Risperidone : रिसपेरीडोन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    Risperidone : रिसपेरीडोन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    रिसपेरीडोन (risperidone) का उपयोग किसके लिए किया जाता है?

    रिसपेरीडोन दवा का इस्तेमाल मानसिक बीमारी के इलाज में किया जाता है। उदाहरण के तौर पर अगर कोई पागलपन, बाइपोलर डिसऑर्डर, ओटीसी डिसऑर्डर, जिसमें वह ठीक से नहीं बोल पाता है, जैसी बीमारियों से पीड़ित है तो उसके इलाज के लिए इस दवा का प्रयोग होता है। यह दवा सोचने और समझने की शक्ति बढ़ाती है जिससे उसे रोजमर्रा के काम करने और सामान्य जिंदगी गुजारने में मदद मिलती है।

    इस दवा को एटिपिकल एंटीसाइकोटिक्स मेडिसिन कैटेगरी में रखा गया है। दवा का इस्तेमाल करने से दिमाग में जिन पोषक तत्वों की कमी होती है उसकी भरपाई होती है और वह धीरे-धीरे सामान्य होने लगता है।

    अन्य इस्तेमाल: इन दवाओं का इस्तेमाल सोच-समझ कर कहना चाहिए। बिना डॉक्टर की सलाह के इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। इस कैटेगरी में सलेक्टेड दवाईयां लिस्टेड हैं। इसलिए, अपने मन से कभी भी इस तरह की दवाओं का इस्तेमाल करने से बचें। इन दवाओं का इस्तेमाल दूसरी दवाओं के साथ डिप्रेशन में भी किया जाता है।

    ये भी पढ़ें : क्या है मानसिक बीमारी और व्यक्तित्व विकार? जानें इसके कारण

    मैं रिसपेरीडोन (risperidone) को कैसे इस्तेमाल करूं?

    इस दवा का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही करें। एक दिन में जरूरत के हिसाब से डॉक्टर एक या दो बार इसे खाने के लिए कहते हैं। जब इस्तेमाल करना हो, तब ही पैकेट को फाड़ कर दवा निकालें। दवा को खुले में रखने से इसका असर कम हो सकता है। पैकेट से दवा निकालते ही इसे जीभ पर रखें और मुंह बंद कर लें। दवा घुल जाने के बाद पानी पी सकते हैं।

    जब डॉक्टर के पास जाते हैं तो उन्हें अपने बारे में सारी जानकारी दें। मसलन, आप डॉक्टर के लिखी कौन-कौन सी और बिना लिखे कौन-कौन सी दवाइयाें का सेवन करते हैं। अगर आप हर्बल दवाई का भी इस्तेमाल करते हैं तो इसके बारे में डॉक्टर को बताएं। साइड इफेक्ट से बचने के लिए संभव है कि डॉक्टर आपको धीरे-धीरे डोज बढ़ाने के लिए कहे। इसलिए, डॉक्टर जितना कहे और जैसा कहे उसे पालन करना चाहिए।

    रोजाना एक ही समय पर दवा का इस्तेमाल करें। एक दिन भी दवा खाना नहीं भूलें नहीं तो उतना फायदा नहीं होगा। दवा का सकारात्मक असर होने के बावजूद भी इसे खाना बंद नहीं करें। अगर आप इस दवा का सेवन बंद करना चाहते हैं तो डॉक्टर से सलाह लें। साथ ही डॉक्टर को अपनी कंडिशन के बारे में भी बताएं कि आपको फायदा पहुंच रहा है नुकसान कर रहा है।

    मैं रिसपेरीडोन (risperidone) को कैसे स्टोर करूं?

    रिसपेरीडोन के रखरखाव के लिए कमरे का तापमान सबसे बेहतर होता है। इसे धूप के सीधे प्रभाव या नमी में आने से बचाना होता है। रिसपेरीडोन को कभी भी बाथरूम या ठंडी जगह में न रखें। मार्केट में रिसपेरीडोन के अलग-अलग ब्रांड हैं जिन्हें स्टोर करने के लिए दिशा- निर्देश भी अलग-अलग हो सकते हैं। जब भी रिसपेरीडोन खरीदें सबसे पहले उसके पैकेज पर लिखे जरूरी निर्देशों को अच्छे से पढ़े या फिर अपने डॉक्टर से इसके बारे में पूछें। सुरक्षा के लिहाज से आपको इसे बच्चों और जानवरों की पहुंच से दूर रखना चाहिए।

    बिना निर्देश के रिसपेरीडोन को टॉयलेट या किसी नाले में न फेकें। अगर यह एक्सपायर हो चुका है या इसका इस्तेमाल नहीं करना है तो इसका इस्तेमाल न करें। इसकी अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

    यह भी पढ़ें- क्या आपके बच्चे को आवश्यक पोषण प्राप्त हो रहा है ?

    रिसपेरीडोन (Risperidone) का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

    रिसपेरीडोन का उपयोग करना सेहत के लिए जोखिम भरा हो सकता है। इसलिए इससे होने वाले फायदे के साथ-साथ इससे होने वाली हानियों को भी पूरी तरह से समझना चाहिए। इस्तेमाल से पहले एक बार जरूर डॉक्टर की सलाह लें। साथ ही निम्नलिखित स्थितियों में दवा का सेवन नहीं करना चाहिए:

    एलर्जी होने पर

    अगर आपको किसी तरह की एलर्जी है और उसके उपचार के लिए किसी दवा का सेवन कर रहें तो इसके बारे में अपने डॉक्टर को बताएं। या फिर अगर आपको रिसपेरीडोन के इस्तेमाल से किसी भी तरह की एलर्जी होती है तो इसकी जानकारी अपने डॉक्टर को दें। अगर आपको किसी तरह के खाने,दवा या जानवरों से एलर्जी है तो इसके बारे में भी डॉक्टर को जानकारी अवश्य दें।

    बच्चों का उपचार

    अभी तक किए गए अध्ययनों में बाल चिकित्सा को लेकर किसी गंभीर समस्या का अनुमान नहीं लगाया गया है। अगर आपका बच्चा 13 साल से छोटा है तो यह दवा उसे इफेक्ट कर सकती है।

    वृद्धावस्था

    उम्रदराज लोगों में भी रिसपेरीडोन के किसी तरह के नुकसान नहीं पाए गए हैं। अगर यह दवा बुजुर्ग लोगों द्वारा एक निश्चित मात्रा में ली जाती है तो इसका नुकसान ज्यादा नहीं हो सकता है। हालांकि, बुजुर्ग रोगियों में रिसपेरीडोन के प्रभाव के प्रति संवेदनशील होने की अधिक संभावना होती है। उम्र से संबंधित लिवर, किडनी और हार्ट की समस्याओं वाले बुजुर्ग लोगों को रिसपेरीडोन की नॉर्मल खुराक लेनी की आवश्यकता होती है। अगर बुजुर्गों को किसी तरह की मानसिक समस्या है तो इस दवा का इस्तेमाल ना करें।

    क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान रिसपेरीडोन लेना सुरक्षित है?

    प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान इसके इस्तेमाल करने से महिलाओं को किस तरह की परेशानियां हो सकती हैं इसके बारे में अभी कोई खास जानकारी नहीं है। ऐसे में इसके इस्तेमाल से पहले हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

    यह भी पढ़ें : क्या हैं वह 10 सामान्य मेंटल हेल्थ प्रॉब्लम्स (Mental Health Problems) जिनसे ज्यादातर लोग हैं अंजान?

    रिसपेरीडोन (risperidone) के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

    इस दवा का इस्तेमाल करने के बाद अगर आपको किसी तरह की कोई परेशानी होती हैं या कोई भी साइड इफेक्ट्स महसूस होते हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। ऐसे किसी भी लक्षण को आप महसूस करते हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। हीव्स, सांस लेने मे तकलीफ; चेहरे, होंठ, जीभ या गले की सूजन।

    ऐसी स्थिति में रिसपेरीडोन का इस्तेमाल बंद कर दें और तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करे।

    • बुखार, कड़ी मांसपेशियों, कंफ्यूजन, पसीना, दिल की धड़कन का अचनाक तेज होना
    • आंखों, जीभ, जबड़े या गर्दन में मांसपेशियों की बेचैनी सी महसूस होना
    • ऐंठन
    • बुखार, ठंड लगना, शरीर में दर्द, फ्लू के लक्षण
    • नाक से खून बहना
    • मुंह के अंदर या होठों पर सफेद पैच पड़ना
    • निगलने में परेशानी
    • ऐसा महसूस हो कि आपकी मौत होने वाली है
    • पेनिस इरेक्शन में दर्द या 4 घंटे से अधिक रहता है तो

    इस तरह के आम साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं:

    • वजन बढ़ना
    • गर्म या ठंडा महसूस करना
    • सिर दर्द, चक्कर आना
    • सुस्ती
    • ड्राई माउथ, भूख ज्यादा लगना
    • इसकी वजह से हाइपरग्लाइकैमिया और लिपोडायस्ट्रॉफी सिंड्रोम भी हो सकता है।

    इसके इस्तेमाल के कारण होने वाले सभी दुष्प्रभाव यहां पर नहीं बताएं गए हैं। अगर आप किसी भी तरह का जोखिम महसूस करते हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें।

    यह भी पढ़ें- Marfan syndrome : मार्फन सिंड्रोम क्या है?

    कौन सी दवाएं रिसपेरीडोन (Risperidone) के साथ इस्तेमाल नहीं की जा सकती हैं?

    कुछ दवाओं के साथ इसका उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। अगर आप पहले से ही किसी अन्य दवा का सेवन कर रहे हैं तो अपने डॉक्टर से बात करें। साथ ही अगर किसी तरह के घरेलू नुस्खे या बिना डॉक्टर की देख-रेख में काउंटर पर मिलने वाली दवाइयों का सेवन कर रहें तो अपने डॉक्टर से इसकी जानकारी साझा करें। अगर आप वर्तमान में किसी तरह की दवा का सेवन कर रहे हैं बिना डॉक्टर की सलाह के दवा की खुराक को घटाएं या बढ़ाएं नहीं और ना ही किसी दवा का सेवन पूर्णतः बंद करें।

    निम्नलिखित दवाओं में से किसी दवा के साथ इसका उपयोग नहीं करना चाहिए। जरूरत पड़ने पर डॉक्टर आपकी दवाओं में बदलाव कर सकते हैं।

    • एमीफाप्रीडाइन
    • बेपीरीडील
    • सिसाप्राइड
    • लेवोमेथाडियल
    • मेसोरीडाजीन
    • मेटोक्लोप्रामाइड
    • पीमोजाइड

    निम्नलिखित दवाओं में से किसी दवा के साथ इसका उपयोग नहीं करना चाहिए। जरूरत पड़ने पर डॉक्टर आपकी दवाओं में बदलाव कर सकते हैं।

    • एमीफाप्रीडाइन
    • बेपीरीडील
    • सिसाप्राइड
    • लेवोमेथाडियल
    • मेसोरीडाजीन
    • मेटोक्लोप्रामाइड
    • पीमोजाइड
    • पीपराक्यून
    • ट्रेफेनाडीन
    • थीरोडाजीन

    निम्नलिखित दवाओं में से किसी के साथ इस दवा का उपयोग करने की आमतौर पर नहीं दी जाती है, लेकिन कुछ मामलों में यह आवश्यक हो सकता है। अगर इनमें से किसी भी दवा का सेवन निर्धारित किया जाता है तो आपने डॉक्टर से बात करें।

    • ऐसडानाइड
    • अजमालीन
    • एमीडारोन
    • एम्सूलप्राइड
    • एमीट्रीपीटलाइन
    • एनाग्रेलाइनड
    • एप्रीडाइन
    • एरीपीप्राजोल
    • एरसेनीक ट्रीऑक्साइड
    • एसनापाइन
    • एसटीमीजोल
    • एजीमीलाइड
    • ब्रेटीलियम
    • बुप्रोपीयन
    • बूसेरेलीन
    • क्लोरल हाईड्रेट
    • क्लोरोक्विन
    • क्लोपमजीन
    • सीटालोप्राम
    • क्लेरीथ्रोनसीन
    • क्रीजोटीनीब
    • डाब्राफेनीब
    • डेलामैनीड
    • डेसीप्रामीन
    • डेसलोरेलीन
    • डीबेनजेपीन
    • डीसोपेरामाइड
    • डेफोटीलाइड
    • डोलासेट्रोनय
    • डेमोप्रीडोन
    • डेक्सोपीन
    • ड्रोप्रीडोल
    • इनकीनाइड
    • इनफ्लूरेन
    • इरीथ्रोमाइसीन
    • फ्लेनाइड
    • फ्लुकोनाज़ोल
    • फ्लुक्सोटाइन
    • फॉसक्रेनेट
    • जेमीफ्लोसीसीन
    • जिन्कगो बिलोबा
    • गोनाड्रोलीन
    • गोसेरेलिन
    • हेलोफ्रेट्राइन
    • हेलोपेरीडोल
    • हीसट्रीलीन
    • हाईड्रम्रोफोन
    • इब्यूडिलाइट
    • इमीप्राइमीन
    • इवाब्राडाइन
    • लाइनजोलीड
    • लिथियम
    • लोर्केनाइड
    • मेफ्लोक्विन
    • मेट्रोनिडाजोल
    • मिल्नासिप्रेन
    • मॉक्सीफ्लॉक्सिन
    • नैफेरेलिन
    • ओक्ट्रेओटाइड
    • प्रोकेनामाइड
    • प्रोपाफेनोन
    • सर्टालाइन
    • सेवोफ्लूरेन
    • सिमवास्टेटिन
    • सोटालोल
    • स्पिरामायसिन
    • स्लूफेमेथॉक्साजोल
    • स्लूफेमथोक्साइड
    • स्लूटोप्राइड
    • टेडीसामिल
    • टेलीथ्रोमीसीन
    • ट्रेट्राहबेनजाइन
    • टेरामाडोल
    • ट्रीफ्लोपेराजाइन
    • ट्रीमेथोप्रीम
    • ट्रीमीप्रामाइन
    • ट्रीपोट्रोलीन
    • वेनडेटानीब
    • वेम्रूफेनीब
    • वीनूफ्लूनाइन
    • जेटोपीन

    निम्नलिखित दवाओं में से किसी के साथ इस दवा का उपयोग करने से आपको कुछ साइड इफेक्ट्स का खतरा हो सकता है, तो वहीं किसी दवा के साथ इसका उपयोग आपके उपचार को अच्छा परिणाम देने वाला हो सकता है। अगर आप दोनों दवा का सेवन एक साथ करते हैं तो डॉक्टर आपकी खुराक में कुछ बदलाव कर सकते हैं।

    • कार्बामेजापाइन
    • सिमेटिडाइन
    • इंट्रोकनोजेल
    • लामोत्रिगिने
    • लेवोफेनोल
    • मेथाडोन
    • मीडोड्राइन
    • पैरोक्सटाइन
    • फ़िनाइटोइन
    • रेनीटिडिन
    • रीटोनोवीर
    • वैल्प्रोइक एसिड

    क्या भोजन या एल्कोहॉल के साथ रिसपेरीडोन (Risperidone) का इस्तेमाल किया जा सकता है?

    अगर किसी भी भोजन या एल्कोहॉल के साथ रिसपेरीडोन का सेवन किया जाए तो इसके परिणाम खतरनाक हो सकते हैं। इसलिए इसे किस तरह के खाद्य पदार्थों के साथ इस्तेमाल किया जा सकता है इसके बारे में अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से बातचीत करें।

    रिसपेरीडोन (Risperidone) खाने से स्वास्थ्य पर किस तरह का प्रभाव पड़ सकता है?

    रिसपेरीडोन (Risperidone) आपकी स्वास्थ्य की स्थिति के अनुसार काम करता है। कई मामलों में यह दवा घातक साबित हो सकती है। इसलिए जरूरी है कि इसके इस्तेमाल से पहले अपने स्वास्थ्य की मौजूदा स्थिति के बारे में डॉक्टर को बताएं। अगर इनमें से किसी भी तरह की कोई बीमारी आपको है तो:

    • निमोनिया का रिस्क या कभी पहले ऐसा रहा हो
    • ब्लड सर्कुलेशन प्रॉब्लम
    • डीहाईड्रेशन
    • डिमेंशिया , मानसिक संतुलन का खोना
    • निगलने में परेशानी- साइड इफेक्ट के कारण हालात और भी ज्यादा खराब हो सकते हैं.
    • ब्रेस्ट कैंसर, प्रोलैक्टिन-डिपेंडेंट
    • डायबिटीज
    • मिर्गी
    • हार्ट और ब्लड वेसल्स प्रॉब्लम, स्ट्रोक और अनियमित हार्टबीट्स
    • हाइपरग्लेसेमिया (हाई ब्लड शुगर)
    • हाइपरप्रोलैक्टिनीमिया (हाई प्रोलैक्टिन इन ब्लड) या
    • पार्किंसंस रोग- आपकी कंडिशन को और भी ज्यादा खराब कर सकता है।
    • किडनी की बीमारी
    • लिवर की बीमारी वाले लोग इस दवा का इस्तेमाल ध्यान से करें।
    • फेनिलकेटोनुरिया (पीकेयू) – ओरल डिसीटीनग्रेटिंग टैबलेट में पहले से ही एस्पार्टेम हो सकता है, जो इस स्थिति को बिगाड़ सकता है।

    डॉक्टर की सलाह

    नीचे दी गई जानकारी किसी चिकित्सक की सलाह नहीं है। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट से संपर्क करें।

    रिसपेरीडोन (Risperidone) कैसे उपलब्ध है?

    रिसपेरीडोन निम्नलिखित खुराकों के तौर पर उपलब्ध है:

    टैबलेट 0.25 मिग्रा ; 0.5 मिग्रा ; 1 मिग्रा ; 2 मिग्रा ; 3 मिग्रा ; 4 मिग्रा

    इमरजेंसी या ओवरडोज होने की स्थिति में क्या करना चाहिए?

    इमरजेंसी या ओवरडोज होने की स्थिति में अपने स्थानीय आपातकालीन सेवाओं को कॉल करें या अपने नजदीकी इमरजेंसी में वॉर्ड जाएं।

    ओवरडोज के निम्नलिखित लक्षण देखें जा सकते हैं

    • झपकी महसूस होना
    • तेज, या अनियमित हार्ट बीट्स
    • पेट की खराबी
    • धुंधला दिखाई देना
    • बेहोशी
    • सिर चकराना
    • दौरे आना

    क्या करना चाहिए अगर एक खुराक लेना भूल जाएं?

    अगर रिसपेरीडोन की खुराक लेना भूल जाते हैं तो याद आने पर जल्द से जल्द अपनी खुराक लें। हालांकि, अगर इसके कुछ ही समय बाद आपको अपनी अगली खुराक लेनी हो तो इसे न लें और अपनी नियमित खुराक के अनुसार ही इसका सेवन करते रहें।

    यह भी पढ़ें- क्या स्तनपान के दौरान दवाएं लेना सुरक्षित है?

    [mc4wp_form id=”183492″]

    हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सक सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    Mayank Khandelwal


    Anoop Singh द्वारा लिखित · अपडेटेड 21/05/2020

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement