विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस: क्यों भारत में महिला आत्महत्या की दर है ज्यादा? क्या हो सकती है इसकी रोकथाम?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट November 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

‘आत्महत्या’, तनाव और जिंदगी की परेशानियों से थक जाने पर व्यक्ति को बस यही एक रास्ता आसान लगता है। मशहूर दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के केस ने कोरोना अपडेट की खबर को भी पीछे छोड़ दिया है। सच तो यह है कि कोरोना संकट काल में आम जनता कई समस्याओं से घिर गई है।

कोरोना में लगे लॉकडाउन की वजह से घर पर बंद हो जाने के कारण लोगों को तनाव, एंग्जायटी और डिप्रेशन में चले गए जिससे आत्महत्या के केस काफी बढ़ गए।

पूरे विश्व में वाणिज्यिक बाजार में गिरावट का असर काम के हर क्षेत्र पर पड़ा है जिसकी वजह से अधिकतर लोगों की आर्थिक स्थिति बिगड़ चुकी है और इसके कारण आत्महत्या का ख्याल लोगों के दिलों में घर करने लगा है।

वैसे तो यह स्थिति कोरोना संकट काल के कारण पैदा हुई है लेकिन हम आज ‘भारत में महिला आत्महत्या’ के विषय पर बात करने वाले हैं, जो सदियों से चला आ रहा है।

आजकल इस विषय खूब बात की जा रही है, मंचों पर तर्क-वितर्क प्रस्तुत किए जा रहे हैं और स्कूलों या कॉलेजों में डिबेट का विषय बनाया जा रहा है लेकिन क्या सचमुच इस विषय को लेकर कोई काम हो रहा है? सवाल पुराना है लेकिन ज्वलंत है।

प्राचीन युग की सती प्रथा, विधवा विवाह, बाल विवाह समस्याओं से जूझती महिलाओं या लड़कियों की परिस्थिति आज के विकासशील युग में बदली तो जरूर है, पर कितनी बदली है, यह सवाल अब भी है।

और पढ़ें-अगर किसी के मन में आए आत्महत्या के विचार, तो उसकी ऐसे करें मदद

हालातों को देखने का नजरिया बदला

कोई भी महिला कितनी भी पढ़ी-लिखी हो या अपने पैरों पर खड़ी हो, उसका शोषण कहीं न कहीं होता ही है। पहले के जमाने में अपनी इच्छाओं पर अंकुश लगाकर वह घर के अंदर रह कर संसार को संभालती थीं। आप कहेंगे अब तो ऐसा नहीं होता। आज महिलाएं पढ़-लिख कर हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं, नौकरी कर रही हैं, लेकिन घर में वह तब भी किसी की बेटी, बहु, पत्नी, मां की भूमिका अदा कर रही होती हैं।

घर और समाज उनसे सारे दायित्व का निर्वाह करने की मांग करता है। महिलाओं को घर और बाहर दोनों का दायित्व संभालना पड़ता है। दायित्व के क्षेत्र में एक गलती भी कोई रिश्ता सहन नहीं कर पाता है।

अक्सर दायित्व की इस चक्की में पीसते हुए उनकी स्थिति ऐसी हो जाती है कि उनको आत्महत्या करना बेहतर विकल्प नजर आने लगता है। उन्हें महसूस होता है कि उनके जीवन का कोई महत्व या उद्देश्य नहीं है। हमारा समाज समय के साथ सुधरा नहीं है, बस उसकी परिभाषाएं और हालातों को देखने का नजरिया बदल गया है। 

“विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस” के अवसर पर विश्व की ओर नजर डालें, तो आपको देखने को मिलेगा कि यह मानसिक स्वास्थ्य समस्या सार्वजनिक है। अध्ययन के आंकड़ों के अनुसार पाया गया है कि एशिया में आत्महत्याओं का केस 60% बढ़ा है।

कहने का मतलब यह है कि एशिया में हर साल लगभग 60 मिलियन लोग आत्महत्या करते हैं लेकिन सबसे अचरज की बात यह है कि सामाजिक तनाव के कारण महिलाओं में आत्महत्या से मृत्यु की दर सबसे ज्यादा है। 

लैंसेट पब्लिक हेल्थ के ऑक्टोबर 2018 के एक अध्ययन के अनुसार, 2016 में विश्व में महिला आत्महत्या के 36% मामले मिले हैं। इनमें भारत सबसे आगे हैं और भारत में 15 से 29 साल की महिलाओं में आत्महत्या के कारण मृत्यु के मामले मिले हैं।

और पढ़ें-Suicidal Tendency : सुसाइड टेंडेंसी (आत्महत्या) क्या है?

आखिर क्यों भारत में महिलाएं आत्महत्या को जीवन से बेहतर विकल्प मानती हैं? 

अगर इस विषय पर बात की जाए, तो समाज के बहुत सारे कारण सामने खुलकर आएंगें। भारतीय समाज में महिला अभी भी भोग की वस्तु ही बनी हुई है। लड़की कुंवारी हो या शादीशुदा, वह आदिकाल से पुरूषों के लिए यौन सुख का साधन बन जाती हैं।

प्राचीन काल से आज के युग में इसके दर में कोई कमी नहीं आई है। भारत के संविधान में कितनी ही धाराएं बन जाएं, फिर भी नारी सुरक्षित नहीं है। आए दिन रेप के केस सुर्खियों में नजर आ ही जाते हैं। इसके कारण महिलाएं हमेशा लांछित होती रहती हैं और बाद में सामाजिक लांछन से बचने के लिए आत्महत्या को चुन लेती हैं।

उसके बाद आता है विवाह के बाद का जीवन। लोग कहते हैं कि बेटी शादी के बाद पराई हो जाती है और यह प्रथा आज भी लोगों के मन बसी हुई है। 21वीं सदी के विकासशील समाज में कदम रखने के बावजूद बेटी अभी भी पराया धन है।

वह भले ही शादी के बाद पति के घर किसी भी हाल में रहे, उसे वहीं रहना पड़ता है। समाज सब देखता है और झूठा रोना रोता है, लेकिन साथ देने कोई नहीं आता।

अक्सर एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के चलते बसा बसाया घर बरबाद हो जाता है लेकिन यहां भी समाज का नजरिया नहीं बदला है। इसके लिए भी पत्नी को ही कसूरवार ठहराया जाता है और घर में ऐसे हालात बना दिए जाते हैं कि वह घर छोड़ने को मजबूर हो जाती हैं।

लेकिन तब भी उसकी जिंदगी की परेशानियां खत्म नहीं होती हैं। घरवालों से लेकर समाज सब उसके सामने ऐसे हालात तैयार कर देते हैं कि उसे आत्महत्या बेहतर विकल्प लगने लगता है। 

और पढ़ें- ऐसी 10 बीमारियां जिनके शिकार अधिकतर इंडियन यूथ हो रहे हैं

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

अब आपके दिमाग में चल रहा होगा कि यदि महिला आत्महत्या करने का विचार कर रही है, तो उसके लक्षण क्या होते हैं? यहां हम आपको महिलाओं में आत्महत्या के लक्षणों के बारे में बता रहे हैं –

  • वह बार-बार आत्महत्या करने का विचार प्रकट करती हैं।
  • नींद की गोली लेकर आत्महत्या करने की कोशिश करती हैं।
  • हमेशा अकेले चुपचाप रहने लगती है।
  • किसी से अपने दिल की बात शेयर नहीं करती है।
  • घुटनभरी जिंदगी जीने लगती है।
  • उसके जीने का तरीका बिल्कुल बदल जाता है।
  • हमेशा जीवन से नकारात्मक सोच या नजरिया रखता है।
  • हर बात पर अलविदा कहने लगती हैं या फिर से न मिलने की बात करती है।

और पढ़ें- खुद से बात करना नॉर्मल है या डिसऑर्डर

जब भारत में महिला आत्महत्या करने की बात दिल में लाने लगती है तो इस तरह के आम लक्षण दिखने लगते हैं। अगर उस वक्त कोई उसे भावनात्मक और मानसिक रूप से सहारा देता है, तो वह उस परिस्थिति से बाहर आ सकती हैं।

लेकिन मुश्किल की बात यह है कि हमारे अपनों के पास ही समय नहीं है। कहने का मतलब यह है कि भारत में महिला आत्महत्या को रोका जा सकता है लेकिन उसके लिए आपको अपनों का साथ देंना होगा।

अपनी बहन, अपनी बेटी, अपनी बीवी, अपनी मां को थोड़ा-सा समय दें , उनके हाथों को थामकर उनसे दो पल बात करें, तो इस आत्महत्या को रोका जा सकता है। आत्महत्या को रोकने के लिए कुछ आसान कदम उठाने से किसी को मौत के मुंह से बचाया जा सकता है, जैसे कि

अगर आपका कोई अपना इस हालात से गुजर रहा है तो –

  • उसका साथ दें।
  • दिन में कम से कम आधा घंटा ही सही, उनसे बात करें और समय दें।
  • उनकी परेशानियों को बांटें।
  • उन्हें भावनात्मक रूप से सहारा दें।
  • दूर हैं तो क्या हुआ फोन पर बात करें या मैसेज से कनेक्ट करें।
  • अगर तब भी स्थिति संभल नहीं रही है तो मनोचिकित्सक के पास ले जाएं।

हो सकता है कि आपका एक कदम एक जिंदगी को आत्महत्या से खुशहाली की तरफ ले जाए। तो देर किस बात की, कदम बढ़ाइए और किसी की डूबती हुई जिंदगी को सहारा दें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

‘नथिंग मैटर्स, आई वॉन्ट टू डाय’ जैसे स्टेटमेंट्स टीनएजर्स में खुदकुशी की ओर करते हैं इशारा, हो जाए अलर्ट

टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार के कारण क्या हैं? 15 से 24 साल की उम्र के टीनएजर्स में मौत का तीसरा सबसे बड़ा कारण खुदकुशी है। टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार..

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन September 2, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस क्या हैं और कैसे उबरा जाए इन समस्याओं से?

एलजीबीटी कम्युनिटी चैलेंजेस के दौरान समुदाय के लोगों को न केवर घर में बल्कि घर के बाहर भी भेदभाव का सामना करना पड़ता है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए समुदाय के चैलेंज के बारे में। lgbt community challenges

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन August 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Eliwel Tablet : एलिवेल टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

एलिवेल टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, एलिवेल टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Eliwel Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

Rexipra Tablet : रेक्सिप्रा टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

रेक्सिप्रा टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, रेक्सिप्रा टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Rexipra Tablet डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

Recommended for you

मेंस हार्ट हेल्थ , Men's heart health

पुरुष हार्ट हेल्थ को लेकर अक्सर करते हैं ये गलतियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ February 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
ऑनलाइन स्कूलिंग के फायदे, Online Schooling benifits

ऑनलाइन स्कूलिंग से बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ता है पॉजिटिव इफेक्ट, जानिए कैसे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ November 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
लाफ्टर थेरेपी

लाफ्टर थेरेपी : हंसो, हंसाओं और डिप्रेशन को दूर भगाओं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ September 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
सुसाइड प्रीवेंशन क्विज - suicide prevention quiz

सुइसाइड प्रिवेंशन डे: ये क्विज बताएगी, क्या आप किसी को आत्महत्या करने से रोक सकते हैं?

के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
प्रकाशित हुआ September 7, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें