home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

बीटा ब्लॉकर्स: हायपरटेंशन से लेकर हार्ट अटैक तक दिल से जुड़ी बीमारियों के इलाज में हैं उपयोगी

बीटा ब्लॉकर्स: हायपरटेंशन से लेकर हार्ट अटैक तक दिल से जुड़ी बीमारियों के इलाज में हैं उपयोगी

हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers in Heart Problems) का उपयोग किया जाता है। बीटा ब्लॉकर्स ड्रग्स को बीटा एड्रेनेरजिक (Beta-adrenergic) ब्लॉकिंग एजेंट्स भी कहा जाता है। ये नॉरएपिनेफ्रीन और एपिनेफ्रीन (Norepinephrine and epinephrine) को ब्लॉक करके काम करते हैं। इन दोनों को नर्व्स के साथ ही एड्रेनल ग्लैंड प्रोड्यूस करती है। ये न्यूरोट्रांसमीटर के रूप में कार्य करते हैं। जब ये ब्लड में रिलीज होते हैं तो जहां से इनका निमार्ण होता है वहां या पूरे शरीर में कहीं भी एक्टिव हो सकते हैं।

बॉडी में अल्फा और बीटा दोनों रिसेप्टर्स होते हैं। बीटा रिसेप्टर्स तीन प्रकार के होते हैं। वे बॉडी में उनकी लोकेशन के हिसाब से कई अलग-अलग कार्यों को नियंत्रित करते हैं।

  1. बीटा-1 beta-1 (β1) रिसेप्टर्स हार्ट (Heart), आय (Eye) और किडनी (Kidney) में होते हैं।
  2. बीटा-2 beta (β2) रिसेप्टर्स लंग्स (Lung), लिवर (Liver), यूटेरस (Uterus), ब्लड वेसल्स, स्केलेटल मसल और गेस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रेक्ट में पाए जाते हैं।
  3. बीटा-3 beta (β3) रिसेप्टर्स फैट सेल्स में स्थित होते हैं।

हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers in Heart Problems) बी1 और बी2 रिसेप्टर्स को ब्लॉक करके काम करते हैं। ये हार्ट रेट को कम करने के साथ ही ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) को कम करने, ब्लड वेसल्स को डायलेट करने में मददगार हैं।

और पढ़ें: हार्ट इन्फेक्शन में एंटीबायोटिक आईवी : इस्तेमाल करने से पहले जान लें ये बातें!

बीटा ब्लॉकर्स के साइड इफेक्ट्स क्या हैं? (Side effects of beta blockers)

हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers in Heart Problems) उपयोगी तो हैं, लेकिन ये निम्न परेशानियों का कारण बन सकते हैं:

  • डायरिया
  • पेट में दर्द
  • जी मिचलाना
  • वॉमिटिंग
  • रैशेज
  • धुंधला दिखाई देना
  • इंसोम्निया
  • बालों का झड़ना
  • कमजोरी
  • मसल क्रैम्प
  • थकान

हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers in Heart Problems)

बीटा ब्लॉकर्स हार्ट रेट को कम करने के साथ ही ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद कर सकते हैं, लेकिन कुछ मरीजों में इनके उपयोग से हार्ट फेलियर या हार्ट ब्लॉक की परेशानी भी हो सकती है। हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers in Heart Problems) का उपयोग कर रहे हैं तो इनका उपयोग अचानक बंद नहीं किया जाना चाहिए। ये चेस्ट पेन को बढ़ाने के साथ ही हार्ट अटैक (Heart attacks) और एब्नॉर्मल हार्ट रिदम (Abnormal heart rhythm) का कारण बन सकते हैं। बीटा ब्लॉकर्स सेंट्रल नर्वस सिस्टम को भी ब्लॉक कर सकते हैं। इनके उपयोग से निम्न परेशानियां हो सकती हैं:

और पढ़ें: Aortic Valve Replacement : एरोटिक वाल्व रिप्लेसमेंट क्या है?

किन हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स का उपयोग किया जाता है? (Beta blockers uses)

बीटा ब्लॉकर्स का उपयोग निम्न कंडिशन्स के उपचार में किया जाता है।

हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers in Heart Problems)

यहां हम आपको कुछ ऐसी बीटा ब्लॉकर्स की जानकारी दे रहे हैं जिनका उपयोग हार्ट डिजीज के इलाज में किया जाता है, लेकिन इनका उपयोग डॉक्टर की सलाह बिना ना करें।

1. कार्डिवस (Cardivas)

कार्डिवस का उपयोग हायपरटेंशन, एंजाइना और हार्ट फेलियर के इलाज में किया जाता है। इसमें एक्टिव इंग्रीडिएंट के रूप में कार्वेडिलॉल (Carvedilol) पाया जाता है। यह हार्ट रेट को कम करके ब्लड वेसल्स को रिलैक्स करे का काम करता है। जिससे हार्ट अच्छी तरह काम करके बॉडी में ब्लड पंप करने में सक्षम होता है।

इस दवा को उपयोग करने से ब्लड प्रेशर में कमी, सिर में दर्द, थकान और चक्कर आना ऐसी परेशानियां होती हैं। दवा का उपयोग खाने के साथ किया जाना चाहिए। कार्डिवस का उपयोग करने के बाद ब्लड प्रेशर को नियमित रूप से चेक करना चाहिए और अगर इसमें कोई सुधार नहीं है, तो डॉक्टर को इस बारे में बताएं। दवा का उपयोग करते वक्त एल्कोहॉल का उपयोग न करें। कार्डिवस का उपयोग अचानक से बंद ना करें। इससे ब्लड प्रेशर अचानक बढ़ सकता है। इस दवा की ऑनलाइन कीमत 40 रुपए है।

और पढ़ें: हार्ट फेलियर से बचने के लिए किन आयनोट्रोप्स का किया जाता है इस्तेमाल?

2.बीटा टैबलेट (Beta Tablet)

यह बीटा ब्लॉकर्स ग्रुप से संबंधित है। हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers in Heart Problems) का उपयोग हाय ब्लड प्रेशर और हार्ट से रिलेटेड चेस्ट पेन, एरिदमिया के इलाज में किया जाता है। यह दवा इन सभी के इलाज में उपयोग की जाती है। इसके साथ ही यह भविष्य में आने वाले हार्ट अटैक के साथ ही माइग्रेन और स्ट्रोक को भी रोकने में मदद करती है। इसमें एक्टिव कंपाउंड के रूप में एटेनोलॉल (Atenolol) पाया जाता है।

यह दवा ओवरएक्टिव थायरॉइड ग्लैंड के एक्टिव होने पर दिखाई देने वाले लक्षणों को कम करने में भी मदद करती है। इसे अकेले या किसी अन्य दवा के साथ प्रिस्क्राइब किया जा सकता है। इसका डोज और फ्रिक्वेंसी कंडिशन की गंभीरता पर निर्भर करती है। दवा का उपयोग खाली पेट या खाने के साथ किया जा सकता है, लेकिन इसके फायदे प्राप्त करने के लिए एक ही समय पर इसका सेवन करें। लक्षण कम होने या अच्छा फील होने पर भी दवा का उपयोग जारी रखें।

इस दवा के कॉमन साइड इफेक्ट्स में थकान, हार्ट रेट का स्लो होना, डायरिया हैं। लिवर प्रॉब्लम होने पर दवा का उपयोग करने से पहले डॉक्टर को इसके बारे में जरूर बताएं। दवा की ऑनलाइन कीमत 22 रुपए के लगभग है।

3.बीटा कैप (Betacap)

हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers in Heart Problems) का उपयोग डॉक्टर्स की रिकमंडेशन पर ही किया जाने चाहिए। बीटा कैप भी बीटा ब्लॉकर्स ग्रुप से संबंधित है। इस दवा का उपयोग हायपरटेंशन, माइग्रेन को रोकने, एंजायटी, एरिदमिया, हार्ट अटैक, एंजाइना के इलाज में होता है। इस ड्रग में एक्टिव कंपाउंड के रूप में प्रोप्रेनालोल (Propranolol) पाया जाता है। यह हार्ट रेट को कम करके हार्ट का पंप करना आसान बनाता है। प्रोप्रेनालोल (Propranolol) कैमिकल मैसेंजर एड्रेनालीन और नॉरएड्रेनालीन (Adrenaline and noradrenaline) हॉर्मोन्स के प्रभाव को ब्लॉक करके काम करता है।

इस दवा के साइड इफेक्ट्स में हार्ट रेट का कम होना, रात को बुरे सपने आना, बहुत ज्यादा ठंड लगना शामिल हैं। इस दवा का उपयोग करते वक्त शुगर लेवल को रेगुलरली मॉनिटर करना चाहिए। दवा की ऑनलाइन कीमत लगभग 76 रुपए है।

4.कोरबिस (Corbis)

हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स का उपयोग डॉक्टर ने जैसे प्रिस्क्राइब किया है वैसे ही करना चाहिए। कोरबिस भी बीटा ब्लॉकर है। इस दवा का उपयोग हायपरटेंशन, एरिदमिया, हार्ट अटैक, एंजाइना के इलाज में होता है। इस ड्रग में एक्टिव कंपाउंड के रूप में इसमें एक्टिव इंग्रीडिएंट के रूप में बिसोप्रोलोल (Bisoprolol) पाया जाता है।।

इस दवा के साइड इफेक्ट्स में सिर में दर्द, थकान, डायरिया, कब्ज, ठंड लगना शामिल हैं। इस दवा का उपयोग करते वक्त शुगर लेवल को रेगुलरली मॉनिटर करना चाहिए। इस दवा की ऑनलाइन कीमत 96 रुपए है।

और पढ़ें: Blood Thinner: हार्ट की समस्याओं को सुलझाने में इन ब्लड थिनर दवाओं का किया जाता है इस्तेमाल!

5.रेवेलॉल (Revelol)

हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers in Heart Problems) का उपयोग अचानक से बंद करना स्थिती को और गंभीर कर सकता है। रेवेलॉल एक बीटा ब्लॉकर है जिसका उपयोग हायपरटेंशन, एरिदमिया, हार्ट अटैक, एंजाइना, माइग्रेन के इलाज में होता है। इस ड्रग में एक्टिव कंपाउंड के रूप में मेटोप्रोलोल सक्सिनेट (Metoprolol Succinate) पाया जाता है।

इस दवा के साइड इफेक्ट्स में हार्ट रेट का कम होना, सिर में दर्द, चक्कर आना, थकान रात को बुरे सपने आना, बहुत ज्यादा ठंड लगना, हार्ट रेट का कम होना शामिल हैं। इस दवा की ऑनलाइन कीमत 64 रुपए है।

नोट : यहां बताई गई किसी भी दवा का उपयोग डॉक्टर की सलाह के बिना ना करें। हमारा उद्देश्य इन ब्रांड का प्रचार करना नहीं ब्लकि अपने पाठकों तक जानकारी पहुंचाना है। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि जहां से आप दवा खरीदते हैं उसकी कीमतों में यहां बताई कीमतों से अंतर हो सकता है।

उम्मीद करते हैं कि आपको हार्ट प्रॉब्लम में बीटा ब्लॉकर्स (Beta blockers in Heart Problems) के उपयोग से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट एक हफ्ते पहले को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड