बच्चों के मुंह के अंदर हो रहे दाने हो सकते हैं ‘हैंड-फुट-माउथ डिसीज’ के लक्षण

By Medically reviewed by Dr. Pranali Patil

बच्चों में हैंड-फुट-माउथ डिसीज एक वायरल बुखार जितनी ही सामान्य है। इस समस्या में बच्चें के मुंह में छाले और हाथों और पैरों में रैश हो जाते हैं। हैंड-फुट-माउथ डिसीज आमतौर पर कॉक्ससैकि वायरस (Coxsackieviruses) के कारण होती है। हैंड-फुट-माउथ डिसीज के लिए कोई खास उपचार नहीं है। बार-बार हाथ धोना और हैंड-फुट-माउथ डिसीज से संक्रमित लोगों के कॉन्टेक्ट से बचना आपके बच्चे को संक्रमण होने के खतरे को कम करने में मदद कर सकता है।

ये भी पढ़ेंः बच्चों को स्लीप ट्रेनिंग देने के तरीके

हैंड-फुट-माउथ डिसीज के लक्षण

हैंड-फुट-माउथ डिसीज के लक्षण इस तरह से हैंः

शुरुआती इंफेक्शन के बाद लक्षण तीन से छह दिन में दिखने लगते हैं। बुखार अक्सर हैंड-फुट-माउथ बीमारी का पहला संकेत है, जिसके बाद गले में खराश और कभी-कभी भूख न लगना और अस्वस्थ महसूस होता है।

बुखार होने के एक या दो दिन बाद  मुंह या गले पर दाने हो सकते हैं। उसके बाद आने वाले एक या दो दिन में हाथ, पैर और बच्चे के हिप्स पर भी ये दाने दिखने लगते हैं।

मुंह और गले के पीछे होने वाले दानों और रैशेज से पता चलता है कि आपके बच्चों को यह वायरल  इंफेक्शन हो गया है, जिसे हर्पंगिना (Herpangina) कहा जाता है। हर्पंगिना की वजह से अचानक तेज बुखार होता है। हाथ, पैर या शरीर के दूसरे हिस्सों में होने वाले घाव कम ही बच्चों को होते हैं। इसका ज्यादा असर बच्चे के चेहरे और मुंह पर पड़ता है। इन दानों की वजह से बच्चे को खाने में परेशानी होती है।

ये भी पढ़ेंः बच्चों का मिजल्स वैक्सीनेशन नहीं कराया, पेरेंट्स पर होगा जुर्माना

हैंड-फुट-माउथ डिसीज के लिए डॉक्टर को कब दिखाएं

हैंड-फुट-माउथ डिसीज आमतौर पर एक मामूली बीमारी है, जिसके कारण बुखार और कुछ अन्य लक्षण दिखाई देते हैं। अगर मुंह में छाले या गले में खराश की वजह से आपके बच्चे को लिक्विड पीने में परेशानी होती है, तो आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा अगर बच्चे के दाने और रैश बढ़ जाते हैं, तब भी आप अपने डॉक्टर को दिखा सकते हैं।

हैंड-फुट-माउथ डिसीज के कारण

हैंड-फुट-माउथ डिसीज का कॉक्ससैकी वायरस A16 (Coxsackie virus A16) से इंफेक्शन सबसे आम कारण है। यह कॉक्ससैकी वायरस के एक ग्रुप से संबंधित है, जिसे नॉनपोलियो एंटरोवायरस (Non‐Polio Enterovirus) कहा जाता है। दूसरी तरह के एंटरोवायरस कभी-कभी हैंड-फुट-माउथ डिसीज का कारण बनते हैं।

ओरल इंजेशन (Oral ingestion) कॉक्ससैकी वायरस इंफेक्शन और हैंड-फुट-माउथ डिसीज का मुख्य कारण है। व्यक्ति के किसी संक्रमित शख्स के संपर्क में आने से यह बीमारी फैलती है और इसके निम्न कारण हो सकते हैं:

ये भी पढ़ेंः बच्चों को सोशल मीडिया और उसके बुरे प्रभावों से कैसे बचाएं

हैंड-फुट-माउथ डिसीज से खतरा

हैंड-फुट-माउथ डिसीज मुख्य रूप से दस साल से कम उम्र के बच्चों को प्रभावित करती है। जिन बच्चों को यह परेशानी होती है, वे अक्सर पांच साल से कम उम्र के होते हैं। जो बच्चे चाइल्ड केयर में रहते हैं, उनमें हैंड-फुट-माउथ डिसीज होने का ज्यादा खतरा होता है। यह बीमारी कम्यूनिकेबल है इसलिए एक से दूसरे को बहुत आसानी से हो सकती है।

बच्चे की इम्यूनिटी आमतौर पर हैंड-फुट-माउथ डिसीज के लिए स्ट्रॉन्ग हो जाती है क्योंकि वे एक बार वायरस के संपर्क में आने के बाद इसके लिए एंटीबॉडी बना लेते हैं। हालांकि, टीन्स और अडल्ट को यह बीमारी होना संभव है।

इस बीमारी से बच्चों को क्या परेशानी हो सकती है

  • हैंड-फुट-माउथ डिसीज में सबसे सामान्य खतरा डिहाइड्रेशन है। यह बीमारी मुंह और गले में घावों का कारण बन सकती है, जिससे बच्चे को निगलने में परेशानी हो सकती है।
  • बीमारी के दौरान बच्चे को लिक्विड देते रहें। अगर बच्चे को डिहाइड्रेशन होता है, तो उन्हे इंट्रावेनस लिक्विड देने की जरूरत पड़ सकती है।
  • हैंड-फुट-माउथ डिसीज आमतौर पर एक मामूली बीमारी है, जिसके कारण बुखार और अन्य लक्षण दिखाई देते हैं। कॉक्ससैकी वायरस कभी-कभी गंभीर रूप से दिमाग को टार्गेट कर सकता है, जो गंभीर परेशानियां खड़ी कर सकता है।

ये भी पढ़ेंः बच्चों को यूं सिखाएं संस्कार, भविष्य में बनेंगे जिम्मेदार

हैंड-फुट-माउथ डिसीज से बचाव

हैंड-फुट-माउथ डिसीज से इंफेक्शन के खतरे को कम करने में कुछ सावधानियां आपकी मदद कर सकती हैं:

  • हाथ ठीक से धोएंः अपने हाथों को बार-बार और अच्छी तरह से धोएं। खासकर टॉयलेट के बाद या डायपर बदलने और खाना खाने से पहले।
  • कॉमन एरिया को कीटाणु रहित करेंः साबुन और पानी से अपने घर को साफ करने की आदत डालें।
  • अच्छी आदत डालेंः अपने बच्चों को सिखाएं कि उन्हें अपने आस-पास सफाई रखनी है।
  • संक्रामक लोगों को अलग करेंः हैंड-फुट-माउथ डिसीज में इंफेक्शन के चांसेज होते हैं। बीमार लोगों से बच्चों को तब तक ना मिलने दें, जब तक इसके लक्षण कम ना हो जाएं।

और पढ़ेंः 

ब्रेन एक्टिविटीज से बच्चों को बनाएं क्रिएटिव, सीखेंगे जरूरी स्किल्स

बच्चों में शर्मीलापन नहीं है कोई परेशानी, दें उन्हें उनका ‘मी-टाइम’

बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए बचपन से ही दें उनकी डायट पर ध्यान

बच्चों के साथ ट्रैवल करते हुए भूल कर भी न करें ये गलतियां

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख नवम्बर 28, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया नवम्बर 30, 2019

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे