप पॉलिमायाल्जिया रूमैटिका के शिकार तो नहीं

केलॉइड स्केरिंग (keloid scarring):
टैटू कराने से कई बार स्कार(scar) पड़ने की संभावना रहती है। खासतौर पर यह तब होता है जब टैटू पूरी तरह ठीक न हुआ हो या फिर किसी तरह का इंफेक्शन या संक्रमण हुआ हो। ये केलॉइड स्कार भी बन सकते हैं। ये पुराने धक्कों से मिलकर बनता है जिसमें पुराने स्कार टिश्यू होते हैं।

ब्लड बॉर्न डिसीज (Blood Born Disease):
अगर आपके टैटू को बनाने के लिए इस्तेमाल किया गया उपकरण संक्रमित खून से दूषित है तो आप अलग-अलग ब्लड बॉर्न डिसीज के शिकार हो सकते हैं। इसमें हेपेटाइटिस बी, हेपेटाइटिस सी और एडस शामिल हैं। इस तरह टैटू का हेल्थ पर असर पड़ सकता है।

यदि आपको लगता है कि आपका टैटू संक्रमित हो सकता है या आप चिंतित हैं कि आपका टैटू ठीक नहीं हो रहा है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। हम आशा करते हैं आपको हमारा ये लेख पसंद आया होगा। यदि आप टैटू का हेल्थ पर असर पड़ने से जुड़ी अन्य जानकारी चाहते हैं तो आप हमें कमेंट कर पूछ सकते हैं। अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया तो भी हमें कमेंट कर जरूर बताएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

हेपेटाइटिस क्या है, कैसे करें इससे बचाव, जानें एक्सपर्ट के साथ

हेपेटाइटिस क्या है, हेपेटाइटिस से बचाव कैसे करें और हेपेटाइटिस ए, हेपेटाइटिस बी, हेपेटाइटिस सी, हेपेटाइटिस डी, हेपेटाइटिस ई क्या है? हेपेटाइटिस के बारे में वीडियो देखें...

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
वीडियो जुलाई 24, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

Betadine Cream: बीटाडीन क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

बीटाडीन क्रीम की जानकारी in hindi. डोज, उपयोग, साइड इफेक्ट्स के साथ सावधानियां और चेतावनी, रिएक्शन, स्टोरेज आदि जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

सबका ध्यान कोरोना पर ऐसे में कोहराम न मचा दें बरसात में होने वाली बीमारियां

बरसात में होने वाली बीमारियां कौन-कौन सी हैं? टाइफाइड, हैजा (Cholera), कोल्ड और फ्लू, चिकनगुनिया, डेंगू बरसात में होने वाली बीमारियां हैं जो कभी-कभी जानलेवा साबित होती हैं। सीजनल बिमारियों से कैसे बचें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

T-Bact Cream : टी-बैक्ट क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए टी-बैक्ट क्रीम की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, T-bact cream डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

Recommended for you

ड्रॉक्सिल 500 टैबलेट

Droxyl 500 Tablet : ड्रॉक्सिल 500 टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
डर्मिकेम ओसी क्रीम

Dermikem OC Cream : डर्मिकेम ओसी क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
क्लोबेन जी क्रीम

Cloben G Cream : क्लोबेन जी क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 10, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
सोफ्रामाइसिन स्किन क्रीम-Soframycin Skin Cream

Soframycin Skin Cream : सोफ्रामाइसिन स्किन क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जुलाई 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें