डायस्टैसिस रेक्टी : क्या है और कैसे लगाएं इसका पता?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

प्रेग्नेंसी का अनुभव हर माँ के लिए मधुर होता है। यह मधुर अनुभव और भी प्यारा हो जाता है जब वह माँ बन जाती हैं और गोद में फूल जैसा शिशु खेलने लगता है। लेकिन जैसा कि कहा जाता है कि गुलाब के फूलों के साथ कांटे भी होते हैं उसी तरह इस मधुर अनुभव के साथ बहुत सारी शारीरिक और मानसिक जटिलताएं साथ आती है। डायस्टैसिस रेक्टी ऐसा ही एक पोस्टपार्टम अवस्था है जो गर्भावस्था के बाद कष्ट का कारण बन सकता है। शायद आपको पता नहीं है कि डायस्टैसिस रेक्टी को एब्डोमिनल सेपरेशन भी कहते हैं।

आसान शब्दों में डायस्टैसिस रेक्टी को समझें तो एब्डोमिनल सेपरेशन की इस अवस्था में पेट के मसल्स के बीच एक गैप जैसा बनता है। वैसे तो आम तौर पर यह अवस्था प्रेग्नेंसी के दौरान या बाद में होता है लेकिन यह शिशु से लेकर पुरुष किसी को भी कभी भी हो सकता है। हमारे पेट के बीच में ‘सिक्स पैक’ मसल्स होता है जो बीच में रेखा में मिलता है। यह ज्यादा गर्भावस्था के दौरान या बाद में इसलिए होता है क्योंकि गर्भाशय में जैसे-जैसे शिशु का विकास होता है उसका आकार बढ़ता जाता है। फलस्वरूप यूटेरस के मसल्स भी फैलने लगते हैं और बीच में मांसपेशियों के बीच में एक खाली स्थान जैसा बन जाता है। डिलीवरी के बाद अक्सर कुछ महीनों में यह खुद ही धीरे-धीरे ठीक हो जाता है। लेकिन 12 महीनों के बाद भी अगर पेट के मसल्स के बीच खाली स्थान भरता नहीं है तो विशेष रूप से ध्यान देने की जरूरत है। शायद आप अब सोच रहे होंगे कि फिर यह बच्चों या पुरुषों में क्यों होता है। कभी-कभी पेट के मसल्स को स्ट्रेच करने के व्यायाम ज्यादा या सही तरह से नहीं करने के कारण या बहुत भारी वजन उठाने के कारण अथवा एब्डोमिनल ओबेसिटी के वजह से भी डायस्टैसिस रेक्टी की समस्या हो सकती है। 

कारण

असल में प्रेग्नेंसी के दौरान शिशु के विकास के साथ यूटेरस का आकार बढ़ने के कारण पेट के दो पैराल्ल मसल्स के बीच में जो जुड़ाव रहता है उसमें धीरे-धीरे एक खाली स्थान जैसा बन जाता है। यह मसल्स छाती से लेकर पेट के नीचे तक जाता है। यह मसल्स ठीक त्वचा के नीचे होते हैं। 

 आम तौर पर यह 5-6 महीने के बीच होने लगता है। यहाँ तक कि जिनको एक से ज्यादा बच्चे होते हैं या उम्र 35 से ज्यादा है या जुड़वा बच्चा हुआ है। डायस्टैसिस रेक्टी आम तौर पर बेबी के आकार के बढ़ने के कारण जो दबाव बनता है उसके वजह से होता है औरप्रेग्नेंसी के दौरान जो हार्मोनल चेजेंस होती हैं उनके कारण भी होता है। 

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

लक्षण

प्रेग्नेंसी के बाद डायस्टैसिस रेक्टी Diastasis recti after pregnancy
डायस्टैसिस रेक्टी

डिलीवरी के बाद एब्डोमेन मसल्स के दो बैंड के बीच खाली जगह आप महसूस या देख सकते हैं। खासकर जब आपके पेट के मसल्स एक्टिव रहते हैं तब वहाँ एक उभार जैसा भी दिख सकता है। कुछ महिलाओं को एब्डोमिनल सेपरेशन के कारण पीठ में दर्द होता है क्योंकि यह सेपरेशन बैक के मसल्स को सहारा देने में मदद नहीं कर पाता है। इसके अलावा एब्डोमिनल सेपरेशन के कुछ आम लक्षण हैं जो इस अवस्था में अक्सर महसूस होता है-

वैसे गर्भावस्था के प्रथम चरण में यह समस्या उतना नजर नहीं भी आ सकता है। लेकिन दूसरे और तीसरे तिमाही के बाद आपको पेट के बीच में उठते या लेटते समय उभार जैसा दिख सकता है। यहाँ तक कि पेट, पीठ या पेल्विक में बहुत दर्द भी हो सकता है।

डिलीवरी के बाद आपके पेट में थोड़ा-सा उभार आता है जिसको अक्सर लोग वजन बढ़ने का कारण मान लेते हैं। कहने का मतलब यह है प्रेग्नेंट न होने पर भी कुछ महीने की प्रेग्नेंसी जैसी दिखती है।

और पढ़े-Postpartum Depression: पोस्टपार्टम डिप्रेशन क्या है?

किन बातों का रखना चाहिए ध्यान-

पोस्टपार्टम में इन बातों का ध्यान रखने से एब्डोमिनल सेपरेशन की समस्या को समय रहते नियंत्रण में लाया जा सकता है-

  • पोस्टपार्टम के बाद जब तक पेट आंतरिक रूप से स्वस्थ नहीं हो जाता तब तक क्रंचेस, सिटअप्स, प्लांक जैसे वर्कआउट करने से बचें। 
  • शिशु को कभी भी कूल्हे पर न लें।
  • खाँसने के समय पेट के मसल्स को पकड़ कर खाँसें।

ब्रेस्टफीडिंग के बारे में सही जानकारी पाना चाहते हैं तो ये क्विज जरूर खेलें- Quiz: नए माता-पिता ब्रेस्टफीडिंग संबंधित जरूरी जानकारियाँ पाने के लिए खेलें यह क्विज

डायस्टैसिस रेक्टी के साइड इफेक्ट-

अगर डायस्टैसिस रेक्टी पर समय रहते ध्यान नहीं दिया गया तो इसके कारण कई शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है-

  • पीठ में दर्द
  • पेल्विक पेन या पेड़ू में दर्द
  • बैठने के पॉश्चर को पहुँच सकता है नुकसान
  • पेल्विक फ्लोर डिस्फंक्शन
  • सबसे चरम अवस्था में हार्निया

और पढ़े-पोस्टपार्टम आइब्रो लॉस क्या है? क्यों होती है डिलिवरी के बाद ये समस्या?

कैसे खुद से डायस्टैसिस रेक्टी है कि नहीं इसकी कर सकते है जांच-

इसको टेस्ट करने का बहुत ही आसान तरीका है जिससे हमें जानकारी मिल सकती है-

– सबसे पहले नीचे घुटनों को मोड़कर धीरे-धीरे बैठे और फिर शव आसन की तरह पीठ के बल लेट जाएं।

– शरीर को पूरी तरह से रिलैक्स कर दें।

– अब अपने पैरों को मोड़े और कंधे को जमीन से लगभग एक इंच ऊपर उठाएं।

– नाभी के 1 इंच नीचे और ऊपर दो उंगलियों के मदद से पेट को धीरे से दबाएं। अगर आपको मसल्स के बीच गैप महसूस हो रहा है या उभार जैसा लग रहा है तो जाहिर है कि आपको डायस्टैसिस रेक्टी है।

और पढ़े-ब्रेस्टफीडिंग के कारण क्रैक निप्पल की समस्या दूर करने के आसान उपाय

कैसे कष्ट से थोड़ा पा सकते हैं राहत-

अगर प्रेग्नेंसी के दौरान या डिलीवरी के बाद एब्डोमिनल सेपरेशन की समस्या हो रही है तो कुछ आदतों में बदलाव लाने से स्थिति में सुधार हो सकता है-

-कुछ भी भारी सामान न उठाएं जिससे कि पेट के मसल्स पर दबाव पड़े।

-हमेशा सही पॉश्चर में उठे और बैठे।

-हमेशा बैठने के समय पीठ के पीछे मोटा तौलिया या तकिया रखें जिससे कि पीठ के निचले हिस्से के मसल्स को सहारा मिलें।

-बिस्तर से उठने के समय या बैठने के समय घुटनों को मोड़े और बांह का सहारा लें। अचानक सीधे बैठे या उठे नहीं।

-प्रेग्नेंसी के दौरान प्रेग्नेंसी सेफ एक्सरसाइज करके इस समस्या से राहत पा सकते हैं लेकिन डॉक्टर से परामर्श लेना न भूलें।

और पढ़े-बेबी ब्लूज और पोस्टपार्टम डिप्रेशन का कारण और इलाज

वैसे तो डिलीवरी होने के 2-3 महीनों के बाद धीरे-धीरे समस्या खुद ही ठीक हो जाती है। लेकिन उसके बाद भी एब्डोमिनल सेपरेशन की समस्या से निजात नहीं मिल रहा है तो फिजिकल थेरापिस्ट की सहायता से कुछ एक्सरसाइज करने से दर्द से आराम मिल सकता है। एक्सरसाइज करने से मसल्स को स्ट्रेंथ मिलेगा और पेट के बीच की खाली जगह कम होने लगेगी। लेकिन एक बात का ध्यान रखना बहुत जरूरी है कि कभी भी बिना डॉक्टर से सलाह लिए कोई भी एक्सरसाइज शुरू नहीं करनी चाहिए इससे फायदा के जगह पर स्थिति और भी गंभीर हो सकती है। 

अगर तब भी पेट के मसल्स के बीच का गैप कम नहीं हो रहा है तो डॉक्टर चेकअप के बाद सर्जरी की सलाह दे सकते हैं जिससे कि मसल्स के बीच के गैप को कम किया जा सके।

अब तक के विश्लेषण से आप समझ ही गए होंगे कि समय पर एब्डोमिनल सेपरेशन या डायस्टैसिस रेक्टी का डॉक्टर के परामर्श के अनुसार सही  उपचार करने से स्थिति को संभाला जा सकता है। 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

प्रेग्नेंसी में पाइल्स: 8 आसान टिप्स से मिलेगी राहत

प्रेग्नेंसी में पाइल्स की समस्या से जूझना आम बात है। प्रेग्नेंसी में Hemorrhoids से कैसे बचें? गर्भावस्था में क्या है पाइल्स का कारण? Pregnancy में piles की बीमारी से छुटकारा मिलने के लिए करें ये उपाय।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 12, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

पोस्टपार्टम हेमरेज (Postpartum Haemorrhage) क्या होता है?

पोस्टपार्टम हेमरेज की जानकारी in hindi. Postpartum haemorrhaging के कारण महिलाओं को डिलिवरी के बाद ब्लीडिंग की समस्या हो जाती है, ब्लीडिंग होने की वजह से कमजोरी आ जाती है। पोस्टपार्टम हेमरेज होने पर क्या करना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी दिसम्बर 12, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

दूसरे बच्चे में 18 महीने का गैप रखना क्यों है जरूरी?

क्या आप जानते हैं 4 में से 1 महिला आजकल दूसरी बार प्रेग्नेंसी प्लानिंग करती है। क्या आप फिर से बनने वाली हैं मां तो रखें इन बातों का ध्यान।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी नवम्बर 27, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

4 में से 1 महिला करती है सेकेंड बच्चे की प्लानिंग, जानें इसके फायदे और चुनौतियां

सेकेंड बच्चे की प्लानिंग बनाने से पहले कुछ बातों का जरूर ध्यान रखें। आपको बता दें कि दूसरी डिलिवरी में परेशानी थोड़ी कम होती है। ऐसा क्यों आइए जानते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी नवम्बर 21, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पोस्टपार्टम हेल्थ वीडियो - Postpartum Health/Fitness

डिलिवरी के बाद अपना स्वास्थ्य और फिटनेस कैसे सुधारें

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
प्रकाशित हुआ अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में मीठा खाना

प्रेग्नेंसी में मीठा खाने से क्या बच्चे को हो सकता है नुकसान?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
प्रकाशित हुआ अप्रैल 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में हैवी ब्लीडिंग - heavy bleeding in pregnancy

प्रेग्नेंसी में ब्लीडिंग की अधिकता बन सकती है खतरे का कारण

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 13, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
दूसरी प्रेग्नेंसी के दौरान मन में आते हैं ये सवाल

दूसरी प्रेग्नेंसी के दौरान अक्सर महिलाएं पूछती हैं ये सवाल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 12, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें