backup og meta

Implantation in Pregnancy: जानिए प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन कैसे होता है?

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


AnuSharma द्वारा लिखित · अपडेटेड 12/04/2022

Implantation in Pregnancy: जानिए प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन कैसे होता है?

अगर आपने बेबी के लिए ट्राय करने का निर्णय लिया है, तो आप प्रेग्नेंसी के विभिन्न पहलुओं के बारे में जरूर जानना चाहेंगे। जैसे मॉर्निंग सिकनेस से लेकर तीनों ट्रायमेस्टर आदि के बारे में। पूरी प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन (Implantation in Pregnancy) सबसे ड्रामेटिक बायोलॉजिकल इवेंट्स में से एक है। हालांकि, हो सकता है कि आप प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन (Implantation in Pregnancy) को नोटिस न करें, लेकिन कुछ महिलाएं पीरियड-लाइक क्रैम्पिंग और स्पॉटिंग का अनुभव कर सकती हैं। आज हम बात करने वाले हैं प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन के बारे में। आइए, जानें इस बारे में विस्तार से।

क्या है प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन (Implantation in Pregnancy)?

जब यूट्रिंग लायनिंग से फर्टिलायज्ड एग अटैक होता है, तो उसको डिस्क्राइब करने के लिए इम्प्लांटेशन टर्म का इस्तेमाल किया जाता है। एक एग केवल तभी फर्टिलाइज होता है, जब स्पर्म सफलतापूर्वक वायेबल एग (viable egg) से मिलता है।  इसके बाद यह एग एक ट्यूब से यूट्रिंग लायनिंग के तरफ ट्रेवल करता है। जहां वो अटैच हो जाता है और ग्रो होने लगता है। इसे इम्प्लांटेशन  (Implantation)कहा जाता है क्योंकि भ्रूण में बदलने के लिए एग सचमुच आपके यूट्रस में इम्प्लांट होता है

इम्प्लांटेशन (Implantation), कन्सेप्शन के आमतौर पर छह से दस दिनों के बाद होता है और यह अविश्वसनीय रूप से जल्दी हो सकता है। इम्प्लांटेशन के कुछ संकेतों को जानने से आपको यह निर्धारित करने में मदद मिल सकती है कि सबसे सही परिणाम प्राप्त करने के लिए प्रेग्नेंसी टेस्ट (Pregnancy test) कब करना है। अब जानते हैं कि प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन (Implantation in Pregnancy) कब हो सकती है?

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान वॉटरी डिस्चार्ज होने पर कब लें डॉक्टर की मदद?

इम्प्लांटेशन (Implantation) कब हो सकती है?

फर्टिलाइज्ड एग की इम्प्लांटेशन (Implantation) आमतौर पर कन्सेप्शन के बाद छह से दस दिनों तक होती है। जब आप प्रेग्नेंट होना चाहती हैं, तो आपके एम्ब्रयो (Embryo) यानी भ्रूण को यूट्रीन लायनिंग में सफलतापूर्वक इम्प्लांट करने की जरूरत होती है। एक बार जब इम्प्लांटेशन (Implantation) होती है तो हमारा शरीर हॉर्मोन रिलीज करती है जिसे ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (human chorionic gonadotropin) कहा जाता है। यह हॉर्मोन प्रेग्नेंसी (Pregnancy) को सपोर्ट करने में बॉडी में बदलाव प्रोड्यूज करता है। दिलचस्प बात यह है कि यह हार्मोन, प्रेग्नेंसी टेस्ट (Pregnancy test) के पॉजिटिव रिजल्ट का पता लगाता है। अब जानते हैं इसके लक्षणों के बारे में।

और पढ़ें: Prenatal Massage: जानिए प्रीनेटल मसाज प्रेग्नेंसी के किस ट्राइमेस्टर के बाद करना चाहिए!

प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन (Implantation in Pregnancy) के लक्षण क्या हैं?

प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन (Implantation in Pregnancy) के कई महिलाओं में कोई भी लक्षण नजर नहीं आते हैं, जबकि कुछ लोग कुछ लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं। यह लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं:

लाइट ब्लीडिंग Light bleeding

इम्प्लांटेशन के लक्षणों और पीरियड के बीच में अंतर कर पाना कन्फ्यूजिंग हो सकता है। इम्प्लांटेशन (Implantation) के दौरान अधिकतर महिलाएं ब्लीडिंग का अनुभव नहीं करती हैं। लेकिन, कुछ महिलाएं लाइट ब्लीडिंग का अनुभव कर सकते हैं। यह ब्लड शुरुआत में पिंक होता है और बाद में पीरियड के विपरीत ब्राउन हो सकता है। यह ब्लीडिंग आमतौर पर एक या दो दिन में बंद हो जाती है।

और पढ़ें: Exercises to Avoid During Pregnancy: जानिए प्रेग्नेंसी में नहीं किये जाने वाले वर्कआउट!

एब्डोमिनल क्रैम्प्स Abdominal cramps

प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन (Implantation in Pregnancy) के कई महिलाएं लक्षण महसूस नहीं करती हैं लेकिन हार्मोन्स के बदलाव के कारण उन्हें क्रैम्प्स हो सकते हैं। इम्प्लांटेशन क्रैम्प्स (Implantation cramps) एक या दो दिन तक रहते हैं और आप शायद उन्हें उस समय के नोटिस कर सकती हैं, जब आपके पीरियड समाप्त हो जाएं। शुरुआती प्रेग्नेंसी (Pregnancy) में माइनर क्रैम्प्स होना बेहद सामान्य है और यह उतने कम्फर्टेबल नहीं होंगे जितना कि आपके पीरियड के दौरान या पहले होने वाले क्रैम्प्स होते हैं। अगर आप इस दौरान इंटेंस पेन का अनुभव करें, तो डॉक्टर से बात करें।

प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन,Implantation in Pregnancy

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान अत्यधिक सलाइवा का प्रोडक्शन नहीं है चिंता का विषय!

अन्य पॉसिबल लक्षण Other possible signs

हालांकि,  प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन (Implantation in Pregnancy) सही में पेनफुल नहीं होती। लेकिन, बहुत शुरुआती प्रेग्नेंसी (Pregnancy) में आप चाहे कितने भी खुश हों तो भी आप बीमार जैसा महसूस कर सकती हैं। हालांकि गर्भावस्था में इम्प्लांटेशन (Implantation) को केवल नीचे दिए लक्षणों के लिए जिम्मेदार नहीं माना जा सकता है। लेकिन, इस दौरान कुछ अन्य लक्षण भी नजर आ सकते हैं, जो इस प्रकार हैं:

यह तो थे इम्प्लांटेशन (Implantation) के लक्षणों के बारे में जानकारी। अब जानते हैं कि इम्प्लांटेशन के बाद क्या होता है?

और पढ़ें: मिस्ड पीरियड्स के पहले प्रेग्नेंसी साइन को कैसे पहचानें, जानने के लिए पढ़ें ये आर्टिकल!

इम्प्लांटेशन (Implantation) के बाद क्या होता है?

इस बात को याद रखना जरूरी है कि हर प्रेग्नेंसी अलग होती है। ऐसे में, एक व्यक्ति के प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के अनुभव दूसरे से अलग होते हैं। कई महिलाओं को इस दौरान कई समस्याएं होती हैं जबकि कुछ को इस दौरान कोई भी समस्या नहीं होती है। अगर आपके पीरियड आमतौर पर सही समय पर आते हैं, लेकिन कभी आप अपनी पीरियड डेट से आगे बढ़ जाए या उससे भी अधिक समय के लिए मिस कर दें, तो यह इम्प्लांटेशन (Implantation) और प्रेग्नेंसी का लक्षण हो सकता है। प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन (Implantation) के बारे में यह जानकारी बेहद महत्वपूर्ण है।

प्रेग्नेंसी का पहले लक्षण जैसे थकावट, जी मिचलाना और ब्रेस्ट्स में सूजन आमतौर पर प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के छह हफ्तों में दिखना शुरू होते हैं। ऐसे में, आप शुरुआत में  यह बताने में असमर्थ रहती हैं कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं। इसलिए गर्भावस्था के निदान के लिए प्रेग्नेंसी टेस्ट (Pregnancy test) एक अच्छा उपाय है। लेकिन, अधिक महिलाएं इर्रेगुलर मेंस्ट्रुअल सायकल का अनुभव करती हैं। इर्रेगुलर मेंस्ट्रुअल सायकल बहुत सामान्य है और इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे कोई खास मेडिसिन्स लेना, कुछ मेडिकल कंडिशंस आदि। ऐसे में, पीरियड मिस होना प्रेग्नेंसी (Pregnancy) का शुरुआत लक्षण नहीं होता। अगर आपके पीरियड लेट हैं और आपको लगता है कि आप प्रेग्नेंट हैं तो इसके साथ आपको प्रेग्नेंसी के कुछ अन्य लक्षण भी नजर आ सकते हैं जैसे:

और पढ़ें: अगर आप प्रेग्नेंसी की कर रही हैं तैयारी, तो जानें इस दौरान कौन सी एक्सरसाइजेज करने से हो सकता है फायदा!

यह तो थी प्रेग्नेंसी में इम्प्लांटेशन (Implantation in Pregnancy) के बारे में जानकारी। इम्प्लांटेशन (Implantation) बहुत जरूरी लेकिन इजी-टू-मिस इवेंट है। क्योंकि, बहुत लाइट स्पॉटिंग के कारण, कुछ महिलाएं इसे पीरियड्स मान लेती हैं। अगर आपके पीरियड्स नहीं आते हैं और आप सोच रही हैं कि आप वास्तव में गर्भवती हैं या नहीं, तो घर प्रेग्नेंसी टेस्ट (Pregnancy test) करें या पुष्टि के लिए अपने डॉक्टर से मिलें। हालांकि, अगर आपको लगता है कि आप प्रेग्नेंट हैं, तो आप शायद जल्द से जल्द इस टेस्ट के लिए उत्सुक होंगी। लेकिन, आपको फर्टिलाइजेशन के लगभग 19 दिनों तक इंतजार करना होगा।

ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (Human chorionic gonadotropin ) का प्रोडक्शन तब शुरू होता है जब भ्रूण आपके यूट्रस में इम्प्लांट होता है और फर्टिलाइजेशन के 19 दिनों बाद तक, ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन लेवल्स महिला के यूरिन में डेटेक्टेबल के लिए पर्याप्त रूप से निर्मित हो जाते हैं।

अगर आपके प्रेग्नेंसी टेस्ट (Pregnancy test) का पॉजिटिव रिजल्ट आता है, तो इसका अर्थ है कि इम्प्लांटेशन (Implantation) हो गया है। अगर आप इम्प्लांटेशन (Implantation) होने से पहले प्रेग्नेंसी टेस्ट (Pregnancy test) करती हैं, तो आपका टेस्ट आपको बताएगा कि आप प्रेग्नेंट नहीं हैं, भले ही आप वास्तव में प्रेग्नेंट हो। अगर इसके बारे में आपके मन में कोई भी सवाल हो तो आप अपने डॉक्टर से इस बारे में अवश्य जानें। आप हमारे फेसबुक पेज पर भी अपने सवालों को पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. प्रणाली पाटील

फार्मेसी · Hello Swasthya


AnuSharma द्वारा लिखित · अपडेटेड 12/04/2022

advertisement iconadvertisement

Was this article helpful?

advertisement iconadvertisement
advertisement iconadvertisement