home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

broken jaw: जबड़े में फ्रैक्चर क्या है?

परिभाषा|कारण|लक्षण|निदान|उपचार
broken jaw: जबड़े में फ्रैक्चर क्या है?

परिभाषा

ब्रोकेन जॉ या जबड़े में फ्रैक्चर का मतलब है जबड़े की हड्डी का टूटना, जबकि जबड़े के डिस्लोकेट होने का मतलब है कि जबड़े और खोपड़ी को जोड़ने वाले जॉइंट्स का अपनी जगह से हिल जाना या खिसक जाना। अक्सर जबड़े में फ्रैक्चर चेहरे पर चोट लगने के कारण होता है।

जबड़े में फ्रैक्चर का क्या मतलब है?

जबड़े के दो हिस्से होते हैं, ऊपरी और निचला जबड़ा। ऊपरी जबड़ा आमतौर पर स्थिर रहता है और निचले जबड़े में मूवमेंट होती है। जबड़े में फ्रैक्चर या जबड़े के डिस्लोकेट होने का मतलब है कि निचले जबड़े को खोपड़ी से जोड़ने वाले एक या दोनों जॉइंट्स में चोट लगना या उसका टूटना। इन जॉइंट्स को टेम्पोरोमैंडिबुलर जॉइंट (TMJ) कहते हैं। यह टूट सकता है, क्रैक आ सकता है या खोपड़ी से अलग हो सकता है। जबड़े के जॉइंट के अलग होने को ही डिस्लोकेशन कहा जाता है। जबड़े में फ्रैक्चर होने पर आपको खाने और सांस लेने में परेशानी हो सकती है। इसे जल्दी ठीक करने और किसी तरह की जटिलता को कम करने के लिए तुरंत उपचार की आवश्यकता होती है।

यह भी पढ़ें- जानें क्या है थायरॉइड फंक्शन टेस्ट?

कारण

जबड़े में फ्रैक्चर के कारण

चेहरे पर लगी चोट जबड़े में फैक्चर या उसके डिस्लोकेशन का अहम कारण है। जबड़े की हड्डी आपकी ठुड्डी से कान के पीछे तक गई होती है। कुछ सामान्य तरह की चोट जिससे जबड़े में फ्रैक्चर हो सकता है, में शामिल हैः

  • चेहरे पर शारीरिक हमला
  • घर में दुर्घटनावश गिरना
  • स्पोर्ट्स इंजरी
  • इंडस्ट्रियल या ऑफिस में हुए एक्सीडेंट
  • गाड़ी से हुई दुर्घटना

ये भी पढ़े Polymyalgia rheumatica: पोलिमेल्जिया रुमेटिका क्या है?

जबड़े में फ्रैक्चर के साथ ही जॉ डिस्लोकेशन की भी समस्या हो सकती है। इसके कारणों में शामिल हैः

  • उल्टी
  • डेंटल प्रक्रिया
  • कुछ काटना
  • जम्हाई लेना

TMJ डिसऑर्डर की वजह से दर्द हो सकता है और यह जबड़े के मूवमेंट को प्रभावित करता है। इस डिसऑर्डर से पीड़ित लोगों में जॉ डिस्लोकेशन का खतरा अधिक होता है। ऐसे लोग जिन्हें जॉ डिस्लोकेशन पहले भी हो चुका है उनमें इसका खतरा अधिक होता है।

यह भी पढ़ें- कंधे की अकड़न क्या है?

लक्षण

जबड़े में फ्रैक्चर के लक्षण

  • जबड़े का जकड़ जाना
  • जबड़े में और चेहरे पर सूजन
  • खून आना, जिसमें मुंह से खून आना भी शामिल हैं
  • जबड़े में दर्द
  • उस हिस्से का सुन्न होना
  • कुछ चबाने में असहजता महसूस करना
  • दांत संबंधी अन्य समस्याएं जैसे- मसूड़ों का सुन्न होना और दांत ढीले पड़ना
  • ऊपर और नीचे के दांत एक साथ नहीं बैठ पाते हैं
  • आपके होठ और निचले जबड़े का सुन्न होना
  • मुंह के अंदर खून आने के साथ ही आपको दांतों के लाइनअप में भी बदलाव दिखेगा। जबड़े में फ्रैक्चर के कारण इसके पीछे जाने पर जीभ के नीचे चोट के निशान या इयर कैनल में कट हो सकता है।

चेहरे का सुन्न होना और नील के निशान पड़ना जबड़े में फ्रैक्चर का लक्षण है। जबड़े की हड्डी टूटने पर अन्य असमानताएं जैसे चेहरे का शेप बदल सकता है। चोट की वजह से दांत भी टूट सकते हैं या हिलने लगते हैं।

निदान

जबड़े में फ्रैक्चर का निदान

जबड़े में फ्रैक्चर का निदान करने के लिए डॉक्टर शारीरिक परिक्षण और एक्स-रे करता है। जबड़े के लिए पैनोरैमिक एक्स-रे बेस्ट होता है।आमतौर पर ब्लड टेस्ट की जरूरत नहीं पड़ती है। डॉक्टर आपके TMJ जॉइंट्स चेहरे की विकृति, सूजन, चोट के निशान आदि की जांच करता है। इसके बाद डॉक्टर मुंह के अंदर जांच करता है, आपको कुछ काटने, दांतों को एक-दूसरे पर बिठाने के लिए कहता है।

डॉक्टर को यदि लगता है कि आपके जबड़े में फ्रैक्चर है तो वह CT स्कैन की सलाह देगा। डॉक्टर जॉबोन की स्थिरता की भी जांच करता है। यह जांच स्ट्रेट ब्लेड टेस्ट से किया जाता है, डॉक्टर आपके दांतों के बीच में टंग ब्लेड रखकर इस बात का मूल्यांकन करता है कि आप इसे दांतों के बीच रख पाते हैं या नहीं।

यह भी पढ़ें- दांत में दर्द क्यों होता है?

उपचार

जबड़े के फ्रैक्चर का उपचार

घर पर देखभाल

  • जबड़े में फ्रैक्चर होने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाना जरूरी होता है। आपकी स्थिति कितनी गंभीर है उसके हिसाब से डॉक्टर उपचार बताता है।
  • जबड़े पर प्रेशर न दें।
  • सूजन कम करने के लिए आप आइस पैक लगा सकते हैं। बर्फ को एक तौलिये में लपेटर सूजन वाली जगह पर सेंक करें। ऐसा 15-20 मिनट तक करें या डॉक्टर ने जैसा बताया है उस हिसाब से करें।
  • जब तक जबड़े का फ्रैक्चर ठीक नहीं हो जाता, लिक्विड या बिल्कुल नरम चीज जाएं जिसे चबाना न पड़े।
  • दि में 4-5 बार मुंह साफ करें। डॉक्टर आपको बताएगा कि आप किसी तरह से कुछ भी खाने के बाद मुंह की सफाई कर सकते हैं।

मेडिकल ट्रीटमेंट

जबड़े का फ्रैक्चर यदि गंभीर है तो डॉक्टर उपचार के लिए इनमें से कोई एक या अधिक तरीका अपना सकता हैः

एंटीबायोटिक्स- जबड़े में चोट की वजह से घाव हो गया है तो एंटीबायोटिक देगा। एंटीबायोटिक दवा बैक्टीरिया की वजह से होने वाले किसी भी तरह के संक्रमण से बचाता है।

पेनकिलर- दर्द कम करने के लिए डॉक्टर आपको दर्द निवारक दवा दे सकता है।

जॉ वायरिंग- टूट जबड़े को ठीक करने के लिए जॉ वायरिंग भी किया जाता है, इसकी मदद से जबड़ा अपने स्थान पर बना रहात है। इसकी मदद से हड्डियों की चोट जल्दी ठीक हो जाती है। वायरिंग ऊपरी और निचले जबड़े में की जाती है। इमरजेंसी के लिए डॉक्टर आपको छोटा सा वायर कटर देता है और इसे कैसे इस्तेमाल करना है यह भ बताता है।

सर्जरी- यदि जबड़े का फ्रैक्चर गंभीर है तो सर्जरी के जरिए जबड़े को पहले वाली स्थिति में लाया जाता है। पिन, प्लेट और स्क्रू की मदद से जबड़े को अपने स्थान पर ही रखा जाता है। इसके अलावा मुंह, जीभ, नर्व और ब्लड वेसल्स की कोशिकाओं में हुई किसी प्रकार की क्षति को ठीक करने के लिए भी सर्जरी की आवश्यकता होती है

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें

दांतों की समस्या को दूर करने के लिए करें ये योग

दांतों की सफाई करते हैं न सही से? क्विज से जानें कितना सही है आपका तरीका

दांत में दर्द क्यों होता है?

ओरल हाइजीन : सिर्फ दिल और दिमाग की नहीं, दांतों की भी सोचें हुजूर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Kanchan Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 26/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड