home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

काम टालने की आदत को कैसे करें दूर?

काम टालने की आदत को कैसे करें दूर?

“काल करे सो आज कर, आज करे सो अब। पल में प्रलय होएगी,बहुरि करेगा कब” … इस दोहे से तो हमसभी परिचित हैं। कबीर दास जी ने इस दोहे के माध्यम से यह समझाने की कोशिश की है की वक्त की महत्ता को समझना बेहद जरूरी है। क्योंकि अगर समय पर किसी भी कार्य को पूरा न करना किसी त्रुटि से कम नहीं। हमसभी के बीच कई लोग ऐसे भी होते हैं जो आज का काम कल पर टाल देते हैं और उनका कल जल्दी आता ही नहीं है। इसे सामान्य भाषा में टालमटोल (Procrastination) कहते है। टालमटोल एक ऐसी चीज है जो लगभग हम सभी करते हैं। हालांकि यह किसी व्यक्ति में कम और किसी अन्य व्यक्ति में ज्यादा हो सकता है। काम टालने की आदत देखा जाएं तो सुस्ती है जो हमें बुरी आदतों को तोड़ने और अच्छी आदतों को अपनाने से रोकती है। जिंदगी में कुछ अच्छा करने के के लिए सक्रिय होना बेहद जरूरी है और काम टालने की आदत एक तरह से रुकावट का काम करती है। काम टालने की आदत कई तरह की होती है, और हर तरह की प्रतिक्रिया आलस को दूर करने के लिए अलग-अलग होती है। अगर आप भी काम टालने की आदत के शिकार हैं और कुछ नया करने से डरते हैं, तो आज हम आपके लिए इसके पांच कारण और जरूरी उपायों की जानकारी लेकर आए है। तो आइये जानते टालमटोल (Procrastination) से कैसे बचा जा सकता है।

काम टालने (टालमटोल) के पांच कारण और उपाय इस प्रकार है

काम टालने की आदत 1. साहसी किस्म वाला व्यक्ति

इस तरह का व्यक्ति आखिरी मिनट में काम करना शुरू करता है, इस तरह के व्यक्ति का मानना है कि दबाव में काम अच्छे से किया जा सकता है। लेकिन हम आपको बता दें कि ये आलस होता है जो उनके कामों को आखिर में धकेलने का काम करता है। देरी से काम शुरू करने के कारण ये लोग जल्दबाजी में गलतियां करना शुरू कर देते हैं जिससे इनके काम बिगड़ जाते है।

उपाय: इस तरह के लोगों को एक समय सीमा निर्धारित करके खुद के काम को सुचारु रूप से करना चाहिए। ये लोग रिवार्ड-पेनल्टी तरीका अपना सकते है जिससे ये अपने काम को समय पर कर सकते है।

और पढ़ें: संयुक्त परिवार (Joint Family) में रहने के फायदे, जो रखते हैं हमारी मेंटल हेल्थ का ध्यान

काम टालने की आदत 2. आखिरी समय में काम शुरू करने वाला व्यक्ति

इस तरह के व्यक्ति अपना काम आखिरी में शुरू करते है और उसे पूरा करने की कोशिश करते है। जब इस तरह के लोगों का काम देरी से होता है तो दूसरों पर इल्जाम लगा देते है, और इस बोझ से छुटकारा पा लेते हैं। इन लोगों को इस बात की बिलकुल भी फिक्र नहीं होती है कि दूसरे उनके बारे में क्या सोचेंगे।

उपाय: यदि आप इस किस्म के व्यक्ति हैं, तो योजना बना कर काम करें। उदाहरण के तौर पर हर बार जब आप फेसबुक को ब्राउज़ करने के लिए काम से ब्रेक लेते हैं, तो आप कम से कम 15-30 मिनट खराब कर देते हैं। इसे ध्यान में रखते हुए, आपको अपने लंच के समय में ब्रेक का समय शामिल करना चाहिए ताकि आप काम को समय पर पूरा करने के लिए तैयार रहे।

काम टालने की आदत 3.पासिंग-बक

लोग कई विकल्पों को लेकर बहुत भ्रमित रहते है, इसलिए ऐसे लोग दूसरे लोगों को फैसले लेने में वरीयता देते है। ये आमतौर पर काम के आउटपुट से खुश होते हैं, लेकिन इन्हें चिंता रहती है कि दूसरे उनके बारे में क्या कहते हैं। यह व्याकुलता से इतने ग्रस्त होते हैं कि काम शुरू नहीं कर पाते।

उपाय: इनकी समस्या हल करने के लिए दो तरीके कारगर है – एक तरीका यह है कि सबसे बड़ा काम पहले किया जाए और उसके बाद दूसरे काम को जो छोटा है, उसे किया जाए और दूसरा तरीका यह है कि बड़े काम को छोटे-छोटे कामों में बांट कर उन पर काम किया जाए। इस उपाय को अपना कर आप काम टालने की आदत से बच सकते हैं।

और पढ़ें: मेंटल हेल्थ के बारे में जानना है जरूरी, खेलें क्विज

काम टालने की आदत 4.परफेक्शनिस्ट टाइप

इस तरह के लोग ये चाहते है कि उनका काम बेहतर हो, लेकिन ऐसा हर बार हो ये मुमकिन नहीं है। इस तरह के लोगों को देरी भी इसलिए होती है क्योंकि ये लोग अपने काम को बहुत बेहतर बनाने की कोशिश करते हैं ताकि किसी भी तरह की आलोचना न हो। ऐसे लोगों को काम शुरू करने में कोई परेशानी नहीं है, लेकिन इनकी टू-डू लिस्ट बहुत बड़ी होती है, जिसे उन्हें तनाव हो जाता है और ये लोग अपने काम समय से पूरे नही कर पाते है।

उपाय: अपने कामों को टालने वाली आदत इस को दूर करने के लिए ऐसे लोगों को स्मार्ट और समय के अनुसार लक्ष्य बनाकर काम करना चाहिए। हालांकि कई बार गलतियां हो सकती है लेकिन सही प्लान बनाकर कामों को किया जाए तो उन्हें समय पर पूरा किया जा सकता है।

और पढ़ें: इस दिमागी बीमारी से बचने में मदद करता है नींद का ये चरण (रेम स्लीप)

[mc4wp_form id=”183492″]

काम टालने की आदत 5. आखिरी किस्म है अलगाववादी तरह व्यक्ति

इस तरह के व्यक्ति किसी भी तरह का फैसला लेने से बचते है। इन लोगों को उनका डर उन्हें कभी कुछ शुरू नहीं करने देता। हालांकि ऐसे हमेशा ये चाहते हैं कि काम की क्वालिटी बहुत अच्छी रहे लेकिन तनाव और आखिरी मिनट के दबाव के चलते ये लोग अपने काम बिगाड़ लेते है।

उपाय: इन व्यक्तियों को खुद को थोड़ा बदलने की जरूरत है। इन्हें खुद से बात करना चाहिए, और कहना चाहिए कि “मुझे पता है कि कुछ लोग बेवजह जज करेंगे और मैं भी कभी-कभी असफल हो सकता हूं, लेकिन यह दुनिया का अंत नहीं है और मैं हमेशा परिस्थितियों से सीखकर आगे बढ़ूगां।”

हम सभी जानते है कि काम टालने की आदत और सुस्ती किसी काम को करने से रोकती है लेकिन, जिंदगी में कुछ अच्छा करने के के लिए सक्रिय होना बेहद जरूरी है और टालमटोल इस काम में रूकावट हैं।

लोगों को एक्टिव रहने के लिए और समय पर काम पूरा करने के लिए कुछ आसान टिप्स अपनाना चाहिए। जैसे

मोबाइल से दूरी बनायें

समय पर सोने की आदत डालें और समय पर उठे भी

पौष्टिक आहार का सेवन करें

अपने फिटनेस पर ध्यान दें

वर्क मैनेजमेंट

अगर आप भी अपनी काम टालने की आदत की आदत से परेशान हैं, तो ऊपर बताये गए उपाय को जरूर आजमाएं और अगर से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

संबंधित लेख:

चेहरे से जुड़ी अनेक परेशानियों का इलाज हायल्यूरॉनिक एसिड डर्मल फिलर, जानें कैसे करता है काम

#WCID: क्रिएटिविटी और मेंटल हेल्थ का क्या है संबंध

मेनोपॉज (रजोनिवृत्ति) के बाद पड़ता है महिलाओं की मेंटल हेल्थ पर असर, ऐसे रखें ध्यान

मेंटल प्रॉब्लम से पीड़ित व्यक्ति की सहायता कैसे करें?

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

6 Degrees of Delay: The Many Ways We Procrastinate, and How to Stop/https://www.healthline.com/health-news/6-different-ways-youre-procrastinating-and-how-you-can-stop/Accessed on 06/05/2020

Need stress relief? Try the 4 A’s/https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/stress-management/in-depth/stress-relief/art-20044476/Accessed on 06/05/2020

Is procrastination friend or foe to health and creativity?/https://www.medicalnewstoday.com/articles/325108/Accessed on 06/05/2020

The relationship between procrastination, perceived stress, saliva alpha-amylase level and parenting styles in Chinese first year medical students/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6619418/Accessed on 06/05/2020

लेखक की तस्वीर badge
sudhir Ginnore द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/05/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड