home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

NICU में शिशु : परिवार और दोस्त मेरा सपोर्ट सिस्टम बनें

NICU में शिशु : परिवार और दोस्त मेरा सपोर्ट सिस्टम बनें

NICU में शिशु का होना, होता है तनावपूर्ण

NICU (Newborn intensive care unit) नए पैरेंट्स के लिए बहुत तनावपूर्ण समय होता है। NICU ऐसी जगह है जहां कोई पैरेंट्स अपने नवजात को एडमिट कराना नहीं चाहता है। आमतौर पर NICU में प्रीमेच्योर और स्वास्थ्य समस्याओं साथ जन्में नवजात जिन्हें खास देखभाल की ज़रूरत होती है, को एडमिट किया जाता है।

गीता अय्यर पहली बार मां बनी, लेकिन उनके जुड़वा बच्चे न सिर्फ प्रीमेच्योर थे, बल्कि उन्हें जॉन्डिस भी हो गया जिसकी वजह से उन्हें NICU में रखा गया। NICU के वो तीन महीने गीता के लिए बहुत मुश्किल समय था, मगर उनके परिवार और दोस्तों ने उनका बहुत सहयोग किया। अपनी कहानी उन्होंने हैलो स्वास्थ्य की डॉक्टर श्रुति के साथ शेयर की, जानिए उन्होंने क्या कहा।

मेरी प्रेग्नेंसी खुशहाल और स्वस्थ थी, जुड़वा बच्चों के बारे में जानकर हम दोनों बहुत उत्साहित थे। मेरी उम्र और जुड़वा होने की वजह से मेरे बच्चे का जन्म दो महीने पहले ही हो गया, उन्हें हैंडल करना बहुत मुश्किल था। दोनों को तुरंत NICU में डाला गया और डॉक्टरों ने बहुत अच्छी तरह देखभाल की। नवजात शिशु को जॉन्डिस भी हो गया था और इसका इलाज किया गया। मुझे पता था कि मेरे बच्चे सुरक्षित हाथों में है फिर भी मैं बहुत बेचैन थी। हम बहुत डरे हुए थे और मेरे पति के मन में बहुत से सवाल थे जिसका जवाब हमें जानना था। मेरे बच्चों का क्या होगा? हमारे साथ ही ऐसा क्यों हुआ? मेरे बच्चों को इतनी तकलीफ क्यों उठानी पड़ी? क्या मैंने प्रेग्नेंसी के दौरान कुछ गलत किया? क्या मुझे प्रेग्नेंसी में ज़्यादा ध्यान रखना चाहिए था? उन्हें ठीक होने में कितना समय लगेगा? मैं अपने बच्चों को कब बाहों में ले सकूंगी? ये सारे सवाल मेरे दिमाग में घूमने लगे। इस पूरे वाकये ने हमें मानसिक और भावनात्मक रूप से पूरी तरह हिलाकर रख दिया। उस दौरान मेरे परिवार और दोस्तों ने मुझे शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक सहयोग देने की पूरी कोशिश की। 3 महीने के बाद मेरा शिशु बिल्कुल ठीक हो गया और उन्हें घर लाया जा सकता था, लेकिन यह सब डॉक्टरों, परिवार और दोस्तों की मदद के बिना संभव नहीं था।

और पढ़ें: बच्चा बार-बार छूता है गंदी चीजों को, हो सकता है ऑब्सेसिव-कंपल्सिव डिसऑर्डर (OCD)

यहां आपको 10 तरीके बता रही हूं जिससे परिवार और दोस्तों ने मेरी मदद की और हॉस्पिटल में पति ने प्रीमेच्योर बच्चों की देखभाल की। NICU में शिशु के होने पर पैरेंट्स के लिए मददगार टिप्स-

NICU में शिशु टिप्स 1: खाना लेकर आना

मेरे पति और मैं पूरा समय अस्पताल में ही रहते थे और हमें खुद का ज़रा भी ख्याल नहीं था। ऐसे में मेरा परिवार इस बात का ध्यान रखता था कि हम समय पर खाना खाएं। वह हमारे लिए घर का बना हेल्दी खाना लेकर आते थें। अस्पताल का खाना अच्छा नहीं था और आप इसे रोज़ नहीं खा सकते। नई मां होने के नाते मुझे ज़्यादा पोषण की ज़रूरत थी। मेरे दोस्त मेरे लिए फ्रूट्स, मिल्कशेक, जूस और सब्जियों का सलाद और मेरा मूड ठीक करने के लिए मेरी कुछ पंसदीदा चीज भी लेकर आते थे। मैं NICU में ही बच्चों को स्तनपान कराती थी, इसलिए मेरा परिवार यह सुनिश्चित करता था कि मुझे पूरा पोषण मिले। मेरे परिवार और दोस्तों की बदौलत हमें खाना बनाने के बारे में कभी सोचना नहीं पड़ा।

NICU में शिशु टिप्स 2. अस्पताल तक छोड़ना

डेली अस्पताल तक ड्राइव करना मेरे पति के लिए मुश्किल हो रहा था, चूंकि मैं डिलीवरी से उबर रही थी, इसिलए ड्राइविंग का दवाब नहीं ले सकती थी। मेरे पति रात को ठीक से सो नहीं पाते थे, क्योंकि वह बच्चों और मेरी देखभाल में लगे होते थे। ऐसे में हमारे दोस्त एक-एक करके रोज़ाना हमें अस्पताल तक छोड़ते थे। गाड़ी की पिछली सीट पर बैठकर हम कुछ देर आराम कर लेते थे और दोस्तों से बाद करके थोड़ा बेहतर महसूस होता था।

और पढ़ें: डिलेड कॉर्ड क्लैंपिंग से शिशु को होने वाले लाभ क्या हैं?

NICU में शिशु टिप्स 3. केयर पैकेज भेजना

अस्पताल में रात-दिन गुज़ारना बहुत थका देने वाला था। इस दौरान हमारे दोस्तों ने हमारे लिए केयर पैकेज भेजे जिसमें ज़रूरत का सब सामान था। इसमें स्नैक्स, पानी की बोतल, फेस वाइप्स, कंबल, किताबें, मैगज़ीन, तकिया, फोन के लिए ट्रैवल चार्जर और आई मास्क था। कुछ दोस्तों ने कुछ जर्नल, पेन और कलरिंग बुक भी लाकर दिए ताकि उस तनावपूर्ण माहौल में हम थोड़ा रिलैक्स हो सके। मैं और मेरे पति जर्नल में अपने बच्चों को लेकर लिखते थे और उनकी डेली प्रोग्रेस भी ताकि हम देख सके कि हम दोनों कितने बहादुर हैं और हमारे बच्चे कितने मज़बूत हैं।

NICU में शिशु टिप्स 4. एक पूरे गांव होने का एहसास

जब मैं और मेरे पति अस्पताल में थे तो हम बाहरी दुनिया के बारे में पूरी तरह भूल चुके थे। हमारे दोस्तों ने पति के ऑफिस का काम भी मैनेज कर लिया। ऑफिस के कलीग ने कभी भी पति को किसी काम की चिंता नहीं होने दी, अपनी क्षमता से बढ़कर सबने हमारी मदद की। मेरे पति के माता-पिता मेरे माता-पिता से ज़्यादा उम्र के हैं और उन्हें भी देखभाल की ज़रूरत पड़ती है, हमारे दोस्तों ने उनकी भी मदद की। निश्चित रूप से बच्चे और परिवार को संभालने में दोस्तों की वजह से पूरे एक गांव की तरह मदद मिली। हम दोनों सिर्फ बच्चे की देखभाल करते रहे, बाकी सब दोस्तों ने संभाला।

और पढ़ें: बच्चों के विकास के लिए परिवार और कम्युनिटी क्यों है जरूरी ?

NICU में शिशु टिप्स 5. घर पर मदद की

हमारा घर पूरा बिखरा हुआ था। हमने 2 महीने से घर की तरफ देखा तक नहीं था और जब तक मेरे बच्चे वापस नहीं आ जाते तब तक मेरा साफ सफाई का मन नहीं था। मेरे दोस्तों ने घर की सफाई, लॉन्ड्री और किचन की सफाई में मदद की। बच्चों के जल्दी जन्म की वजह से हमारी नर्सरी भी अधूरी रह गई थी, जिसे परिवार वाले और दोस्तों ने मिलकर पूरा किया और उसे बच्चों के स्वागत के लिए तैयार किया।

NICU में शिशु टिप्स 6. बच्चों के आने का जश्न

बच्चे के जन्म के समय से ही हम अस्पताल में थे, इसलिए कोई हमारे लिए गिफ्ट लेकर नहीं आया। मगर हमारे नज़दीकी दोस्त और परिवार वालों ने सोचा कि हमें इस खुशी का जशन मनाना चाहिए। बच्चों के आने की खुशी को सेलिब्रेट करने के लिए उन्होंने बच्चों के लिए सॉफ्ट टॉयज़, किताबें और कुछ कपड़े लेकर आए थे।

NICU में शिशु टिप्स 7. भावनात्मक सहयोग

NICU के पूरे दौर में हमारे कुछ खास दोस्त रोज़ाना हमसे मिलने आते थे। इस पूरे अनुभव ने हमें बहुत अकेला और उदास कर दिया था, यह जानने के बाद भी हमारे बच्चे मज़बूत हैं और हालात से लड़कर ठीक हो जाएंगे, हम चिंतिंत हो जाते थे। हमारा मूड ठीक रखने के लिए हमारे दोस्त जोक्स और कुछ अच्छे अनुभव शेयर करते थे।

और पढ़ें: बच्चे को सुनाई देना कब शुरू होता है?

NICU में शिशु टिप्स 8. हमेशा साथ रहे

मैंने कई नए पैरेंट्स को अस्पताल में बिल्कुल अकेला देखा जिनका बच्चा NICU में था। कुछ के दोस्त और रिश्तेदार आते, मगर थोड़ी देर बाद चले जाते थे और वो पैरेंट्स अपनी लड़ाई अकेले ही लड़ते थे। मेरे साथ ऐसा नहीं हुआ, मेरे दोस्त और परिवार शुरू से अंत तक मेरे साथ रहे। उन्होंने कभी अस्पताल आना बंद नहीं किया और न ही सहयोग करना छोड़ा। घर वापस आने के बाद भी वह लगातार हमारे संपर्क में रहे और रोज़मर्रा के काम में मदद की

NICU में शिशु टिप्स 9. बिल भरने में मदद

NICU सुविधा का बिल हमेशा ही बहुत ज्यादा होता है और जब जुड़वा बच्चों की बात हो तो यह और बढ़ जाता है। हमारे परिवार और दोस्तों ने हॉस्पिटल के बिल से लेकर, फोन और अन्य मेडिकल बिल भरने में मदद की।

और पढ़ें: बनने वाली हैं ट्विन्स बच्चे की मां तो जान लें ये बातें

NICU में शिशु टिप्स 10. कभी मजबूर नहीं किया

कई दोस्त और परिवार के सदस्य हमें सपोर्ट करने और मदद के लिए अस्पताल आते थे। वह घंटों हमारे साथ बैठकर चाय/कॉफी पीते थे, मगर कभी उन्होंने बच्चों से मिलने की इच्छा जाहिर नहीं की, हालांकि बच्चों को लेकर वह बहुत उत्साहित थे, लेकिन उन्हें पता था कि प्रीमेच्योर बच्चों को आराम की ज़रूरत है और उन्हें NICU में डिस्टर्ब नहीं करना चाहिए। कई बार दोस्तों के आने पर मैं भी उनसे नहीं मिल पाती थी, क्योंकि मुझे बच्चों को दूध पिलाना होता था, मगर वो लोग कभी शिकायत नहीं करते थे।

इस तरह मेरे दोस्त और परिवार ने हमारे सबसे मुश्किल दौर में जब NICU में शिशु था तो मेरी और मेरे पति की मदद की। मुझे यकीन है कि शायद आपके भी परिवार और दोस्त को मुश्किल समय में आपकी मदद की ज़रूर होगी, तो जाइए और उनकी मदद करिए ठीक उसी तरह जिस तरह मेरे परिवार और दोस्तों ने मेरी की।

[mc4wp_form id=”183492″]

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या इलाज मुहैया नहीं कराता।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Supporting parents in taking care of their infants admitted to a neonatal intensive care unit: a prospective cohort pilot study/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5392981/Accessed on 12/05/2020

When Your Baby’s in the NICU/https://kidshealth.org/en/parents/nicu-caring.html#catinfection/Accessed on 12/05/2020

6 Reasons Why Your Baby Might Be Admitted to the Neonatal Intensive Care Unit (NICU)/https://www.unitypoint.org/livewell/article.aspx?id=0f9e4fe7-eb43-4235-a30a-f5853feb23f1/Accessed on 12/05/2020

The Neonatal Intensive Care Unit (NICU)/https://www.stanfordchildrens.org/en/topic/default?id=the-neonatal-intensive-care-unit-nicu-90-P02389/Accessed on 12/05/2020

Making babies real: dressing infants in the NICU./https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/19332406/Accessed on 12/05/2020

लेखक की तस्वीर badge
Kanchan Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड