डेंटिस्ट ने बताया कि कैसे कोरोना लॉकडाउन में दांतों की सेहत का रखें ख्याल, आप भी जानिए

    डेंटिस्ट ने बताया कि कैसे कोरोना लॉकडाउन में दांतों की सेहत का रखें ख्याल, आप भी जानिए

    कोरोना लॉकडाउन में दांतों की सेहत को नजरअंदाज बिल्कुल नहीं करना चाहिए। माना कि लॉकडाउन के समय बेवजह घर से बाहर निकलने में पाबंदी है, लेकिन दांतों की समस्या को नजरअंदाज करके समस्या अधिक बढ़ सकती है। अगर किसी भी व्यक्ति को कोरोना लॉकडाउन में दांतों की सेहत सही नहीं लग रही है तो बेहतर होगा कि रोजाना कुछ बातों पर ध्यान दिया जाए और गंभीर समस्या होने पर फोन से डेंटिस्ट की हेल्प ली जाए। ये कहना है कानपुर के नागरजी डेंटल क्लीनिक की डेंटिस्ट ज्योतिका दुबे का। डेंटिस्ट ज्योतिका दुबे ने हैलो स्वास्थ्य से कोरोना महामारी के दौरान दांतों की देखभाल संबंधित सवालों के जवाब दिए और साथ ही कोरोना लॉकडाउन में दांतों की सेहत का ख्याल कैसे रखना है, इस बारे में भी जानकारी दी।

    ये भी पढ़ेंः कोरोना के पेशेंट को क्यों पड़ती है वेंटिलेटर की जरूरत, जानते हैं तो खेलें क्विज

    कोरोना लॉकडाउन में दांतों की सेहत : डेंटिस्ट के जवाब

    सवाल : कोरोना लॉकडाउन में दांतों की सेहत का ख्याल रखने के लिए क्या करना चाहिए ?

    डेंटिस्ट का जवाब : कोरोना लॉकडाउन में दांतों की सेहत को नजरअंदाज बिल्कुल न करें। अगर आप रोजाना कुछ बातों का ख्याल रखेंगे तो दांतों की आम समस्या से बच सकते हैं। मुंह की हाइजीन का ख्याल पूरी तरह से रखना जरूरी है। अगर आपको लगता है कि आपके दांतों में हल्का दर्द है या फिर दांतों में सड़न हो रही है तो बेहतर होगा कि आप रोजाना हाइजीन मेंटेन करें। जब भी खाना खाएं, मुंह को पानी से या फिर टूथ ब्रश की सहायता से नरम हाथों से साफ करें। अगर आपको गले का इंफेक्शन जल्दी हो जाता है तो बेहतर रहेगा कि गुनगुने पानी में थोड़ा सा नमक डालकर उससे गरारे करें। अगर घर में बीटा डीन उपलब्ध है तो पानी में बीटा डीन मिलाकर भी गरारे कर सकते हैं।

    ये भी पढ़ेंः कोरोना लॉकडाउन : खेलें क्विज और जानिए कि आप हैं कितने जिम्मेदार नागरिक ?

    सवाल : क्या आपके क्लीनिक में लॉकडाउन के समय पेशेंट आ रहे हैं ?

    डेंटिस्ट का जवाब : दांतों के मरीजों की संख्या फिलहाल घट चुकी है। जिन लोगों को दांतों की समस्या है, वो लोग लॉकडाउन के समय टीथ प्रॉब्लम को इग्नोर कर रहे हैं। ज्यादातर लोग फोन में दातों की समस्या का समाधान पूछ रहे हैं। जिन लोगों को दांतों की सामान्य समस्या है, उनका समाधान तो फोन से किया जा सकता है। वहीं जिन लोगों को दांतों की गंभीर समस्या है, उसके लिए ट्रीटमेंट बहुत जरूरी है।

    सवाल : किस तरह के पेशेंट ज्यादा आ रहे हैं कोरोना महामारी के दौरान ?

    डेंटिस्ट का जवाब : डेंटिस्ट ज्योतिका दुबे इस सवाल के जवाब में कहती हैं कि जब से कोरोना महामारी फैली है, तब से लोगों को साइकोलॉजिकल टॉन्सिल की समस्या अधिक हो रही है। लोग फोन कर टॉन्सिल की समस्या का समाधान पूछ रहे हैं। यानी लोगों के मन में ये वहम बैठ गया है कि उन्हें टॉन्सिल की समस्या है। टॉन्सिल की समस्या से छुटकारा पाने के लिए बेहतर उपाय है कि गुनगुने पानी में नमक मिलाकर पिएं या फिर नींबू का रस मिलाकर भी पिया जा सकता है। दांतों की रोजाना सफाई करें लेकिन दांतों को तेजी से न रगड़ें। डेंटिस्ट ज्योतिका दुबे कहती हैं कि फिलहाल कोरोना लॉकडाउन में अगर किसी भी व्यक्ति को दांतों संबंधि अधिक समस्या है तो वो ओटी में अपना ट्रीटमेंट कराएं। फिलहाल कोरोना वायरस का संक्रमण चल रहा है तो दांतों की गंभीर समस्या से छुटकारा पाने के लिए सर्जिकल वार्ड में ही ट्रीटमेंट कराएं। मुंह की लार से कोरोना का संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा रहता है इसलिए ट्रीटमेंट के दौरान बहुत सावधानी की जरूरत पड़ती है।

    ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस फैक्ट चेक: कोरोना वायरस की इन खबरों पर भूलकर भी यकीन न करना, जानें हकीकत

    कोविड-19 लॉकडाउन में दांतो की सेहत के साथ खिलवाड़ न करें

    मुंबई की डेंटिस्ट हेमाक्षी जेठमलानी कोविड-19 लॉकडाउन में दांतों की सेहत के बारे में कहती हैं कि दांतों की सेहत का ख्याल रखना बहुत जरूरी है, क्योंकि दांत की समस्या को इग्नोर करने से अन्य समस्याएं भी हो सकती हैं। COVID-19 महामारी के दौरान दांतों की समस्या का ख्याल न रखने से अन्य गंभीर समस्याएं का सामना न करने पड़े, इसके लिए कुछ बातों का ध्यान जरूर रखें। बेहतर होगा कि गंभीर समस्या होने पर घर पर ही इलाज करने से बचें। कोरोना महामारी गंभीर समस्या है। ब्रश में लार भी लगती है। बेहतर होगा कि गलती से भी किसी का ब्रश न तो यूज करें और न ही किसी को अपना ब्रश यूज करने दें।

    इन बातों का रखें ध्यान

    • लॉकडाउन के दौरान दांतों की स्वच्छता का अधिक ध्यान रखें। आप रोज दिन में दो बार दांतों को अच्छे से से साफ करें।
    • अगर आप को दांतों में सेंसिटीविटी की समस्या है तो डॉक्टर की ओर से सजेस्ट किए गए टूथपेस्ट का इस्तेमाल करें।
    • इसके अलावा जब भी कुछ खाएं उसके बाद पानी से कुल्ला जरूर करें ताकि दांतो के बीच कुछ फंसा न रह जाए।
    • मसूड़ों की विशेष देखभाल करें, अपनी उंगुलियों से रोज उनकी मालिश करें।
    • अगर दांतों की सड़न की वजह से आपको दांतो में दर्द शुरू होता है तो न तो खुद उसका ट्रीटमेंट न करें और न ही डॉक्टर से बिना पूछे दवा लें। अपने दांत के डॉक्टर से फोन पर सलाह करें और उनके निर्देशों का पालन करें।
    • नमक के गुनगुने पानी में कुल्ला करने से मुंह का स्वास्थ्य अच्छा बना रहेगा।
    • किसी भी परिस्थिति में खुद से ठंडे या गरम से सेक न करें। पहले डॉक्टर से फोन में जानकारी लें।

    ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में भारत कितना है दूर? बाकी देशों का क्या है हाल, जानें यहां

    कोरोना लॉकडाउन में दांतों की सेहत : इमरजेंसी में दिखाएं डेंटिस्ट को

    कोविड-19 लॉकडाउन में दांतो की सेहत के साथ खिलवाड़ न करें। आप दांतों की समस्या होने पर डॉक्टर की सलाह पर हाइड्रॉक्सीपटाइट टूथपेस्ट का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। शुगर और अधिक स्टार्ची फूड से बचे क्योंकि इनसे दातों में एसिड अधिक बनने लगता है। गुड हाइड्रेशन भी दांतों के लिए अच्छा रहता है। स्मोकिंग पूरी तरह से छोड़ना अच्छा विकल्प रहेगा। हार्ड फूड को भी इग्नोर करें क्योंकि ये दांतों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। दांतों में निम्न गंभीर समस्याओं के होने पर तुरंत डेंटिस्ट से संपर्क करें।

    • दांतों से खून आने पर
    • मुंह के चारों ओर सूजन आ जाने पर
    • दांत या जबड़े की हड्डी में तेजी से दर्द होने पर
    • गम इंफेक्शन होने पर
    • आफ्टर सर्जरी ट्रीटमेंट
    • मसूड़ों में चोट पहुंचने पर

    दांतों का ख्याल रखने के साथ ही कोरोना महामारी से बचने के लिए अन्य बातों का भी ख्याल रखें। घर में सब्जियां लाने के बाद उसे अच्छे से धुलें। हाथों को समय-समय पर सैनिटाइज करें। अगर आपके पास सैनिटाइजर नहीं है तो इसे घर में भी बनाया जा सकता है।

    हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है। अगर आपको दांतों में किसी भी प्रकार की समस्या हो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

    और पढ़ेंः

    कोरोना वायरस की ग्लोसरी: आपने पहली बार सुने होंगे ऐसे-ऐसे शब्द

    कोरोना वायरस के लक्षण तेजी से बदल रहे हैं, जानिए कोरोना के अब तक विभिन्न लक्षणों के बारे में

    फार्मा कंपनी ने डोनेट की 34 लाख हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन टैबलेट्स, ऐसे होगा इस्तेमाल

    कोरोना से होने वाली फेफड़ों की समस्या डॉक्टर्स के लिए बन रही है पहेली

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2020 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड