बच्चे के मुंह में छाले से न हों परेशान, इसे दूर करने के हैं 11 घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अक्टूबर 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

माउथ अल्सर या मुंह में छाले दोनों एक ही समस्याएं हैं। यह समस्या बच्चे, बड़े और बुजुर्ग किसी को भी हो सकती है। यूं तो ये छोटी समस्या है, लेकिन इस पर ध्यान न दिया जाए तो यह काफी खतरनाक बन सकती है। मुंह में छाले कैंसर का भी रूप ले सकते हैं। बच्चे के मुंह में छाले की शिकायत हर दूसरे माता-पिता की परेशानी बनकर खड़ी हो जाती है। इस आर्टिकल में हम बताएंगे कि माउथ अल्सर क्या है? इसके लक्षण और कारण क्या हैं? और बच्चे के मुंह में छाले के लिए क्या घरेलू उपाय आप अपना सकते हैं।

और पढ़ें : बच्चों के काटने की आदत से हैं परेशान, ऐसे में डांटें या समझाएं?

बच्चे के मुंह में छाले (Mouth Ulcer) के लक्षण

माउथ अल्सर (मुंह में छाले) की समस्या पेट में गर्मी होने या बच्चों को कब्ज होने व अन्य वजहों से होती है। बच्चे के मुंह में छाले होने पर बच्चे की जीभ, गाल के अंदरुनी हिस्सों, तालू व होंठों के आसपास सफेद व लाल छाले हो जाते हैं। अगर यह बढ़ जाएं तो इनमें से खून भी निकल सकता है। बच्चे के मुंह में छाले की वजह से बच्चे को खाने-पीने में दिक्कत होती है।

कितने प्रकार के होते हैं माउथ अल्सर?

माउथ अल्सर को स्टोमाटाइटिस (Stomatitis) भी कहा जाता है। यह मुंह की म्यूकस मेंब्रेन में इंफ्लेमेशन के कारण होता है। स्टोमाटाइटिस दो प्रकार के होते हैं। हर्पीज स्टोमाटाइटिस  (Herpes Stomatitis) और एफ्थस स्टोमाटाइटिस  (Aphthous Stomatitis) हैं। यह दोनों प्रकार आमतौर पर बच्चों और टीनएजर्स में अधिक देखे जा सकते हैं। हर्पीज स्टोमाटाइटिस एक संक्रमण है, जो आमतौर पर छह महीने से 5 साल तक के छोटे बच्चों में होता है। वहीं एफ्थस अक्सर 10 से 19 वर्ष के किशोरों को अपनी चपेट में लेता है।

और पढ़ें : क्या है ओरल हेल्थ? यह कितनी जरूरी है?

बच्चे में मुंह के छाले के कारण

बच्चों से लेकर बड़ों तक में माउथ अल्सर के कई कारण हो सकते हैं। खराब खान-पान से लेकर कब्ज तक ऐसी कई चीजें हैं जो माउथ अल्सर को जन्म देती हैं लेकिन बात अगर बच्चों की करें, तो उनमें माउथ अल्सर होने के कुछ कारण इस प्रकार हैं।

पानी की कमी: बच्चे के शरीर में अगर पानी की कमी हो जाए तो इससे बच्चे के मुंह में छाले (माउथ अल्सर) होने लगते हैं।

विटामिन की कमी: अगर बच्चे में विटामिन की कमी हो जाए तो यह भी माउथ अल्सर को जन्म देता है।

एलर्जी के कारण: खाने के साथ-साथ किसी अन्य पदार्थ से एलर्जी होने पर भी बच्चे में माउथ अल्सर हो सकता है।

किस करने से: माउथ अल्सर से पीड़ित व्यक्ति अगर बच्चे को किस करे, तो इससे भी बच्चे को माउथ अल्सर हो सकता है।

मिनरल की कमी: बच्चों के लिए आयरन, फोलिक एसिड, जिंक और विटामिन बी-12 लेना बहुत जरूरी है। अगर बच्चे में इसकी कमी हो जाए तो इससे भी माउथ अल्सर हो सकता है।

चोट लगने से: कई बार ब्रश करते समय या खेलकूद करने के दौरान बच्चों के मुंह में चोट लग जाती है, यह चोट भी माउथ अल्सर को जन्म दे सकता है।

तनाव के कारण: आजकल कॉम्पिटिशन का दौर है। बच्चों पर पढ़ाई में बेहतर करने का दबाव रहता है। यह दबाव तनाव का रूप भी ले लेता है और तनाव बच्चों में माउथ अल्सर का कारण बन जाता है।

मसालेदार खाने से: अधिक मिर्च-मसालों वाले आहार का सेवन भी अल्सर की वजह है।

जेनेटिक: माउथ अल्सर की एक बड़ी वजह वंशानुगत भी होती है।

और पढ़ें : ओरल हाइजीन का रखेंगे ख्याल तो शरीर को भी होने लगेगा फायदा

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

बच्चे के मुंह में छाले माउथ अल्सर के घरेलू उपाय

माउथ अल्सर का इलाज बहुत आसान है। समय रहते अगर आप इसे पहचान लें और थोड़ी बहुत देखभाल करें तो ये फौरन ठीक हो जाता है। आप डॉक्टर से दवाई लेने के अलावा घर पर भी इसका इलाज कर सकते हैं। अगर बच्चे के मुंह में छाले हो तो आप घरेलू उपाय आजमा सकते हैं।

1. घी का इस्तेमाल

देसी घी खाने के फायदों से तो आप वाकिफ होंगे, लेकिन यह माउथ अल्सर के इलाज में भी काफी कारगर साबित हो सकता है। छालों पर घी को लगाएं, इससे दर्द से राहत मिलेगी और छाले भी फौरन ठीक हो जाएंगे।

2. दही

बच्चे को दही खाने को दें। बच्चा अगर दही खाने में आनाकानी करे, तो शहद के साथ मिलाकर इसे खिलाएं। इस उपाय से भी माउथ अल्सर फौरन ठीक हो जाएगा।

और पढ़ें : खाने की बुरी आदतें डालती है सेहत पर बुरा असर, पढ़ें

3. शहद

माउथ अल्सर के इलाज में शहद भी काफी उपयोगी है। जहां छाले हैं, वहां इसे लगाएं। बच्चे को बहुत जल्दी आराम मिलेगा। हालांकि इस बात का ध्यान रखें कि 1 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए शहद का इस्तेमाल न करें। शहद में एंटीमाइक्रोबियल के गुण पाए जाते हैं जो घावों को जल्दी से भरने में मदद कर सकते हैं।

4. हल्दी

हल्दी में एंटीसेप्टिक व एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो जख्मों को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। माउथ अल्सर के इलाज में भी यह काफी फायदेमंद होता है। आप हल्दी को शहद के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें और इसे छालों पर लगाएं।

5. तुलसी पत्ता

बच्चे के मुंह में छाले हो तो तुलसी के 2-3 पत्ते चबाने को दें। अगर बच्चा चबा नहीं पा रहा है तो पेस्ट बनाकर छालों पर लगाएं। इससे भी राहत मिलेगी।

6. नारियल

नारियल के फायदे आप जानते होंगे। माउथ अल्सर में भी यह काफी उपयोगी होता है। नारियल तेल, नारियल पानी व नारियल का दूध छालों को फौरन दूर करता है। नारियल पानी व दूध पीने को दें। इसके अलावा आप छालों पर नारियल का तेल भी लगा सकते हैं।

7. छाछ

छाछ में लैक्टिक एसिड मौजूद होता है, जो जीवाणुओं को विकसित होने से रोकता है। अगर आपका बच्चा माउथ अल्सर से पीड़ित है तो उसे छाछ देना भी फायदेमंद हो सकता है।

और पढ़ें : खाने की बुरी आदतें डालती है सेहत पर बुरा असर, पढ़ें

8. करी पत्ता

करी पत्ते में विटामिन-ए, विटामिन-सी व विटामिन-ई जैसे तत्व मौजूद होते हैं, जो छालों को दूर करते हैं। आप करी पत्ते का पेस्ट बनाकर इस पेस्ट को छाछ में मिलाकर बच्चे को पीने के लिए दें। इससे भी माउथ अल्सर जल्द ठीक होगा।

9. एलोवेरा

बच्चे के मुंह में मौजूद छालों पर दिन में 3-4 बार एलोवेरा जेल लगाएं। बच्चे का माउथ अल्सर फौरन ठीक होगा। एलोवेरा में मौजूद गुण छालों के कारण होने वाले दर्द से राहत दिला सकते हैं। इसमें प्राकृतिक तौर पर एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं, जो  बच्चे के मसूड़ों को स्वस्थ रखने में भी मदद कर सकते हैं। 

10. आइसक्रीम

बच्चे के मुंह में छाले हो और वह दर्द व जलन से ज्यादा परेशान हो रहा हो तो उसे आइसक्रीम खाने को दें। इससे भी उसे काफी राहत मिलेगी। हालांकि सर्दी, जुकाम होने की स्थिति में उसे आइसक्रीम न दें।

और पढ़ें : दांत टेढ़ें हैं, पीले हैं या फिर है उनमें सड़न हर समस्या का इलाज है यहां

11. गर्म पानी

गर्म पानी में नमक डालकर बच्चे को गरारे करने को दें। इससे भी काफी राहत मिलेगी।

12. नारियल

नारियल में मौजूद उसके प्राकृतिक गुण मुंह के छालों को दूर करने में मदद कर सकते हैं। अगर आपके बच्चे के मुंह में छाले की समस्या हुई है, तो आप  बच्चे को नारियल का पानी पीने के लिए दे सकती हैं। इसके अलावा, आप नारियल के दूध से बच्चे को कुल्ला करने या गरारा करने के लिए भी कह सकती हैं। अगर आपको कच्चा नारियल नहीं मिल रहा है, तो आप इनकी जगह पर नारियल तेल का भी इस्तेमाल कर सकती हैं। बच्चे के छाले वाली त्वचा पर आप नारियल का तेल लगा सकती हैं। इसका इस्तेमाल आप छाह माह से छोटे बच्चों के लिए भी कर सकते हैं। हालांकि, ऐसा करने से पहले आपको अपने डॉक्टर की उचित सलाह भी लेनी चाहिए।

13. खसखस

खसखस के पाउडर में मिश्री मिलाकर आप उसकी गोली बनाकर बच्चे को चूसने के लिए दे सकती हैं। खसखस के प्राकृतिक गुण छालों पर ठंडक पहुंचाने में मदद कर सकते हैं। अक्सर बच्चों को भोजन सही से न पचने के कारण या शारीर में गर्मी लगने के लिए कारण मुंह में छाले की समस्या हो सकती है। ऐसी स्थिति में खसखस काफी प्रभावी साबित हो सकता है। हालांकि, अगर आपका बच्चा 1 साल का है या उससे बड़ा है तभी उसे यह गोली खाने के लिए दें।

बच्चे के मुंह में छाले हो जाएं तो उन्हें अनदेखा ना करें। डॉक्टर के पास नहीं जाना चाहते तो पहले घरेलू नुस्खे अपनाएं। यदि घरेलू नुस्खों से बच्चे के मुंह में छाले ठीक ना हो तो डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कैसे करें आईसीयू में एडमिट बच्चे की देखभाल?

how to care your child in ICU in hind, ICU में बच्चे की देखभाल कैसे करें?मां-बाप के लिए कितना मुश्किल होता है अपने बच्चे को आईसीयू में देखना।

के द्वारा लिखा गया shalu
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

जीभ साफ करने के आसान व घरेलू उपाय, सांसों को रखेंगे एकदम फ्रेश

जीभ साफ करने के उपाय क्या-क्या हो सकते हैं? जीभ साफ करने के क्या तरीके हो सकते हैं? घर में टंग क्लीन(Tongue Clean) करने के क्या उपाय हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Hema Dhoulakhandi
ओरल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

दांत दर्द में तुरंत आराम पहुंचाएंगे ये 10 घरेलू उपचार

दांत-दर्द के घरेलू उपाय से दांतों में दर्द के साथ ही इंफेक्शन, मसूड़ों में दर्द, मुंह से बदबू भी दूर होती है। लौंग का तेल, अमरूद के पत्ते, ऑयल पुलिंग, बर्फ की सिकाई, नमक पानी का कुल्ला जैसे दांत-दर्द के घरेलू उपाय..toothache home remedies in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
ओरल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

मैटरनिटी लीव एक्ट (मातृत्व अवकाश) से जुड़ी सभी जानकारी और नियम

न्यू मैटरनिटी लीव एक्ट 2020, मैटरनिटी लीव कितने दिन की होता है, प्रसूति मातृत्व अवकाश के लिए आवेदन कैसे करते हैं, matritva avkash application in Hindi, Maternity leave act 2017, prasuti avkash application in Hindi PDF.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी अप्रैल 30, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Hexigel हेक्सीजेल

Hexigel : हेक्सीजेल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जुलाई 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दांत दर्द का आयुर्वेदिक इलाज

दांत दर्द का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें कौन सी जड़ी-बूटी है असरदार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जून 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
child labour effects - चाइल्ड लेबर के दुष्प्रभाव, बाल श्रम

बच्चों के विकास का बाधा बन सकता है चाइल्ड लेबर, जानें कैसे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ मई 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
डेंटल एंग्जायटी

क्या आप दांतों की समस्याएं डेंटिस्ट को दिखाने से डरते हैं? जानें डेंटल एंग्जायटी के बारे में 

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ मई 20, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें