सावधान ! कोरोना वायरस महामारी बना, जानें इसके बारे में शुरू से लेकर अबतक सब कुछ

Medically reviewed by | By

Update Date जून 3, 2020 . 13 mins read
Share now

कोरोना वायरस महामारी के कारण दुनिया कुछ पल के लिए थम-सी गई है। बच्चा हो या फिर बूढ़ा, सभी उम्र के लोगों की जुबान में बस एक ही नाम है ‘कोरोना वायरस’। साल 2019 में चीन ने 31 दिसंबर को WHO को कोरोना वायरस ( Corona virus) के बारे में सूचना दी थी। 26 दिसंबर को चीन के हुबई प्रांत की राजधानी वुहान में एचआईसीडब्लूएम हॉस्पीटल के डॉक्टर जिंग्सियांग झांग जरूरी जानकारी दी थी। उन्होंने बताया था कि उनके यहां करीब चार लोगों में निमोनिया जैसे लक्षण देखने को मिले हैं। इसके बाद चीन सरकार ने डब्लूएचओ को इस बारे में जानकारी दी थी।शुरुआत में कोरोना वायरस को (2019-nCoV) नाम दिया गया था। अब तक कोरोना वायरस महामारी 113 से ज्यादा देशों में फैल चुका है, वहीं सोमवार तक इस वायरस से मरने वालों की संख्या 4,613 से ज्यादा हो चुकी थी। साेमवार की कोरोना वायरस लाइव अपडेट के मुताबिक कोरोना वायरस महामारी से अब तक दुनिया में 1,27,070 संक्रमित मरीज सामने आ चुके हैं। कोरोना वायर से पहले भी कई वैश्विक महामारी करोड़ों लोगों की जान ले चुकी हैं।

कोरोना वायरस महामारी की शुरुआत से लेकर अबतक

भारत में कोरोना वायरस (COVID-19) से कर्नाटक के एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है। भारत में अब तक कोरोना वायरस महामारी से पीड़ित लोगों की संख्या 81 हो चुकी है। कोरोना वायरस महामारी के कारण न केवल लोग मर रहे हैं बल्कि कोरोना वायरस महामारी की वजह से शेयर बाजारों में बवंडर मचा हुआ है। अमेरिका से लेकर भारत तक शेयर बाजारों में कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ है। दिल्ली में स्कूल-कॉलेज के साथ ही सिनेमा हॉल को भी कुछ समय के लिए बंद कर दिया गया है। कोरोना वायरस (COVID-19) भले ही चीन के वुहान शहर से फैलना शुरू हुआ था, लेकिन अब कोरोना वायरस महामारी के कारण इटली, अमेरिका, जर्मनी के साथ ही अन्य देश के लोग भी मर रहे हैं। चीन के सरकारी अधिकारी ने अमेरिकी सेना को वुहान शहर में कोरोना वायरस महामारी फैलाने का जिम्मेदार बताया है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने कोरोना वायरस को ‘महामारी’ घोषित कर दिया है। अगर आपको कोरोना वायरस महामारी के बारे में जानकारी नहीं है तो इसके बारे में इस आर्टिकल के माध्यम से सबकुछ जानिए।

यह भी पढ़ें: क्या हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, क्या कहता है WHO

कोरोना वायरस महामारी (corona virus) आखिर है क्या ?

नोवल कोरोना वायरस को सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (Severe Acute Respiratory Syndrome; SARS) के प्रकार का बताया जा रहा है। कोरोना वायरस कोविड-19 कॉमन ह्युमन कोरोना वायरस प्रकार का है। कोविड-19 का संक्रमण होने पर व्यक्ति के अपर रेस्पिरेट्री ट्रेक्ट इलनेस की समस्या हो जाती है। ये समस्या धीमे-धीमे शुरू होकर बढ़ने लगती है। कुछ लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण नजर नहीं आते हैं। हो सकता है कि कई दिनों तक इस बात का पता ही न चल पाए कि व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुका है। कोरोना वायरस का संक्रमण हो जाने पर ये जल्द ठीक होगा या फिर समय लेगा, ये कहा नहीं जा सकता है। अगर सही हो भी गया तो कुछ महीनों बाद फिर से समस्या हो जाती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमारे शरीर में कोरोना एंटीबॉडी लंबे समय तक नहीं रह पाते हैं। कोरोना वायरस के आए दिन नए लक्षण सामने आ रहे हैं।

कोरोना वायरस महामारी के लक्षण  (corona virus symptoms)

कोरोना वायरस के कारण लोअर रेस्पिरेट्री ट्रेक्ट इलनेस के लक्षण भी दिख सकते हैं। कोरोना वायरस महामारी के कारण निमोनिया (pneumonia) या ब्रोंकाइटिस ( bronchitis) की समस्या हो सकती है। जिन व्यक्तियों को कार्डियोपल्मोनरी रोग ( cardiopulmonary disease) , सांस संबंधि समस्या, डायबिटीज या कमजोर इम्युन सिस्टम है, उन वयस्कों, बूढ़ों और बच्चों में ये वायरस आसानी से प्रवेश कर जाता है। वायरस इंफेक्शन के लक्षण सर्दी-जुखाम का एहसास दिला सकते हैं। कोल्ड के लक्षण कई दिनों तक रहते हैं और मेडिसिन लेने पर भी तबियत सही नहीं होती है। कोरोना वायरस महामारी संक्रमित व्यक्ति से स्वस्थ्य व्यक्ति में फैलती है। कोरोना वायरस के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

जानिए क्या होते हैं कोरोना वायरस महामारी के लक्षण।

  • रनिंग नोज
  • सिरदर्द की समस्या
  • खांसी की समस्या
  • गले में खराश महसूस होना (sore throat)
  • बुखार आना
  • बीमार होने का एहसास

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस (Coronavirus) से जुड़ चुके हैं कई मिथ, न खाएं इनसे धोखा

कोरोना वायरस महामारी(corona virus) से आखिर कैसे करें बचाव

कोरोना वायरस महामारी (COVID-19) से बचने के लिए कई देश वैक्सीन बनाने में जुटे हैं। डब्लूएचओ की ओर से जानकारी दी गई है कि कोरोना वायरस (COVID-19) की वैक्सीन बनने में एक साल से ज्यादा का समय लग सकता है। फिलहाल कोरोना वायरस महामारी के संक्रमण से बचने के लिए हाइजीन ही बेहतरीन उपाय है। मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ की ओर से समय-समय पर कोरोना वायरस महामारी के बारे में एडवाइजरी जारी की जा रही है। साथ ही लोगों को भी जानकारी दी जा रही है कि घर के बाहर निकलते समय मुंह को रुमाल या टिशू पेपर से जरूर ढकें। छींकते या खांसते समय मुंह में हाथ भी लगा सकते हैं। बेहतर रहेगा कि कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए मास्क का प्रयोग करें।

कुछ बातों का ध्यान रखकर कोरोना वायरस महामारी से बचा जा सकता है। कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिए पब्लिक प्लेस में जाना अवॉइड करना चाहिए और साथ ही घर के अंदर और बाहर पूरी तरह से हाइजीन का ख्याल रखना चाहिए। कोरोना वायरस का इंफेक्श मुख्य रूप से इंफेक्टेड व्यक्ति से फैलता है।

कोरोना वायरस कैसे फैलता है ?

  • संक्रमित इंसान के मुंह को बिना ढके खांसने या छींकने से हवा में वायरस पहुंच जाता है।
  • संक्रमित इंसान  से हाथ मिलाने पर भी वायरस आसानी से फैल जाता है। संक्रमित इंसान तेजी से वायरस को फैला सकता है।
  • संक्रमित जगह को छूने से भी वायरस फैल सकता है। यानी नाक, आंख या मुंह के जरिए कोरोना वायरस आसानी से फैलता है।
  • जानवरों या फिर मल से कोरोना वायरस फैलता है या फिर नहीं, इस बारे में जांच जारी है।

कोरोना वायरस के लिए मास्क का उपयोग कितना है सही ?

कोरोना वायरस के लिए मास्क का उपयोग करने की सलाह दी जा रही है। लोग मास्क को लेकर भी भ्रमित हो रहे हैं। ज्यादातर लोग जानना चाहते हैं कि किस तरह का मास्क यूज करना चाहिए ? विश्व स्वास्थ्य संगठन के जारी किए गए बयान के मुताबिक अभी तक यह साबित नहीं हुआ है कि फेस मास्क कोरोना वायरस से बचाव करने के लिए जरूरी है या फिर नहीं। हालांकि, फेस मास्क के इस्तेमाल से उचित सावधानी जरूर बरती जा सकती है। इसके अलावा, विश्व स्वास्थ्य संगठन कोरोना वयरस को पब्लिक हेल्‍थ इमरजेंसी (Public Health Emergency) घोषित कर चुका है। डब्‍ल्‍यूएचओ का कहना है, COVID-19 वायरस छींकने-खांसने और बोलने के दौरान हवा में फैले छोटे-छोटे कणों के संपर्क में आने से भी किसी भी स्वस्थय व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है। इस लिहाज से कोरोना वयरस महामारी से निपटने के लिए सिर्फ मास्‍क का इस्तेमाल करना सबसे सुरक्षित तरीका नहीं हो सकता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक कोरोना वायरस महामारी के लिए मास्क का इस्तेमाल सिर्फ उन्हें ही करना चाहिए जिनमें कोरोना वायरस के लक्षण हैं या सर्दी-जुखाम है। बाद में सरकार की ओर से जारी की गई एजवाइजरी में सभी के लिए मास्क लगाना जरूरी कर दिया गया। जबकि पहले कहा गया था कि अगर कोई व्यक्ति पूरी तरह से स्वस्थ है, तो वह इसका इस्तेमाल न करें। इसके अलावा कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के आस-पास जाने पर भी फेस मास्क का इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि, संक्रमित व्यक्ति से जितना हो सके दूरी बनाए रखना ही सुरक्षित होता है। अगर आप पब्लिक प्लेस में जा रहे हैं तो बेहतर होगा कि मास्क का यूज करें, क्योंकि कोई भी व्यक्ति बाहर संक्रमित हो सकता है। बेहतर होगा कि सुरक्षा के लिए मास्क का यूज करें।

डॉक्टर्स और एक्सपर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव करने के लिए N95 रेस्पिरेटर मास्क पहनना काफी हद तक सुरक्षित हो सकता है, क्योंकिN95 रेस्पिरेटर मास्क सर्जिकल मास्क से ज्‍यादा मोटे फैब्रिक से बने होते हैं। साथ ही वायरस से सुरक्षा देते हैं।ये मास्क पूरे चेहरे को कवर करता है। डॉक्टर्स के लिए ये मास्क ज्यादा जरूरी हैं।ऐसे मास्क एयर पार्टिकल को फिल्टर कर सकता है। वहीं थ्री लेयर मास्क भी सुरक्षा प्रदान करते हैं। भारत में इस तरह के मास्क का उत्पादन अभी तक कम हो रहा था, लेकिन कोरोना महामारी के बाद N95 रेस्पिरेटर मास्क का अधिक उत्पादन होने लगा है।

कोरोना वायरस (COVID-19) से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

कोरोना वायरस महामारी के इंफेक्शन से बचने के लिए सभी उम्र के लोगों को ध्यान रखने की जरूरत है। अगर आप घर में रह रहे हैं तो साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें, अगर घर के बाहर हैं तो हाथों को अच्छी तरह से धोएं। बच्चे अगर घर से बाहर खेलने जा रहे हैं तो साफ-सफाई का ध्यान रखें। बच्चों को भी सिखाएं कि खांसते और छींकते समय मुंह को ढके।

  1. कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिए हाथों को अच्छी तरह से धोएं।
  2. भीड़ में न जाएं और बेवजह घर से न निकलें।
  3. कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिए आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें। हाथों को समय-समय पर सैनिटाइज जरूर करें।
  4. कोरोना वायरस महामारी की लेटेस्ट अपडेट में बताया गया कि, छींकते या खांसते समय अपने मुंह और नाक को किसी टिश्यू पेपर या फिर कोहनी को मोड़कर ढकें। फिर हाथों को अच्छी तरह से साफ करें।
  5. बुखार आने पर डॉक्टर से जरूर मिलें।
  6. अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर की हर सलाह मानें और पूरी जानकारी प्राप्त करते रहें।
  7. भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि, अगर आप मास्क लगा रहे हैं तो उससे पहले अपने हाथों को एक्लोहॉल बेस्ड हैंड रब या फिर साबुन और पानी से अच्छी तरह धोएं।
  8. अपने मुंह और नाक को मास्क से अच्छी तरह कवर करें कि उसमें किसी भी तरह का गैप न रहे।
  9. कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिए  एक बार इस्तेमाल किए गए मास्क को दोबारा इस्तेमाल न करें।
  10.  मास्क को पीछे से हटाएं और उसे इस्तेमाल करने के बाद आगे से न छूएं।
  11. इस्तेमाल के बाद मास्क को तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंक दें।
  12. कोशिश करें कि हर 20 मिनट के बाद साबुन से हाथों को अच्छी तरह से धुलें। आप चाहे तो सैनेटाइजर का यूज भी कर सकते हैं। कोरोना वायरस महामारी को हाइजीन मेंटेन करके ही बचाव किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: कोरोना की वजह से अस्थमा के मरीजों को मिला है फायदा या नुकसान, जानें

क्या इस बारे में जानते हैं आप ?

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC)- की रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस के खतरे से बचने के लिए लंबी दाढ़ी को इग्नोर करना बेहतर रहेगा। लंबी दाढ़ी के कारण कोरोना वायरस के फैलने की बात की जा रही है। दरअसल दाढ़ी लंबी होने के कारण मास्क सही से नहीं लग पाता है, जिसके कारण कोरोना वायरस के फैलने के चांसेज बढ़ जाते हैं। CDC ने फोटो के माध्यम से ये समझाने की कोशिश की है कि दाढ़ी रखने से मास्क पहनने में परेशानी होती है और वो पूरी तरह स्किन को छू नहीं पाता है। इस कारण से मास्क अपना काम बेहतर तरीके से नहीं कर पाता और कोरोना वायरस का खतरा बढ़ जाता है।

कोरोना वायरस इंडिया में फैला कब ?

केरल में 30 जनवरी को कोरोना वायरस महामारी (COVID-19) का पहला मामला पॉजिटिव पाया गया था। छात्र वुहान यूनिवर्सिटी में पढ़ रहा था। इसके बाद केरल से ही अन्य दो केस सामने आए। केरल राज्य में तीन लोग सबसे पहले कोरोना वायरस महामारी से पॉजिटिव हुए थे। बाद में सभी को डॉक्टर्स की निगरानी में रखा गया। कुछ समय बाद सभी लोग पूरी तरह से ठीक भी हो गए थे। उस समय भारत के कई स्टूडेंट चीन के वुहान शहर में पढ़ रहे थे।  तब भारत सरकार  323 भारतीयों और सात मालदीव के लोगों को चीन के वुहान शहर से भारत लेकर आई। वुहान से लौटे ज्यादातर भारतीयों में छात्र थें जो वुहान में पढ़ाई के लिए गए हुए थे।  कोरोना वायरस महामारी को उस दौरान पूरी तरह से नियंत्रित कर लिया गया था और लोग उम्मीद कर रहे थे कि अब भारत में कोरोना अब पूरी तरह से खत्म हो चुका है। लेकिन ऐसा नहीं हुआ और भारत में अचानक से कोरोना वायरस महामारी के कारण लोग फिर से संक्रमित होने लगे।

मार्च में अचानक से कोरोना वायरस महामारी का संक्रमण फिर से भारत में फैलने लगा। संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। चीन के बाद इटली से भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलना शुरू हुआ। आपको बताते चलें कि चीन के साथ ही इटली में भी कोरोना वायरस महामारी से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। भारत में कोरोना वायरस महामारी के कारण अब तक 126 लोग संक्रमित हो चुके हैं और 3 लोगों की मौत हो चुकी है। डब्लूएचओ ने जानकारी दी है कि 24 घंटे के अंदर दुनियाभर में 321 लोगों की मौत हो चुकी है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस के लिए यूरोप में वैक्सीन ट्रायल हुआ शुरू, प्रतिभागी ने शेयर किया अनुभव

दुनिया की बड़ी हस्तियां भी कोरोना वायरस (COVID-19) से पीड़ित

ऐसा नहीं है कि दुनिया में केवल आम लोग ही कोरोना वायरस महामारी का शिकार हो रहे हैं। सेलीब्रिटी भी कोरोना वायरस महामारी की चपेट में आ रहे हैं।

  • हॉलीवुड सुपरस्टार टॉम हैंक्स को भी कोरोना वायरस महामारी का संक्रमण हो गया है। वहीं, कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की पत्नी को कोरोना वायरस महामारी का संक्रमण हो गया है।
  • इसके साथ ही ऑस्ट्रेलिया के गृह मंत्री भी कोरोना वायरस महामारी से संक्रमित हो गए हैं।
  • कोरोना वायरस महामारी की चपेट में ब्रिटेन की स्वास्थ्य मंत्री नदीन डॉरिस भी आ चुकी हैं। आपको बताते चलें कि खुद ब्रिटेन की स्वास्थ्य मंत्री नदीन डॉरिस ने इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि “मेरी कोरोना जांच पॉजिटिव आई है, और मैंने घर में खुद को अलग रखा है ताकि इंफेक्शन किसी और को न फैले। मीडिया हाउस की रिपोर्ट के मुताबिक स्वास्थ्य मंत्री नदीन डॉरिस प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन समेत सैकड़ों लोगों के संपर्क में थीं। यहीं कारण हैं कि वो संक्रमित हो गईं। ब्रिटेन में अब तक छह लोगों की मौत कोरोना वायरस महामारी के कारण हो चुकी है और 373 लोग कोरोना से संक्रमित हैं।

अमेरिका में कोरोना वायरस महामारी से संक्रमित लोगों की संख्या 500 से अधिक हो चुकी है। अमेरिका के करीब 30 प्रांत में कोरोना का इंफेक्शन पहुंच चुका है। अमेरिका में कोरोना वायरस महामारी के कारण अब तक 21 लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिकी संसद के निचले सदन ‘हाउस ऑफ रेप्रेजेंटेटिव’ ने कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिए 8.3 अबर डॉलर के आपातकालीन कोष से संबंधित विधेयक पारित किया है।

इस वक्त दुनिया में कोरोना वायरस महामारी तेजी से फैल रहा है। चीन के बाद इटली शहर ऐसा है, जहां सबसे ज्यादा लोग वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। इटली में अब तक 10,149 लोग वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। साथ ही अब तक इटली में कोरोना वायरस का संक्रमण 631 लोगों की जान ले चुका है। इटली में सड़कें, मॉल और अधिकतर पब्लिक प्लेस खाली हैं। इंसानों के दिखने के बजाय अब जानवर इटली की सड़कों पर अधिक दिख रहे हैं। भारत में चीन के बाद इटली से ही कोरोना वायरस महामारी का संक्रमण फैला था।

कोरोना वायरस के कारण  शेयर बाजार हो गए धड़ाम

कोरोना वायरस महामारी का कहर इस कदर फैला हुआ है कि दुनिया भर के ग्लोबल शेयर बाजारों में भारी गिरावट देखने को मिल रही है। हालत इतनी बिगड़ गई है कि सेंसेक्स और निफ्टी 10 फीसदी से ज्यादा लुढ़क गए हैं। साल 2008 में शेयर बाजार कुछ देर के लिए बंद कर दिया गया था। ऐसा ही साल 2020 में भी देखने को मिला। ट्रेडिंग को करीब 45 मिनट के लिए बंद करना पड़ा। ये वाकई शेयर मार्केट के लिए बुरी खबर है। साल 2008 में ग्लोबल आर्थिक मंदी का दौर था। अब इतने सालों बाद ऐसे हालात देखने को मिल रहे हैं। आपको बताते चले की शुक्रवार को शेयर बाजार ने रिकवरी भी की। वहीं शेयर बाजार में आई भारी गिरावट के चलते निवेशकों की 11 लाख करोड़ रुपय की पूंजी डूब गई। ये वाकाई निवेशको के लिए बहुत बुरी खबर है।

कोरोना वायरस महामारी के कारण दुनिया भर में भारी नुकसान देखने को मिल रहे हैं। कोरोना वायरस महामारी की वजह से अमेरिका के शेयर बाजार डाउ जोन्स और एसएंडपी में भी ऐतिहासिक गिरावट देखने को मिली। अमेरिका के शेयर बाजार में भी 15 मिनट में किसी भी तरह का करोबार नहीं हो पाया। अमेरिका में इतने बुरे हालात साल 1987 के बाद देखने को मिले हैं।

यह भी पढ़ें- सबसे खतरनाक वायरस ने ली थी 5 करोड़ लोगों की जान, जानें 21वीं सदी के 5 जानलेवा वायरस

कोरोना वायरस के कारण एयरलाइंस को हो रहा है नुकसान

इंडस्ट्री एसोसिएशन (IATA ) ने जो खुलासा किया है, उसको सुनकर आप हैरान हो सकते हैं। कोरोना वायरस महामारी के कारण अब तक $ 113 बिलियन तक के नुकसान का अनुमान लगाया जा चुका है।  एयरलाइन ने यात्रियों को अगले 12 महीनों के लिए बुकिंग को चेंज करने की अनुमति दे दी है। यूनाइटेड एयरलाइंस में सबसे अधिक छूट दी जा रही है। ट्रेवलिंग में कोरोना का खतरा बढ़ते देख ज्यादातर पैसेंजर अपनी एयरोप्लेन की टिकट कैंसिल कर रहे हैं या फिर रिशेड्युल कर रहे हैं। ऐसे में एयरलाइंस लोगों को सुविधा देने के लिए कैंसिलेशन और टिकट री-शेड्युल कराने के लिए किसी भी तरह का चार्ज नहीं ले रही है।

एयरवेज ने भी 30 जून तक ऑफर देने की बात कही है। यात्रा के तीन दिन पहले यात्री बदलाव कर सकता है। इंडियन एविएशन वेबसाइट के एडिटर अजय अवंती ने कहा कि गोएयर इस बात का ध्यान भी रख रहा है कि फॉरवर्ड बुकिंग को किसी भी तरह का नुकसान न हो। वहीं इंडिगो के चीफ कमर्शियल ऑफिसर विलियम बौल्टर ने 7 मार्च को दिए अपने बयान में कहा था कि दो हफ्ते के लिए हम लोग नॉर्मल चेंजेस फीस को माफ कर रहे हैं। ऐसा करने से पैसेंजर की परेशानी कम हो जाएगी। टाटा संस और सिंगापुर एयरलाइंस भी 1 मार्च से पहले की गई बुकिंग के कैंसिलेशन चार्ज को माफ कर रही हैं। अभी तक एयर इंडिया ने छूट के बारे में किसी भी तरह की कोई एनाउंसमेंट नहीं की है।

कोरोना वायरस महामारी के कारण हो रहा है बंद का माहौल

कोरोना वायरस महामारी न केवल लोगों को संक्रमित करने का काम कर रहा है, बल्कि कोरोना वायरस के कारण बंदी का माहौल भी रहा है। कोरोना वायरस महामारी के कारण दिल्ली में फिलहाल को स्कूल-कॉलेज और सिनेमाघर बंद कर दिए गए हैं। साथ ही कर्नाटक में कोरोना वायरस महामारी से एक मौत हो जाने के कारण सरकार ने मॉल, सिनेमा घर, मैरेज हॉल, पब, समर कैंप, विवाह स्थल और अन्य सम्मेलन को बंद करने का आदेश दिया है। कर्नाटक के सीएम येदियुरप्पा ने कहा है कि एक हफ्ते के लिए अगर जरूरत न हो तो यात्रा न करें। आपको बताते चले कि कर्नाटक में कोरोना वायरस महामारी के कारण 6 लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं, 31 लोगों की जांच की जा रही है। यूपी में भी 22 मार्च तक स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे। साथ ही उत्तर प्रदेश में 75 आइसोलेशन वॉर्ड भी बनाएं गए हैं जिसमें 800 बेड को रिजर्व किया गया है। आईआईटी, डीयू के साथ ही जामिया को भी 31 मार्च तक बंद कर दिया गया है।

कोरोना वायरस महामारी के चलते फिल्मों की रिलीज को भी रोक दिया गया है। साथ ही 15 अप्रैल तक वीजा पर प्रतिबंध लगा दिया गया है, जिसके कारण विदेशी लोगों के लिए इंडियन प्रीमियर लीग में शामिल होना पॉसिबल नहीं हो पाएगा। यहीं कारण है कि इंडियन प्रीमियर लीग को 15 अप्रैल तक संस्पेंड कर दिया गया है। बीसीसीआई ने भी बयान में कहा है कि आईपीएल के सीजन को 15 अप्रैल तक स्थगित कर दिया गया है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री ने राजधानी में एक महीने तक किसी भी प्रकार के खेल के कॉम्पटीशन को आयोजित न करने का आदेश दिया है। कोरोना वायरस महामारी के कारण बड़े आयोजनों पर रोक लगाई जा रही है।

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस का शिकार लोगों पर होता है ऐसा असर, रिसर्च में सामने आई ये बातें

कोरोना वायरस महामारी ने सिखा दिया हाथ जोड़ना

कोरोना वायरस महामारी के कारण दुनिया भर के लोगों ने हाथ जोड़ने की भारतीय परंपरा को अपना लिया है। भारतीय संस्कृति में अभिवादन हाथ जोड़कर किया जाता है। ऐसा ही अब दुनियाभर के नेता के साथ ही फेमस सेलीब्रिटी भी कर रहे हैं। डोनाल्ड ट्रंप और प्रिंस चार्ल्स ने भी हाथ जोड़कर अभिवादन किया। व्हाइट हाउस में वाशिंगटन की यात्रा पर आएं आयरलैंड के प्रधानमंत्री वराडकर और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक-दूसरे को हाथ जोड़कर अभिवादन करते हुए दिखें। आपको बताते चले कि कोरोना वायरस महामारी हवा में फैली संक्रमित बूंदों के कारण होता है। अब जब कोरोना वायरस तेजी से लोगों को संक्रमित कर रहा है तो बेहतर होगा कि कुछ बातों का ध्यान रखा जाएं। वायरस का संक्रमण लोगों की आदत बदल रहा है।

अगर घर में हो कोई कोरोना से हो संक्रमित

अगर घर में कोई भी व्यक्ति कोरोना वायरस महामारी से संक्रमित हो तो उन्हें कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने लोगों को जरूरी जानकारी शेयर की है

अगर घर में कोई भी व्यक्ति कोरोना वायरस के कारण संक्रमित है तो बेहतर होगा कि उसे अलग कमरे में रखा जाए। साथ ही घर में संक्रमित व्यक्ति के लिए अलग से टॉयलेट की व्यवस्था होनी चाहिए। ऐसे में प्रेग्नेंट महिलाओं, बच्चों और अन्य हाउस होल्डर से दूरी बनाना बेहतर होगा। ऐसे में किसी भी प्रकार की पब्लिश गेदरिंग से बचना चाहिए और निगरानी के लिए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। साथ ही साफ-सफाई का भी पूरा ध्यान रखना चाहिए। अगर सभी लोग एक साथ प्रयास करें तो कोरोना वायरस की महामारी को खत्म किया जा सकता है।

देश के प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस को लेकर कही ये बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए सार्क देशों को एकजुट होने का प्रस्ताव रखा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस प्रस्ताव का कई देशों ने समर्थन भी किया है। पीएम के इस प्रस्ताव को लेकर भूटान, नेपाल, मालदीव और श्रीलंका ने समर्थन किया है। प्रधानमंत्री ने लिखा कि कोरोना वायरस महामारी से इस वक्त पूरी दुनिया लड़ाई लड़ रही है। उन्होंने कहा कि दक्षिण एशिया के देशों में भी इसका असर दिख रहा है, ऐसे में सार्क देशों के प्रमुख से अपील करता हूं कि वो कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एक साथ आएं।

 कोरोना वायरस महामारी को लेकर जारी की गई एडवाइजरी

भारत सरकार समय-समय पर भारत के तमाम राज्यों में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए संशोधित एडवाइजरी जारी कर रही है। जिसमें, यात्रा से लेकर घर से बाहर निकलने के दौरान बरतीं जाने वाली सावधानियों की सलाह दी गई है।

  1. इटली, ईरान, दक्षिण कोरिया, जापान के नागरिकों को 03.03.2020 अथवा उसके बाद जारी किए गए सभी नियमित (स्‍टीकर) वीजा/ई-वीजा (जापान और दक्षिण कोरिया के लिए वीओए सहित) और जिन्‍होंने अभी तक भारत में प्रवेश नहीं किया है, उन्‍हें तत्‍काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। जो लोग किन्‍हीं बाध्‍यकारी परिस्थितियों के कारण भारत आना चाहते हैं, वे नजदीकी भारतीय दूतावास/ वाणिज्‍य दूतावास से ताजा वीजा ले सकते हैं।
  2. चीन गणराज्‍य के नागरिकों को 05.02.2020 अथवा उससे पहले दिए गए नियमित (स्‍टीकर) वीजा/ई-वीजा को पहले ही निलंबित किया जा चुका है। यह लागू रहेगा। जो लोग किन्‍ही बाध्‍यकारी परिस्थितियों के कारण भारत आना चाहते हैं, वे नजदीकी भारतीय दूतावास/ वाणिज्‍य दूतावास से ताजा वीजा ले सकते हैं।
  3. दक्षिण कोरिया, चीन, ईरान, इटली और जापान की 01.02.2020 अथवा उसके बाद यात्रा करने वाले सभी विदेशी नागरिक जिन्‍हें सभी नियमित (स्‍टीकर) वीजा/ई-वीजा दिए गए हैं और जिन्‍होंने अभी तक भारत में प्रवेश नहीं किया है उसे तत्‍काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। जो लोग किन्‍ही बाध्‍यकारी परिस्थितियों के कारण भारत आना चाहते हैं, वे नजदीकी भारतीय दूतावास/ वाणिज्‍य दूतावास से ताजा वीजा ले सकते हैं।
  4. भारतीय राज्यों में कोरोना वायरस के चलते कूटनीतिज्ञ, संयुक्‍त राष्‍ट्र और अन्‍य अंतरराष्‍ट्रीय संगठनों के अधिकारी, ओसीआई कार्डधारक और उपरोक्‍त देशों के विमान चालक दल को प्रवेश संबंधी ऐसे प्रतिबंधों से छूट दी गई है। लेकिन उनकी मेडिकल स्‍क्रीनिंग अनिवार्य है।
  5. किसी भी बंदरगाह क्षेत्र से भारत में प्रवेश करने वाली सभी अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानों के यात्रियों को अपने बारे में पूरी जानकारी (अपने निजी विवरण यानी फोन नम्‍बर और भारत में अपना पता सहित) और यात्रा विवरण सभी बंदरगाहों पर स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारियों और आव्रजन अधिकारियों को देना जरूरी है।
  6. प्रतिबंधित के अलावा चीन, दक्षिण कोरिया, जापान, ईरान, इटली हांगकांग, मकाऊ वियतनाम, मलेशिया, इंडोनेशिया, नेपाल, थाईलैंड, सिंगापुर और ताइवान से प्रत्‍यक्ष अथवा अप्रत्‍यक्ष रूप से आने वाले यात्रियों (विदेशी और भारतीय) को प्रवेश करने पर मेडिकल स्‍क्रीनिंग से गुजरना होगा।
  7. सरकार की तरफ से भारतीय नागरिकों को सलाह दी गई है कि वे चीन, ईरान, कोरिया गणराज्‍य, इटली की यात्रा करने से बचें और उन्‍हें सलाह दी गई है कि वे सीओवीआईडी-19 से प्रभावित देशों की अनावश्‍यक यात्रा से परहेज करें।

अगर आपको ज़ुकाम के लक्षण नजर आ रहे हैं और कई दिनों तक सुधार नजर नहीं आ रहा है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। जांच के बाद डॉक्टर के बताए नियमों का पालन करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइसइलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें :

इलाज के बाद भी कोरोना वायरस रिइंफेक्शन का खतरा!

कोरोना वायरस से बचाव संबंधित सवाल और उनपर डॉक्टर्स के जवाब

क्या प्रेग्नेंसी में कोरोना वायरस से बढ़ जाता है जोखिम?

….जिसके सेवन से नहीं होगा कोरोना वायरस?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या मॉनसून और कोरोना में संबंध है? बारिश में कोविड-19 हो सकता है चरम पर

मॉनसून और कोरोना में क्या संबंध है, मॉनसून और कोरोना से खुद को कैसे रखें सुरक्षित, बारिश में कोरोना से कैसे बचें, Monsoon spread corona easily.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
कोरोना वायरस, कोविड-19 जून 23, 2020 . 4 mins read

क्या सूर्य ग्रहण से कोविड 19 खत्म हो जाएगा? जानें इस बात में कितनी है सच्चाई

सूर्य ग्रहण और कोविड 19 इन हिंदी, सूर्य ग्रहण और कोविड 19 के बीच क्या संबंध है, सूर्य ग्रहण और कोरोना वायरस से कैसे बचें, सूर्य ग्रहण 2020 का समय क्या है, सोलर इक्लिप्स टाइमिंग, Solar eclipse covid 19 corona virus.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha

कोरोना वायरस की दवा : डेक्सामेथासोन (dexamethasone) साबित हुई जान बचाने वाली पहली दवा

कोरोना की दवा के रूप में डेक्सामेथासोन का इस्तेमाल और प्रभावशीलता काफी अच्छे रिजल्ट्स दे रही है। कोरोना संक्रमित लोगों की जान बचाने के लिए तुरंत इस्तेमाल की जा सकती है। corona virus first medicine Dexamethasone in hindi

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री को हुआ कोरोना, कोविड-19 की दूसरी जांच आई पॉजिटिव

दिल्ली स्वास्थ्य मंत्री में कोरोना के लक्षण इन हिंदी, दिल्ली स्वास्थ्य मंत्री में कोरोना के लक्षण की जांच हुई, सत्येंद्र जैन कौन हैं, दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री कौन हैं, Delhi Health Minister Satyender Jain Tested for COVID-19.

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Shayali Rekha