47 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट May 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

विकास और व्यवहार

मेरे बच्चे का विकास कैसा होना चाहिए?

47 सप्ताह के शिशु कुछ चीजों को करने में सक्षम हो जाता है, जैसे कि—

  • अपनी उंगली और अंगूठे की मदद से छोटे सामान  को उठा सकता है, इसलिए खतरनाक वस्तुओं को हमेशा बच्चे की पहुंच से दूर रखें। 47 सप्ताह के शिशु जमीन पर गिरी या रखी किसी भी वस्तु को मुंह में डाल सकता है। इसलिए पेरेंट्स को इस दौरान सतर्क रहने की जरूरत होती है।
  • कुछ समय के लिए बिना किसी सहारे के अकेला खड़ा हो सकता है। इसलिए 47 सप्ताह के शिशु या बढ़ते हुए शिशु को अकेले न छोड़ें। 47 सप्ताह के शिशु अकेले रहने पर गिर भी सकते हैं।
  • 47 सप्ताह के शिशु बिना रुके हुए ही दादा, दादी, पापा, मां और मामा जैसे शब्द बोलना शुरू कर देता है।

यह भी पढ़ें: क्या आपका बच्चा नींद के कारण परेशान रहता है? तो इस तरह दें उसे स्लीप ट्रेनिंग

मुझे अपने शिशु के विकास के लिए क्या करना चाहिए?

47 सप्ताह के शिशु कई चीजों को सिखने के लिए सक्षम हो जाता है। 47 सप्ताह के शिशु मां-पापा बोन के साथ-साथ अन्य शब्दों का भी उच्चारण करना सीख सकते हैं।इसलिए 47 सप्ताह के शिशु को आप विशेषतौर से “प्लीज ” और “थैंक्यू” जैसे शब्द पर जोर दें और उन्हें बोलना सिखाएं। 47 सप्ताह के शिशु को कई चीजें आप खेल—खेल में सिखा सकते हैं, जैसे कि कोई खिलौना उससे मांगे और जब वे दे तो आप थैंक्यू बोलें या कोई खिलौना लाने के लिए प्लीज बोलें। इससे बच्चा जल्दी सिखेगा और उसके अंदर मैनर्स भी आएंगे। यह भी जरूरी नहीं है कि इस उम्र में वे तुरंत ही सब सीख जाएं, हमें बच्चों को इस तरह की नैतिक शिक्षा धीरे-धीरे और कई पार्ट्स में सिखानी चाहिए। इन शब्दों को वह रोज बोले इसका ध्यान माता-पिता के साथ-साथ घर के अन्य सदस्यों को भी रखना चाहिए।

इसके अलावा, ये आपके ऊपर है कि आप किस तरह से बच्चे को वस्तुओं के नाम और उसके इस्तेमाल के बीच में संबंध बताती हैं, जितना अधिक आप बोलेंगे और उन्हें बताएंगे, बच्चे की शब्दावली उतनी ही तेजी से बढ़ेगी। अपने बच्चे से बात करते रहें और चीजों की लेबलिंग करें, जैसे कि सीढ़ियों को गिनते हुए ऊपर चढ़े या फिर घर में रखी हुई वस्तुओं का नाम बताएं। जब आप उनके साथ बाहर जाए तो उन्हें फलों और सब्जियों का नाम और उनका रंग बताएं। बच्चे के साथ बुक में दिए हुए चित्रों के बारे उन्हें बताएं और किताब में बनी हुई पिक्चर्स का नाम उनसे पूंछे, जब आपको लगे कि वह रंग आदि के बारे में जान गए हैं, तो उनसे पूछें कि उनका फेवरेट रंग कौन सा है? या फिर वह कौन से रंग के कपड़े पहनना चाहते हैं, ऐसा करते समय उनको केवल दो ऑप्शन दें ताकि वह रंगो के विषय में कंफ्यूज न हो।

स्वास्थ्य और सुरक्षा

47 सप्ताह के शिशु को कोई परेशानी न हो इससे बचने के लिए मुझे अपने डॉक्टर से क्या बात करनी चाहिए?

47 सप्ताह के शिशु की देखभाल घर पर ही की जाती है और ज्यादातर डॉक्टर बच्चों के लिए कोई चेकअप भी निर्धारित नहीं करते हैं। लेकिन, अगर आपको ऐसा लगता है कि 47 सप्ताह के शिशु को कोई शारीरिक परेशानी है, तो  डॉक्टर के पास जाना जरूरी हो जाता है और बच्चे को कोई स्वास्थ्य समस्या हो रही है तो देर न करें, तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें: शिशु के जन्म का एक और विकल्प है हिप्नोबर्थिंग

47 सप्ताह के शिशु से जुड़ी मुझे किन बातों की जानकारी होनी चाहिए?

47 सप्ताह के शिशु से जुड़ी निम्नलिखित बातों की जानकारी होनी चाहिए। जैसे-

अंगूठा चूसना:

47 सप्ताह के शिशु को अंगूठा चूसने की आदत अपना सकते हैं यह कोई इतनी बड़ी चिंता की बात नहीं है क्योंकि अपने आप को शांत और स्वस्थ रखने के लिए कुछ बच्चे अंगूठा चूसते हैं। उनके अंदर यह आदत जन्म के समय से ही होती है।  लोगों का मानना है कि अपने दांतो को नुकसान किए बगैर 2 या 3 साल तक बच्चे अंगूठा चूस सकते हैं, और बहुत से बच्चे चार पांच साल तक जब तक कि उनके परमानेंट टीथ नहीं आते आराम से अंगूठा चूसने की आदत को अपना सकते हैं। ऐसे में माता-पिता को ध्यान रखना चाहिए क्योंकि बच्चे की यह आदत अगर जल्दी बंद नहीं हुई तो बड़े होने पर परेशानी हो सकती है। इस दौरान यह भी ध्यान रखें की 47 सप्ताह के शिशु की उंगलियां गंदी न हों। क्योंकि इससे इंफेक्शन का खतरा बना रहता है और बच्चा बार-बार बीमारी पड़ सकता है।  

यह भी पढ़ें: डिलिवरी के बाद 10 में से 9 महिलाओं को क्यों होता है पेरिनियल टेर?

चुसनी (निप्पल ):

चुसनी या हनी निप्पल भी खुद को शांत करने के लिए बच्चों का एक बेहतर रास्ता है, लेकिन बच्चे इसे इस्तेमाल करें यह बहुत जरूरी नहीं है,क्यूंकि अगर यह उनके पालने से गिर जाए तो फिर बच्चे आपके ऊपर डिपेंड हो जाते हैं ,और ज्यादातर ये खो सकता है या गंदा हो सकता है ,इसमें सिर्फ एक अच्छी बात है अपने दांतों के स्वास्थ्य को कोई नुकसान पहुंचाने से पहले, वह इसका इस्तेमाल करना बंद कर देते हैं कुछ बच्चे अंगूठा चूसने मैं ही ज्यादा उत्साह दिखाते हैं और ऐसी हालत में आप को बच्चों को उनकी पसंद के अनुसार छोड़ देना चाहिए।

यह भी पढ़ें : Liver biopsy: लिवर बायोप्सी क्या है?

महत्वपूर्ण बातें

47 सप्ताह के शिशु होने पर मुझे किन बातों का ख्याल रखना चाहिए?

47 सप्ताह के शिशु की हेल्दी सेहत के लिए विशेषज्ञों का मानना ​​है कि एक वर्ष की उम्र से कम का बच्चा यदि अपनी मां को बिना कपड़ों के देखता है तो उसका उस पर कोई रिएक्शन नहीं होता है, क्योंकि वे बहुत छोटा होता है। लेकिन, जैसे—जैसे वे बड़ा होता जाता है चीजों को लेकर उनकी उत्सुकता बढ़ती जाती है। यदि आपका शिशु इस बारे में उत्सुक है कि वे क्या देख रहा है, तो वह आपके प्यूबिक हेयर को छूना चाहता है या आपके निपल्स को खींचता है, तो उस समय उनको कोई रिएक्शन न दें, क्योंकि बच्चे के लिए आपके शरीर के प्राइवेट पार्ट बाकी पार्ट्स की तरह होते हैं ,जैसे कि आपके नाक, कान, हाथ और आंखें। लेकिन, मां की जिम्मेदारी होती है कि वे बच्चे को धीरे—धीरे प्राइवेट पार्ट्स और प्राइवेसी का मतलब समझाएं। बच्चों को शुरुआत से ही इसकी जानकारी धीरे-धीरे बतानी और समझनी चाहिए।

अगर आप 47 सप्ताह के शिशु से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:-

Clopidogrel : क्लोपिडोग्रेल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

30 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

अपने 10 सप्ताह के शिशु की देखभाल के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

 Menopause :मेनोपॉज क्या है? जानिए इसके कारण ,लक्षण और इलाज

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

मलेरिया से जुड़े मिथ पर कभी न करें विश्वास, जानें फैक्ट्स

जानिए मलेरिया से जुड़े मिथ और फैक्ट्स क्या हैं, Myths and Facts about Malaria in hindi, मलेरिया से जुड़े मिथ से कैसे दूर रहें, Malaria se jude myths, malaria se kaise bachav kareien, मलेरिया से कैसे बचें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal

बेबी रैशेज: शिशु को रैशेज की समस्या से कैसे बचायें?

जानिए बेबी रैशेज क्यों होते हैं? क्या Baby Rash शरीर के किसी भी हिस्से पर हो सकता है? कब डॉक्टर से संपर्क करना आवश्यक होता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

बच्चे को सुनाई देना कब शुरू होता है?

जानिए बच्चे को सुनाई देना कब शुरू होता है in Hindi, Baby Hearing, नवजात शिशु की सुनने की क्षमता, Baby Hearing,बच्चे कब सुनने लगते है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra

Groundsel: ग्राउंडसेल क्या है?

जानिए ग्राउंडसेल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, ग्राउंडसेल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Groundsel डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Anu sharma

Recommended for you

वायल बुखार के घरेलू उपाय

वायरल बुखार के घरेलू उपाय, जानें इस बीमारी से कैसे पायें निजात

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ July 14, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अन्नप्राशन

क्या है अन्नप्राशन संस्कार, कब और किस तरीके से करना चाहिए, क्या है इसके नियम

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ July 6, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Fever : बुखार

Fever : बुखार क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ June 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Tick bite- टिक बाइट

Tick Bite: टिक बाइट क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ April 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें