Kidney Beans: राजमा क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 26, 2020
Share now

परिचय

राजमा क्या होता है?

राजमा (Kidney Beans) एक किस्म की फली है। इसका बोटैनिकल नाम फेजोलस वल्गरिस (Phaseolus vulgaris) है, जो कि फली (Legumes) परिवार से ताल्लुक रखता है। यह फसल मूल रूप से मध्य अमेरिका और मैक्सिको में उगाई जाती है। लेकिन, इसके स्वाद और पौष्टिक गुण की वजह से पूरी दुनिया में इसकी पैदावार होने लगी है।

भारत में इसे काफी पसंद की जाने वाली डिश है। जो कि सिर्फ स्वादिष्ट ही नहीं है, बल्कि इसमें काफी मात्रा में पोषण पाया जाता है। यह फाइबर, कार्ब्स और प्रोटीन प्राप्त करने का एक अच्छा स्त्रोत है। यह कई तरह के रंग और पैटर्न में उपलब्ध होता है, जैसे- सफेद, लाल, चितकबरा आदि।

यह भी पढ़ेंः Isatis: आइसाटिस क्या है?

उपयोग

राजमा (Kidney Beans) का उपयोग किस लिए किया जाता है?

यह एक किस्म की फली होती है, जो मैग्नीशियम, कार्बोहाइड्रेट, फास्फोरस, विटामिन बी9, आयरन  पोषक तत्वों से भरपूर है। इसका इस्तेमाल निम्नलिखित स्थितियों या समस्याओं में  किया जाता है।

  • इसमें काफी फाइबर होता है, इससे कोलेस्ट्रॉल लेवल सही रहता है।
  • यह प्रोटीन की खान है, इसमें सोया उत्पाद से भी अधिक प्रोटीन होता है।
  • इसमें कम मात्रा में ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है। इसे इसे खाने से ब्लड ग्लूकोज लेवल नहीं बढ़ता।
  • इसमें कई रोग-विरोधी एंटीऑक्सीडेंट हैं, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत करते हैं।
  • इसमें विटामिन के पाया जाता है, जो मस्तिष्क के लिए बहुत फायदेमंद होता है।
  • इसमें मैग्नीशियम भी पाया जाता है, जो कार्डियोवस्कुलर सिस्टम को सही ढंग से चलाने में मदद करता है। यह शरीर को स्ट्रोक और धमनियों में वसा की जमावट को रोकता है।
  • यह पाचन क्रिया को सही बनाए रखता है साथ ही यह ब्लड शुगर के स्तर को भी नियंत्रित रखने में मददगार होता है।

यह भी पढ़ें : Jiaogulan: जागुलन क्या है?

राजमा में मौजूद पोषण कितना है?

100 ग्राम उबले राजमा में निम्नलिखित पोषण होता हैः

  • कैलोरी– 127
  • पानी– 67%
  • प्रोटीन- 8.7 ग्राम
  • कार्ब्स- 22.8 ग्राम
  • शुगर- 0.3 ग्राम
  • फाइबर– 6.4 ग्राम
  • फैट- 0.5 ग्राम

राजमा में प्रोटीन काफी मात्रा में होता है। इसमें लेक्टिन जैसे प्रोटीन और प्रोटीज इनहिबिटर भी होते हैं। हालांकि, इसमें मौजूद फेजियोलिन से कुछ लोगों को एलर्जी की समस्या हो सकती है।

इसमें में एमाइलोज स्टार्ट होता है, जो धीरे-धीरे पचता है। जिस वजह से यह दूसरे स्टार्च के मुकाबले कम और देर से ब्लड शुगर बढ़ाता है। जिस वजह से यह फली टाइप 2 डाइबिटीज के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद है।

यह भी पढ़ें : Gourd : लौकी क्या है?

सावधानियां और चेतावनी

राजमा का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

राजमा का इस्तेमाल करने से पहले निम्नलिखित स्थितियों में अपने चिकित्सक या फार्मसिस्ट या हर्बलिस्ट से परामर्श करें:

  • यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं- गर्भवती या स्तनपान कराने की स्थिति में किसी भी आहार या दवा का सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक या फार्मसिस्ट या हर्बलिस्ट से जरूर परामर्श करें, क्योंकि इसका सीधा प्रभाव बच्चे और मां के स्वास्थ्य पर पड़ता है।
  • यदि आप कोई अन्य दवा ले रहे हैं- इसमें आपके द्वारा ली जा रही कोई भी दवा शामिल है, जो बिना डॉक्टर के पर्चे के खरीदने के लिए उपलब्ध है।
  • यदि आपको राजमा या अन्य दवाओं या अन्य जड़ी बूटियों के किसी भी पदार्थ से एलर्जी है।
  • यदि आपको कोई अन्य बीमारी, विकार या चिकित्सा स्थितियां हैं।
  • यदि आपको किसी अन्य प्रकार की एलर्जी है, जैसे कि खाद्य पदार्थ, डाई, डिब्बा बंद चीजें या जानवर से।

सुरक्षा के लिहाज से इसके सेवन से होने वाले फायदे से पहले आपको उसके खतरों को समझ लेना चाहिए। ज्यादा जानकारी के लिए अपने डाइटीशियन से बात कीजिये।

राजमा (Kidney Beans) कितना सुरक्षित है?

  • जोड़ों के दर्द के मरीजों के लिए  राजमा खाना बहुत ही नुकसानदायक हो सकता है इससे उनका दर्द और भी बढ़ सकता है। गठिया और यूरिक एसिड की समस्या वालों को राजमा कभी नहीं खानी चाहिए। इससे उनकी समस्या और बढ़ सकती है
  • राजमा का उपयोग करने से वजन घटने लगता है। जो लोग अपना वजन घटाना चाहते है उनके लिए ये अत्यंत लाभदायक होता है बाकि लोगो के लिए ये नुकसानदायक हो सकता है। इसके अधिक सेवन से वजन कम होने लगता है।

यह भी पढ़ें : Garlic : लहसुन क्या है?

साइड इफेक्ट्स

राजमा से मुझे क्या साइड इफेक्ट हो सकते है?

  • राजमा खाने से पेट में गैस हो सकती है
  • कुछ लोगों का राजमा खाने के बाद पेट दर्द होने लगता है ऐसा शरीर में प्रोटीन की अधिक मात्रा के कारण हो सकता है
  • अधिक मात्रा में राजमा खाने से भी आपको यूरिक एसिड की समस्या भी हो सकती है।
  • इसमें मौजूद एमाइलोज से कुछ लोगों को एलर्जी हो सकती है।

हालांकि, जरूरी नहीं कि सभी को इन साइड इफेक्ट्स का सामना करना पड़े। इसके अलावा किसी को अन्य साइड इफेक्ट्स का भी सामना करना पड़ सकता है, जो यहां न हीं बताए गए हैं। अगर आपको साइड इफेक्ट्स को लेकर कोई शंका है, तो अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से परामर्श करें।

राजमा के साथ मेरे क्या इंटरैक्शन हो सकते  है?

राजमा आपकी मौजूदा दवाओं या मेडिकल कंडिशंस पर असर डाल सकता है। उपयोग करने से पहले अपने हर्बलिस्ट, फार्मसिस्ट या डॉक्टर से परामर्श करें ।

यह भी पढ़ेंः Drum Stick: सहजन क्या है?

मात्रा/ डोसेज

राजमा की सामान्य खुराक क्या है?

किडनी में पथरी के लिए– 500 ग्राम राजमा को रात पर पानी में भिगोकर रखें। सुबह इसे 2 लीटर पानी में तब तक उबालिए, जब तक कि राजमा पानी में घुल न जाए। इसके बाद, जब भी आपको प्यास लगे, तो इस पानी को पीजिए।

हाई कोलेस्ट्रॉल के लिए– यह कोलेस्ट्रॉल फ्री होता है, इसलिए आप कभी भी इसका सेवन मर्जी अनुसार कर सकते हैं।

ऑस्टियोपोरोसिस के लिए– राजमा का नियमित सेवन करने से ऑस्टियोपोरोसिस दूर होता है और हड्डियां मजबूत बनती हैं।

इसकी खुराक हर किसी के लिए अलग अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। कृपया अपनी उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

यह भी पढ़ेंः Shiitake Mushroom : शिटाके मशरूम क्या है?

उपलब्धता

राजमा किस रूप में आता है?

राजमा निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है:

  • कच्चा राजमा

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें :-

Caffeine : कैफीन क्या है?

बर्च क्या है?

Honey : शहद क्या है?

Fenugreek : मेथी क्या है?

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Hyperkalemia: हाइपरकलीमिया क्या है?

हाइपरकलीमिया एक ऐसी स्वास्थ्य समस्या है जो शरीर में पोटैशियम की अधिकता के कारण होती है। पोटैशियम शरीर में पाए जाने वाला एक आवश्यक तत्व है...

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha

Breast Bopsy: ब्रेस्ट बायोप्सी क्या है?

जानिए ब्रेस्ट बायोप्सी की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, breast biopsy क्या होता है, ब्रेस्ट बायोप्सी के रिजल्ट और परिणामों को समझें।

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Kanchan Singh

गुर्दे की पथरी (Kidney Stone) होने पर डायट में शामिल न करें ये चीजें

गुर्दे की पथरी एक ऐसी बीमारी है जो किसी को भी हो सकती है। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन के अनुसार विश्व भर में तकरीबन 12 % लोग इससे परेशान हैं।

Medically reviewed by Dr. Pooja Bhardwaj
Written by Nidhi Sinha

कुछ खाद्य पदार्थ बॉडी ऑर्गन जैसे क्यों दिखते हैं?

कुछ खाद्य पदार्थ हमारे बॉडी ऑर्गन जैसे दिखते हैं और ये कुदरत का इशारा है कि कौन सा खाद्य पदार्थ किस बॉडी ऑर्गन के लिए फायदेमंद है।आइए जाने ऐसे कुछ खाद्य पदार्थों को।

Medically reviewed by Dr. Radhika apte
Written by Priyanka Srivastava