home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम और उचार, जानें यहां

टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम और उचार, जानें यहां
डायबिटीज आज के समय में लोगों में सबसे अधिक देखी जाने वाली समस्याओं में से एक है। डायबिटीज पेशेंट को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, जिसमें एक उनकी सेक्शुअल हेल्थ प्रॉब्लम भी एक है। टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम (Sex problems in women with type 1 diabetes) देखी गई है, जिसका असर कई बार उनके रिलेशनशिप में भी देखने को मिलता है। ऐसे होने के पीछे कई कारण हाे सकते हैं। आइए जानते हैं टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम (Sex problems in women with type 1 diabetes) क्यों होती हैं और इसका उपचार क्या है? इसके अलावा उन्हें किन-किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इससे पहले यह भी जान लेते हैं कि टाइप-1 डायबिटीज क्या है और इसके लक्षण क्या है? आइए जानें मधुमेह के सेक्स जीवन पर असर के बारे में

टाइप-1 डायबिटीज क्या है (what is type 1 diabetes)?

टाइप 1 डायबिटीज, जिसे जुवेनाइल डायबिटीज भी कहते हैं। टाइप-1 डायबिटीज एक प्रकार की ऑटो इम्यून डिजीज है। जिसमें जीन में हुई गड़बड़ी के कारण यह समस्या होती है। जिसमें अग्न्याशय बहुत कम मात्रा में या बिल्कुल भी इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाता है। इंसुलिन एक हॉर्मोन है, जो ग्लूकोज को ऊर्जा के उत्पादन करने के लिए कोशिकाओं में पहुुंचाने का काम करता है। हालांकि टाइप 1 मधुमेह आमतौर पर बचपन या किशोरावस्था के दौरान देखने को मिलता है, यह वयस्कों में विकसित हो सकता है। सक्रिय शोध के बावजूद, टाइप 1 मधुमेह का कोई इलाज नहीं है। उपचार जटिलताओं को रोकने के लिए इंसुलिन, आहार और जीवन शैली के साथ ही इसे मैनेज किया जा सकता है। पैन्क्रियाज हमारे शरीर का एक महत्पूर्ण अंग है, जिसकी इंसुलिन बनाने वाली बीटा कोशिकाएं वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण या एंटीबॉडीज के बनने से जब नष्ट हो जाती हैं तो इंसुलिन बनना कम या बंद हो जाता है।

टाइप-1 डायबिटीज के लक्षण (Symptoms of type 1 diabetes)

टाइप 1 मधुमेह के लक्षण रोगी में अचानक से नजर आ सकते हैं और इन मरीजों में विभिन्न हृदय संबंधी समस्याओं के जोखिम को बढ़ाता है, जिसमें सीने में दर्द (एनजाइना), दिल का दौरा, स्ट्रोक, धमनियों का संकुचित होना (एथेरोस्क्लेरोसिस) और उच्च रक्तचाप के साथ कोरोनरी धमनी की बीमारी के खतरे अधिक होते हैं। अगर टाइप 1 डायबिटीज की बात करें, तो इन लक्षणों में शामिल हैं:

और पढ़ें: एकरबोस: जानिए, टाइप 2 डायबिटीज में प्रयोग होने वाली इस दवा के क्या हैं साइड इफेक्ट्स?

टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम (What are the sex problems in women with type 1 diabetes?)?

डायबिटीज के मरीजों को कई तरह की पेशानियों का सामना करना पड़ता है। कई बार उनकी इस समस्या के कारण महिलाओं की सेक्स लाइफ भी प्रभावित हो रही होती है। डायबिटीज के मरीजों में सेक्स के प्रति रूचि भी कम देखने को मिलती है। इतना ही नहीं कई महिलाओं का यौन जीवन का आनंद भी समाप्त हो जाता है। महिलाओं और पुरूषों दोनों पर ही मधुमेह का अलग-अलग नकारात्मक प्रभाव हो सकते हैं। । मधुमेह रोगियों में सेक्स संबंधी समस्या़एं आम व्यक्ति के मुकाबले अधिक होती है। मधुमेह रोगियों में पुरूषों और महिलाओं की सेक्स समस्याएं अलग-अलग देखी जाती हैं। जैसे कि पुरूषों में डायबिटीज के कारण, जो प्रॉब्लम आती है, वो है उनके लिंग में तनाव का आना। मधुमेह के रोगी में अक्सर में हाय ब्लड प्रेशर की समस्या भी देखी जाती है। टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम में होने वाली समस्याओं में शामिल हैं:

  • महिलाओं में डायबिटीज के कारण उन्हें सेक्स के दौरान दर्द की शिकायत हो सकती है या फिर वह पूरी तरह से सेक्स के दौरान संतुष्ट भी नहीं हो पाती है । धीरे-धीरे सेक्स के प्रति रूचि भी कम होती जाती है।
  • इतना ही नहीं, कई बार सेक्स के दौरान डायबिटीज से पीड़ित महिलाओं को अचानक से अवसाद भी महसूस होता है और वो जल्दी ही थकान महसूस करने लगती हैं। जिसकी वजह से सेक्स चरम सीमा तक नहीं पहुंच पाता है।
  • कई महिलाओं में डायब चिड़चिड़ापन अधिक के कारण उनमें उत्तेजना में कमी आने लगती है। इस कारण वो सेक्स लाइफ एन्जॉय नहीं कर पाती हैं।
  • डायबिटीज के रोगी को सेक्स के दौरान योनि में सूखेपन की भी समस्या हो सकती है। डायबिटीज से ग्रस्त महिलाओं के यौनि का सूखापन सबसे आम यौन समस्या है। उच्च रक्त शर्करा का स्तर योनि की दीवार में रक्त वाहिकाओं को सख्त कर सकता है।
  • यदि आपका ब्लड शुगर नियंत्रित नहीं है, तो आपको यीस्ट या यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन होने की भी अधिक संभावना है। उनके कारण होने वाली खुजली, जलन और जलन सेक्स को असहज कर सकती है।

और पढ़ें: एनपीएच इंसुलिन: ब्लड शुगर लेवल को तुरंत कर देता है कम, डायबिटीज टाइप 1 और टाइप 2 दोनों के लिए है उपयोगी

डाॅक्टर से बात करें (Talk to the doctor)

टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम होने पर अपने डॉक्टर से बात करें। कई महिलाएं शर्म के कारण ऐसा नहीं कर पाती है, लेकिन यहआपको अपने डॉक्टर से बात करने की जरूरत है। आपका डॉक्टर आपकी समस्याओं के संभावित कारणों को कम करने और उपचार सुझाने में मदद कर सकता है। कुछ कारणों को मधुमेह से नहीं जोड़ा जा सकता है। टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम के इलाज के लिए डॉक्टर एंटीडिप्रेसेंट और ब्लड प्रेशर की गोलियां जैसी दवाएं भी दे सकते हैं। कुछ दवाएं आपके यौन जीवन को प्रभावित कर सकती हैं। यदि ऐसा लग रहा है, तो आपको डॉक्टर से बताने की जरूरत है। यदि आप अपने डॉक्टर से सेक्स के बारे में बात करने में असहज महसूस कर रहे हैं, तो किसी ऐसे डॉक्टर से मिलें जो यौन चिकित्सा में विशेषज्ञता रखते हों, क्योंकि आपकी इस समसा का समय रहते उचार होना बहुत जरूरी है।

और पढ़ें: मोटापे और डायबिटीज से इंसुलिन रेजिस्टेंस का होना हो सकता है खतरे का संकेत!

इसके अलावा, टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम होने पर महिलाएं अपने साथी के साथ बात करें और उन्हें अपनी समस्या के बारे में बताएं। ये मुद्दे आपके रिश्ते पर भारी पड़ सकते हैं, खासकर यदि आप इस समस्या को छुपा कर रखती हैं। अपने रिश्ते को ठोस आधार पर रखने के लिए, आप जो महसूस कर रहे हैं, उसके बारे में बात करना महत्वपूर्ण है। आपका अपने साथी से खुलकर बात करने से आपके यौन संबंधों को प्रभावित करने वाले किसी भी तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है

और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज का ट्रीटमेंट आसान बनाती हैं ये दवाएं, ब्लड शुगर को कम करने में करती हैं मदद

टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम होनवाली समस्याओं के बारे में जाना आपने। डायबिटीज एक गभीर समस्या है, जिसका समय पर इलाज होना बहुत जरूरी है। डायबिटीज के मरीजों के लिए एक अच्छी लाइफस्टाइल का होना बहुत जरूरी है। डायबिटीज को कंट्रोल में रखकर एक अच्छी सेक्शुअल लाइफ को जीया जा सकता है। टाइप 1 डायबिटीज से ग्रसित महिलाओ में सेक्स प्रॉब्लम के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डाॅक्टर से संपर्क करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड