अस्थमा के मरीजों के लिए डाइट प्लान- क्या खाएं और क्या न खाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट दिसम्बर 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

अस्थमा ऐसी बीमारी हैं जिसमें पीड़ित व्यक्ति को सांस लेने में समस्या होती है। अस्थमा में सांस लेने की नली तंग हो जाती है और इसी वजह से सांस लेने में परेशानी होती है। अस्थमा का इलाज संभव है, लेकिन इसके रोगी को बहुत अधिक ध्यान रखना पड़ता है। खासतौर पर अपने खाने-पीने का। अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति को अस्थमा डाइट प्लान के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। क्योंकि, इससे वो इस समस्या से कुछ हद तक राहत पा सकते हैं। जानिए अस्थमा में आपको क्या खाना चाहिए और क्या नहीं। पाइये अस्थमा डाइट प्लान की पूरी जानकारी।

अस्थमा में क्या खाएं

अस्थमा डाइट प्लान से पहले जानें अस्थमा में कौन-कौन से खाद्य पदार्थ खाने चाहिए।

इस बात के पर्याप्त सुबूत मौजूद हैं कि विटामिन C और E, बीटा कैरोटीन, फ्लैवोनॉइडस, मैग्नीशियम, सेलेनियम और ओमेगा-3 फैटी एसिडस युक्त खाद्य पदार्थ खाने से अस्थमा के होने की संभावना कम हो जाती है।

और पढ़ें :कोरोना की वजह से अस्थमा के मरीजों को मिला है फायदा या नुकसान, जानें

  • विटामिन C :  विटामिन C युक्त खाद्य पदार्थ हैं खट्टे फल, हरी पत्तेदार सब्जियां, कीवी, ब्रोकली, टमाटर, मटर आदि।
  • विटामिन E युक्त आहार : विटामिन E युक्त आहार जैसे पालक, आम,बादाम, मूंगफली, पीनट बटर, सूरजमुखी के बीज आदि।
  • बीटा कैरोटीन युक्त आहार : बीटा कैरोटीन युक्त खाद्य पदार्थ जैसे गाजर, रेड पेपर , हरी पत्तेदार सब्जियां, सूखे खुबानी, शकरकंदी आदि।
  • ओमेगा-3 फूड्स : ओमेगा-3 फूड्स जैसे सालमोन मछली, टूना मछली, अलसी के बीज आदि।
  • फ्लेवोनॉइडस : फ्लेवोनॉइडस ग्रीन और ब्लैक टी, सेब, प्याज,  सलाद, टमाटर, बीन्स, शकरकंद और क्विनोआ आदि में पाए जाते हैं।
  • विटामिन D : लोग जिन्हें अस्थमा होता है, उनका विटामिन D का लेवल कम होता है। इसलिए इस लेवल को सही रखने के लिए इसकी पर्याप्त मात्रा लेना आवश्यक है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

क्या न खाएं

अस्थमा डाइट प्लान से पहले आपका यह जानना भी आवश्यक है कि आपको इसमें क्या नहीं खाना चाहिए। जानें क्या न खाएं अस्थमा होने पर:

  • अस्थमा में ऐसे भोजन या खाद्य पदार्थों से दूर रहें, जिसमें सल्फाइट की मात्रा हो। सल्फाइट एक केमिकल होता है जो कुछ खाद्य पदार्थों में होता है। यह एक खाद्य परिरक्षक के रूप में कार्य करता है। इससे अस्थमा की समस्या बढ़ती है और लक्षण गंभीर हो सकते हैं। सल्फाइट वाइन, सूखे मेवे, अचार, प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थों, सूखे फल, डिब्बाबंद सब्जियां और मसालों आदि में पाया जाता है। इसके साथ ही यह कुछ सब्जियों जैसे प्याज में प्राकृतिक रूप से पाया जाता है। कॉर्न स्ट्रेच या सोया में भी होता है। 
  • सल्फाइट्स कई नामों से खाद्य पदार्थों में पाया जाता है जैसे सल्फर डाइऑक्साइड, सोडियम सल्फाइट, सोडियम मेटाबिसल्फाइट, पोटेशियम बिसल्फाइट और पोटेशियम मेटाबिसल्फाइट। हालांकि, अस्थमा से पीड़ित सभी लोग सल्फाइट के साइड इफेक्टस को अनुभव नहीं करेंगे। यदि आप सल्फाइट वाले खाद्य पदार्थों के प्रति संवेदनशील महसूस करते हैं, तो एक डायरी में नोट करें और उन खाद्य पदार्थों से बचें, जिनमें सल्फाइट होते हैं। अगर सल्फाइट युक्त आहार का आप सेवन करें, तो थोड़ा ध्यान रखें। हो सके तो ऐसे खाद्य पदार्थों को अस्थमा डाइट प्लान में शामिल न करें।

और पढ़ें:अस्थमा के बारे में क्विज खेलें और जानें

अस्थमा डाइट प्लान

अगर आप अस्थमा के शिकार हैं तो आपका अस्थमा डाइट प्लान इस प्रकार होना चाहिए:

  • सुबह उठ कर सबसे पहले एक-दो गिलास गुनगुना पानी अवश्य पीएं।
  • नाश्ता (8 :30 AM) : दलिया/ पोहा/ स्प्राउट्स/ उपमा या आप रोटी + उबली हुई सब्जी और फल भी खा सकते हैं।
  • दिन का भोजन(12:30-01:30 PM) 1 कटोरी हरी सब्जियां+ दो रोटी  + 1 कटोरी डाल + सलाद / खिचड़ी ।
  • शाम का नाश्ता (05:30-06:00 PM) शाम के नाश्ते में आप सूप/ जूस या फलों को काट कर खा सकते हैं। 
  • रात का भोजन (7:00-8:00 PM)  2 रोटियां  + 1 कटोरी हरी सब्जियां  + 1 कटोरी दाल खा सकते हैं। 
  • सोने से पहले आप एक गिलास गर्म दूध भी पी सकते हैं

क्या भोजन अस्थमा के लक्षणों पर अपना प्रभाव डाल सकता है?

हालांकि अस्थमा डाइट प्लान अस्थमा के लक्षणों को पूरी तरह से खत्म करने में प्रभावी नहीं हैं। लेकिन कुछ हद तक इसके लक्षण कम हो सकते हैं। कुछ अन्य आसान उपाय भी इसमें आपकी मदद कर सकते हैं। यह उपाय इस प्रकार हैं:

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी में अस्थमा की दवाएं खाना क्या बच्चे के लिए सुरक्षित हैं?

अपने वजन को संतुलित रखें

वजन का बढ़ना अस्थमा को बदतर बना सकता है। थोड़े से वजन को कम करके आप लक्षणों को सुधार सकते हैं। इसके लिए अपने आहार में बदलाव करें और साथ ही अपनी दिनचर्या को भी बदलें।

अधिक फल और सब्जियां खाएं

अस्थमा डाइट प्लान में अधिक से अधिक फल और सब्जियां होनी आवश्यक हैंफल और सब्जियां एंटीऑक्सीडेंट्स का अच्छा स्त्रोत है जैसे बीटा कैरोटीन और विटामिन C और E, इससे फेफड़ों में सूजन और जलन कम हो सकती है। जो कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाले केमिकल जिन्हें फ्री रेडिकल के कारण होती है।

दूध या दूध से बनी चीजें

ऐसा माना जाता है कि दूध या दूध से बनी चीज़ें, इसके लक्षणों को बदतर बना सकते हैं। लेकिन यह सच नहीं है। बल्कि दूध, पनीर और दही संतुलित आहार का हिस्सा हैं, इसलिए आप इन्हे ले सकते हैं।

और पढ़ें : Asthma: दमा अस्थमा क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

शारीरिक गतिविधियां

अस्थमा को अपनी शारीरिक गतिविधियों को कम न करने दें। रोजाना कम से कम 30 मिनटों तक कोई न कोई एक्सरसाइज करें।  एक्सरसाइज के बाद अस्थमा के लक्षण दिखाई देने सामान्य है। लेकिन इनका  उपचार संभव है। अगर एक्सरसाइज करने के बाद आपको अस्थमा के लक्षण दिखाई दें तो अपने डॉक्टर से सही इलाज कराएं। एक्सरसाइज को करने से पहले डॉक्टर की सलाह भी ले सकते हैं। स्विमिंग, बाइकिंग और सैर आपके लिए बेहतर व्यायाम हैं। इन्हें  करने से पहले वार्म अप अवश्य करें। अगर मौसम ठंडा है तो मुंह और नाक को ढकें। अगर आपको एलर्जी है तो बाहर एक्सरसाइज से बचे।

तनाव से बचे

अस्थमा डाइट प्लान के साथ ही अन्य उपाय भी अस्थमा के लक्षणों को कम करने में प्रभावी हैं। उन्हीं में से एक है तनाव से दूर रहना। तनाव, चिंता या अवसाद की स्थिति अस्थमा को बदतर बना सकती है। इसलिए तनाव से दूर करने के लिए योग, ध्यान, व्यायाम करें। अपनी पसंद के कार्य करें। पूरी नींद लें और इसके साथ ही व्यस्त रहें। डॉक्टर की सलाह भी ली जा सकती है।

अस्थमा के लक्षणों से राहत पाने के लिए आपको क्या खाना है और क्या नहीं इस बात का ध्यान रखना आवश्यक है लेकिन अस्थमा डाइट चार्ट का पालन करना आपके लिए विकल्प हो सकता है। लेकिन यह सहित है कि इस डाइट चार्ट का पालन करने से आपके अस्थमा के लक्षण कुछ हद तक कम हो सकते हैं और आपके स्वास्थ्य में सुधार होगा। किसी भी तरह के डाइट प्लान को शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से एक बार अवश्य पूछें। क्योंकि, डॉक्टर आपकी उम्र, मेडिकल स्थिति और अन्य बातों को ध्यान में रखकर आपको सही सलाह देंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

अभिनेत्री वाणी कपूर कैसे रहती हैं इतनी फिट, जानिए उनका फिटनेस सिक्रेट

वाणी कपूर डाइट, वाणी कपूर फिटनेस प्लान, फिट एक्ट्रेस वानी कपूर, वाणी कपूर की फिटनेस के बारे में जानकारी, Vaani kapoor diet in hindi, Vaani kapoor

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
लोकल खबरें, स्वास्थ्य बुलेटिन जुलाई 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Seroflo 250 Inhaler : सेरोफ्लो 250 इंहेलर क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

सेरोफ्लो 250 इंहेलर जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, सेरोफ्लो 250 इंहेलर का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Seroflo 250 Inhaler डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

सोरायसिस के मरीजों के लिए डाइट प्लान कैसा होना चाहिए, जानिए

सोरायसिस डाइट प्लान, सोरायसिस डाइट प्लान में क्या खाएं, क्या न खाएं, सोरायसिस डाइट कैसी होनी चाहिए,psoriasis diet chart in hindi, psoriasis diet in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
त्वचा की बीमारियां, हेल्थ सेंटर्स जुलाई 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

रूमेटाइड अर्थराइटिस के लिए डाइट प्लान: इसमें क्या खाएं और क्या न खाएं?

रूमेटाइड अर्थराइटिस के लिए डाइट प्लान, रूमेटाइड अर्थराइटिस में क्या खाएं, क्या न खाएं, इस की डाइट की जानकारी, arthritis diet plan, arthritis

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन जुलाई 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

फेफड़ों की सफाई

वर्ल्ड लंग्स डे: इस तरह कर सकते हैं फेफड़ों की सफाई, बेहद आसान हैं तरीके

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
टस्क-डी लॉजेंजेस tusq-D

Tusq-D Lozenges : टस्क-डी लॉजेंजेस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ अगस्त 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
हाथ और स्वास्थ्य के बारे में क्विज

Quiz : हाथ किस तरह से स्वास्थ्य स्थितियों के बारे में बता सकते हैं, जानने के लिए खेलें यह क्विज

के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 25, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
फोराकोर्ट 200 इनहेलर Foracort 200 Inhaler

Foracort 200 Inhaler : फोराकोर्ट 200 इनहेलर क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 5, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें