home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

बच्चे का कद न बढ़ना क्या सिर्फ पैरेंट्स पर निर्भर है?

बच्चे का कद न बढ़ना क्या सिर्फ पैरेंट्स पर निर्भर है?

स्वस्थ शरीर के साथ-साथ अगर महिला या पुरुष की हाइट अच्छी हो, तो उनकी पर्सनैलिटी परफेक्ट कहलाती है। वैसे बच्चों की हाइट जन्म से ही तेजी से बढ़ती है। हैलो स्वास्थ्य से बात करते हुए 7 साल की बच्ची की मां सुप्रिया शर्मा कहती हैं कि बच्चों के कपड़े बहुत जल्दी-जल्दी छोटे हो जाते हैं और उन्हें अक्सर ही अपनी बेटी के लिए कपड़ों की खरीदारी करनी पड़ती है। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी के अनुसार बच्चों की हाइट प्रत्येक 3 से 6 महीने में जांची जाती है। आज जानेंगे क्यों बच्चे का कद ठीक से नहीं बढ़ पाता है ? कद (Height) का जरूरत से ज्यादा छोटा होना बौना (Dwarf) कहलाता है।

और पढ़ें: मोटे बच्चे का जन्म क्या नॉर्मल डिलिवरी में खड़ी करता है परेशानी?

बच्चे का कद नहीं बढ़ने के पीछे क्या हैं फैक्ट्स? (What are the facts behind the child not growing in height?)

  • माता-पिता की हाइट कम होना
  • मालन्यूट्रिशन (सही पोषण नहीं मिलना)
  • एक्नोड्रोप्लासिया (Achondroplasia) गर्भावस्था से ही बच्चे के कद कम होना। एक्नोड्रोप्लासिया जेनेटिकल डिसऑर्डर के अंतर्गत आता है
  • प्रोपोर्शनेट शॉर्ट स्टेचर (PSS)
  • ग्रोथ हॉर्मोन (GH) या ग्रोथ हार्मोन डेफिशियेंसी (GHD)
  • मेडिकल कॉम्प्लिकेशन

और पढ़ें: मां का गर्भ होता है बच्चे का पहला स्कूल, जानें क्या सीखता है बच्चा पेट के अंदर?

बच्चों की हाइट किन कारणों की वजह से नहीं बढ़ पाती है? (What are the reasons for not increasing the height of children?)

बच्चे का कद जेनेटिकल, पोषण और हॉर्मोनल कारणों की वजह से नहीं बढ़ पाता है। वैसे छोटे कद का सबसे आम कारण माता-पिता हैं जिनकी हाइट सामान्य हाइट से अलग होती हैं लेकिन, रिसर्च के अनुसार बच्चे के कद का ठीक से नहीं बढ़ना तकरीबन 5 प्रतिशत इलाज पर भी निर्भर करता है।

बच्चे का कद निम्नलिखित कारणों पर भी बढ़ पाता है। इसलिए इन पर ध्यान देने की जरूरत होती है-

  • किसी बीमारी के कारण बच्चे तक सही न्यूट्रिशन नहीं पहुंच पाना या न्यूट्रिशन से भरपूर आहार नहीं मिल पाना भी बच्चे की हाइट बढ़ने में परेशानी हो सकती है।
  • बच्चे में हाइपोथयरॉडिज्म की समस्या होने पर भी हाइट बढ़ने में दिक्कत हो सकती है। दरअसल हायपोथायरोडिज्म की समस्या बड़ों में होती है लेकिन, यह परेशानी बच्चों में ज्यादा होती है। इसलिए बच्चे का हायपोथायरोडिज्म चेकअप करवाना जरुरी होता है।
  • पिट्यूटरी ग्लैंड (Pituitary gland) में ट्यूमर होना। ट्यूमर होने की स्थिति में भी हाइट नहीं बढ़ सकती है लेकिन, इसकी जानकारी शारीरिक जांच से मिलती है।
  • लंग्स, हार्ट, किडनी, लिवर या गेस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रेक से जुड़ी परेशानी होने पर हाइट नहीं बढ़ सकती है।
  • कोलाजेन और प्रोटीन की कमी की वजह से भी हाइट पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।
  • पुरानी बीमारी जैसे सीलिएक डिजीज (celiac disease) या इंफ्लेमट्री डिसऑर्डर होने के कारण भी बच्चे का कद नहीं बढ़ सकता है।
  • जेनटिक परेशानी जैसे मिटोकॉन्ड्रियल डिजीज (Mitochondrial disease) जिससे अन्य शारीरिक परेशानी के साथ-साथ शरीर की ग्रोथ पर भी असर पड़ता है।
  • कभी-कभी बचपन के दौरान सिर पर चोट लगने से बच्चे में शारीरिक परेशानी होने के साथ-साथ बच्चे का कद भी ठीक से नहीं बढ़ सकता है।

इनसभी फैक्ट्स और कारणों के अनुसार बच्चे के कद का ठीक तरह से नहीं बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं। अब ऐसे में सवाल उठता है कि बच्चे का विकास सही हो इसके लिए पैरेंट्स को क्या करना चाहिए ?

और पढ़ें: छोटे बच्चे के कपड़े खरीदते समय रखें इन बातों का ध्यान

बच्चे का कद सही हो, उसके लिए पेरेंट्स क्या करें? (What should parents do for the right height of the child?)

बच्चे का कद ठीक तरह से बढ़ें इसके लिए माता-पिता निम्नलिखित तरीका अपना सकते हैं लेकिन, उसके पहले ऊपर बताये गये कारणों को समझें और फिर उपाय और इलाज अपनायें।

1.हेल्दी खाने की आदत (Healthy Eating)

पौष्टिक आहार बच्चों के विकास के लिए महत्वपूर्ण है। पौष्टिक आहार बच्चे को स्वस्थ रखने के साथ-साथ बच्चे का कद भी बढ़ाने में सहायक है। इसलिए अंडे और सोयाबीन का सेवन नियमित रूप से आप अपने बच्चे को करवाएं। इनमें मौजूद प्रोटीन की मात्रा शारीरिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। दरअसल अंडे में विटामिन-डी, विटामिन-बी 2, विटामिन-बी 6, विटामिन-बी 12 के साथ-साथ आयरन और अन्य खनिज तत्व होते हैं जो शिशु के विकास में मददगार होते हैं। वहीं सोयाबीन फैटी एसिड, फायबर और प्रोटीन की मौजूदगी बच्चे का कद बढ़ने के साथ ही हेल्दी रखने में भी सहायक है। अगर आपके बच्चे की हाइट या विकास ठीक न होने पर आप अपने हेल्थ एक्सपर्ट के सलाह अनुसार अपने शिशु का डायट प्लान कर सकती हैं।

बच्चे का कद

2.रेगुलर एक्सरसाइज (Regular Exercise)

एक्सरसाइज सिर्फ बड़े लोग ही नहीं कर सकते हैं बल्कि छोटे बच्चों को भी आसान एक्सरसाइज या योगा नियमित रूप से करवाना चाहिए। इससे स्पाइन और मसल्स का विकास ठीक तरह से होगा जिसका सकारात्मक प्रभाव बच्चे की कद पर पड़ेगा। इसके साथ ही बच्चे को साइकिल चलाने दें। साइक्लिंग से बच्चे का कद बढ़ सकता है। बच्चे को हमेशा घर में ही कैद न रखें। बच्चे को आउटडोर गेम्स के लिए भी प्रेरित करें। बच्चे के विकास के लिए पौष्टिक आहार के साथ-साथ आउटडोर गेम्स भी जरूरी है।

बच्चे का कद

3.पूरी नींद (Enough Sleep)

बच्चों का शरीर सोने के दौरान कई तरह के हॉर्मोन का उत्पादन करता है, जो उनकी हाइट बढ़ाने में मदद करते हैं। इसलिए बच्चे के कद के लिए खास कर छोटे बच्चे को 11 से 13 घंटे की और स्कूल जाने वाले बच्चे को 10 से 11 घंटे की नींद आवश्यक है। अगर आपका बच्चा किसी भी कारण कम सोता है, तो उसके कारणों को सबसे पहले समझने की कोशिश करें लेकिन, अगर आप बच्चे की नींद न आने या कम आने की परेशानी नहीं समझ पाते हैं तो डॉक्टर से संपर्क करना आपके लिए बेहतर विकल्प होगा। इस परेशानी को टाले नहीं क्योंकि नींद की कमी बच्चे का कद बढ़ने में रोकने के साथ-साथ याददाश्त को भी कमजोर बना सकती है।

बच्चे का कद

4.सही पोश्चर (Correct Posture)

बच्चों के शारीरिक विकास के लिए सही पोश्चर की भी अहम भूमिका होती है। बच्चे को हमेशा ठीक से बैठने, सोने, चलने और स्कूल में ठीक तरह से बैठने के लिए प्रोत्साहित करें। ठीक से नहीं बैठने की वजह से भी परेशानी हो सकती है।

बच्चे का कद

5.नियमित रूप से दूध पिलाएं (Milk is necessary)

बच्चों की हड्डियों के विकास में कैल्शियम भी महत्वपूर्ण है। दूध में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में मौजूदगी हड्डियों को स्ट्रांग बनाने में मदद करती है।

बच्चे का कद

और पढ़ें: होने वाले हैं जुड़वां बच्चे तो रखें इन बातों का ध्यान

5.पानी (enough water intake)

बच्चों को ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की आदत डालें। क्योंकि पानी पीने से शरीर की गंदगी बाहर निकलने के साथ-साथ डायजेशन भी बेहतर होता है। डायजेशन ठीक रहने से बच्चे का डायट बेहतर हो सकता है और बेहतर डायट बच्चे के विकास में सहायक होता है।

बच्चे का कद

पैरेंट्स अपने बच्चे का कद बढ़ाने के लिए ऊपर बताए तरीकों को अपना सकते हैं लेकिन, अगर फिर भी बच्चे में ग्रोथ नहीं होने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

उम्मीद करते हैं कि आपको बच्चे का कद कैसे बढ़ाएं इससे संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Children’s health/https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/childrens-health/expert-answers/child-growth/faq-20057990/Accessed on 27/01/2020

Measuring Children’s Height and Weight Accurately At Home/https://www.cdc.gov/healthyweight/assessing/bmi/childrens_bmi/measuring_children.html/Accessed on 27/01/2020

Plotting child growth/https://www.education.vic.gov.au/childhood/professionals/health/Pages/plotgrowth.aspx/Accessed on 27/01/2020

Is height determined by genetics?
https://ghr.nlm.nih.gov/primer/traits/height/ Accessed on 22/07/2020

Growth and Your 6- to 12-Year-Old/https://kidshealth.org/en/parents/growth-6-12.html/ Accessed on 22/07/2020

लेखक की तस्वीर
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/06/2021 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड