home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जानें, रोते हुए सेक्स और बाद में रोना क्या सामान्य है?

जानें, रोते हुए सेक्स और बाद में रोना क्या सामान्य है?

रोते हुए सेक्स सुनने में थोड़ा अटपटा जरूर है, लेकिन हंसना, रोना, गुस्सा होना आदि हमारे जीवन का हिस्सा हैं। रोते हुए सेक्स करना या फिर सेक्स के बाद रोना उदासी का प्रतीक नहीं है। रोते हुए सेक्स करना शारिरिक व भावनात्मक के संपर्क को दर्शाता है, यह असामान्य नहीं है। तो आइए इस आर्टिकल में हम रोते हुए सेक्स को लेकर जरूरी बातों को जानने की कोशिश करते हैं।

रोते हुए सेक्स के पीछे के साइंटिफिक तर्क को जानें

क्या आपने कभी रोते हुए सेक्स का एहसास किया है, यदि हां, तो यह माने कि आप इस दुनिया में अकेले नहीं है। ऐसा अनुभव कई लोग भी कर चुके हैं। कई मामलों में आपके आंसू जहां खुशी के कारण झलकते हैं तो कभी यह रिलीफ व उदासी के कारण भी आप रोते हुए सेक्स का एहसास कर सकते हैं। इसका सीधा संबंध फिजिकल रिएक्शन से है।

साइंटिफिक तौर पर कहा जाए तो सेक्स के दौरान रोना पोस्टकोइटल ट्राइसिटी (पीसीटी-postcoital tristesse) कहा जाता है। इसे बेहतर तरीके से समझने के जरूरी है हमें ऑर्गेज्म के दौरान शरीर में होने वाली प्रतिक्रिया को समझना जरूरी है।

सेक्स के दौरान क्लाइमेक्स के पहले हमारे शरीर में कई प्रकार की प्रतिक्रियाएं होती है, खासतौर पर हमारा दिमाग तेजी से काम करता है। महिलाओं के जेनिटेलिया के उत्तेजित होने की वजह से शरीर से ऑक्सिटॉसिन (लव हार्मोन) और डोपामाइन रिलीज करता है, जो प्राकृतिक तौर पर हमें काफी अच्छा महसूस कराते है। इन्हीं केमिकल्स के कारण भावनात्मक बदलाव होते हैं, ऐसे में रोते हुए सेक्स की झलक आप महसूस कर सकते हैं।

सेक्स और ऑर्गेज्म सिर्फ फिजिकल रिएक्शन ही नहीं है, बल्कि यदि आप किसी दूसरे व्यक्ति के साथ सेक्स करें तो उस दौरान भी पावरफुल इमोशन जगते हैं। सेक्स के क्लाइमेक्स के दौरान इस कारण कई महिलाओं के आंसू निकलते हैं, वहीं कई अन्य कारणों से भी वो रो सकती हैं। इसे पोस्टकोइटल डायसपोरा (पीसीडी- postcoital dysphoria) कहा जाता है। इसके कारण लोगों में कुछ रिएक्शन दिख सकते हैं, जैसे गुस्सा,उदासी, आक्रामकता, चिंता व अवसाद आदि

रोते हुए सेक्स की बात करें तो यह लोगों में अलग-अलग महसूस किया जा सकता है। करीब 20 से 40 फीसदी पुरुषों-महिलाओं पर किए शोध के अनुसार पाया गया कि इनमें पोस्टकोइटल टियर थोड़े जटिल होते हैं। वहीं संभोग के बाद रोना एक सामान्य प्रक्रिया है।

रोते हुए सेक्स के कारणों को जानें

रोते हुए सेक्स के कारणों की बात करें तो आप अपने पार्टनर में इन कारणों को महसूस कर सकते हैं। जिस कारण उनमें इमोशनल तौर पर बदलाव देखने को मिलता है।

दर्द : कई कारणों से आप सेक्स के दौरान दर्द महसूस कर सकते हैं। दर्द भरे इंटरकोर्स को हम डिस्परेयूनिया (dyspareunia) कहा जाता है। वहीं इन कारणों से आप रोते हुए सेक्स को अनुभव कर सकते हैं, जैसे

सेक्स के दौरान फिजिकल कारणों से होने वाले दर्द का इलाज संभव है। लेकिन इसके लिए जरूरी है कि डॉक्टरी सलाह ली जाए। वहीं सेक्स के दौरान दर्द होने पर सबसे पहले अपने पार्टनर से आपको बात करनी चाहिए। यदि समस्या का समाधान न निकले तो आपको डॉक्टरी सलाह लेनी चाहिए।

  • शरीर की प्रतिक्रिया से अभिभूत होना : इंटेंस सेक्सुअल रिलेशनशिप कायम करने के दौरान आप काफी अच्छा महसूस करते हैं, ऐसे में रोना कोई आश्चर्यजनक बात नहीं है। वहीं कुछ मामलों में आप बेहतर सेक्स की अपेक्षा करते हैं और आपको वो प्राप्त नहीं होता तो ऐसे में फ्रस्टेट होकर भी कुछ लोग रोने लगते हैं।
  • खुशी : कोई भी इंसान कई प्रकार के इमोशन के कारण रो सकता है, वहीं यह इमोशन बुरे भी नहीं होते। आपने खुद महसूस किया होगा कि जब आप काफी खुश होते हैं तो खुशी के आंसू निकलते हैं। ऐसा आप शिशु के जन्म के समय के साथ सेक्स के दौरान या बाद में महसूस कर सकते हैं।
  • माहौल में खो जाना : आपने खुद भी महसूस किया होगा कि सेक्स के दौरान आप उसमें खो से जाते हैं। यह एहसास इमोशनल रोलर कोस्टर राइड के समान है। इस स्थिति में आंसू आने का मतलत है आप रोमांचित महसूस कर रहे हैं।
  • बायलॉजिकल रिस्पांस भी कारण : कुछ शोध से पता तला है कि 32 से 46 फीसदी महिलाएं पीसीडी (पीसीडी- postcoital dysphoria) एक्सपीरिएंस करती हैं। लेकिन ऐसा क्यों करती हैं इसको लेकर साफ-साफ जानकारी नहीं है। संभावनाएं व्यक्त की जाती हैं कि ऐसा सेक्स के दौरान हार्मोनल बदलाव के कारण कर सकती हैं। रोते हुए सेक्स या फिर सिर्फ रोना शरीर की क्रिया है। यह हमारे तनाव को कम करने के साथ शारिरिक उत्तेजना को बढ़ाने का काम करता है।
  • एंग्जाइटी : रोना तनाव, भय और चिंता की एक स्वाभाविक प्रतिक्रिया है। जब आप सामान्य रूप से चिंतित महसूस करते हैं तो उस समय सेक्स के लिए अलग रहना मुश्किल होता है। इस अवस्था में आपका शरीर कई प्रकार के इमोशन से गुजरता है। ऐसे में रोते हुए सेक्स का अनुभव आप कर सकते हैं। कई मामलों में सेक्स के दौरान परफॉर्मेंस एंग्जाइटी के कारण रोते हुए सेक्स का अनुभव कर सकते हैं। आपको इस बात की चिंता सताती है कि कहीं आप अपने पार्टनर को संतुष्ट कर पाएंगे भी कि नहीं।
  • कंफ्यूजन की स्थिति में : सेक्स के बाद कंफ्यूज होना असामान्य बात नहीं है, ऐसा सेक्स के कारण हो सकता है। यह मिक्सड सिग्नल की ओर संकेत करता है। किसी भी रिलेशनशिप में अनचाही समस्याएं और भावनात्मक उलझनों के कारण सेक्स जीवन को आक्रामक कर सकती है। सेक्स हमेशा आपको संतुष्टि का एहसास नहीं दिलाता है, कई बाद आप कंफ्यूजन की स्थिति में आने के साथ निराश हो सकते हैं।
  • शर्मिंदगी और अपराधबोध के कारण : रोते हुए सेक्स के कारणों में शर्मिंदगी और अपराधबोध के कारण आप यह अनुभव कर सकते हैं। कई मामलों में सेक्स के दौरान एनिमल बिहेवियर, आवेग में सेक्स करने के कारण आप असहज महसूस कर सकते हैं। कई लोगों को अपने शरीर को दूसरे को दिखाने में काफी शर्मिंदगी महसूस होती है, इस कारण भी उन्हें शर्मिंदगी और गिल्ट की वजह से रोते हुए सेक्स का अनुभव कर सकते हैं।
  • बीते दिनों में हुए ट्रामा और यौन शोषण के कारण : आप रोते हुए सेक्स को उन स्थितियों में भी अनुभव कर सकते हैं जब आपके साथ पूर्व में किसी प्रकार का हादसा या फिर यौन शोषण जैसी घटनाएं हुई हो। इन कारणों से आपको तुरंत समस्याएं हो सकती हैं। वहीं आपको सेक्स से दूरी बनानी पड़ सकती है। इस हेल्थ कंडीशन में आप थेरेपिस्ट की सलाह ले सकते हैं। रोते हुए सेक्स का संबंध पूर्व में हुई घटनाओं से जुड़ा भी हो सकता है। उदाहरण के तौर पर पूर्व में यदि आपके साथ यौन शोषण हुआ हो, जबरन संबंध बनाने की कोशिश की हो तो उस कारण भी भावनाएं जाग उठती है, वहीं पुरानी घटना याद कर व्यक्ति की आंखें भर आती है। कई लोग सेक्स को डर, शर्म और क्रोध से जोड़कर देखते हैं। यदि आपके पार्टनर के साथ संबंध अच्छे नहीं है तो उस कारण भी इंटरकोर्स के दौरान या इंटरकोर्स के बाद आपको परेशानी हो सकती है।

योग और मानसिक स्वास्थ्य के बारे में वीडियो देख एक्सपर्ट की जानें राय

डिप्रेशन भी है बड़ी वजह : यदि आप नियमित तौर पर रोते हुए सेक्स कर रहे हैं तो इसका कारण डिप्रेशन भी हो सकता है। वहीं मेंटल हेल्थ कंडीशन के कारण भी रोते हुए सेक्स को अनुभव कर सकते हैं। इसके अलावा अन्य कारणों से भी आप यह अनुभव कर सकते हैं, जैसे

  • एपेटाइट में बदलाव आने के कारण
  • अस्पष्ट दर्द
  • सामान्य गतिविधियों में मन न लगने के कारण
  • उदासी
  • फ्रस्टेशन, इरीटेशन और गुस्से के कारण
  • एंजाइटी
  • सोने में समस्या के साथ रेस्टलेसनेस और थकान के कारण
  • लॉस ऑफ कंसंट्रेशन ऑफ मेमोरी के कारण

और पढ़ें : सेक्स मिस्टेक्स (sex mistakes) : यौन संबंध के समय जाने-अनजाने महिलाएं करती हैं ये 9 गलतियां

पोस्टकोइटल ट्राइसिटी और पोस्टकोइटल डिस्फोरिया के अलावा कई अन्य कारण भी हैं जिसकी वजह से रोते हुए सेक्स का एहसास होता है। सेक्स के दौरान आप व आपके पार्टनर के बीच इमोशनल अटेचमेंट के कारण कई बार खुशी के आंसु निकलते हैं, जो प्यार का प्रतीक है। वहीं जैसे ही सेक्सुअल इंटरकोर्स व फिजिकल कनेक्शन टूटता है तो उस कारण भी कई लोग भावनात्मक रूप से उदास महसूस करने लगते हैं।

और पढ़ें : महिलाओं में यौन समस्याओं के प्रकार, कारण, इलाज और समाधान

बीमारियों के कारण भी कर सकते हैं अनुभव

कई मामलों में सेक्स के दौरान आप दर्द महसूस कर सकते हैं, ऐसा पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम या फिर कुछ प्रकार के कैंसर के कारण भी हो सकता है। यदि आप ऐसा महसूस करते हैं, तो ऐसे में आपको सेक्स के अन्य तरीकों को अपनाना चाहिए। ताकि रोते हुए सेक्स से बचा जा सके।

क्या आपने अपने रिलेशनशिप में हाल ही में कोई समस्या झेली है, क्या आपने अपने साथी के साथ सेक्स में उलझन महसूस कर रहे हैं तो इन कारणों से भी रोते हुए सेक्स का एहसास कर सकते हैं। यह भी एक बड़ा फैक्टर हो सकता है। सेक्स संबंधी इच्छाओं की पूर्ति होने के बाद आंसू निकल सकते हैं। खासतौर पर तब जब आप पूरी तरह संतुष्टि महसूस करते हैं।

रोते हुए सेक्स या सेक्स के दौरान रोने का यह कतई अर्थ नहीं है कि आपके पार्टनर ने आपको बेड टाइम में पूरी तरह संतुष्ट किया हो। यह इस ओर इशारा करता है कि सेक्स के बाद भी भावनात्मक रूप से आप वहीं खोए रहते हैं, इस कारण ऐसा देखने को मिलता है। यह गहरे भावनात्मक प्रभाव को दर्शाता है। संभोग से महिलाओं में आत्मसंदेह, अवसाद और डर जैसी भावनाएं उमड़ती है। वैसे लोग जिनमें आत्मसम्मान की भावनाएं ज्यादा होती हैं वैसे लोग रोते हुएसेक्स का एहसास करते हैं, या यूं कहें सेक्स के बाद वो रो सकते हैं।

रोते हुए सेक्स का नाता जेनेटिक कारणों से भी हो सकता है। यह अभी भी शोध का विषय है कि रोते हुए सेक्स कहीं मेंटल डिसऑर्डर से जुड़ा तो नहीं। यह एंजाइटी डिसऑर्डर और क्लीनिकल डिप्रेशन की वजह से भी रोते हुए सेक्स का एहसास कर सकते हैं। यदि आप इन समस्याओं से जूझ रहे हैं तो ऐसे में आपको डॉक्टरी सलाह की आवश्यकता पड़ सकती है, वहीं इलाज कराना पड़ सकता है।

यदि आपको पूर्व में पोस्टकोइटल ट्राइसिटी ( postcoital tristesse ) और पोस्टकोइटल डिस्फोरिया (postcoital dysphoria) की समस्या है तो यह जरूरी नहीं कि सेक्सुअल इंटरकोर्स के बाद आप रोए ही। लेकिन इस दौरान अधिक तनाव के साथ कम आत्मविश्वास और असुरक्षा की भावना जगना आम बात है। इन समस्याओं से निपटने के लिए सेक्स थेरेपिस्ट आपकी मदद कर सकते हैं, कुछ मामलों में वो अच्छे सुझाव दे सकते हैं।

और पढ़ें : एसटीडी के बारे में सही जानकारी ही बचा सकती है आपको यौन रोगों से

तब क्या करें जब आपका पार्टनर रोते हुए सेक्स करे

यदि आपने रोते हुए सेक्स या फिर सेक्स के बाद रोने जैसे अनुभवों से नहीं गुजरें हैं तो अपने पार्टनर को रोते हुए देखना आपको परेशान कर सकता है। इस रिएक्शन को पर्सनली लेने की जरूरत नहीं है और न ही उसका जवाब गुस्से में देना उचित होता है। हो सकता है कि रोते हुए सेक्स या सेक्स के बाद रोने का कारण कई मामलों में आपसे जुड़ा न भी हो।

यह भी हो सकता है कि सेक्स के बाद आपका पार्टनर कई बार असहज महसूस करें। ऐसे में आपकी जिम्मेदारी है कि आप अपने पार्टनर को इमोशनली तौर पर सपोर्ट करें। यदि आपका पार्टनर गुस्से से भर आता है तो बेहतर यही है कि कुछ समय के लिए आप वहां से चले जाएं, वहीं गुस्सा शांत होने के बाद अपनी बातों को रखें।

रोते हुए सेक्स या सेक्स के बाद रोने की समस्या को कपल्स थेरेपी से भी सुलझाया जा सकता है, यह दोनों जोड़ों के लिए काफी लाभकारी होता है। ऐसे में आप अपनी समस्याओं को खुद ही सुलझा सकते हैं। इसके लिए आपको आपके पार्टनर की इज्जत करनी चाहिए, उनके फीलिंग्स की कद्र करने के साथ बीते दिनों में उन्होंने जो कुछ झेला है उसके लिए भी उन्हेंफिजिकल व इमोशनली सपोर्ट करना चाहिए। तभी आप एक बैलेंस लाइफ जी पाएंगे।

कोरोना और सेक्स लाइफ के बीच संबंध जानने के लिए खेलें क्विज : क्या कोरोना वायरस और सेक्स लाइफ के बीच कनेक्शन है? अगर जानते हैं इस बारे में तो खेलें क्विज

पार्टनर से पूछे यह सवाल, जैसे

  • आप पार्टनर से पूछे कि उनके साथ कुछ गलत तो नहीं हुआ है, लेकिन अपमानजनक और तेज आवाज में कतई बात न करें,
  • पार्टनर को स्पेस देने के साथ उन्हें इज्जत दें,
  • कोशिश करें कि इस मुद्दे पर जब दोनों शांत हो जाए तब चर्चा करें, वहीं अपने पार्टनर की बातों को ध्यान से सुनें, अपनी बातों को मनवाने के लिए फोर्स न करें, बल्कि आराम से चर्चा करें,
  • जबरन सेक्स न करें, बल्कि सेक्स के बारे में बाते करें कि उन्हें क्या पसंद है और क्या ना पसंद, पूर्व के सेक्सुअल एक्सपीरिएंस की चर्चा भी कर सकते हैं,
  • पूछे कि, उनकी मदद कैसे कर सकते हैं, खासतौर पर समस्या से निकालने में।

और पढ़ें : यौन उत्पीड़न क्या है, जानिए इससे जुड़े कानून और बचाव

रोते हुए सेक्स करना पुरुषों-महिलाओं में है सामान्य

रोते हुए सेक्स करने का कारण साफ नहीं है, यह पुरुषों और महिलाओं में सामान्य है। यदि आप रोते हुए सेक्स को महसूस करेंगे तो जरूरी है कि इसको लेकर किसी एक्सपर्ट की मदद ली जाए। जो आपको इस समस्या से निकालने में मदद करे। काउंसलिंग आदि की मदद से चिंता, शर्म और डर पर काबू पाया जा सकता है। यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि आप अपने पार्टनर के साथ खुलकर बात करें तो कई प्रकार की परेशानियों को सुलझाने के साथ सेक्स की इच्छाओं को आसानी से सुलझा सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Depression/ https://www.nimh.nih.gov/health/topics/depression/index.shtml / Accessed on 6th August 2020

Postcoital Dysphoria/ https://www.tandfonline.com/doi/full/10.1080/0092623X.2018.1488326 / Accessed on 6th August 2020

Painful intercourse (dyspareunia)/ https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/painful-intercourse/symptoms-causes/syc-20375967 / Accessed on 6th August 2020

Overlap of Postnatal Depression and Postcoital Dysphoria in Women/ https://www.longdom.org/open-access/overlap-of-postnatal-depression-and-postcoital-dysphoria-in-womenimplications-for-common-underlying-mechanisms-2167-1044-S12-002.pdf / Accessed on 6th August 2020

Postcoital Dysphoria/ https://www.smoa.jsexmed.org/article/S2050-1161(16)30002-2/fulltext / Accessed on 6th August 2020

Why try (not) to cry/ https://www.frontiersin.org/articles/10.3389/fpsyg.2012.00597/full / Accessed on 6th August 2020

What is the difference between sexual performance anxiety and erectile dysfunction (ED)?/ https://www.issm.info/sexual-health-qa/what-is-the-difference-between-sexual-performance-anxiety-and-erectile-dysfunction-ed/ / Accessed on 6th August 2020

Study: 4 In 10 Men Have Experienced ‘Inexplicable Sadness’ After Sex/ https://www.studyfinds.org/study-pcd-men-experienced-sadness-after-sex/ /Accessed on 6th August 2020

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Satish singh द्वारा लिखित
अपडेटेड 06/08/2020
x