home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन : क्यों है इसकी जरूरत?

प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन : क्यों है इसकी जरूरत?

प्रेग्नेंसी (Pregnancy) में कोई भी मां अपने खानपान का खास तौर पर ध्यान रखती है। कई ऐसे सप्लिमेंट हैं, जो प्रेग्नेंसी के दौरान महिला को दिए जाते हैं, जिससे बच्चे की गर्भ में बच्चे की ग्रोथ और उसकी सेहत पर कोई तकलीफ ना आए। इनमें से कुछ सप्लिमेंट ऐसे होते हैं, जो बच्चे को भविष्य में काफी फायदा पहुंचाते हैं। इन सप्लिमेंट्स में मैंगनीज और सेलेनियम (Selenium and manganese) यह दोनों ही तत्व बेहद जरूरी माने जाते हैं। प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन (Selenium and manganese in Pregnancy) जन्म के बाद बच्चे को कई तरह से फायदा पहुंचा सकता है। लेकिन यह बात हम नहीं कह रहे, यह बात साबित हुई है एक स्टडी में। आइए जानते हैं इस स्टडी के बारे में।

प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन : क्या कहती है रिसर्च? (Selenium and manganese in Pregnancy)

प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन (Selenium and manganese in Pregnancy) बेहद फायदेमंद माना जाता है। यह दोनों ही तत्व बच्चे को भविष्य में ब्लड प्रेशर की समस्या से बचाते हैं। मैंगनीज और सेलेनियम (Selenium and manganese) को ट्रेस मिनरल्स माना जाता है, जिसका सेवन प्रेग्नेंसी में मां द्वारा किया जाता है। यदि प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन सही मात्रा में किया जाए, तो भविष्य में बच्चे को हाय ब्लड प्रेशर की समस्या नहीं होती। जॉन हापकिंस ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के रिसर्चर द्वारा की गई एक रिसर्च में यह बात सामने आई है कि जिन महिलाओं ने प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन सही मात्रा में किया था, उनके बच्चों में ब्लड प्रेशर कम आंका गया। यह बात पैदा होने के बाद बच्चे की क्लीनिक विजिट पर पता चली। यह बच्चे 3 से 15 साल के बीच की उम्र के थे। इस रिसर्च में यह भी पता चला कि प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन बच्चे के ब्लड प्रेशर पर सीधा असर डालता है। खास तौर पर जब प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के दौरान मां के शरीर में कैडमियम (Cadmium) नामक हेवी मेटल का स्तर ज्यादा होता है, तब मैंगनीज के सेवन से इस स्तर में कमी देखी गई है। प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन भविष्य में बच्चे को हाय ब्लड प्रेशर जैसी गंभीर समस्या से बचा सकता है। इसलिए डॉक्टर की सलाह के बाद सही मात्रा में प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन आपके लिए फ़ायदेमंद माना जा सकता है। आइए अब जानते हैं बच्चे में हाय ब्लड प्रेशर (Blood pressure) की समस्या कैसे होती है।

और पढ़ें : क्या होते हैं 1 से 2 साल के बच्चों के लिए लैंग्वेज माइलस्टोन?

प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन : ना किया जाए, तो बच्चे में बढ़ सकता है इसका खतरा! (Selenium and manganese in Pregnancy)

प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन (Selenium and manganese in Pregnancy)

आमतौर पर बच्चों में हाय ब्लड प्रेशर (Blood pressure in kids) एक दुर्लभ समस्या ही मानी गई है, जिसका इलाज समय पर करना बेहद जरूरी माना जाता है। यह समस्या कई कारणों के चलते हो सकती है, जिसका प्रमुख कारण है कोअरक्टेशन ऑफ एऑर्टा (Coarctation of aorta)। यह एक जन्मजात समस्या है, जिसमें दिल में मौजूद एऑर्टा ज्यादा संकुचित होती है। जिसका इलाज समय पर ना कराया जाए, तो बच्चे के लिए गंभीर समस्याएं पैदा हो सकती हैं। ऐसी स्थिति में तुरंत हार्ट सर्जरी की जरूरत पड़ती है, जिससे बच्चे को भविष्य में हाय ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है।

और पढ़ें : आपके बच्चे के भविष्य को बर्बाद कर सकता है करियर प्रेशर, इन बातों का रखें ध्यान

वहीं प्रेग्नेंसी (Pregnancy) में यदि बच्चे का गर्भ में ठीक तरह से विकास ना हो, तो कोअरक्टेशन ऑफ एऑर्टा (Coarctation of aorta) की समस्या हो सकती है। इसके बाद जब बच्चे बड़े होते हैं, तो उन्हें हार्ट फेलियर की तकलीफ उठानी पड़ सकती हैं। इसलिए डॉक्टर की सलाह के बाद प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन (Selenium and manganese in Pregnancy) किया जा सकता है।

इसके अलावा बच्चों में किडनी में सूजन भी हाय ब्लड प्रेशर (Blood pressure) का कारण बन सकती है। 10 से 12 साल की उम्र के बच्चों को हाय ब्लड प्रेशर की समस्या होने के पीछे यही कारण आमतौर पर देखा गया है, जिसके लिए लाइफस्टाइल फैक्टर जिम्मेदार माने जाते हैं। इसलिए प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन (Selenium and manganese in Pregnancy) करना सही माना जाता है। आइए अब जानते हैं बच्चों में हाय ब्लड प्रेशर के क्या लक्षण आपको दिखाई दे सकते हैं।

और पढ़ें : सोशल मीडिया से डिप्रेशन शिकार हो रहे हैं बच्चे, ऐसे करें उनकी मदद

बच्चों में हाय ब्लड प्रेशर के ये हो सकते हैं लक्षण! (Blood pressure Symptoms)

हालांकि बच्चों में हाय ब्लड प्रेशर (Blood pressure) के लक्षण पहचानना बेहद मुश्किल हो सकते हैं, लेकिन ध्यान दिए जाने पर आप उनके स्वभाव में बदलाव देख सकते हैं। बच्चों में हाय ब्लड प्रेशर के लक्षण हो सकते हैं –

  • बच्चे का चिड़चिड़ा हो जाना
  • बच्चे का ठीक से विकास ना होना
  • बच्चे के सिर में दर्द रहना
  • बच्चे का उदास रहना
  • बच्चे के ब्रेन में इंटरनल ब्लीडिंग (Internal bleeding) की समस्या होना

यदि आप इनमें से किसी भी तरह की समस्या देखते हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। ऐसी स्थिति में बच्चे को इलाज की जल्द से जल्द जरूरत पड़ती है। यदि प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन (Selenium and manganese in Pregnancy) ठीक ढंग से ना किया जाए, तो बच्चे में हाय ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है। लेकिन समय रहते यदि इसका निदान हो जाए, तो इसका इलाज मुमकिन है। आइए जानते हैं बच्चों में हाय ब्लड प्रेशर (Blood pressure) के इलाज से जुड़ी जानकारी।

बच्चों में हाय ब्लड प्रेशर का इलाज : जल्द से जल्द निदान है जरूरी (Blood pressure Treatment)

प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन (Selenium and manganese in Pregnancy)

यदि समय रहते बच्चों में हाय ब्लड प्रेशर (Blood pressure) की समस्या पता चल जाए, तो इसका इलाज संभव है। यदि बच्चे की किडनी में सूजन है, तो डॉक्टर यह पता लगा सकते हैं कि बच्चे की एऑर्टा कितनी संकुचित हो चुकी है। यह ह्रदय रोग विशेषज्ञ द्वारा जांच करके पता लगा सकते हैं, जिससे भविष्य में बच्चे को हाय ब्लड प्रेशर की समस्या होने से रोका जा सकता है।

और पढ़ें: ऐसे जानें आपका नवजात शिशु स्वस्थ्य है या नहीं? जरूरी टिप्स

वही पेरेंट्स को यह ध्यान रखने की जरूरत पड़ती है कि बच्चों में हाय ब्लड प्रेशर की समस्या एक गंभीर समस्या है, जिसका इलाज घर पर नहीं किया जा सकता। यदि समय पर इसका इलाज न किया जाए, तो बच्चे के ब्रेन में ब्लीडिंग (Bleeding in the brain) की समस्या हो सकती है, जिससे स्ट्रोक (Stroke) की समस्या भी हो सकती है। इस स्थिति का अंदाजा क्लिनिकल एग्जामिनेशन से ही लगाया जा सकता है।

यदि कई समय तक बच्चे में इस तरह के लक्षण दिखाई देते हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करके इलाज करवाना चाहिए। डॉक्टर की सलाह के बाद बच्चे को अलग-अलग तरह के इलाज दिए जा सकते हैं, जो इस स्थिति में बच्चे की मदद कर सकते हैं।

और पढ़ें: मल्टिपल गर्भावस्था के लिए टिप्स जिससे मां-शिशु दोनों रह सकते हैं स्वस्थ

प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन (Selenium and manganese in Pregnancy) करने से इन्हीं समस्याओं से बच्चे का बचाव होता है, इसलिए प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के दौरान सही मात्रा में सप्लिमेंट लेना आपके लिए बेहद जरूरी माना जाता है। आप चाहें तो अपने डॉक्टर से सलाह लेकर प्रेग्नेंसी में मैंगनीज और सेलेनियम का सेवन (Selenium and manganese) ध्यान से कर सकती हैं, जिससे भविष्य में आपके बच्चे को हाय ब्लड प्रेशर की समस्या ना हो। ध्यान रखें कि किसी भी तरह के सप्लिमेंट को अपनी डायट में जोड़ने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर करें, जिससे इन सप्लिमेंट के जरिए आपको फायदा हो।

health-tool-icon

ड्यू डेट कैलक्युलेटर

अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

सायकल लेंथ

28 दिन

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Toshini Rathod द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड