home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

थोड़ी-थोड़ी पिएंगे तो भी हाइपरटेंशन पर शराब का पड़ेगा प्रभाव

थोड़ी-थोड़ी पिएंगे तो भी हाइपरटेंशन पर शराब का पड़ेगा प्रभाव

हाई ब्लड प्रेशर होने के कई कारण हो सकते है, उन्हीं में से एक शराब का सेवन करना भी है। हाइपरटेंशन पर शराब का प्रभाव यह है कि आप जितनी अधिक शराब पीते हैं उतना ही आपका ब्लड प्रेशर बढ़ने की संभावनाएं भी बढ़ जाती हैं। इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि हाइपरटेंशन पर शराब का प्रभाव किस प्रकार होता है? और उच्च रक्तचाप को रोकने या कम करने के लिए आपको क्या करना चाहिए?

हाइपरटेंशन पर शराब का प्रभाव : शराब हाई ब्लड प्रेशर को कैसे प्रभावित करती है?

वैसे तो कोई भी हाई ब्लड प्रेशर का शिकार हो सकता है लेकिन, कुछ लोग अपनी आदतों या शौक के कारण इस बीमारी को न्यौता देते हैं। इन्हीं में से एक है शराब या एल्कोहॉल का सेवन। जब कोई व्यक्ति एक मादक पेय का सेवन करता है तो ऐसे में ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। हालांकि यह आमतौर पर 2 घंटे के भीतर ठीक भी हो जाता है। हाई ब्लड प्रेशर की रोकथाम के लिए अमेरीकन हार्ट एसोसिएशन ने सुझाव दिया है कि पुरुषों को प्रति दिन 2 से अधिक ड्रिंक्स नहीं पीने चाहिए और महिलाओं को प्रतिदिन 1 से अधिक ड्रिंक का सेवन नहीं करना चाहिए।

अध्ययनों से पता चला है कि कई दिनों तक लगातार शराब का सेवन करने से ब्लड प्रेशर में निरंतर वृद्धि बनी रहती है। इस वजह से लगातार और लंबे समय तक भारी मात्रा में शराब पीने से क्रोनिक हाइपरटेंशन हो सकता है। क्रोनिक हाइपरटेंशन कोरोनरी आर्टरी की बीमारी का एक बहुत बड़ा खतरा है। एथेरोस्क्लेरोसिस जर्नल (Journal Atherosclerosis) के अनुसार वैज्ञानिकों ने पाया है कि लगातार शराब का सेवन करने से आर्टरी का संकुचित होना बढ़ जाता है। इससे दिल का दौरा या स्ट्रोक आ सकता है।

और पढ़ें: इन हाई ब्लड प्रेशर फूड्स को अपनाकर हाइपरटेंशन को दूर भगाएं!

हाइपरटेंशन पर शराब का प्रभाव : एल्कोहॉल से बढ़ता है वजन

शराब में कैलोरी और चीनी उच्च मात्रा में होती है। शराब से शरीर का वजन बढ़ता है और मोटापा हाई ब्लड प्रेशर के रिस्क को बढ़ा सकता है। कई अध्ययनों से यह भी पता चला है कि हाई बीएमआई एथेरोस्क्लेरोसिस से जुड़ा है जो स्ट्रोक या दिल के दौरे के रिस्क को बढ़ा सकता है। शराब के कारण दिमाग और लिवर पर बुरा असर पड़ता है।

हाइपरटेंशन पर शराब का प्रभाव : कम शराब भी हाइपरटेंशन पर प्रभाव डाल सकती है

एक स्टडी के अनुसार कम मात्रा में शराब पीने से भी हाई ब्लड प्रेशर का खतरा बढ़ सकता है। यानी अब यह बहाना नहीं चल सकता है कि हम तो कम शराब पीते हैं। हाइपरटेंशन की समस्या पर पर शराब का प्रभाव कम हो या ज्यादा दोनों का पड़ता है। इस स्टडी में अमेरिका के 17059 लोगों से बातचीत की गई। इसमें से पहला वर्ग वह था जिन्होंने कभी शराब नहीं पी थी। दूसरा वर्ग वह था जिन्होंने सप्ताह में 7 से 13 बार शराब का सेवन किया था। तीसरा वर्ग वह था जिन्होंने एक सप्ताह में 14 बार से ज्यादा शराब का सेवन किया था। स्टडी में पाया गया कि जिन लोगों ने हफ्ते में 7 से 13 बार शराब का सेवन किया उनको पहले वर्ग के मुकाबले अधिक तनाव रहा। यह खतरा 53 प्रतिशत तक देखा गया वहीं उनका ब्लड प्रेशर 128/79 mmHg देखा गया। वहीं जो लोग 14 बार से ज्यादा शराब पीते थे उनमें 69 प्रतिशत तनाव का खतरा था और उनका ब्लड प्रेशर 153/82 mmHg पाया गया।

और पढ़ें: जानें हाइपरटेंशन के प्रकार और इससे बचाव

हाइपरटेंशन पर शराब का प्रभाव : हाइपरटेंशन कम करने का तरीका

  • अमेरीकन हार्ट एसोसिएशन हाइपरटेंशन से बचने के लिए शराब के सेवन को सीमित करने की सलाह देता है।
  • महिलाओं को प्रतिदिन 1 से अधिक ड्रिंक नहीं लेनी चाहिए और पुरुषों को प्रतिदिन 2 से अधिक ड्रिंक्स का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • 65 वर्ष से कम आयु के पुरुषों को प्रति दिन दो ड्रिंक से ज्यादा नहीं लेनी चाहिए।
  • 65 वर्ष से अधिक आयु के पुरुषों को प्रतिदिन एक से अधिक ड्रिंक नहीं लेनी चाहिए।
  • महिलाओं को प्रति दिन एक ड्रिंक या इससेकम ही एल्कोहॉल लेनी चाहिए।
  • शराब का सेवन यदि बिल्कुल ही छोड़ सकते हैं तो छोड़ दें क्योंकि कुछ स्टडी के अनुसार कम पीना भी ब्लड प्रेशर को बढ़ा सकता है।
  • एल्कोहॉल यूज डिसऑर्डर (Alcohol Use Disorder) वाले लोग अचानक शराब पीना ना छोड़ें। इससे उनका ब्लड प्रेशर हाई हो सकता है और अन्य समस्याएं भी पैदा हो सकती हैं। किसी विशेषज्ञ की मदद लें और धीरे-धीरे शराब पीना छोड़ें।

हाइपरटेंशन पर शराब का प्रभाव अगर आपको जानना हो तो आप एक्सपर्ट से भी जानकारी ले सकते हैं।

और पढ़ें: जानिए हृदय रोग से जुड़े 7 रोचक तथ्य

हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन(Hypertension) क्या है?

हाइपरटेंशन का दूसरा नाम हाई ब्लड प्रेशर ही है। हाई ब्लड प्रेशर का अर्थ है रक्त वाहिकाओं यानी ब्लड वेसल में ब्लड का दबाव बढ़ना। रक्त का दबाव बढ़ने के कारण दिल और तेज काम करने लगता है। यही स्थिति हार्ट अटैक की समस्या और स्ट्रोक का समस्या के लिए जिम्मेदार होती है।

हाई ब्लड प्रेशर की रीडिंग कैसे करें?

नॉर्मल ब्लड प्रेशर क्या है?

सामान्यतौर पर रक्तचाप स्तर को 120/80 mmHg के तहत रीड किया जाता है। 120/80 mmHg रक्तचाप नॉर्मल होता है। जब इससे ज्यादा ब्लड प्रेशर जाने लगे तो इसे बढ़ा हुआ ब्लड प्रेशर कहा जाता है। 139/89 mmHg तक की रीडिंग को विशेषज्ञ बहुत गंभीर रूप से नहीं लेते। यह जरूर है कि 139/89 mmHg रक्तचाप होने के बाद आपको अपनी जीवनशैली में बदलाव लाने की जरूरत होती है।

हाई ब्लड प्रेशर क्या है?

140/90 mmHg से हाई ब्लड प्रेशर के खतरे की घंटी बज चुकी होती है। 140/ 90 mmHg से अधिक ब्लड प्रेशर को ही हाइपरटेंशन की श्रेणी में गिना जाता है।

और पढ़ें : हाइपरटेंशन के लिए हानिकारक फूड्स से दूर रहें और रहिये हेल्दी

हाइपरटेंशन(Hypertension) से बचने के अन्य तरीके

  • कार्डियो एक्सरसाइज दिल के लिए बहुत अच्छी मानी जाती है। यह हाई ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल में रखती है। इसलिए नियमित रूप से कार्डियो एक्सरसाइज को अपनी जीवनशैली का अभिन्न अंग बनाएं।
  • खाने में नमक या चीनी को कम करना बहुत जरूरी है।
  • चुकंदर, हरी सब्जियां, सीट्रस फ्रूट हाई ब्लड प्रेशर में लाभाकरी साबित हो सकते हैं।
  • हाइपरटेंशन पर शराब का प्रभाव तो बुरा पड़ता ही है। इसके साथ ही स्मोकिंग भी हाई ब्लड प्रेशर के लिए बहुत हानिकार होती है। इसलिए स्मोकिंग से दूरी बनाना भी जरूरी है।

हाइपरटेंशन पर शराब का प्रभाव क्या है? यह आप समझ ही गए होंगे। इसलिए कोशिश करें कि शराब का सेवन कम से कम या ना करें। शराब हाई ब्लड प्रेशर के साथ-साथ इंसोम्निया की समस्या, लिवर खराब करने, मोटापा बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हो सकती है। इसलिए इससे दूरी बनाने में ही समझदारी है। हाई ब्लड प्रेशर को कम करने या कंट्रोल में रखने के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज करना, खान-पान पर ध्यान देना और नियमित रूप से दवा लेना बहुत जरूरी है।

हाइपरटेंशन की समस्या किसी भी व्यक्ति को हो सकती है। अगर आप इस समस्या से पीड़ित हैं तो अपने डॉक्टर से जानकारी जरूर लें कि शराब का सेवन करने से आपके शरीर में किस तरह का प्रभाव पड़ सकता है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Alcohol: Does it affect blood pressure?https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/high-blood-pressure/expert-answers/blood-pressure/faq-20058254Accessed on 19/12/2019

To Drink or Not to Drink: High Blood Pressure and Alcoholhttps://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4038773/    Accessed on 19/12/2019

Alcoholism Definition: What Is Alcoholism or Alcohol Use Disorder?https://www.alcohol.org/alcoholism/Accessed on 19/12/2019

Alcohol andblood pressure https://www.drinkaware.co.uk/alcohol-facts/health-effects-of-alcohol/effects-on-the-body/alcohol-and-blood-pressure/Accessed on 19/12/2019

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Hema Dhoulakhandi द्वारा लिखित
अपडेटेड 24/04/2020
x