Low Appetite during Pregnancy: जानिए प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट का आसान है समाधान!

    Low Appetite during Pregnancy: जानिए प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट का आसान है समाधान!

    प्रेग्नेंसी 🤰🏻… बनने वाली मां के साथ-साथ परिवार का एक-एक सदस्य आने वाले शिशु के लिए अलग-अलग तैयारी करना शुरू कर देते हैं। बनने वाली मां भी ऐसे वक्त में हर तरह से अपना ख्याल रखती है, लेकिन कभी-कभी प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट (Low Appetite during Pregnancy) की समस्या गर्भवती महिला की परेशानी को बढ़ाने का काम करती है। प्रेग्नेंसी में भूख नहीं लगना या कई अन्य तरह की परेशानी की वजह से कुछ गर्भवती महिलाओं के लिए प्रेग्नेंसी पीरियड कठिन हो जाता है। इसलिए आज इस आर्टिकल में प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट (Low Appetite during Pregnancy) से जुड़ी मह्त्वपूण जानकारी शेयर करने जा रहें हैं, क्योंकि प्रेग्नेंसी में हेल्दी डायट गर्भवती महिला के लिए आवश्यक होने के साथ ही गर्भ में पल रहे शिशु को भी संपूर्ण पोषण मिलता है।

    • प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट का कारण क्या हो सकता है?
    • प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट का इलाज कैसे किया जाता है?

    गर्भावस्था में भूख नहीं लगना एवं इस तकलीफ से जुड़े सवालों का जवाब आगे जानेंगे।

    और पढ़ें : hCG Levels and Twins: जानिए hCG लेवल और ट्विंस प्रेग्नेंसी से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी!

    प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट का कारण क्या हो सकता है? (Cause of Low Appetite during Pregnancy)

    प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट ( Low Appetite During Pregnancy)

    गर्भावस्था में भूख नहीं लगना या खाने की इच्छा ना होना सामान्य परेशानी है और ज्यादातर गर्भवती महिला प्रेग्नेंसी के दौरान लो ऐपिटाइट की समस्या का सामना करती हैं। कुछ केसेस में तो भूख लगने के बावजूद भी खाने की इच्छा नहीं होती है। प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट के कारण कई हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं-

    प्रेग्नेंसी के पहले ट्राइमेस्टर में लो ऐपिटाइट के कारण (Cause of Low Appetite during First Trimester Pregnancy) –

    नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार गर्भावस्था की शुरुआत के साथ-साथ शरीर में हॉर्मोनल बदलाव (Hormonal changes) होते हैं, जिसकी वजह से जी मिचलाने या उल्टी आने की समस्या गर्भवती महिला लगातार महसूस करती है। ऐसी स्थिति में खाने की इच्छा नहीं होती है।

    और पढ़ें : इन 8 फोलेट रिच फूड में छिपा है हेल्दी प्रेग्नेंसी🤰🏻 का राज!

    प्रेग्नेंसी के दूसरे ट्राइमेस्टर में लो ऐपिटाइट के कारण (Cause of Low Appetite during Second Trimester Pregnancy)-

    यू.एस. डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ एंड ह्यूमन सर्विसेस (U.S. Department of Health and Human Services) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार प्रेग्नेंसी के दूसरे ट्राइमेस्टर में लो ऐपिटाइट का मुख्य कारण डायजेस्टिव सिस्टम (Digestive system) के धीरे काम करने की वजह से होती है। वहीं इसके अलावा प्रेग्नेंसी पीरियड बढ़ने के साथ-साथ कुछ महिलाओं में मानसिक तनवा या ऐसे ही अन्य कारण बनने लगते हैं। ऐसी स्थिति में प्रेग्नेंसी में भूख नहीं लगने की समस्या शुरु हो जाती है।

    प्रेग्नेंसी के तीसरे ट्राइमेस्टर में लो ऐपिटाइट के कारण (Cause of Low Appetite during Third Trimester Pregnancy) –

    जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी (Johns Hopkins University) द्वारा पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार प्रेग्नेंसी के तीसरे ट्राइमेस्टर में हॉर्मोन लेवल बढ़ने लगता है, जिसका असर पाचन तंत्र पर पड़ता है। वहीं आखरी ट्राइमेस्टर होने की वजह शिशु का विकास भी गर्भ में हो गया रहता है, जिसका दवाब पेट पर पड़ता है। ऐसी स्थितियों में भूख नहीं लगती है या गर्भवती महिला को खाने की इच्छा नहीं होती है।

    नोट: नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार डिप्रेशन (Depression) या एंग्जाइटी (Anxiety) की दवाओं के सेवन करने के कारण भी प्रेग्नेंसी के दौरान लो ऐपिटाइट की समस्या हो सकती है।

    ये हैं प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट (Low Appetite During Pregnancy) के कारण, लेकिन ऐसा नहीं है कि भूख नहीं लगने की समस्या को दूर नहीं किया जा सकता है। आर्टिकल में आगे समझेंगे कि कैसे गर्भावस्था में खाने की इच्छा को बढ़ाया जा सकता है।

    और पढ़ें : Low Amniotic Fluid During Pregnancy: प्रेग्नेंसी में एमनियॉटिक फ्लूइड कम होना क्या दर्शाता है?

    प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment for Low Appetite during Pregnancy)

    प्रेग्नेंसी के दौरान बढ़ती शारीरिक परेशानी या शरीर में होने वाले बदलाव की वजह से भूख नहीं लगती है या खाने की इच्छा नहीं होती है, तो इस परेशानी को दूर करने के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें। जैसे:

    • प्रोटीन से भरपूर स्नैक्स (Protein-rich snacks)- प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट (Low Appetite During Pregnancy) की समस्या हो या ना , दोनों ही स्थिति में उबले अंडे, ग्रीक योगर्ट, रोस्टेड चिकन या चीज का सेवन करें।
    • फाइबर युक्त सब्जियां (Fiber-packed veggies)- प्रेग्नेंसी के दौरान स्वीट पोटैटो, मटर, ग्रीन बीन्स एवं पालक का सेवन किया जा सकता है।
    • सिंपल बाइट्स (Simple bites)- प्रेग्नेंसी के दौरान अगर भूख नहीं लगती है, तो बेरीज, ओटमील, सूखे फल या फिर कॉटेज चीज का सेवन किया जा सकता है। गर्भवती महिला अपनी सुविधा अनुसार इनका सेवन कर सकती हैं।
    • अनाज का सेवन (Grains)- गर्भावस्था के दौरान ब्राउन राइस, पास्ता, उबले आलू या क्विनोआ का सेवन कर सकती हैं।
    • सूप (Soup)- गर्भवती महिलाओं को चिकन और राइस के सूप का सेवन करना चाहिए।

    इन ऊपर बताये गए खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। इसके साथ ही प्रेग्नेंसी के दौरान पानी का सेवन करना भी जरूरी है।

    गर्भवती महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान हेल्दी फूड रेसिपी (Healthy food recipes) या जो पसंद हो उसका सेवन भी करना चाहिए। अलग-अलग तरह के खाने से स्वाद भी बढ़ता है खाने की इच्छा भी होती है।

    और पढ़ें : गर्भावस्था के दौरान बेटनेसोल इंजेक्शन क्यों दी जाती है? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट्स

    प्रेग्नेंसी के दौरान अगर हेल्दी टिप्स फॉलो करने के बाद भी अगर खाने की इच्छा ना हो, तो इसे इग्नोर ना करें और डॉक्टर से कंसल्ट करें। डॉक्टर गर्भवती महिला के हेल्थ को मॉनिटर कर आवश्यक न्यूट्रिशन के लिए डायट चार्ट (Diet chart) भी शेयर कर सकते हैं। ऐसा करने से गर्भवती महिला एवं गर्भ में पल रहे शिशु दोनों के लिए लाभकारी होता है।

    प्रेग्नेंसी में भूख नहीं लगना सामान्य परेशानी है और इस परेशानी को दूर करने के लिए डॉक्टर से डायट (Diet) से जुड़ी जानकारी लेने के साथ-साथ गर्भवती महिला को एक्सरसाइज (Workout) या योगासन (Yoga) से जुड़ी जानकारी भी लें। एक्सरसाइज या योग से अच्छा महसूस होने के साथ-साथ बॉडी एनर्जेटिक भी रहती है। हालांकि प्रेग्नेंसी में एक्सरसाइज (Pregnancy exercise) या योग करने की सलाह डॉक्टर दें तभी करें और जिन-जिन एक्सरसाइज या योग की सलाह दी जाती है उसे ही करें।

    और पढ़ें : Lamaze breathing: लमाज ब्रीदिंग बेबी बर्थ को बना सकती है आसान!

    गर्भवती महिलाओं को दिनभर में थोड़ा-थोड़ा खाने की आदत डालनी चाहिए, क्योंकि इससे पेट भरा रहता है और आवश्यक न्यूट्रिशन की भी पूर्ति होती है। इसलिए अपने पसंदीदा खाने-पीने की चीजों का सेवन करते रहें। वैसे प्रेग्नेंसी के दौरान परिवार के सदस्यों एवं पार्टनर को अपनी प्रेग्नेंट वाइफ का ख्याल रखना चाहिए और उनकी पसंदीदा खाने को सर्व करना चाहिए। कभी-कभी गर्भवती महिला का केयर अगर उनके पर्टनर ठीक तरह से करें, तो उनकी परेशानी ऐसे भी दूर हो सकती है।

    इस आर्टिकल में हमनें आपके साथ प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट (Low Appetite During Pregnancy) से जुड़ी जानकारी शेयर की है। इसलिए इसके कारणों को ध्यान में रखें वहीं अगर आप प्रेग्नेंसी में लो ऐपिटाइट (Low Appetite During Pregnancy) से जुड़े किसी तरह के सवालों का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

    प्रेग्नेंसी के दौरान गर्भवती महिला अपना ख्याल तो रखती हैं, लेकिन प्रेग्नेंसी के बाद भी गर्भवती महिला को अपने विशेष ख्याल रखना चाहिए। इसलिए नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक करें और एक्पर्ट से जानें न्यू मदर के लिए खास टिप्स यहां।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 07/04/2022

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement