home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

योग और प्राणिक हीलिंग, कई गंभीर बीमारियों के इलाज में है प्रभावकारी..

योग और प्राणिक हीलिंग, कई गंभीर बीमारियों के इलाज में है प्रभावकारी..

शायद आपने सुना होगा कि कई बीमारियों में जहां डाॅक्टर्स भी हार मान जाते हैं, तो वहां प्राकृतिक चिकित्सा अपना चमत्कार दिखाती है। यह सच भी है, आयुर्वेद में योग और प्राणिक हीलिंग (Paranic Healing) ऐसी चिकित्सा पद्वति हैं, जो कि प्राचीन काल से चली आ रही है। जिस बीमारी का इलाज दवाओं से नहीं हो पाता है, ऐसी कई गंभीर बीमारियों में योग और प्राणिक हीलिंग काफी काम आती है। निरोग शरीर के लिए योग (Yoga) को अपने जीवन में नियमित रूप से शामिल करना चाहिए। जानें क्या है योग और प्राणिक हीलिंग (yoga and Pranic healing), यह कैसे काम करती है। किस तरह से योग और प्राणिक हीलिंग (yoga and Pranic healing) द्वारा कई बीमारियों को दूर किया जा सकता है। इसी के साथ ही जानें योग के फायदे भी।

और पढ़ें: ये योग आपके डायजेशन को बेहतर बनाने निभा सकते हैं अहम रोल

अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रभावकारी है योग और प्राणिक हीलिंग (yoga and Pranic healing)

योग और प्राणिक हीलिंग दोनों ही स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। यह दोनों चिकित्सा शरीर को अंदर से मजबूत और निरोग बनाने के लिए हैं। आइए जानते हैं इन दोनों पद्वित के बारे में कि यह है क्या और कैसे काम करती है। लेकिन इससे पहले आपको बता दें कि यह पद्वति शरीर में ऊर्जा को बढ़ाने का काम करती है। इन दोनों ही चिकित्सा में यह माना जाता है कि शरीर में तबतक चलता है, जब तक उसमें ऊर्जा बनी रहती है।

और पढ़ें: ये 7 योगासन बच्चों को बनाएंगे फिट एंड इंटेलिजेंट!

योग (Yoga) क्या है?

योग (yoga) के बारे में तो अधिकतर लोग जानते हैं। लेकिन यह चिकित्सा कैसे काम करती है और क्या है, यह जानने के लिए हमें इसके मूल को समझना हाेगा। योग शब्द का उत्पादन संस्कृत के शब्द में ‘युज’ से हुआ था। योग के दो अर्थ हैं पहला अर्थ है जुड़ना और दूसरा अर्थ है समाधि। यानि, जब तक कि हम स्वयं से नहीं जुड़ पाते है, तब तक समाधि के स्तर के स्तर तक नहीं पहुंच पाते हैं। योग की पद्वति में मस्तिष्क (Brain), आत्मा (Soul) और शरीर (Physical) का एक-दूसरे से मिलन होता है। योग (Yoga), शरीर में आंनरूनी रूप से शरीर को मजबूत बनाता है। इसके अलावा योगासन के कई हेल्थ बेनेफिट्स (Health benefits) भी हैं

और पढ़ें: मल्टीपल स्क्लेरोसिस (Multiple Sclerosis) के लक्षणों को कम करने के लिए अपनाएं योग

योग और प्राणिक हीलिंग: योगासन के आंतरिक स्वास्थ्य लाभ

शरीर में कई रोगों का सबसे बड़ा कारण तनाव (Stress) होता है और योग सबसे पहले मस्तिष्क को शांत करने की कोशिश करता है। जिससे शरीर के सभी अंगों को भी आराम मिलता है। यह हमारे नकारात्मक विचारों (Negative thought) पर भी कंट्रोल करता है। योग चक्र (Yoga Chakra) तनाव से निकलने में मददगार है। योग हमे चिंता से मुक्त करने में मदद करता है। इसके अलावा योग के और भी कई हेल्थ बेनिफिट्स (Health benefits of yoga) है:

  • अपच की समस्या (Indigestion problem) में योग काफी राहत प्रदान करता है। योग, पाचन क्रिया को मजबूत बनाता है। मजबूत पाचन के लिए योग में कई अलग-अलग आसन बताए गए हैं।
  • योग, शरीर में प्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत बनाता है। शरीर का बीमारियों से लड़ने के लिए इम्यूनिटी का मजबूत (Strong immunity) होना बहुत जरूरी है। तो योग में किए जाने वाले आसन शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity Power) को मजबूत बनाते हैं।
  • हेल्दी रहने के लिए शरीर में ऊर्जा लेवल (Energy Level) का सही बने रहने बहुत जरूरी है। इसमें योग, आपकी मदद करता है। शरीर में ऊर्जा बढ़ने के साथ यह थकान (Fatigue) जैसी समस्या भी दूर करता है।
  • हमारे शरीर के लिए मेटाबॉलिज्म प्रक्रिया (Metabolic process) की महत्व्पूर्ण भूमिका है। भोजन से हमारे शरीर में ऊर्जा बनती है, जिससे हम अपने दिनभर के काम कर पाते हैं। अच्छे मेटाबॉलिज्म के साथ योग कब्ज की समस्या को भी दूर करता है।

और पढ़ें: यूरिक एसिड और होम्योपैथिक दवाइयां : प्रयोग करने से पहले जान लें कुछ खास बातें

प्राणिक हीलिंग (Pranic Healing) क्या है?

प्राणिक हीलिंग, एक चिकित्सा पद्विति है। हम इसे एक तरह का प्राणायाम (Pranayama) कह सकते हैं, जोकि शरीर में एनर्जी लेवल को बढ़ाने के लिए किया जाता है। यह ऊर्जा पर आधारित एक ट्रीटमेंट है। इस पद्विति में यह माना जाता है कि शरीर में जबतक ऊर्जा होती है, तब तक शरीर पूर्ण रूप से चलता रहता है। प्राणिक हीलिंग (Pranic Healing) में चक्रों को देख कर रोग का पता लगाया जाता है और इसमें ऊर्जा (Energy) के द्वारा उन रोगों का उपचार किया जाता है। इस चिकित्सा को हम एक तरह की थेरिपी भी कह सकते हैं, जिसमे कई गंभीर से गंभीर रोगों का इलाज भी ऊर्जा (Energy) द्वार बिना किसी दवा के किया गया है। प्राणिक हीलिंग के अंतर्गत मानसिक (Mental), शरीरिक (Physical) और भावनात्मक (Emotional) से जुड़ी, सभी समस्याओं का उपचार है।

और पढ़ें:व्हील चेयर योग: अपनी डिसेबिलिटी का ना बनने दें रुकावट! हेल्दी रहने के लिए ट्राय करें ये योग

योग और प्राणिक हीलिंग: प्राणिक हीलिंग उपचार के फायदे

योग और प्राणिक हीलिंग की बात कर रहे हैं, तो प्राणिक हीलिंग थेरिपी द्वारा कई गंभीर बीमारियों के इलाज में सफलता पायी जा सकती है। प्राणिक हीलिंग में कई बीमारियों का इलाज है, जैसे कि ब्लड प्रेशर (Blood Pressure), डायबिटिज, , हृदय रोग (Heart disease), गुर्दे की समस्या (kidney problems), शरीर में सूजन (body swelling), मोतियाबिन्द (cataract), सांस का रोग (Respiratory disease), दमा (Asthma), कब्ज की समस्या (Constipation) और पाचन तंत्र (Digestive System) से जुड़ रोग, आदि में यह थेरिपी अपना सकारात्मक प्रवाह दिखाती है।

क्रिस्टल हीलिंग (Crystals Healing) : कई स्थितियों में चिकित्सा के लिए क्रिस्टल हीलिंग का भी उपयोग किया जाता है। इसमें निकलने वाली तेज ऊर्जा को उपचार के लिए बहुत प्रभावी माना गया है। ऊर्जा पर आधारित यह थेरिपी मानसिक शांति (Mental stress) एवं तनाव (Stress) को दूर करने के लिए फायदेमंद मानी जाती है। इससे शरीर के नकारात्मक विचार भी दूर होते हैं। कई रोगों में इसका इस्तेमाल किया जाता है।

और पढ़ें: क्या ग्रीन-टी या कॉफी थायरॉइड पेशेंट्स के लिए फायदेमंद हो सकती है?

दूरस्थ उपचार (Remote treatment) : यह प्रक्रिया उन लोगों के लिए ज्यादा फायदेमंद है, जो लोग इलाज के लिए हीलर के पास नहीं जा पाते है। तो इस प्रक्रिया (Process) के दौरान रोगी के पास में न होने पर भी उपचार (Treatment) किया जा सकता है।

सीधा उपचार (Direct treatment) : इस प्रकार के उपचार में रोगी को सामने बैठाकर प्राणिक हीलर द्वारा इलाज दिया जाता है।

योग और प्राणिक हीलिंग के अपने कई फायदे हैं, जोकि शरीर को कई बीमारियों से मुक्त करने में मदद करते है। योग और प्राणिक हीलिंग से आपको कई तरह के फायदे होते हैं। शरीर में ऊर्जा बढ़ती है, जिससे कई रोगों के होने का खतरा वैसे ही कम हो जाता है। अधिक जानकारी के लिए हीलिंग थेरिपिस्ट से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 24/06/2021 को
और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड