home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Overeating: ओवर ईटिंग क्या है?

परिचय|लक्षण|कारण|जोखिम|उपचार|घरेलू उपचार
Overeating: ओवर ईटिंग क्या है?

परिचय

ओवर ईटिंग (Overeating) क्या है?

ओवर ईटिंग वैज्ञानिक रूप से एक ऐसी स्थिति है जब कोई व्यक्ति अनियंत्रित रूप से खाना खाता है। सामान्य भाषा में यदि आप खाने को लेकर अपने आप पर नियंत्रण करने में असमर्थ हैं तो इसे ओवर ईटिंग कहा जाता है।

यदि आप दिनभर भोजन के बारे में सोचते हैं तो इसे भी ओवर ईटिंग कहा जाता है। यदि आप छुपकर खाते हैं, आप सामान्य उबाई और तनाव भरी जिंदगी से बचने के लिए खाते हैं, आप अपने ऊपर नियंत्रण करना चाहते हैं, लेकिन कर नहीं पाते हैं। साथ ही आप अपने आपको लेकर संतुष्ट महसूस नहीं करते हैं तो इसे ओवर ईटिंग की समस्या कहा जाता है।

आश्चर्यजनक रूप से ओवर ईटिंग एक सामान्य समस्या है। समय के हिसाब से लोगों को ओवर ईटिंग की समस्या से जूझना पड़ता है। यदि आप इसकी शुरुआती मौजूदगी से जागरुक नहीं है तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं। अक्सर ऐसे में मामलों में मोटापे की समस्या पैदा हो जाती है।

ओवर ईटिंग कितना सामान्य है?

ओवर ईटिंग सबसे ज्यादा सामान्य समस्या है। यह किसी भी आयु वर्ग के मरीजों को प्रभावित कर सकती है। इसके जोखिमों के कारकों को कम करके इसके खतरे ओवर ईटिंग का प्रबंधंन किया जा सकता है। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

लक्षण

ओवर ईटिंग के क्या लक्षण हैं?

ओवर ईटिंग के लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • आप खाने को लेकर नियंत्रण नहीं कर पाते हैं और अधिक खाते हैं।
  • आप जो भी खाते हैं उस पर नियंत्रण नहीं कर पाते हैं।
  • पेट भरा हुआ होने पर भी आप खाना चाहते हैं।
  • आप भोजन को इक्कट्ठा करके रखते हैं।
  • आपको ऐसा लगता है कि बेहतर महसूस करने के लिए खाना ही एक मात्रा जरिया है। लेकिन इसके बाद आपको बुरा लगता है जैसे आपको शर्मिंदगी या आत्मग्लानी का अहसास होता है।
  • आपके भीतर लगातार खाने की चाह बनी रहना।
  • आपको अपने वजन को लेकर बुरा अहसास होता है।

उपरोक्त लक्षणों के अलावा भी ओवर ईटिंग के कुछ अन्य लक्षण हैं, जिन्हें ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है। यदि आप ओवर ईटिंग के लक्षणों को लेकर चिंतित हैं तो अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

यह भी पढ़ें: पेट में गैस की समस्या से मिलेगी राहत, आजमाएं ये असरदार घरेलू उपाय

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

यदि आपको उपरोक्त लक्षण या संकेतों का अनुभव होता है या आपका कोई सवाल है तो अपने डॉक्टर से परामर्श लें। हालांकि, हर व्यक्ति की बॉडी ओवर ईटिंग में अलग ढंग से प्रतिक्रिया देती है। अपनी स्थिति की बेहतर जानकारी के लिए डॉक्टर से सलाह लेना उचित रहेगा।

कारण

ओवर ईटिंग का क्या कारण है?

ओवर ईटिंग के कारण निम्नलिखित हैं:

  • सामाजिक और सांस्कृतिक कारण: सामाजिक रूप से पतला होने का दबाव आपकी भावनाओं पर दबाव डाल सकता है, जिससे आप मानसिक रूप ओवर ईटिंग की तरफ बढ़ते हैं। कुछ माता पिता ओवर ईटिंग की एक सीमा तय कर देते हैं, जिसमें वह कंफर्ट के लिए फूड का इस्तेमाल और इनाम के रूप में बच्चों को फूड देते हैं। ऐसे बच्चे जिन्हें अपने शरीर और वजन की वजह से भद्दी टिप्पणियां मिलती हैं, उनमें ओवर ईटिंग का खतरा ज्यादा रहता है। साथ ही बचपन में सेक्सुअल एब्यूस्ड का सामना करने वाले बच्चों में समान खतरा रहता है।
  • मनोवैज्ञानिक कारण: डिप्रेशन और ओवर ईटिंग का संबंध काफी मजबूत है। अधिक खाना खाने वाले लोग या तो डिप्रेशन का शिकार होते हैं या इससे पहले उन्हें डिप्रेशन होता है। जबकि, अन्य लोगों को आवेगों को नियंत्रित करने और भावनाओं को प्रकट करने और उनका प्रबंधंन करने में परेशानी हो सकती है। कम आत्मविश्वास वाले, अकेलेपन के शिकार और शरीर से असंतुष्टता भी ओवर ईटिंग का एक बड़ा कारण बनती है।
  • बायोलॉजिकल कारण और जोखिम: बायोलॉजिकल असामान्यताएं ओवर ईटिंग की समस्या पैदा कर सकती हैं। उदाहरण के लिए हाइपोथैलामस (hypothalamus) (मस्तिष्क का वह हिस्सा जो भूख को नियंत्रित करता है) भूख और पेट भरे होने को लेकर सही संकेत नहीं भेज रहा हो सकता है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि जेनेटिक म्युटेशन फूड एडिक्शन के एक कारण के रूप में सामने आ सकती है। ऐसे कई सुबूत मिले हैं, जिसमें ब्रेन कैमिकल सेरोटोनिन (serotonin) का कम लेवल होने से कंपल्सिव ईटिंग या ओवर ईटिंग की समस्या हो सकती है।
  • मानसिक समस्याएं
  • जेनेटिक कारण
  • कम आत्मविश्वास
  • अकेलापन

जोखिम

यह भी पढ़ें: Gastroscopy : गैस्ट्रोस्कोपी कैसे होती है?

किन कारकों से मुझे ओवर ईटिंग की समस्या का खतरा हो सकता है?

निम्नलिखित कारकों से ओवर ईटिंग की समस्या हो सकती है:

उपचार

यहां प्रदान की गई जानकारी को किसी भी मेडिकल सलाह के रूप ना समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

ओवर ईटिंग का निदान कैसे किया जाता है?

ओवर ईटिंग का पता लगाने के लिए डॉक्टर आपकी डायट हिस्ट्री के बारे में सवाल पूछ सकता है। आपके कितने दिनों से इन लक्षणों का अहसास हो रहा है, इसके कारणों का पता लगाने के लिए इनकी जानकारी मांगी जा सकती है। ओवर ईटिंग का पता लगाने के लिए कुछ चिकित्सा जांच भी कराई जा सकती हैं।

यह भी पढ़ें: Stomach Tumor: पेट में ट्यूमर होना कितना खतरनाक है? जानें इसके लक्षण

ओवर ईटिंग का इलाज कैसे किया जाता है?

ओवर ईटिंग का इलाज करने के तीन प्रभावी तरीके हैं, जिनका सुझाव डॉक्टर दे सकता है। यह तरीके निम्नलिखित हैं:

  • कोग्निटिव बिहेवियरल थेरेपी (Cognitive-behavioral therapy): इस थेरेपी के जरिए मरीज को अपने विचारों और अपनी भावनाओं को समझने में मदद मिलती है, जो उसके व्यवहार को प्रभावित कर रहे होते हैं।
  • इंटरपर्सनल साइकोथेरेपी (Interpersonal psychotherapy): यह प्रक्रिया मरीज और उसके परिवार, दोस्त, सहयोगियों के बीच के रिश्ते पर आधारित होती है।
  • डायलेक्टिसियल बिहेवियरल थेरेपी (Dialectical behavior therapy): इस तकनीक में स्वयं के कौशल को नियमित या मरीज के भावनात्मक व्यवहार को नियमित किया जाता है।

इसके अतिरिक्त, ग्रुप थेरेपी, जो विशेषज्ञों द्वारा की जाती है, इसका ओवर ईटिंग के मरीजों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

घरेलू उपचार

जीवन शैली में होने वाले बदलाव क्या हैं, जो मुझे ओवर ईटिंग को ठीक करने में मदद कर सकते हैं?

निम्नलिखित घरेलू उपाय आपको ओवर ईटिंग में राहत प्रदान करने में मदद करेंगे:

  • ओवर ईटिंग की समस्या आपके दिमाग से पैदा होती है, ऐसे में समस्या को लेकर जागरुक होना औप अपने आपको बदलना एक बेहतर विकल्प है।
  • ज्यादातर समय में आपको भावनात्मक क्रेविंग होती है, ऐसे में आपकी असल भूख क्या है, इसमें फर्क करने की कोशिश करें। इसके बाद अपने डायट शिड्यूल का पालन करें जैसे दोपहर के स्नैक्स के साथ दिन में तीन बार खाना।
  • जब आपको खाने की चाह आती है तो ऐसे में गहरी सांस लें। इसके बाद अपने आपसे पूछें कि आपको अभी या बाद में खाना चाहिए। आपको यह भोजन खाना चाहिए, इसी वक्त खाना चाहिए, आपको क्या अहसास हो रहा है, यह सभी सवाल अपने आप से पूछें। इन सभी सवालों का जवाब ढूंढने पर आपकी भूख कम हो जाएगी, जिससे फूड नहीं लेंगे।
  • आदर्श रूप से एक स्वस्थ जीवन शैली बनाने से ओवर ईटिंग का हल निकल सकता है। एक्सरसाइज, नींद या इस समस्या से पीढ़ित अन्य लोगों से बात करने पर काफी मदद मिलती है। इससे आपको तरोताजा का अहसास होगा और आप अकेले भी नहीं होंगे।

इस संबंध में आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि आपके स्वास्थ्य की स्थिति देख कर ही डॉक्टर आपको उपचार बता सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें:-

बच्चों को जंक फूड से दूर रखने के लिए अपनाएं ये आसान तरीके

बच्चों में फूड एलर्जी का कारण कहीं उनका पसंदीदा पीनट बटर तो नहीं

बच्चों की गट हेल्थ के लिए आजमाएं ये सुपर फूड्स

ये फूड बन सकते हैं पेट की गैस का कारण और बिगाड़ सकते हैं आपका मिजाज

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Sunil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/04/2020 को
डॉ. पूजा दाफळ के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x