home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Groundsel: ग्राउंडसेल क्या है?

परिचय|सावधानियां और चेतावनी|साइड इफेक्ट्स |प्रभाव|डोसेज
Groundsel: ग्राउंडसेल क्या है?

परिचय

ग्राउंडसेल (Groundsel) का उपयोग किसलिए किया जाता है?

ग्राउंडसेल एक पौधा है। इस फूल वाले पूरे पौधे का उपयोग दवा बनाने के लिए किया जाता है। इससे संबंधित गंभीर सुरक्षा संबंधी चिंताओं के बाद भी लोग कीड़ों और दर्द के लिए इस हर्ब का प्रयोग करते हैं। यही नहीं, इसके प्रेस्ड जूस का प्रयोग अनियमित और दर्द भरे मासिक धर्म (dysmenorrhea) को दूर करने के लिए भी किया जाता है। मिर्गी की समस्या में भी इसका जूस फायदेमंद है। इसके प्रेस्ड जूस का प्रयोग कई बार ब्लीडिंग को रोकने के लिए सीधे तौर पर मसूड़ों पर भी लगाया जाता है।

ग्राउंडसेल कैसे काम करता है?

ग्राउंडसेल कैसे काम करता है इसके बारे में पर्याप्त अध्ययन नहीं किया गया है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या औषधि विशेषज्ञ से बात करें।

यह भी पढ़ें: त्वचा से लेकर बालों तक के लिए फायदेमंद है नीम, जानें इसके लाभ

सावधानियां और चेतावनी

ग्राउंडसेल (Groundsel) के प्रयोग से पहले मुझे क्या जानकारी होनी चाहिए?

अपने डॉक्टर, फार्मासिस्ट या औषधि विशेषज्ञ से संपर्क करें, अगर:

  • आप गर्भवती हैं या ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं। क्योंकि इन दोनों स्थितियों के दौरान आपको केवल उन्हीं दवाओं का सेवन करना चाहिए, जिनकी सलाह आपके डॉक्टर ने दी हो।
  • आप किसी अन्य दवाई का सेवन कर रहे हों। इसमें वो दवाइयां भी शामिल हैं, जिन्हें आप ले रहे हैं और जो बिना डॉक्टर की सलाह के भी खरीदी जा सकती है।
  • आपको ग्राउंडसेल में मौजूद किसी पदार्थ या किसी अन्य दवाई या हर्ब से एलर्जी है।
  • आपको कोई और बीमारी या विकार है या अन्य मेडिकल स्थितियों में।
  • आपको किसी भी अन्य तरीके की एलर्जी है जैसे भोजन, डाई, प्रेसेर्वटिवेस या जानवरों से।

जड़ी-बूटियों के नियम दवाओं के नियमों से कम सख्त होते हैं। इसकी सुरक्षा को लेकर अधिक अध्ययन किए जाने की जरूरत है। इस हर्ब को लेने के फायदे इसके जोखिमों से अधिक होने चाहिए। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से संपर्क करें।

ग्राउंडसेल (Groundsel) का उपयोग करना कितना सुरक्षित है?

ग्राउंडसेल का प्रयोग करना सभी के लिए असुरक्षित है। दवाई के रूप में इस हर्ब का प्रयोग करना एक चिंता का विषय है। क्योंकि, इसमें केमिकल पाया जाता हैं जिसे हेपेटोटॉक्सिक पाइरोलिजिडिन एल्कलॉइड्स (hepatotoxic pyrrolizidine alkaloids) कहते हैं, जो नसों में रक्त के प्रवाह को रोक सकता है, जिससे लिवर खराब हो सकता है। हेपेटोटॉक्सिक PAs से कैंसर या गर्भावस्था में शिशु को जन्म संबंधी विकार भी हो सकते हैं। इस हर्ब से बनी दवाइयां या अन्य चीजें जो सर्टिफाइड नहीं होती और जिन पर “हेपेटोटॉक्सिक पीए-फ्री” का लेबल नहीं है, उन्हें असुरक्षित माना जाता है।

रूखी त्वचा पर इस हर्ब को लगाना भी असुरक्षित है। ग्राउंडसेल में पाया जाने वाले हानिकारक केमिकल को रूखी या फटी हुई त्वचा जल्दी सोख सकती है जिससे पूरे शरीर में यह केमिकल फेल सकता है। उन त्वचा के उत्पादों को लेकर सतर्क रहें, जो प्रमाणित नहीं हैं और जिन पर “हेपेटोटॉक्सिक PA-फ्री” लेबल नहीं हैं।

स्वस्थ त्वचा पर इसे लगाना सुरक्षित है या नहीं, इसके बारे में भी पर्याप्त जानकारी नहीं है। इसलिए इस उत्पाद के प्रयोग से बचना चाहिए।

खास सावधानियां और चेतावनी

प्रेग्नेंसी और ब्रेस्टफीडिंग के दौरान: गर्भावस्था के दौरान ग्राउंडसेल के किसी भी उत्पाद का प्रयोग करना असुरक्षित है क्योंकि इसमें हेपटोटोक्सिक PAs हो सकते हैं। यह उत्पाद जन्म संबंधी विकार और लिवर डैमेज का कारण बन सकते हैं।अगर आप ब्रेस्ट-फीडिंग कराती हैं, तब भी हेपटोटोक्सिक PAs के कारण इस हर्ब के उत्पादों का प्रयोग न करें। क्योंकि, यह केमिकल ब्रेस्ट मिल्क में से गुजरेंगे और शिशु के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं।

इस बात के बारे में भी जानकारी नहीं है कि प्रेग्नेंसी या ब्रेस्ट-फीडिंग के दौरान हेपटोटोक्सिक PA-फ्री उत्पादों का प्रयोग करना सुरक्षित है या नहीं। इसलिए, सुरक्षित रहने के लिए इन स्थितियों में ग्राउंडसेल उत्पादों के प्रयोग से बचे।

लिवर संबंधी बीमारियां : यह भी चिंता का विषय है कि इस हर्ब में मौजूद हेपटोटोक्सिक PAs से लिवर संबंधी बीमारियां हो सकती हैं।

यह भी पढ़ें : क्या होती हैं पेट की बीमारियां ? क्या हैं इनके खतरे?

साइड इफेक्ट्स

ग्राउंडसेल (Groundsel) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं

ग्राउंडसेल से उन लोगों को एलर्जी हो सकती है जिन्हें एस्टरेसिया/कम्पोसिट पौधों के परिवार से एलर्जी है। रेगवीड, मेरीगोल्डस, डेजीस और अन्य कई पौधे इस परिवार के सदस्य हैं। अगर आपको कोई एलर्जी है तो ग्राउंडसेल के प्रयोग से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले लें।

हालांकि, हर व्यक्ति इन साइड इफेक्ट्स को महसूस नहीं करता। ऐसे भी कुछ साइड-इफेक्ट्स हो सकते हैं जिन्हें यहां नहीं बताया गया हो। अगर आप इस हर्ब के साइड इफेक्ट्स को लेकर चिंतित हैं तो कृपया अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से सलाह लें।

यह भी पढ़ें: Alder Buckthorn: ऑल्डर बकथॉर्न क्या है?

प्रभाव

ग्राउंडसेल (Groundsel) के प्रयोग से क्या प्रभाव पड़ सकता है?

ग्राउंडसेल को अपनी मौजूदा दवाइयों या मेडिकल स्थितियों के साथ लेने से स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ सकता है। इसके प्रयोग से पहले हर्बलिस्ट या डॉक्टर से पूछें।

कुछ उत्पादों को ग्राउंडसेल के साथ लेने से प्रभाव पड़ सकता है, यह उत्पाद इस प्रकार हैं।

  • दवाइयां जो लिवर द्वारा अन्य दवाओं के टूटने की प्रक्रिया को बढ़ाती हैं (Cytochrome P450 3A4 (CYP3A4) inducers)

ग्राउंडसेल को लिवर विभाजित कर सकता है। जो दवाइयां लिवर के ग्राउंडसेल को तोड़ने का कारण बनती हैं वो इस हर्ब में मौजूद केमिकल के हानिकारक प्रभाव को बढ़ा सकती हैं। ऐसी कुछ दवाईयां हैं कार्बमजेपाइन (carbamazepine), फेनोबार्बिटल (phenobarbital), फेनीटोइन (phenytoin) आदि।

डोसेज

ऊपर दी गई जानकारी, मेडिकल सलाह का विकल्प नहीं है। हमेशा, इस दवा का उपयोग करने से पहले अपने हर्बलिस्ट या चिकित्सक से सलाह लें।

ग्राउंडसेल (Groundsel) लेने की सही खुराक क्या है?

ग्राउंडसेल को कितनी मात्रा में लेना है, यह डोज हर रोगी के लिए अलग हो सकती है। आपको इसकी कितनी डोज लेनी है, यह बात आपकी उम्र, स्वास्थ्य या अन्य कई स्थितियों पर निर्भर करती है। हर्ब हमेशा सुरक्षित नहीं होते। कृपया सही डोज जानने के लिए अपने औषधि विशेषज्ञ या डॉक्टर से बात करें।

ग्राउंडसेल (Groundsel) किस रूप में उपलब्ध है?

ग्राउंडसेल इन रूपों में उपलब्ध हो सकता है:

  • प्राकृतिक ग्राउंडसेल

हमें उम्मीद है कि ग्राउंडसेल पर आधारित यह लेख आपको पसंद आया होगा। इस लेख में हमनें हर्ब से जड़ी सभी जानकारियां देने की कोशिश की हैं जो कि आपके लिए उपयोगी साबित हों। अगर आपको यहां बताई गईं स्वास्थ्य समस्याएं हैं तो आप इस हर्ब का उपयोग डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप कोई भी मेडिकल सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें:

वसाबी की ज्यादा मात्रा से महिला को हुआ ब्रोकन हार्ट सिन्ड्रोम

क्या आपको भी है भूलने की है बीमारी? जानिए याद्दाश्त बढ़ाने के 10 घरेलू उपाय

Ashwagandha : अश्वगंधा क्या है?

Ginseng : जिनसेंग क्या है? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 11/05/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड