Leg Pain: टांगों में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट June 25, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

टांगों में दर्द (Leg Pain) क्या है?

टांगों में दर्द एक आम समस्या है। टांगों में ऐंठन, चोट या किसी भी अन्य कारण से हो सकता है। टांगों में होने वाला यह दर्द निरंतर भी हो सकता है। यह कभी अचानक से हो सकता है और कभी धीरे धीरे भी विकसित हो सकता है। किसी के टांग के एक हिस्से में होता है तो किसी की पूरी टांग में दर्द हो सकता है।

हो सकता है दर्द पूरी टांग में हो या सिर्फ पिंडली या घुटने में हो। कुछ लोगों के लिए यह दर्द सहनीय हो सकते हैं। इससे आपकी रोजमर्रा की जिंदगी प्रभावित नहीं होती है। लेकिन अधिक गंभीर दर्द चलने की क्षमता या पैर पर वजन सहन करने की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं।

खेलकूद के दौरान लगने वाली चोट एक्यूट और ट्रॉमेटिक होती है। इसके दर्द की पहचान आसानी से की जा सकती है। पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज (Peripheral Vascular Disease) के कारण होने वाला दर्द समय के साथ पैदा होता है। हालांकि इस दर्द की शुरुआत में इसे आराम से पहचाना जा सकता है। ट्रॉमेटिक इंजरी लंबे समय के लिए होती हैं। इससे राहत पाने के लिए डॉक्टर को दिखाना जरूरी होता है। कुछ टांगों के दर्द का इलाज घर पर ही किया जा सकता है।

और पढ़ें: Gallbladder Stones: पित्ताशय की पथरी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

टांगों में दर्द (Leg Pain) के लक्षण क्या हैं?

पैरों और टांगों की हड्डियों, जोड़ों, मांसपेशियों, रक्त वाहिकाओं, नसों और त्वचा को प्रभावित करने वाली स्थितियों के कारण टांगों में दर्द की शिकायत होती है। टांगों के किसी भी हिस्से जैसे पैर, टखने, घुटने आदि में दर्द हो सकता है। यह रात के समय सोते वक्त भी हो सकता है। दौड़ या एक्सरसाइज के वक्त भी हो सकता है। टांगों के दर्द के कारण पर यह निर्भर करता है। आमतौर पर, यह दर्द किसी चोट या बीमारी के चलते टिशू में सूजन के कारण होता है। किसी भी चोट या पूरानी बीमारी के कारण ऊतक में सूजन हो जाती है जो आगे चलकर पैरों में दर्द का कारण बनता है। टांगों में कई अलग-अलग तरह के ऊतक और संरचनाएं होती हैं। इसलिए कई तरह की चोट और परेशानियां टांगों के दर्द की समस्या उत्पन्न कर सकती हैं। टांग में दर्द के शुरुआती लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं:

  • टांगों में कमजोरी (weakness)
  • टांगों का सुन्न होना (numbness)
  • टांगों में ऐंठन होना (cramps)
  • टांगों में झुनझुनी या सनसनी होना(tingling sensation)

किसी चोट के कारण टांग में दर्द होने के लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं:

  • पैर या टांग में नीला दाग पड़ना (leg bruising)
  • टांगों में सूजन (leg swelling)
  • टांगों की कोमलता (leg tenderness)
  •  सीधे चल न पाना (the inability to walk on the leg)

संक्रमण या सूजन के कारण पैर में दर्द के लक्षण नीचे बताए गए हैं:

पैर या टांगों में अचानक सुई सी चुभन महसूस होना न्यूरोलॉजिकल समस्या का संकेत हो सकता है। इसका मतलब यह हो सकता है कि, ठीक से ब्लड सर्कुलेशन न होने के परिणामस्वरूप आपके पैर सो गए हैं।

डॉक्टर को दिखाने की जरूरत कब होती है?

टांगों का दर्द गंभीर अंतर्निहित स्थितियों से जुड़ा हो सकता है। इसके लिए प्रभावित पैर के कार्य को संरक्षित करने के लिए तत्काल उपचार की आवश्यकता होती है। नीचे बताए लक्षण होने पर जल्दी से जल्दी डॉक्टर से कंसल्ट करने की आवश्यकता हो सकती है:

  • गंभीर दर्द और सूजन (Severe pain and swelling)
  • भूख न लगना या लगातार वजन कम होना (Loss of appetite and/or unexplained weight loss)
  • जी मिचलाना (Nausea)
  • पीठ में गंभीर दर्द होना (Excruciating back pain)
  • पैर या टांग में कमजोरी या सुन्न होना (Progressive leg numbness and/or weakness)
  • आंत का या ब्लेडर का सही से काम न करना (Loss of normal bowel and/or bladder function)

और पढ़ें: Broken (fractured) upper back vertebra- रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर क्या है?

कारण

टांगों में दर्द (Leg Pain) के क्या कारण हैं?

टांगों में दर्द के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं:

मसल्स में ऐंठन (Muscle Cramps): मसल्स में ऐंठन के कारण भी यह दर्द हो सकता है। यह ऐंठन आमतौर पर टांगों की मांसपेशियों में अचानक तेज दर्द को ट्रिगर कर सकती हैं। टाइट मसल्स अक्सर त्वचा के नीचे एक कठोर गांठ बना लेती हैं। इसके आसपास के क्षेत्र में कुछ लालिमा और सूजन हो सकती है। मसल्स फटिग और डिहाइड्रेशन से भी टांगों में ऐंठन हो सकती है। कई दवाएं जैसे डाइयूरेटिक्स और स्टेटिन्स के कारण कुछ लोगों के टांगों मे ऐंठन हो सकती है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

इंजरी (Injury): टांगों में दर्द का कारण कई इंजरी भी हो सकती हैं, जैसे:

  • मसल स्ट्रेन (Muscle Strain) एक कॉ़मन इंजरी है जिसमें ओवरस्ट्रेचिंग के परिणामस्वरूप मसल फाइबर फट जाते हैं। यह अक्सर बड़ी मांसपेशियों में होता है, जैसे हैमस्ट्रिंग (hamstrings) या क्वाड्रिसेप्स (quadriceps)।
  • टेंडनाइटिस (Tendinitis) टेंडन में सूजन के कारण होती है। टेंडन्स मोटी डोरियां हैं जो मांसपेशियों से हड्डी तक जुड़ती हैं। जब इनमें सूजन आ जाती है तो प्रभावित जोड़ों को हिलाना भी मुश्किल हो जाता है। टेंडनाइटिस अक्सर हैमस्ट्रिंग में या एड़ी की हड्डी के पास टेंडन को प्रभावित करता है।
  • शिन स्प्लिंट्स (Shin splints) के कारण पिंडली, या टिबिया के अंदरूनी किनारे में दर्द हो सकता है।
  • नी बर्साइटिस (Knee bursitis) तब होता है जब घुटने के जोड़ के आसपास तरल पदार्थ से भरे थैली में सूजन आ जाए।
  • स्ट्रेस फ्रैक्चर (Stress fractures) पैर की हड्डियों में छोटे ब्रेक होते हैं। ये विशेष रूप से शिनबोन में होते हैं।

और पढ़ें: बैक पेन (Back Pain) यानी पीठ दर्द होने पर अपनाएं ये प्रभावी घरेलू नुस्खे

मेडिकल कंडिशन (Medical conditions): कई मेडिकल कंडिशन के कारण भी आपको इस दर्द की समस्या हो सकती है, जैसे:

  • एथेरोस्क्लेरोसिस (Atherosclerosis ) एक ऐसी बीमारी है जिसमें हमारे शरीर में मौजूद धमनियों के अंदर रूकावट पैदा होने लगती है। वसा और कोलेस्ट्रॉल के निर्माण के कारण धमनियां सख्त हो जाती हैं। धमनियों में रूकावट होती है तो यह शरीर के विभिन्न हिस्सों में रक्त के प्रवाह को प्रभावित करती है। यदि पैर या टांगों के ऊतकों को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलती है, तो इसका परिणाम पैर में दर्द हो सकता है।
  • अर्थराइटिस (Arthritis) में जोड़ों में सूजन हो जाती है। इससे प्रभावित जगह पर दर्द, सूजन और लाली आ जाती है। कई बार यह घुटने और हिप्स के जोड़ों को प्रभावित करती है। अर्थराइटिस का सबसे आम प्रकार ऑस्टियोअर्थराइटिस है, जिसमें घुटने के जोड़ में मौजूद दोनों हड्डियों के सिरों को आरामदायक सपोर्ट देने वाली सुरक्षात्मक कार्टिलेज खराब हो जाती है। इसके अलावा, लेग पेन के पीछे रूमेटाइड अर्थराइटिस भी कारण हो सकता है। जो कि एक ऑटोइम्यून डिजीज है और एक साथ दोनों घुटनों में दर्द का कारण बनती है।
  • गाउट (Gout) अर्थराइटिस का एक रूप है जो तब हो सकता है जब शरीर में बहुत अधिक यूरिक एसिड बनता है। यह आमतौर पर टांगों और पैरों के निचले हिस्से में दर्द, सूजन और लालिमा का कारण बनता है।
  • टांग में नर्व डैमेज हो जाने से दर्द या झुनझुनी हो सकती है। ऐसा अक्सर मधुमेह के परिणामस्वरूप टांगों और पैरों के निचले हिस्से में होता है।
  • टांगों की हड्डी या ऊतकों में संक्रमण से प्रभावित क्षेत्र में सूजन, लालिमा या दर्द हो सकता है।
  • वैरिकोस वेन तब बनती हैं, जब पैरों की नसों में मौजूद वाल्व कमजोर होने के कारण नसों में रक्त भरने लगता है। आमतौर पर ये सूजन और उभरी हुई दिखती हैं। ये दर्दनाक होती है। ज्यादातर ये टखनों में होती हैं।

टांगों में होने वाले दर्द के अन्य कारण

  • स्लिप डिस्क
  • बैक्टीरियल इंफेक्शन
  • इलेक्ट्रोलाइट इम्बैलेंस
  • फंगल इंफेक्शन
  • ट्यूमर
  • वायरल इंफेक्शन
  • फेमोरल एपीफिसिस

और पढ़ें: Facial fracture: चेहरे की हड्डी का फ्रैक्चर क्या है? जानें इसके लक्षण व बचाव

निदान

टांगों में दर्द (Leg Pain) के बारे में पता कैसे लगाएं?

टांग में दर्द का सही कारण पता लगाने के लिए डॉक्टर फिजिकल एग्जाम करेंगे। इसके बाद डॉक्टर मेडिकल इमेजिंग टेस्ट या डायग्नोस्टिक नर्व ब्लॉक इंजेक्शन भी दे सकते हैं।

फिजिकल एग्जाम के दौरान डॉक्टर टांगों और पैर के दर्द के पैटर्न को समझने की कोशिश करेंगे। इसके साथ ही पूरानी बीमारियों से जुड़ी जानकारी लेंगे। फिजिकल एग्जाम के दौरान डॉक्टर पीठ के निचले हिस्से, जांघ, पैर या टांग में सूजन और त्वचा में आए परिवर्तन को देखेंगे। पैर और टांगों की उंगलियों व अन्य जगहों को दबाकर आपकी प्रतिक्रिया देख सकते हैं। जॉइंट रिफ्लेक्सिस की जांच के लिए डॉक्टर घुटने या टखने में कुछ क्षेत्रों को टैप कर सकते हैं। इससे मांसपेशियों की जाँच करने में मदद मिलेगी।

और पढ़ें: Alzheimer : अल्जाइमर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

मेडिकल हिस्ट्री में डॉक्टर नीचे बताई गई बातों से जुड़ी जानकारी लेंगे

  • कहां और किस तरह का दर्द होता है। किस समय दर्द होता है।
  • टांगों की मांसपेशियों में किसी तरह की ऐंठन
  • टांगों की मांसपेशियों की ताकत में किसी तरह का बदलाव
  • दर्द को बेहतर या बदतर बनाने वाले कारक
  • पीठ, कूल्हे या पैर में चोट
  • पहले कोई इलाज या सर्जरी से जुड़ी जानकारी
  • वर्तमान में कोई दवा ले रहे है तो उसकी जानकारी

इसके बाद डॉक्टर मेडिकल इमेजिंग या डायग्नोस्टिक नर्व ब्लॉक इंजेक्शन टेस्ट के लिए कह सकते हैं। इस दर्द का पता लगाने के लिए किए जाने वाले मेडिकल इमेजिंग टेस्ट में एमआरआई टेस्ट, सीटी स्कैन, अल्ट्रासाउंड और एक्स-रे शामिल हैं। वहीं, पेन रिसेप्टर ब्लॉक इंजेक्शन एक छोटा-सा इनवेसिव प्रोसीजर है, जो कि अस्थाई रूप से घुटनों या नसों के दर्द में आराम देता है। यह प्रोसीजर यह जानने के लिए किया जाता है कि, दर्द नसों के कारण हो रहा है या जोड़ों के कारण। अगर, यह ब्लॉक सफल रहता है, तो रेडियोफ्रीक्वेंसी एब्लेशन की सलाह दी जा सकती है।

और पढ़ें: Piles : बवासीर (Hemorrhoids) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

उपचार

टांगों में दर्द (Leg Pain) का उपचार कैसे किया जाता है?

टांगों में दर्द का इलाज उसके कारण पर निर्भर करता है। इसके उपचार में आराम करना, कोल्ड कंप्रेस, इलास्टिक रैप (elastic wrap), स्प्लिंट या कास्ट (splint or cast), दर्द के लिए नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स ( (Non-Steroidal Anti-Inflammatory Drugs; NSAIDs) जैसे डाइक्लोफिनेक (Diclofenac)  और सर्जरी शामिल हो सकते हैं।

टांगों में छोटी मोटी चोट और दर्द को घर पर ठीक किया जा सकता है। इसके लिए जितना हो सके आराम करें। अपनी टांगों को लटकाकर न बैठें। टांगों को तकिए की मदद से बिस्तर पर रखें। ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक दवा ले सकते हैं। स्पोर्ट के लिए कंप्रेशन स्टॉकिन्स पहन सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान और उपचार प्रदान नहीं करता।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

Recommended for you

रेस्टलेस लैग्स सिंड्रोम-restless leg syndrome

Restless Leg Syndrome : रातों की नींद और दिन का चैन उड़ाने में माहिर है रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Hema Dhoulakhandi
प्रकाशित हुआ November 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
पैर दर्द के लिए योगा-Leg Exercise

पैरों की समस्या को दूर करने के लिए करें ये एक्सरसाइज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Abhishek Kanade
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ July 10, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें